नरसिंहवर्मन २

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अरबों के आक्रमण के समय पल्लवों का शासक नरसिंह वर्मन द्वितीय था। उसने 'राजासिंह'(राजाओं में सिंह), 'आगमप्रिय'(शास्त्रों का प्रेमी) और शंकर भक्त (शिव का उपासक) की उपाधियां धारण की। उसने कांची के कैलाश मंदिर का निर्माण करवाया और जिसे राजसिद्धेश्वर मंदिर भी कहा जाता है इसी मंदिर के निर्माण से द्रविड़ स्थापत्य कला की शुरुआत हुई। (महाबलीपुरम में शोर मंदिर) कांची के कैलाश मंदिर में पल्लव राजाओं और रानियों की आदमकद तस्वीरें लगी हैं दसकुमारचरित के लेखक दण्डी नरसिंह वर्मन द्वितीय के दरबार में रहते थे