कर्नाटक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कर्नाटक
ಕರ್ನಾಟಕ
भारत का राज्य

[[चित्र:|250px|center|]]

भारत के मानचित्र पर कर्नाटक ಕರ್ನಾಟಕ

राजधानी बेंगलुरु
सबसे बड़ा शहर बेंगलुरु
जनसंख्या 6,10,95,297
 - घनत्व 319 /किमी²
क्षेत्रफल 1,91,791 किमी² 
 - ज़िले 30
राजभाषा कन्नड़[1]
गठन 1 नवम्बर 1956
सरकार कर्नाटक सरकार
 - राज्यपाल वजुभाई वाला
 - मुख्यमंत्री एच॰ डी॰ कुमारस्वामी (जद (से))
 - विधानमण्डल द्विसदनीय
विधान परिषद (75 सीटें)
विधान सभा (225 सीटें)
 - भारतीय संसद राज्य सभा (12 सीटें)
लोक सभा (28 सीटें)
 - उच्च न्यायालय कर्नाटक उच्च न्यायालय
डाक सूचक संख्या 56 से 59
वाहन अक्षर KA
आइएसओ 3166-2 IN-KA
www.karnataka.gov.in

कर्नाटक (कन्नड़:

  1. REDIRECTअंग्रेज़ी भाषा), जिसे कर्णाटक भी कहते हैं, दक्षिण भारत का एक राज्य है। इस राज्य का गठन १ नवंबर, १९५६ को राज्य पुनर्गठन अधिनियम के अधीन किया गया था। पहले यह मैसूर राज्य कहलाता था। १९७३ में पुनर्नामकरण कर इसका नाम कर्नाटक कर दिया गया। इसकी सीमाएं पश्चिम में अरब सागर, उत्तर पश्चिम में गोआ, उत्तर में महाराष्ट्र, पूर्व में आंध्र प्रदेश, दक्षिण-पूर्व में तमिल नाडु एवं दक्षिण में केरल से लगती हैं। इसका कुल क्षेत्रफल ७४,१२२ वर्ग मील (१,९१,९७६ कि॰मी॰²) है, जो भारत के कुल भौगोलिक क्षेत्र का ५.८३% है। २९ जिलों के साथ यह राज्य आठवां सबसे बड़ा राज्य है। राज्य की आधिकारिक और सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषा है कन्नड़

कर्नाटक शब्द के उद्गम के कई व्याख्याओं में से सर्वाधिक स्वीकृत व्याख्या यह है कि कर्नाटक शब्द का उद्गम कन्नड़ शब्द करु, अर्थात काली या ऊंची और नाडु अर्थात भूमि या प्रदेश या क्षेत्र से आया है, जिसके संयोजन करुनाडु का पूरा अर्थ हुआ काली भूमि या ऊंचा प्रदेश। काला शब्द यहां के बयालुसीम क्षेत्र की काली मिट्टी से आया है और ऊंचा यानि दक्कन के पठारी भूमि से आया है। ब्रिटिश राज में यहां के लिये कार्नेटिक शब्द का प्रयोग किया जाता था, जो कृष्णा नदी के दक्षिणी ओर की प्रायद्वीपीय भूमि के लिये प्रयुक्त है और मूलतः कर्नाटक शब्द का अपभ्रंश है।[2]

प्राचीन एवं मध्यकालीन इतिहास देखें तो कर्नाटक क्षेत्र कई बड़े शक्तिशाली साम्राज्यों का क्षेत्र रहा है। इन साम्राज्यों के दरबारों के विचारक, दार्शनिक और भाट व कवियों के सामाजिक, साहित्यिक व धार्मिक संरक्षण में आज का कर्नाटक उपजा है। भारतीय शास्त्रीय संगीत के दोनों ही रूपों, कर्नाटक संगीत और हिन्दुस्तानी संगीत को इस राज्य का महत्त्वपूर्ण योगदान मिला है। आधुनिक युग के कन्नड़ लेखकों को सर्वाधिक ज्ञानपीठ सम्मान मिले हैं।[3] राज्य की राजधानी बंगलुरु शहर है, जो भारत में हो रही त्वरित आर्थिक एवं प्रौद्योगिकी का अग्रणी योगदानकर्त्ता है।

अनुक्रम

इतिहास[संपादित करें]

पत्तदकल में मल्लिकार्जुन और काशी विश्वनाथ मंदिर चालुक्य एवं राष्ट्रकूट वंश द्वारा बनवाये गए थे, जो अब यूनेस्को विश्व धरोहर हैं

