भारत के राजवंशों और सम्राटो की सूची

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

यहाँ भारतीय राजवंशों और उनके सम्राटों की सूची दी गई है।

प्रारंभिक बाद के दस्तावेज शासक और राजवंश जिन्हें भारतीय उपमहाद्वीप के एक हिस्से पर शासन करने के लिए समझा जाता है, इस सूची में शामिल हैं।

अनुक्रम

हिंदू साम्राज्यों और राजवंशों की कालानुक्रमिक सूची[संपादित करें]

कुरु वंश (1200 ई.पू.-500 ई.पू.)[संपादित करें]

मगध राजवंश[संपादित करें]

पौराणिक राजा[संपादित करें]

इस सूची में मगध के प्रसिद्ध राजा शामिल हैं।

  • धर्म
  • सुनीता
  • सत्यजीत
  • विश्वजीत
  • रिप्युञ्या

प्रद्योत वंश (सी. 779 ई.पू.-544 ई.पू.)[संपादित करें]

  • प्रद्योत महासेना
  • पालक
  • विशाखयूप
  • अजक (राजक)
  • वर्तिवर्धन (नंदीवर्धन)

हर्यंक वंश (सी. 544 ई.पू. - 413 ई.पू.)[संपादित करें]

शिशुनाग वंश (सी ४१३ ई.पू. - ३४५ ई.पू.)[संपादित करें]

  • शिशुनाग (412-395 ईसा पूर्व), मगध के राजा
  • कलाशोक (काकवर्ण)
  • क्षेमधर्मन
  • क्षत्रौजस
  • नंदिवर्धन
  • महानन्दि (345 ईसा पूर्व तक), उसका साम्राज्य उसके नाजायज बेटे महापद्म नंदा को विरासत में मिला था

नंद राजवंश (सी. 345 ई.पू. - 321 ई.पू.)[संपादित करें]

  • महापद्म नन्द (से 345 ईसा पूर्व), महानन्दि का बेटा, महनंदि का साम्राज्य विरासत में मिलने के बाद नंद साम्राज्य की स्थापना
  • पंडुकनन्द
  • पाङुपतिनन्द
  • भूतपालनन्द
  • राष्ट्रपालनन्द
  • गोविषाणकनन्द
  • दशसिद्धकनन्द
  • कैवर्तनन्द
  • कार्विनाथ नंद (महापद्म नंदा के अवैध पुत्र)
  • धनानंद (321 ई.पू. तक), चंद्रगुप्त मौर्य से हारने के बाद अपना साम्राज्य खो दिया।

मौर्य वंश (सी. 321 ई.पू. - 185 ई.पू.)[संपादित करें]

शुंग वंश (सी. 185 ईसा पूर्व - 73 ईसा पूर्व)[संपादित करें]

  • पुष्यमित्र शुंग (१८५-१४९ ईसा पूर्व) ने बृहद्रथ की हत्या करने के बाद राजवंश की स्थापना की।
  • अग्निमित्र (१४९-१४१ ईसा पूर्व), पुष्यमित्र के पुत्र और उत्तराधिकारी
  • वसुजीष्ठ (१४१-१३१ ईसा पूर्व)
  • वसुमित्र (१३१-१२४ ईसा पूर्व)
  • आंध्रका (१२४-१२२ ई.पू.)
  • पुलिंदका (१२२-११९ ईसा पूर्व)
  • घोष (११९ -११६ ई.पू.)
  • वज्रमित्र (११६-११० ई.पू.)
  • भागभद्र (सी. ११० ईसा पूर्व), पुराणों द्वारा वर्णित।
  • देवभूति (८३–७३ ईसा पूर्व), इसी के मन्त्री वसुदेव ने इसकी हत्या कर दी।

कण्व वंश (सी. 73 ईसा पूर्व - 26 ईसा पूर्व)[संपादित करें]

  • वासुदेव (सी. ७५ - ६६ ईसा पूर्व), देवभूति की हत्या करने के बाद राजवंश की स्थापना की।
  • भूमिमित्र (सी. ६६ - ५२ बीसीई)
  • नारायण (सी. ५२ - सी. ४० बीसीई)
  • सुषरमन (सी. ४० - २६ ई.पू.)

