रुद्रम देवी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

रानी रुद्रमा देवी (1259–1289) काकतीय वंश की महिला शासक थीं। यह भारत के इतिहास के कुछ महिला शासकों में से एक थीं। रानी रूद्रमा देवी या रुद्रदेव महाराजा, 1263 से उनकी मृत्यु तक दक्कन पठार में काकातिया वंश की एक राजकुमारी थी। वह भारत में सम्राटों के रूप में शासन करने वाली बहुत कम स्त्रियों में से एक थी..

जन्म[संपादित करें]

इनका जन्म रुद्रमा देवी नाम से हुआ। इनके पिता गणपती देवा हैं।[1] रुद्रमा देवी ने 1261-62 से अपने सह-राजकुमारी के रूप में अपने पिता गणपतिदेव के साथ संयुक्त रूप से काकतिय साम्राज्य का शासन शुरू किया था। उन्होंने 1263 में पूर्ण संप्रभुता ग्रहण की।

उनके काकतिया पूर्ववर्तियों के विपरीत, उन्होंने योद्धाओं के रूप में उन्होने समाज के निचले तबके से लोगों को योद्धाओं के रूप में चुना और उनके इसके बदले उन्हें भूमि कर राजस्व के अधिकार प्रदान किया। यह एक महत्वपूर्ण परिवर्तन था और उसके बाद उसके उत्तराधिकारी और बाद में विजयनगर साम्राज्य अपनाया गया था।

रुद्रमा देवी को पूर्वी गंग राजवंश से चुनौतियों का सामना करना पड़ा और उनके शासन के शुरू होने के तुरंत बाद यादवों का सामना करना पड़ा। वह गंगो के पीछे हटाने में सफल हुई, जो 1270 के दशक के अंत में गोदावरी नदी से पीछे हट गए थे और उन्होंने यादवों से भी युद्ध किया लेकिन हार का सामना करना पड़ा। हालांकि, वह 1273 में  राज्य प्रमुख बने जाने के बाद केस्थ मुखिया अंबेडेव द्वारा किए गए आंतरिक असंतोष से निपटने में असफल रही। अंबादेव ने काकतियों के अधीनस्थ होने पर आपत्ति जताई और उन्होंने दक्षिण-पूर्वी आंध्र के बहुत से हिस्से नियंत्रण हासिल किया।

परिवार और उत्तराधिकार[संपादित करें]

रुद्रमा देवी ने चालुक्य वंश के सदस्य वीरभद्र से विवाह किया। यह विवाह उसके पिता द्वारा क्षेत्रीय गठबंधन बनाने के लिए एक राजनीतिक विवाह था। वीरभद्र वास्तव में रुद्रमा देवी के अनुपयुक्त था और उन्होने रुद्रमा देवी के प्रशासन में कोई भूमिका नहीं निभाई । वीरभद्र से रुद्रमा देवी को दो बेटियाँ हुई। 
रुद्रमा देवी की मृत्यु अंबादेव से लड़ते हुए संभवतः 1289 में हुई। हालांकि कुछ सूत्रों का कहना है कि वह 1295 तक जीवित थी। उनकी मृत्यु के पश्चात उनकी बेटियों में से एक के पुत्र प्रतापरूद्र ने राजगद्दी संभाली, परंतु रुद्रमादेवी के काल का समृद्ध राजपाट अब न के बराबर रह गया था। रुद्रमा देवी ने चालुक्य वंश के सदस्य विरभद्र से विवाह किया। यह विवाह उसके पिता द्वारा क्षेत्रीय गठबंधन बनाने के लिए एक राजनीतिक विवाह था। वीरभद्र वास्तव में रुद्रमा देवी के अनुपयुक्त था और उन्होने रुद्रमा देवी के प्रशासन में कोई भूमिका नहीं निभाई । वीरभद्र से रुद्रमा देवी को दो बेटियाँ हुई। 
रुद्रमा देवी की मृत्यु अंबादेव से लड़ते हुए संभवतः 1289 में हुई। हालांकि कुछ सूत्रों का कहना है कि वह 1295 तक जीवित थी। उनकी मृत्यु के पश्चात उनकी बेटियों में से एक के पुत्र प्रतापरूद्र ने राजगद्दी संभाली, परंतु रुद्रमादेवी के काल का समृद्ध राजपाट अब न के बराबर रह गया था। 
रुद्रमा देवी का किला

वर्तमान में[संपादित करें]

फिल्म निर्माता गुणशेखर ने रुद्रमा देवी के जीवन पर फिल्म बनाई। अल्लू अर्जुन, राणा डग्गूबाती और कृष्णम राजू के साथ एक तेलगु फिल्म रुद्रमा देवी में अनुष्का शेट्टी ने रुद्रमा देवी की भूमिका निभाई। रुद्रमादेवी नामक यह फ़िल्म 26 जून 2015 को प्रदर्शित हुई। जिसमें अनुष्का शेट्टी मुख्य भूमिका रुद्रमा देवी बनी हैं।[2]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Bilkees I. Latif (2010). Forgotten. Penguin Books India. पृ॰ 70. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-14-306454-1.
  2. "Anushka to do a Tamil-Telugu period film?". Times of India. 6 October 2012. अभिगमन तिथि 24 November 2012.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]