कर्नाटक का विस्तृत इतिहास है जिसने समय के साथ कई करवटें बदलीं हैं।[4] राज्य का प्रागैतिहास पाषाण युग तक जाता है तथा इसने कई युगों का विकास देखा है। राज्य में मध्य एवं नव पाषाण युगों के साक्ष्य भी पाये गए हैं। हड़प्पा में खोजा गया स्वर्ण कर्नाटक की खानों से निकला था, जिसने इतिहासकारों को ३००० ई.पू के कर्नाटक और सिंधु घाटी सभ्यता के बीच संबंध खोजने पर विवश किया।[5][6] तृतीय शताब्दी ई.पू से पूर्व, अधिकांश कर्नाटक राज्य मौर्य वंश के सम्राट अशोक के अधीन आने से पहले नंद वंश के अधीन रहा था। सातवाहन वंश को शासन की चार शताब्दियां मिलीं जिनमें उन्होंने कर्नाटक के बड़े भूभाग पर शासन किया। सातवाहनों के शासन के पतन के साथ ही स्थानीय शासकों कदंब वंश एवं पश्चिम गंग वंश का उदय हुआ। इसके साथ ही क्षेत्र में स्वतंत्र राजनैतिक शक्तियां अस्तित्त्व में आयीं। कदंब वंश की स्थापना मयूर शर्मा ने ३४५ ई. में की और अपनी राजधानी बनवासी में बनायी;[7][8] एवं पश्चिम गंग वंश की स्थापना कोंगणिवर्मन माधव ने ३५० ई में तालकाड़ में राजधानी के साथ की।[9][10]

हाल्मिदी शिलालेख एवं बनवसी में मिले एक ५वीं शताब्दी की ताम्र मुद्रा के अनुसार ये राज्य प्रशासन में कन्नड़ भाषा प्रयोग करने वाले प्रथम दृष्टांत बने[11][12] इन राजवंशों के उपरांत शाही कन्नड़ साम्राज्य बादामी चालुक्य वंश,[13][14] मान्यखेत के राष्ट्रकूट,[15][16] और पश्चिमी चालुक्य वंश[17][18] आये जिन्होंने दक्खिन के बड़े भाग पर शासन किया और राजधानियां वर्तमान कर्नाटक में बनायीं। पश्चिमी चालुक्यों ने एक अनोखी चालुक्य स्थापत्य शैली भी विकसित की। इसके साथही उन्होंने कन्नड़ साहित्य का भी विकास किया जो आगे चलकर १२वीं शताब्दी में होयसाल वंश के कला व साहित्य योगदानों का आधार बना।[19][20]

आधुनिक कर्नाटक के भागों पर ९९०-१२१० ई. के बीच चोल वंश ने अधिकार किया।[21] अधिकरण की प्रक्रिया का आरंभ राजराज चोल १ (९८५-१०१४) ने आरंभ किया और ये काम उसके पुत्र राजेन्द्र चोल १ (१०१४-१०४४) के शासन तक चला।[21] आरंभ में राजराज चोल १ ने आधुनिक मैसूर के भाग "गंगापाड़ी, नोलंबपाड़ी एवं तड़िगैपाड़ी' पर अधिकार किया। उसने दोनूर तक चढ़ाई की और बनवसी सहित रायचूर दोआब के बड़े भाग तथा पश्चिमी चालुक्य राजधानी मान्यखेत तक हथिया ली।[21] चालुक्य शासक जयसिंह की राजेन्द्र चोल १ के द्वारा हार उपरांत, तुंगभद्रा नदी को दोनों राज्यों के बीच की सीमा तय किया गया था।[21] राजाधिराज चोल १ (१०४२-१०५६) के शासन में दन्नड़, कुल्पाक, कोप्पम, काम्पिल्य दुर्ग, पुण्डूर, येतिगिरि एवं चालुक्य राजधानी कल्याणी भी छीन ली गईं।[21] १०५३ में, राजेन्द्र चोल २ चालुक्यों को युद्ध में हराकर कोल्लापुरा पहुंचा और कालंतर में अपनी राजधानी गंगाकोंडचोलपुरम वापस पहुंचने से पूर्व वहां एक विजय स्मारक स्तंभ भी बनवाया।[22] १०६६ में पश्चिमी चालुक्य सोमेश्वर की सेना अगले चोल शासक वीरराजेन्द्र से हार गयीं। इसके बाद उसी ने दोबारा पश्चिमी चालुक्य सेना को कुदालसंगम पर मात दी और तुंगभद्रा नदी के तट पर एक विजय स्मारक की स्थापनी की।[22] १०७५ में कुलोत्तुंग चोल १ ने कोलार जिले में नांगिली में विक्रमादित्य ६ को हराकर गंगवाड़ी पर अधिकार किया।[23] चोल साम्राज्य से १११६ में गंगवाड़ी को विष्णुवर्धन के नेतृत्व में होयसालों ने छीन लिया।[21]

हम्पी, विश्व धरोहर स्थल मं एक उग्रनरसिंह की मूर्ति। यह विजयनगर साम्राज्य की पूर्व राजधानी विजयनगर के अवशेषों के निकट स्थित है।

प्रथम सहस्राब्दी के आरंभ में ही होयसाल वंश का क्षेत्र में पुनरोद्भव हुआ। इसी समय होयसाल साहित्य पनपा साथ ही अनुपम कन्नड़ संगीत और होयसाल स्थापत्य शैली के मंदिर आदि बने।[24][25][26][27] होयसाल साम्राज्य ने अपने शासन के विस्तार के तहत आधुनिक आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु के छोटे भागों को विलय किया। १४वीं शताब्दी के आरंभ में हरिहर और बुक्का राय ने विजयनगर साम्राज्य की स्थापना की एवं वर्तमान बेल्लारी जिले में तुंगभद्रा नदी के तट होसनपट्ट (बाद में विजयनगर) में अपनी राजधानी बसायी। इस साम्राज्य ने अगली दो शताब्दियों में मुस्लिम शासकों के दक्षिण भारत में विस्तार पर रोक लगाये रखी।[28][29]