गुप्त वंश (सी 240–605 ई.पू.)[संपादित करें]

प्राचीन दक्षिणी राजवंश[संपादित करें]

पाण्ड्य राजवंश (सी. 550 ईपू - 345 ई)[संपादित करें]

मध्य पाण्ड्य

  • कडुकोन, (सी 550–450 ई.पू.)
  • पंडियन (50 ई.पू. - 50 ई.), यूनानियों और रोमनों में पंडियन के रूप में जाना जाता है

प्रारंभिक पाण्ड्य

  • नेदुनज चेलियन प्रथम (अरियाप पडई कादंथा नेदुंज चेलियान)
  • पुदाप्पाण्डियन
  • मुदुकुडि परुवलुधि
  • नेदुनज चेलियन द्वितीय (पसम्पुन पांडियान)
  • नान मारन
  • नेदुनज चेलियन तृतीय (तलैयालंगनाथु सेरुवेंद्र नेदुंज चेलियान)
  • मारन वलुड़ी
  • मुसरी मुटरिया चेलियन
  • उकिराप पेरूवलुथी

पहला साम्राज्य

  • कुंडुगोन (c। 600–700 ई.), राजवंश को पुनर्जीवित किया
  • माड़वर्मन अवनि शुलमणि (590–620 ई.)
  • शेन्दन/जयंतवर्मन (620-640 ई.)
  • अरिकेसरी माड़वर्मन निंदरेसर नेदुमारन (640-674 ई.)
  • कोक्काडैयन रणधीरन (675-730 ई.)
  • अरिकेसरी परनकुसा माड़वर्मन राजसिंह प्रथम (730–765 ई.)
  • जटिल परांतक नेंडुजडैयन/ वरगुण प्रथम (765–790 ई.)
  • राससिंगन द्वितीय (790-800 ई.)
  • वरगुण प्रथम (800–830 ई.)
  • श्रीमाड़ श्रीवल्लभ (830-862 ई.)
  • वरगुण द्वितीय (862-880 ई.)
  • परांतक वीरनारायण (862–905 ई.)
  • माड़वर्मन राजसिंह पांडियन द्वितीय (905–920 ई.)

पाण्ड्य पुनरुद्धार

पंडालम राजवंश (सी. 1200)

चेर राजवंश (सी. 300 ई.पू. - 1124 ई.पू.)[संपादित करें]

ध्यान दें कि शासन वर्ष अभी भी विद्वानों के बीच विवादित हैं, और यहाँ दिये गये वर्ष केवल एक संस्करण है।

प्राचीन चेर राजा[संपादित करें]

# Udiyancheralatan
  1. Antuvancheral
  2. Imayavaramban Nedun-Cheralatan (56–115 CE)
  3. Cheran Chenkutuvan (from 115)
  4. Palyanai Sel-Kelu Kuttuvan (115–130)
  5. Poraiyan Kadungo (from 115)
  6. Kalankai-Kanni Narmudi Cheral (115–140)
  7. Vel-Kelu Kuttuvan (130–185)
  8. Selvak-Kadungo (131–155)
  9. Adukotpattu Cheralatan (140–178)
  10. Kuttuvan Irumporai (178–185)
  11. Tagadur Erinda Perumcheral (185–201)
  12. Yanaikat-sey Mantaran Cheral (201–241)
  13. Ilamcheral Irumporai (241–257)
  14. Perumkadungo (257–287)
  15. Ilamkadungo (287–317)
  16. Kanaikal Irumporai (367–397)

चोल वंश (सी. 300 ई.पु. - 1279 ई.)[संपादित करें]

संगम चोल[संपादित करें]

  • इलमजेतचेन्नी
  • करिकला चोल
  • नेदूनकिल्ली
  • नालनकिल्ली
  • किल्लीवलावन
  • पेरूनारकिल्ली
  • कोचेनगानन

शाही चोल (848–1279 ई.)[संपादित करें]

* Vijayalaya Chola (848–881)

उत्तर-पश्चिमी भारत में विदेशी आक्रमणकारी[संपादित करें]

ये साम्राज्य विशाल थे, जोकि फारस या भूमध्यसागरीय में केंद्रित थे; भारत में उनके क्षत्रप (प्रांत) उनके बाहरी इलाके में आते थे।

सातवाहन वंश (सी. 271 ई.पू. - 220 ई.)[संपादित करें]

