अधिराजेन्द्र चोल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अधिराजेंद्र चोल चोल राजा वीरराजेंद्र चोल का पुत्र था, जो लगभग १०७० ई. में उसके मरने पर चोडमंडल का राजा हुआ। तीन वर्ष वह युवराज के पद पर रहा था और युवराज का पद चोलों में बड़ी कार्यशीलता का था। वह राजा का निजी सचिव भी होता था और सर्वत्र उसका प्रतिनिधान करता था। अधिराजेंद्र का शासनकाल बहुत थोड़ा रहा। राज्य में काफी उथल-पुथल थी और अपने संबंधी (बहनोई) विक्रमादित्य षष्ठ की सहायता के बावजूद वह राज्य की स्थिति न सँभाल सका और मारा गया।