बादामी गुहा के भीतर

१५६५ में समस्त दक्षिण भारत सहित कर्नाटक ने एक बड़ा राजनैतिक बदलाव देख, जिसमें विजयनगर साम्राज्य तालिकोट के युद्ध में हार के बाद इस्लामी सल्तनतों के अधीन हो गया।[30] बीदर के बहमनी सुल्तान की मृत्यु उपरांत उदय हुए बीजापुर सल्तनत ने जल्दी ही दक्खिन पर अधिकार कर लिया और १७वीं शताब्दी के अंत में मुगल साम्राज्य से मात होने तक बनाये रखा।[31][32] बहमनी और बीजापुर के शसकों ने उर्दू एवं फारसी साहित्य तथा भारतीय पुनरोद्धार स्थापत्यकला (इण्डो-सैरेसिनिक) को बढ़ावा दिया। इस शैली का प्रधान उदाहरण है गोल गुम्बज[33] पुर्तगाली शासन द्वारा भारी कर वसूली, खाद्य आपूर्ति में कमी एवं महामारियों के कारण १६वीं शताब्दी में कोंकणी हिन्दू मुख्यतः सैल्सेट, गोआ से विस्थापित होकर]],[34] कर्नाटक में आये और १७वीं तथा १८वीं शताब्दियों में विशेषतः बारदेज़, गोआ से विस्थापित होकर मंगलौरियाई कैथोलिक ईसाई दक्षिण कन्नड़ आकर बस गये।[35]

भूगोल[संपादित करें]

जोग प्रपात भारत में सबसे ऊंचा जल प्रपात है। यहां शरावती नदी ऊंचाई से नीचे गिरती है।

कर्नाटक राज्य में तीन प्रधान मंडल हैं: तटीय क्षेत्र करावली, पहाड़ी क्षेत्र मालेनाडु जिसमें पश्चिमी घाट आते हैं, तथा तीसरा बयालुसीमी क्षेत्र जहां दक्खिन पठार का क्षेत्र है। राज्य का अधिकांश क्षेत्र बयालुसीमी में आता है और इसका उत्तरी क्षेत्र भारत का सबसे बड़ा शुष्क क्षेत्र है।[36] कर्नाटक का सबसे ऊंचा स्थल चिकमंगलूर जिले का मुल्लयनगिरि पर्वत है। यहां की समुद्र सतह से ऊंचाई 1,929 मीटर (6,329 फीट) है। कर्नाटक की महत्त्वपूर्ण नदियों में कावेरी, तुंगभद्रा नदी, कृष्णा नदी, मलयप्रभा नदी और शरावती नदी हैं।

कृषि हेतु योग्यता के अनुसार यहां की मृदा को छः प्रकारों में वर्गीकृत किया जा सकता है: लाल, लैटेरिटिक, काली, ऍल्युवियो-कोल्युविलय एवं तटीय रेतीली मिट्टी। राज्य में चार प्रमुख ऋतुएं आती हैं। जनवरी और फ़रवरी में शीत ऋतु, उसके बाद मार्च-मई तक ग्रीष्म ऋतु, जिसके बाद जून से सितंबर तक वर्षा ऋतु (मॉनसून) और अंततः अक्टूबर से दिसम्बर पर्यन्त मॉनसूनोत्तर काल। मौसम विज्ञान के आधार पर कर्नाटक तीन क्षेत्रों में बांटा जा सकता है: तटीय, उत्तरी आंतरिक और दक्षिणी आंतरिक क्षेत्र। इनमें से तटीय क्षेत्र में सर्वाधिक वर्षा होती है, जिसका लगभग 3,638.5 मि॰मी॰ (143 इंच) प्रतिवर्ष है, जो राज्य के वार्षिक औसत 1,139 मि॰मी॰ (45 इंच) से कहीं अधिक है। शिमोगा जिला में अगुम्बे भारत में दूसरा सर्वाधिक वार्षिक औसत वर्षा पाने वाला स्थल है।[37] द्वारा किया गया है। यहां का सर्वाधिक अंकित तापमान ४५.६ ° से. (११४ °फ़ै.) रायचूर में तथा न्यूनतम तापमान 2.8 °से. (37 °फ़ै) बीदर में नापा गया है।

कर्नाटक का लगभग 38,724 कि॰मी2 (14,951 वर्ग मील) (राज्य के भौगोलिक क्षेत्र का २०%) वनों से आच्छादित है। ये वन संरक्षित, सुरक्षित, खुले, ग्रामीण और निजी वनों में वर्गीकृत किये जा सकते हैं। यहां के वनाच्छादित क्षेत्र भारत के औसत वनीय क्षेत्र २३% से कुछ ही कम हैं, किन्तु राष्ट्रीय वन नीति द्वारा निर्धारित ३३% से कहीं कम हैं।[38]

उप-मंडल[संपादित करें]