सातवाहन शासन की शुरुआत 271 ईसा पूर्व से 30 ईसा पूर्व तक विभिन्न समयों में की गई है।[1] सातवाहन प्रथम शताब्दी ईसा पूर्व से तीसरी शताब्दी ईस्वी तक दक्खन क्षेत्र पर प्रभावी थे।[2] यह तीसरी शताब्दी ईस्वी पूर्व तक चला। निम्नलिखित सातवाहन राजाओं को ऐतिहासिक रूप से एपिग्राफिक रिकॉर्ड द्वारा सत्यापित किया जाता है, हालांकि पुराणों में कई और राजाओं के नाम हैं (देखें सातवाहन वंश # शासकों की सूची ):

वाकाटक वंश (सी. 250 - 500 ई.)[संपादित करें]

  • विंध्यशक्ति (250-270 ई.)
  • प्रवरसेन प्रथम (270–330 ई.)

प्रवरपुर-नन्दिवर्धन शाखा[संपादित करें]

  • रुद्रसेन प्रथम (330–355 ई.)
  • पृथ्वीसेन प्रथम (355–380 ई.)
  • रुद्रसेन द्वितीय (380–385 ई.)
  • दिवाकरसेना (385-400 ई.)
  • प्रभावतीगुप्त (महिला), राज-प्रतिनिधि (385-405 ई.)
  • दामोदरसेन (प्रवरसेन द्वितीय) (400-440 ई.)
  • नरेंद्रसेन (440-460 ई.)
  • पृथ्वीसेन द्वितीय (460-480 ई.)

वत्सगुल्म शाखा[संपादित करें]

  • सर्वसेन (330-355)
  • विंध्यसेन (विंध्यशक्ति द्वितीय) (355-442)
  • प्रवरसेन द्वितीय (400-415)
  • अज्ञात (415-450)
  • देवसेन (450–475)
  • हरिसेन (475-500)

हिंद-स्काइथियन शासक (सी. 90 ई.पू. - 45 ई.)[संपादित करें]

उत्तर पश्चिमी भारत (सी. 90 ई.पू. - 10 ई.)[संपादित करें]

  • मेउस (सी. 85–60 ई.पू.)
  • वोनोन्स (सी. 75-65 ई.पू.)
  • स्पालहोर्स (सी. 75-65 ई.पू.)
  • स्पैलारिस (सी. 60–57 ई.पू.)
  • एज़ेस प्रथम (सी. 57-35 ई.पू.)
  • अज़िलिस (सी. 57-35 ई.पू.)
  • एज़ेस द्वितीय (सी. 35–12 ई.पू.)
  • ज़ियोनीज़ (सी. 10 ई.पू. - 10 ई.)
  • खारहोस्तेस (c। 10 ई.पू. - 10 ई.)
  • हजात्रिया
  • लीका कुसुलुका, चुक्सा का क्षत्रप
  • कुसुलाक पेटिका, चुक्सा का क्षत्रप और लीका कुसुलुका का पुत्र

मथुरा क्षेत्र (सी. 20 ई.पू. - 20 ई.)[संपादित करें]

  • हगामाशा (क्षत्रप)
  • हगाना (क्षत्रप)
  • राजुवुला (महान क्षत्रप ) (सी. 10 ई.)
  • सोदास, राजुवुला का पुत्र

अपराचाजरा शासक (12 ई.पू. - 45 ई.)[संपादित करें]

  • विजयमित्र (12 ई.पू. - 15 ई.)
  • इतरावसु (सी. 20 ई.)
  • अस्पवर्मा (15–45 ई.)

मामूली स्थानीय शासक[संपादित करें]

  • भद्रयशा निगास
  • मामवेदी
  • अर्साकेस

हिन्द-पहलव (पार्थियन) शासक (सी. 21–100 ई.)[संपादित करें]

  • गॉन्डोफ़र्नीज I (सी। 21–50)
  • अब्दागेसिस प्रथम (सी। 50-65)
  • सतवस्त्र (सी। 60)
  • सर्पदन (सी। 70)
  • ऑर्थेनेस (सी। 70)
  • उबोज़ान्स (सी। 77)
  • सस या गॉन्डोफ़र्नीज II (सी। 85)
  • अब्दागेसिस II (सी। 90)
  • पाकोरस (सी। 100)

पश्चिमी क्षत्रप (सी. 35–405 ई.)[संपादित करें]