कर्नाटक के जिले

कर्नाटक राज्य में ३० जिले हैं —बागलकोट, बंगलुरु ग्रामीण, बंगलुरु शहरी, बेलगाम, बेल्लारी, बीदर, बीजापुर, चामराजनगर, चिकबल्लपुर,[39] चिकमंगलूर, चित्रदुर्ग, दक्षिण कन्नड़, दावणगिरि, धारवाड़, गडग, गुलबर्ग, हसन, हवेरी, कोडगु, कोलार, कोप्पल, मांड्या, मैसूर, रायचूर, रामनगर,[39] शिमोगा, तुमकुर, उडुपी, उत्तर कन्नड़ एवं यादगीर। प्रत्येक जिले का प्रशासन एक जिलाधीश या जिलायुक्त के अधीन होता है। ये जिले फिर उप-क्षेत्रों में बंटे हैं, जिनका प्रशासन उपजिलाधीश के अधीन है। उप-जिले ब्लॉक और पंचायतों तथा नगरपालिकाओं द्वारा देखे जाते हैं।

२००१ की जनगणना के आंकड़ों से ज्ञात होता है कि जनसंख्यानुसार कर्नाटक के शहरों की सूची में सर्वोच्च छः नगरों में बंगलुरु, हुबली-धारवाड़, मैसूर, गुलबर्ग, बेलगाम एवं मंगलौर आते हैं। १० लाख से अधिक जनसंख्या वाले महानगरों में मात्र बंगलुरु ही आता है। बंगलुरु शहरी, बेलगाम एवं गुलबर्ग सर्वाधिक जनसंख्या वाले जिले हैं। प्रत्येक में ३० लाख से अधिक जनसंख्या है। गडग, चामराजनगर एवं कोडगु जिलों की जनसंख्या १० लाख से कम है।[40]


जनसांख्यिकी[संपादित करें]

२००१ की भारतीय जनगणना के अनुसार, कर्नाटक की कुल जनसंख्या ५२,८५०,५६२ है, जिसमें से २६,८९८,९१८ (५०.८९%) पुरुष और २५,९५१,६४४ स्त्रियां (४३.११%) हैं। यानि प्रत्येक १००० पुरुष ९६४ स्त्रियां हैं। इसके अनुसार १९९१ की जनसंख्या में १७.२५% की वृद्धि हुई है। राज्य का जनसंख्या घनत्व २७५.६ प्रति वर्ग कि.मी है और ३३.९८% लोग शहरी क्षेत्रों में रहते हैं। यहां की साक्षरता दर ६६.६% है, जिसमें ७६.१% पुरुष और ५६.९% स्त्रियां साक्षर हैं।[42] यहां की कुल जनसंख्या का ८३% हिन्दू हैं और १३% मुस्लिम, २% ईसाई, ०.७८% जैन, ०.३% बौद्ध और शेष लोग अन्य धर्मावलंबी हैं।[43]

कर्नाटक की आधिकारिक भाषा कन्नड़ है और स्थानीय भाषा के रूप में ६४.७५% लोगों द्वारा बोली जाती है। १९९१ के अनुसार अन्य भाषायी अल्पसंख्यकों में उर्दु (१०.५४ %), तेलुगु (७.०३ %), तमिल (३.५७ %), मराठी (३.६० %), तुलु (३.०० %), हिन्दी (२.५६ %), कोंकणी (१.४६ %), मलयालम (१.३३ %) और कोडव तक्क भाषी ०.३ % हैं।[44] राज्य की जन्म दर २.२% और मृत्यु दर ०.७२% है। इसके अलावा शिशु मृत्यु (मॉर्टैलिटी) दर ५.५% एवं मातृ मृत्यु दर ०.१९५% है। कुल प्रजनन (फर्टिलिटी) दर २.२ है।[45]

स्वास्थ्य एवं आरोग्य के क्षेत्र (सुपर स्पेशियलिटी हैल्थ केयर) में कर्नाटक की निजी क्षेत्र की कंपनियां विश्व की सर्वश्रेष्ठ संस्थाओं से तुलनीय हैं।[46] कर्नाटक में उत्तम जन स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध हैं, जिनके आंकड़े व स्थिति भारत के अन्य अधिकांश राज्यों की तुलना में काफी बेहतर है। इसके बावजूद भी राज्य के कुछ अति पिछड़े इलाकों में प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाओं का अभाव है।[47] प्रशासनिक उद्देश्य हेतु, कर्नाटक को चार रेवेन्यु मंडलों, ४९ उप-मंडलों, २९ जिलों, १७५ तालुकों और ७४५ होब्लीज़/रेवेन्यु वृत्तों में बांटा गया है।[48] प्रत्येक जिला प्रशासन का अध्यक्ष जिला उपायुक्त होता है, जो भारतीय प्रशासनिक सेवा (आई.ए.एस) से होता है और उसके अधीन कर्नाटक राज्य सेवाओं के अनेक अधिकारीगण होते हैं। राज्य के न्याय और कानून व्यवस्था का उत्तरदायित्व पुलिस उपायुक्त पर होता है। ये भारतीय पुलिस सेवा का अधिकारी होता है, जिसके अधीन कर्नाटक राज्य पुलिस सेवा के अधिकारीगण कार्यरत होते हैं। भारतीय वन सेवा से वन उपसंरक्षक अधिकारी तैनात होता है, जो राज्य के वन विभाग की अध्यक्षता करता है। जिलों के सर्वांगीण विकास, प्रत्येक जिले के विकास विभाग जैसे लोक सेवा विभाग, स्वास्थ्य, शिक्षा, कृषि, पशु-पालन, आदि विभाग देखते हैं। राज्य की न्यायपालिका बंगलुरु में स्थित कर्नाटक उच्च न्यायालय (अट्टार कचेरी) और प्रत्येक जिले में जिले और सत्र न्यायालय तथा तालुक स्तर के निचले न्यायालय के द्वारा चलती है।

सरकार एवं प्रशासन[संपादित करें]

कर्नाटक राज्य में भारत के अन्य राज्यों कि भांति ही लोकतांत्रिक प्रक्रिया द्वारा चुनी गयी एक द्विसदनीय संसदीय सरकार है: विधान सभा एवं विधान परिषद। विधान सभा में २४ सदस्य हैं जो पांच वर्ष की अवधि हेतु चुने जाते हैं।[49] विधान परिषद एक ७५ सदस्यीय स्थायी संस्था है और इसके एक-तिहाई सदस्य (२५) प्रत्येक २ वर्ष में सेवा से निवृत्त होते जाते हैं।[49]

कर्नाटक सरकार की अध्यक्षता विधान सभा चुनावों में जीतकर शासन में आयी पार्टी के सदस्य द्वारा चुने गये मुख्य मंत्री करते हैं। मुख्य मंत्री अपने मंत्रिमंडल सहित तय किये गए विधायी एजेंडा का पालन अपनी अधिकांश कार्यकारी शक्तियों के उपयोग से करते हैं।[50] फिर भी राज्य का संवैधानिक एवं औपचारिक अध्यक्ष राज्यपाल ही कहलाता है। राज्यपाल को ५ वर्ष की अवधि हेतु केन्द्र सरकार के परामर्श से भारत के राष्ट्रपति द्वारा नियुक्त किया जाता है।[51] कर्नाटक राज्य की जनता द्वारा आम चुनावों के माध्यम से २८ सदस्य लोक सभा हेतु भी चुने जाते हैं।[52][53] विधान परिषद के सदस्य भारत के संसद के उच्च सदन, राज्य सभा हेतु १२ सदस्य चुन कर भेजते हैं।

प्रशासनिक सुविधा हेतु कर्नाटक राज्य को चार राजस्व विभागों, ४९ उप-मंडलों, २९ जिलों, १७५ तालुक तथा ७४५ राजस्व वृत्तों में बांटा गया है।[48] प्रत्येक जिले के प्रशासन का अध्यक्ष वहां का उपायुक्त (डिप्टी कमिश्नर) होता है। उपायुक्त एक भारतीय प्रशासनिक सेवा का अधिकारी होता है तथा उसकी सहायता हेतु राज्य सरकार के अनेक उच्चाधिकारी तत्पर रहते हैं। भारतीय पुलिस सेवा से एक अधिकारी राज्य में उपायुक्त पद पर आसीन रहता है। उसके अधीन भी राज्य पुलिस सेवा के अनेक उच्चाधिकारी तत्पर रहते हैं। पुलिस उपायुक्त जिले में न्याय और प्रशासन संबंधी देखभाल के लिये उत्तरदायी होता है। भारतीय वन सेवा से एक अधिकारी वन उपसंक्षक अधिकारी (डिप्टी कन्ज़र्वेटर ऑफ फ़ॉरेस्ट्स) के पद पर तैनात होता है। ये जिले में वन और पादप संबंधी मामलों हेतु उत्तरदायी रहता है। प्रत्येक विभाग के विकास अनुभाग के जिला अधिकारी राज्य में विभिन्न प्रकार की प्रगति देखते हैं, जैसे राज्य लोक सेवा विभाग, स्वास्थ्य, शिक्षा, कृषि, पशुपालन आदि। ] बीच में बना है। इसके ऊपर घेरे हुए चार सिंह चारों दिशाओं में देख रहे हैं। इसे सारनाथ में अशोक स्तंभ से लिया गया है। इस चिह्न में दो शरभ हैं, जिनके हाथी के सिर और सिंह के धड़ हैं।]] राज्य की न्यायपालिका में सर्वोच्च पीठ कर्नाटक उच्च न्यायालय है, जिसे स्थानीय लोग "अट्टार कचेरी" बुलाते हैं। ये राजधानी बंगलुरु में स्थित है। इसके अधीन जिला और सत्र न्यायालय प्रत्येक जिले में तथा निम्न स्तरीय न्यायालय ताल्लुकों में कार्यरत हैं।