  • नहपान (119-124 सीई)
  • चष्टन (सी. 120)
  • रुद्रदमन प्रथम (सी। 130–150)
  • दामघसद प्रथम (170-175)
  • जीवादमन (175, डी। 199)
  • रूद्रसिंह प्रथम (175-188, डी। 197)
  • ईश्वरदत्त (188-191)
  • रूद्रसिंह प्रथम (बहाल) (191-197)
  • जीवदामन (बहाल) (197-199)
  • रुद्रसेन प्रथम (२००-२२२)
  • संघदामन (222–223)
  • दामसेन (223-232)
  • दामजदश्री द्वितीय (232–239)
  • विरदमन (234–238)
  • यशोदामन (239-240)
  • यशोदामन द्वितीय (240)
  • विजयसेन (240–250)
  • दामजदश्री तृतीय (251-255)
  • रुद्रसेन द्वितीय (२५५-२ 255))
  • विश्वसिंह (277-282)
  • भारत्रीदामन (282–295) के साथ
  • विश्वसेन (293304)
  • रुद्रसिंह द्वितीय (304-348) के साथ
  • यशोदामन द्वितीय (317–332)
  • रुद्रदामन द्वितीय (332-348)
  • रुद्रसेन तृतीय (348–380)
  • सिम्हसेन (380-?)

कुषाण वंश (80-225)[संपादित करें]

नाग राजवंश (तीसरी-चौथी शताब्दी के दौरान)[संपादित करें]

  • वृष-नाग उर्फ वृष-भाव या वृषभ- संभवतः विदिशा में गत दूसरी शताब्दी में इनका शासन था।
  • वृषभ या वृष-भाव - यह भी एक विशिष्ट राजा का नाम हो सकता है, जोकि वृष-नाग के उत्तराधिकारी थे।
  • भीम-नाग, (ल. 210-230 ईस्वी)- पद्मावती से शासन करने वाले शायद पहले राजा थे।
  • स्कंद-नाग
  • वासु-नाग
  • बृहस्पति-नाग
  • विभु-नाग
  • रवि-नाग
  • भव-नाग
  • प्रभाकर-नाग
  • देव-नाग
  • व्याघरा-नाग
  • गणपति-नाग

पल्लव राजवंश (275–882)[संपादित करें]

प्रारंभिक पल्लव (275-355)[संपादित करें]

मध्य पल्लव (355-537)[संपादित करें]

उत्तर-काल पल्लव (537–882)[संपादित करें]

चित्रदुर्ग में चंद्रवल्ली के कदंब (345–525 ईस्वी)[संपादित करें]

  • मयूरशर्मा (मयूरवर्मा) - (345–365 ईस्वी)
  • कंगवर्मा - (365–390 ईस्वी)
  • भागीरथ - (390–415 ईस्वी)
  • रघु - (415–435 ईस्वी)
  • काकुस्थवर्मा - (435–455 ईस्वी)
  • शांतिवर्मा - (455–460 ईस्वी)
  • मृगेशवर्मा - (460-480 ईस्वी)
  • शिवमंधतिवर्मा - (480–485 ईस्वी)
  • रविवर्मा - (485–519 ईस्वी)
  • हरिवर्मा - (519-525 ईस्वी)
  • गोवा के कदंब - (1345 तक)
  • हंगल के कदंब - (1347 तक)

तालकाड के पश्चिम गंग वंश (350-1024 ईस्वी)[संपादित करें]

  • कोंगणिवर्मन माधव (350–370 ईस्वी)
  • माधव द्वितीय(370–390 ईस्वी)
  • हरिवर्मन (390–410 ईस्वी)
  • विष्णुगोप (410–430 ईस्वी)
  • तडांगला माधव (430–466 ईस्वी)
  • अविनीत (466–495 ईस्वी)
  • दुर्विनीत (495–535 ईस्वी)
  • मुष्कर (535–585 ईस्वी)
  • श्रीविक्रम (585–635 ईस्वी)
  • भूविक्रम (635–679 ईस्वी)
  • शिवमार प्रथम (679–725 ईस्वी)
  • श्रीपुरुष (725–788 ईस्वी)
  • शिवमार द्वितीय (788–816 ईस्वी)
  • राजमल्ल प्रथम (816–843 ईस्वी)
  • नीतिमार्ग एरेगंग (843–870 ईस्वी)
  • राजमल्ल द्वितीय (870–907 ईस्वी)
  • एरेगंग नीतिमार्ग द्वितीय (907–921 ईस्वी)
  • नरसिंहदेव (921–933 ईस्वी)
  • राजमल्ल तृतीय (933–938 ईस्वी)
  • बुतुग द्वितीय (938–961 ईस्वी)
  • मरुलदेव (961–963 ईस्वी)
  • मारसिंह तृतीय (963–975 ईस्वी)
  • राजमल्ल चतुर्थ (974–985 ईस्वी)
  • राजमल्ल पंचम (रक्कस गंग) (986–999 ईस्वी)
  • नीतिमार्ग परमानदी (999- ईस्वी)

राय वंश (524–632 ईस्वी)[संपादित करें]

  • राय दिवाजी (देवदित्य)
  • राय सहिरस (श्री हर्ष)
  • राय सहसी (सिंहसेना)
  • राय सहिरस द्वितीय - निम्रोज़ के राजा से लड़ते हुए मारे गए।
  • राय साहसी द्वितीय - अंतिम राजा

वल्लभी के मैत्रक (बटार) (470-776 ईस्वी)[संपादित करें]

  • भट्टारक (ल. 470–492 ईस्वी)
  • धरसेन प्रथम (ल. 493-499 ईस्वी)
  • द्रोणसिंह (ल. 500-520 ईस्वी), (जिन्हें "महाराजा" के नाम से भी जाना जाता है)
  • ध्रुवसेन प्रथम (ल. 520-550 ईस्वी)
  • धरनपट्ट (ल. 550-556 ईस्वी)
  • गुहसेन (ल. 556-570 ईस्वी)
  • धरसेन द्वितीय (ल. 570-595 ईस्वी)
  • सिलादित्य प्रथम (ल. 595-615 ईस्वी), (जिसे धर्मादित्य भी कहा जाता है)
  • खरग्रह प्रथम (ल. 615 – 626 ईस्वी)
  • धर्मसेन तृतीय (ल. 626 –640 ईस्वी)
  • ध्रुवसेन द्वितीय (ल. 640-644 ईस्वी), (जिसे बालदित्य/ध्रुवभट्ट के नाम से भी जाना जाता है)
  • चक्रवर्ती राजा धरसेन चतुर्थ (ल. 644-651 ईस्वी), (परमभट्टारक, महाराजाधिराज, परमेश्वर, चक्रवर्तिन उपाधि धारक)
  • ध्रुवसेन तृतीय (ल. 651-656 ईस्वी)
  • खरग्रह द्वितीय (ल. 656-662 ईस्वी)
  • सिलादित्य द्वितीय (ल. 662–?)
  • सिलादित्य तृतीय
  • सिलादित्य चतुर्थ
  • सिलादित्य पंचम
  • सिलादित्य छटे
  • सिलादित्य सप्तम (ल. 766-776 ईस्वी)[3][4]

शाकमभरी के चाहमान (6वीं-12वीं शताब्दी)[संपादित करें]