कर्नाटक राज के आधिकारिक चिह्न में गंद बेरुंड बीच में बना है। इसके ऊपर घेरे हुए चार सिंह चारों दिशाओं में देख रहे हैं। इसे सारनाथ में अशोक स्तंभ से लिया गया है। इस चिह्न में दो शरभ हैं, जिनके हाथी के सिर और सिंह के धड़ हैं। कर्नाटक की राजनीति में मुख्यतः तीन राजनैतिक पार्टियों: भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस, भारतीय जनता पार्टी और जनता दल का ही वर्चस्व रहता है।[54] कर्नाटक के राजनीतिज्ञों ने भारत की संघीय सरकार में प्रधानमंत्री तथा उपराष्ट्रपति जैसे उच्च पदों की भी शोभा बढ़ायी है। वर्तमान संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यू.पी.ए सरकार में भी तीन कैबिनेट स्तरीय मंत्री कर्नाटक से हैं। इनमें से उल्लेखनीय हैं पूर्व मुख्यमंत्री एवं वर्तमान क़ानून एवं न्याय मंत्रालयवीरप्पा मोइली हैं। राज्य के कासरगोड[55] और शोलापुर[56] जिलों पर तथा महाराष्ट्र के बेलगाम पर दावे के विवाद राज्यों के पुनर्संगठन काल से ही चले आ रहे हैं।[57]

अर्थव्यवस्था[संपादित करें]

हाल के वर्षों में कर्नाटक की आर्थिक स्थिति (सकल राज्य घरेलु उत्पाद)

कर्नाटक राज्य का वर्ष २००७-०८ का सकल राज्य घरेलु उत्पाद लगभग Indian Rupee symbol.svg २१५.२८२ हजार करोड़ ($ ५१.२५ बिलियन) रहा।[58] २००७-०८ में इसके सकल घरेलु उत्पाद में ७% की वृद्धी हुई थी।[59] भारत के राष्ट्रीय सकल घरेलु उत्पाद में वर्ष २००४-०५ में इस राज्य का योगदान ५.२% रहा था।[60] कर्नाटक पिछले कुछ दशकों में जीडीपी एवं प्रति व्यक्ति जीडीपी के पदों में तीव्रतम विकासशील राज्यों में रहा है। यह ५६.२% जीडीपी और ४३.९% प्रति व्यक्ति जीडीपी के साथ भारतीय राज्यों में छठे स्थान पर आता है।[61] सितंबर, २००६ तक इसे वित्तीय वर्ष २००६-०७ के लिये ७८.०९७ बिलियन ($ १.७२५५ बिलियन) का विदेशी निवेश प्राप्त हुआ था, जिससे राज्य भारत के अन्य राज्यों में तीसरे स्थान पर था।[62] वर्ष २००४ के अंत तक, राज्य में अनुद्योग दर (बेरोजगार दर) ४.९४% थी, जो राष्ट्रीय अनुद्योग दर ५.९९% से कम थी।[63] वित्तीय वर्ष २००६-०७ में राज्य की मुद्रा स्फीति दर ४.४% थी, जो राष्ट्रीय दर ४.७% से थोड़ी कम थी।[64] वर्ष २००४-०५ में राज्य का अनुमानित गरीबी अनुपात १७% रहा, जो राष्ट्रीय अनुपात २७.५% से कहीं नीचे है।[65]

कर्नाटक की लगभग ५६% जनसंख्या कृषि और संबंधित गतिविधियों में संलग्न है।[66] राज्य की कुल भूमि का ६४.६%, यानि १.२३१ करोड़ हेक्टेयर भूमि कृषि कार्यों में संलग्न है।[67] यहाँ के कुल रोपित क्षेत्र का २६.५% ही सिंचित क्षेत्र है। इसलिए यहाँ की अधिकांश खेती दक्षिण-पश्चिम मानसून पर निर्भर है।[67] यहाँ भारत के सार्वजनिक क्षेत्र के अनेक बड़े उद्योग स्थापित किए गए हैं, जैसे हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड, नेशनल एरोस्पेस लैबोरेटरीज़, भारत हैवी एलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड, इंडियन टेलीफोन इंडस्ट्रीज़, भारत अर्थ मूवर्स लिमिटेड एवं हिन्दुस्तान मशीन टूल्स आदि जो बंगलुरु में ही स्थित हैं। यहाँ भारत के कई प्रमुख विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी अनुसंधान केन्द्र भी हैं, जैसे भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन, केन्द्रीय विद्युत अनुसंधान संस्थान, भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड एवं केन्द्रीय खाद्य प्रौद्योगिकी अनुसंधान संस्थानमैंगलोर रिफाइनरी एंड पेट्रोकैमिकल्स लिमिटेड, मंगलोर में स्थित एक तेल शोधन केन्द्र है।

१९८० के दशक से कर्नाटक (विशेषकर बंगलुरु) सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में विशेष उभरा है। वर्ष २००७ के आंकड़ों के अनुसार कर्नाटक से लगभग २००० आई.टी फर्म संचालित हो रही थीं। इनमें से कई के मुख्यालय भी राज्य में ही स्थित हैं, जिनमें दो सबसे बड़ी आई.टी कंपनियां इन्फोसिस और विप्रो हैं।[68] इन संस्थाओं से निर्यात रु. ५०,००० करोड़ (१२.५ बिलियन) से भी अधिक पहुंचा है, जो भारत के कुल सूचना प्रौद्योगिकी निर्यात का ३८% है।[68] देवनहल्ली के बाहरी ओर का नंदी हिल क्षेत्र में ५० वर्ग कि.मी भाग, आने वाले २२ बिलियन के ब्याल आईटी निवेश क्षेत्र की स्थली है। ये कर्नाटक की मूल संरचना इतिहास की अब तक की सबसे बड़ी परियोजना है।[69] इन सब कारणों के चलते ही बंगलौर को भारत की सिलिकॉन घाटी कहा जाने लगा है।[70]