  1. वासुदेव (ल. छटी शताब्दी)
  2. सामन्तराज (ल. 684-709 ईस्वी)
  3. नारा-देव (ल. 709–721 ईस्वी)
  4. अजयराज प्रथम (ल. 721–734 ईस्वी), उर्फ ​​जयराज या अजयपाल
  5. विग्रहराज प्रथम (ल. 734–759 ईस्वी)
  6. चंद्रराज प्रथम (ल. 759–771 ईस्वी)
  7. गोपेंद्रराज (ल. 771–784 ईस्वी)
  8. दुर्लभराज प्रथम (ल. 784–809 ईस्वी)
  9. गोविंदराज प्रथम (ल. 809–836 ईस्वी), उर्फ ​​गुवाक प्रथम
  10. चंद्रराज द्वितीय (ल. 836-863 ईस्वी)
  11. गोविंदराजा द्वितीय (ल. 863–890 ईस्वी), उर्फ ​​गुवाक द्वितीय
  12. चंदनराज (ल. 890–917 ईस्वी)
  13. वाक्पतिराज प्रथम (ल. 917–944 ईस्वी); उनके छोटे बेटे ने नद्दुल चाहमान शाखा की स्थापना की।
  14. सिम्हराज (ल. 944–971 ईस्वी)
  15. विग्रहराज द्वितीय (ल. 971–998 ईस्वी)
  16. दुर्लभराज द्वितीय (ल. 998–1012 ईस्वी)
  17. गोविंदराज तृतीय (ल. 1012-1026 ईस्वी)
  18. वाक्पतिराज द्वितीय (ल. १०२६-१०४० ईस्वी)
  19. विर्याराम (ल. 1040 ईस्वी)
  20. चामुंडराज चौहान (ल. १०४०-१०६५ ईस्वी)
  21. दुर्लभराज तृतीय (ल. 1065-1070 ईस्वी), उर्फ ​​दुआला
  22. विग्रहराज तृतीय (ल. 1070-1090 ईस्वी), उर्फ ​​विसला
  23. पृथ्वीराज प्रथम (ल. 1090–1110 ईस्वी)
  24. अजयराज द्वितीय (ल. १११०-११३५ ईस्वी), राजधानी को अजयमेरु (अजमेर) ले गए।
  25. अर्णोराज चौहान (ल. 1135–1150 ईस्वी)
  26. जगददेव चौहान (ल. ११५० ईस्वी)
  27. विग्रहराज चतुर्थ (ल. 1150–1164 ईस्वी), उर्फ ​​विसलदेव
  28. अमरगंगेय (ल. 1164–1165 ईस्वी)
  29. पृथ्वीराज द्वितीय (ल. 1165–1169 ईस्वी)
  30. सोमेश्वर चौहान (ल. ११६ ९ -११vv ईस्वी)
  31. पृथ्वीराज तृतीय (ल. 1178–1192 ईस्वी), इन्हें पृथ्वीराज चौहान के नाम से जाना जाता है
  32. गोविंदाराज चतुर्थ (ल. 1192 ईस्वी); मुस्लिम अस्मिता स्वीकार करने के कारण हरिराज द्वारा निर्वासित; रणस्तंभपुरा के चाहमान शाखा की स्थापना की।
  33. हरिराज (ल. 1193–1194 ईस्वी)

चालुक्य राजवंश (543–1156 ईस्वी)[संपादित करें]

बादामी के चालुक्य (543-757)[संपादित करें]

बसवकल्याण|कल्याणी के चालुक्य (973–1156)[संपादित करें]

शशांक राजवंश (गौड़ राज्य) (600–626 ईस्वी)[संपादित करें]

हर्ष वंश (606–647 ईस्वी)[संपादित करें]

गुर्जर-प्रतिहार राजवंश (650–1036 ईस्वी)[संपादित करें]

जेजाकभुक्ति के चन्देल (9वीं से 13वीं शताब्दी)[संपादित करें]

दिल्ली के तौमर (736–1052 ईस्वी)[संपादित करें]

सौराष्ट्र के चालुक्य (940–1244 ईस्वी)[संपादित करें]

सोलंकी राजवंश

मान्यखेत के राष्ट्रकूट (735-982 ईस्वी)[संपादित करें]

पाल साम्राज्य (750–1174 ईस्वी)[संपादित करें]

मालवा के परमार वंश (9वीं शताब्दी से 1305 ईस्वी)[संपादित करें]

देवगिरि के यादव (850–1334 ईस्वी)[संपादित करें]

काबुल शाही वंश[संपादित करें]

ब्राह्मण शाही वंश (890–964)[संपादित करें]

शाही वंश (964–1026 ईस्वी)[संपादित करें]

चन्द्र राजवंश (900-1050)[संपादित करें]

होयसल राजवंश (1000–1346)[संपादित करें]

बंगाल के सेन राजवंश (1070-1230 ईस्वी)[संपादित करें]

पूर्वी गंग राजवंश (1078-1434 ईस्वी)[संपादित करें]

काकतीय राजवंश (1083–1323 ईस्वी)[संपादित करें]

कल्याणी (दक्षिणी) वंश के कलचुरि (1130–1184 ईस्वी)[संपादित करें]

पूर्वी असम के शुतीया राजवंश (1187-1524)[संपादित करें]

मगदीमंडालम का बान वंश (1190–1260 )[संपादित करें]

दिल्ली सल्तनत (1206-1526)[संपादित करें]

दिल्ली का मामलुक (गुलाम) वंश (1206-1290)[संपादित करें]

खिलजी वंश (1290–1320)[संपादित करें]

तुगलक वंश (1321-1414)[संपादित करें]

जौनपुर सल्तनत (1394-1479)[संपादित करें]

सैय्यद वंश (1414-1451)[संपादित करें]

लोदी वंश (1451-1526)[संपादित करें]

बहमनी सल्तनत (1347-1527)[संपादित करें]

मालवा सल्तनत (1392-1562)[संपादित करें]