आर्थिक प्रगति में क्षेत्रवार योगदान

भारत में कर्नाटक जैवप्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भी अग्रणी है। यह भारत के सबसे बड़े जैव आधारित उद्योग समूह का केन्द्र भी है। यहां देश की ३२० जैवप्रौद्योगिकी संस्थाओं व कंपनियों में से १५८ स्थित हैं।[71] इसी राज्य से भारत के कुल पुष्प-उद्योग का ७५% योगदान है। पुष्प उद्योग तेजी से उभरता और फैलता उद्योग है, जिसमें विश्व भर में सजावटी पौधे और फूलों की आपूर्ति की जाती है।[72]

भारत के अग्रणी बैंकों में से सात बैंकों, केनरा बैंक, सिंडिकेट बैंक, कार्पोरेशन बैंक, विजया बैंक, कर्नाटक बैंक, वैश्य बैंक और स्टेट बैंक ऑफ मैसूर का उद्गम इसी राज्य से हुआ था।[73] राज्य के तटीय जिलों उडुपी और दक्षिण कन्नड़ में प्रति ५०० व्यक्ति एक बैंक शाखा है। ये भारत का सर्वश्रेष्ठ बैंक वितरण है।[74] मार्च २००२ के अनुसार, कर्नाटक राज्य में विभिन्न बैंकों की ४७६७ शाखाएं हैं, जिनमें से प्रत्येक शाखा औसत ११,००० व्यक्तियों की सेवा करती है। ये आंकड़े राष्ट्रीय औसत १६,००० से काफी कम है।[75]

भारत के ३५०० करोड़ के रेशम उद्योग से अधिकांश भाग कर्नाटक राज्य में आधारित है, विशेषकर उत्तरी बंगलौर क्षेत्रों जैसे मुद्दनहल्ली, कनिवेनारायणपुरा एवं दोड्डबल्लपुर, जहां शहर का ७० करोड़ रेशम उद्योग का अंश स्थित है। यहां की बंगलौर सिल्क और मैसूर सिल्क विश्वप्रसिद्ध हैं।[76][77]

यातायात[संपादित करें]

किंगफिशर एयरलाइंस बंगलुरु में आधारित विमानसेवा है।

कर्नाटक में वायु यातायात देश के अन्य भागों की तरह ही बढ़ता हुआ किंतु कहीं उन्नत है। कर्नाटक राज्य में बंगलुरु, मंगलौर, हुबली, बेलगाम, हम्पी एवं बेल्लारी विमानक्षेत्र में विमानक्षेत्र हैं, जिनमें बंगलुरु एवं मंगलौर अंतर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र हैं। मैसूर, गुलबर्ग, बीजापुर, हस्सन एवं शिमोगा में भी २००७ से प्रचालन कुछ हद तक आरंभ हुआ है।[78] यहां चालू प्रधान वायुसेवाओं में किंगफिशर एयरलाइंस एवं एयर डेक्कन हैं, जो बंगलुरु में आधारित हैं।

कर्नाटक का रेल यातायात जाल लगभग 3,089 किलोमीटर (1,919 मील) लंबा है। २००३ में हुबली में मुख्यालय सहित दक्षिण पश्चिमी रेलवे के सृजन से पूर्व राज्य दक्षिणी एवं पश्चिमी रेलवे मंडलों में आता था। अब राज्य के कई भाग दक्षिण पश्चिमी मंडल में आते हैं, व शेष भाग दक्षिण रेलवे मंडल में आते हैं। तटीय कर्नाटक के भाग कोंकण रेलवे नेटवर्क के अंतर्गत आते हैं, जिसे भारत में इस शताब्दी की सबसे बड़ी रेलवे परियोजना के रूप में देखा गया है।[79] बंगलुरु अन्तर्राज्यीय शहरों से रेल यातायात द्वारा भली-भांति जुड़ा हुआ है। राज्य के अन्य शहर अपेक्षाकृत कम जुड़े हैं।[80][81]

कर्नाटक में ११ जहाजपत्तन हैं, जिनमें मंगलौर पोर्ट सबसे नया है, जो अन्य दस की अपेक्षा सबसे बड़ा और आधुनिक है।[82] मंगलौर का नया पत्तन भारत के नौंवे प्रधान पत्तन के रूप में ४ मई, १९७४ को राष्ट्र को सौंपा गया था। इस पत्तन में वित्तीय वर्ष २००६-०७ में ३ करोड़ २०.४ लाख टन का निर्यात एवं १४१.२ लाख टन का आयात व्यापार हुआ था। इस वित्तीय वर्ष में यहां कुल १०१५ जलपोतों की आवाजाही हुई, जिसमें १८ क्यूज़ पोत थे। राज्य में अन्तर्राज्यीय जलमार्ग उल्लेखनीय स्तर के विकसित नहीं हैं।[83]