गौरी (1390-1436)[संपादित करें]

खिलजी (1436-1535)[संपादित करें]

गुजरात के तहत (1530-1534)[संपादित करें]

बिदार शाही वंश (1489-1619)[संपादित करें]

इमाद शाही (बिरार) वंश (1490–1572)[संपादित करें]

आदिल शाही वंश (1490-1686)[संपादित करें]

निज़ाम शाही वंश (1490-1636)[संपादित करें]

कदिरीद[संपादित करें]

कुतब शाही वंश (1518–1687)[संपादित करें]

असम के आहोम राजवंश (1228–1826)[संपादित करें]

बारो-भुइयां (1576-1632)[संपादित करें]

मुसुनुरी नायक (1323–1368)[संपादित करें]

रेड्डी राजवंश (1325-1548)[संपादित करें]

विजयनगर साम्राज्य (1336-1646)[संपादित करें]

संगम राजवंश (1336-1487)[संपादित करें]

त्रिपुरा राज्य (1463-1949)[संपादित करें]

सुलुव राजवंश (1490–1567)[संपादित करें]

तुलुव राजवंश (1491–1570)[संपादित करें]

अरावती राजवंश (1565-1680)[संपादित करें]

मैसूर[संपादित करें]

ओडेयर राजवंश (पहला शासन, 1371-1761)[संपादित करें]

मैसूर के हैदर अली का राजवंश (1761-1799)[संपादित करें]

ओडेयर राजवंश (दुसरा शासन, 1371-1761)[संपादित करें]

गजपति राजवंश (1434–1541 )[संपादित करें]

कोचीन के महाराजा (पेरम्पादापू स्वरूपम, 1503-1964)[संपादित करें]

मुगल साम्राज्य (1526-1857)[संपादित करें]

मेवाड़ राजवंश[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: मेवाड़ एवं उदयपुर रियासत

शिशोदिया[संपादित करें]

सूरी साम्राज्य (1540–1555)[संपादित करें]

चोग्याल, सिक्किम और लद्दाख के सम्राट (1642-1975)[संपादित करें]

मराठा साम्राज्य (1674-1818)[संपादित करें]

छत्रपति शिवाजी महाराज युग[संपादित करें]

कोल्हापुर में भोसले छत्रपति (1700-1947)[संपादित करें]

सतारा में भोसले छत्रपति (1707-1839)[संपादित करें]

पेशवा (1713-1858)[संपादित करें]

तंजावुर के भोसले महाराजा (?-1799)[संपादित करें]

नागपुर के भोसले महाराजा (1799-1881)[संपादित करें]

इंदौर के होलकर शासक (1731-1948)[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: इंदौर रियासत

ग्वालियर के सिंधिया शासक (1731-1947)[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: ग्वालियर रियासत

बड़ौदा के गायकवाड़ राजवंश (1721-1947)[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: बड़ौदा रियासत

मुगल/ब्रिटिश प्रभुत्व के मुस्लिम जागीरदार (1707-1856)[संपादित करें]

बंगाल के नवाब (1707-1770)[संपादित करें]

अवध के नवाब (1719-1858)[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: अवध रियासत

हैदराबाद के निज़ाम (1720–1948)[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: हैदराबाद के निज़ाम एवं हैदराबाद रियासत

सवानुर रियासत[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: सवानुर रियासत

त्रवनकोर का साम्राज्य (1729-1947)[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: त्रवनकोर

सिख साम्राज्य (1801-1849)[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: सिख साम्राज्य

भारत के सम्राट/महारानी (1857-1947)[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: भारत के सम्राट एवं ब्रिटिश राज

भारत का प्रभुत्व (1947-1950)[संपादित करें]

पाकिस्तान का प्रभुत्व (1947-1956)[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]


सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Upinder Singh (2008). A History of Ancient and Early Medieval India. Pearson Education India. पपृ॰ 381–384. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788131711200.
  2. Charles Higham (2009). Encyclopedia of Ancient Asian Civilizations. Infobase Publishing. पृ॰ 299. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781438109961.
  3. "साम्राज्यों का उदय- गुप्तोत्तर काल- मैत्रक वंश". Govt Exam Success. अभिगमन तिथि 7 अगस्त 2019.
  4. Mahajan V.D. (1960, reprint 2007). Ancient India, S.Chand & Company, New Delhi, ISBN 81-219-0887-6, pp.594–6