कर्नाटक के राष्ट्रीय एवं राज्य राजमार्गों की कुल लंबाइयां क्रमशः 3,973 किलोमीटर (2,469 मील) एवं 9,829 किलोमीटर (6,107 मील) हैं। कर्नाटक राज्य सड़क परिवहन निगम (के.एस.आर.टी.सी) राज्य का सरकारी लोक यातायात एवं परिवहन निगम है, जिसके द्वारा प्रतिदिन लगभग २२ लाख यात्रियों को परिवहन सुलभ होता है। निगम में २५,००० कर्मचारी सेवारत हैं।[84] १९९० के दशक के अंतिम दौर में निगम को तीन निगमों में विभाजित किया गया था, बंगलौर मेट्रोपॉलिटन ट्रांस्पोर्ट कार्पोरेशन, नॉर्थ-वेस्ट कर्नाटक ट्रांस्पोर्ट कार्पोरेशन एवं नॉर्थ-ईस्ट कर्नाटक ट्रांस्पोर्ट कार्पोरेशन। इनके मुख्यालय क्रमशः बंगलौर, हुबली एवं गुलबर्ग में स्थित हैं।[84]

संस्कृति[संपादित करें]

एक कलाकार, यक्षगान के रूप में केडिग के संग।

कर्नाटक राज्य में विभिन्न बहुभाषायी और धार्मिक जाति-प्रजातियां बसी हुई हैं। इनके लंबे इतिहास ने राज्य की सांस्कृतिक धरोहर में अमूल्य योगदान दिया है। कन्नड़िगों के अलावा, यहां तुलुव, कोडव और कोंकणी जातियां, भी बसी हुई हैं। यहां अनेक अल्पसंख्यक जैसे तिब्बती बौद्ध तथा अनेक जनजातियाँ जैसे सोलिग, येरवा, टोडा और सिद्धि समुदाय हैं जो राज्य में भिन्न रंग घोलते हैं। कर्नाटक की परंपरागत लोक कलाओं में संगीत, नृत्य, नाटक, घुमक्कड़ कथावाचक आदि आते हैं। मालनाड और तटीय क्षेत्र के यक्षगण, शास्त्रीय नृत्य-नाटिकाएं राज्य की प्रधान रंगमंच शैलियों में से एक हैं। यहां की रंगमंच परंपरा अनेक सक्रिय संगठनों जैसे निनासम, रंगशंकर, रंगायन एवं प्रभात कलाविदरु के प्रयासों से जीवंत है। इन संगठनों की आधारशिला यहां गुब्बी वीरन्ना, टी फी कैलाशम, बी वी करंथ, के वी सुबन्ना, प्रसन्ना और कई अन्य द्वारा रखी गयी थी।[85] वीरागेस, कमसेल, कोलाट और डोलुकुनिता यहां की प्रचलित नृत्य शैलियां हैं। मैसूर शैली के भरतनाट्य यहां जत्ती तयम्मा जैसे पारंगतों के प्रयासों से आज शिखर पर पहुंचा है और इस कारण ही कर्नाटक, विशेषकर बंगलौर भरतनाट्य के लिये प्रधान केन्द्रों में गिना जाता है।[86]

कर्नाटक का विश्वस्तरीय शास्त्रीय संगीत में विशिष्ट स्थान है, जहां संगीत की[87] कर्नाटक (कार्नेटिक) और हिन्दुस्तानी शैलियां स्थान पाती हैं। राज्य में दोनों ही शैलियों के पारंगत कलाकार हुए हैं। वैसे कर्नाटक संगीत में कर्नाटक नाम कर्नाटक राज्य विशेष का ही नहीं, बल्कि दक्षिण भारतीय शास्त्रीय संगीत को दिया गया है।१६वीं शताब्दी के हरिदास आंदोलन कर्नाटक संगीत के विकास में अभिन्न योगदान दिया है। सम्मानित हरिदासों में से एक, पुरंदर दास को कर्नाटक संगीत पितामह की उपाधि दी गयी है।[88] कर्नाटक संगीत के कई प्रसिद्ध कलाकार जैसे गंगूबाई हंगल, मल्लिकार्जुन मंसूर, भीमसेन जोशी, बसवराज राजगुरु, सवाई गंधर्व और कई अन्य कर्नाटक राज्य से हैं और इनमें से कुछ को कालिदास सम्मान, पद्म भूषण और पद्म विभूषण से भी भारत सरकार ने सम्मानित किया हुआ है।

कर्नाटक संगीत पर आधारित एक अन्य शास्त्रीय संगीत शैली है, जिसका प्रचलन कर्नाटक राज्य में है। कन्नड़ भगवती शैली आधुनिक कविगणों के भावात्मक रस से प्रेरित प्रसिद्ध संगीत शैली है। मैसूर चित्रकला शैली ने अनेक श्रेष्ठ चित्रकार दिये हैं, जिनमें से सुंदरैया, तंजावुर कोंडव्य, बी.वेंकटप्पा और केशवैय्या हैं। राजा रवि वर्मा के बनाये धार्मिक चित्र पूरे भारत और विश्व में आज भी पूजा अर्चना हेतु प्रयोग होते हैं।[89] मैसूर चित्रकला की शिक्षा हेतु चित्रकला परिषत नामक संगठन यहां विशेष रूप से कार्यरत है।

कर्नाटक में महिलाओं की परंपरागत भूषा साड़ी है। कोडगु की महिलाएं एक विशेष प्रकार से साड़ी पहनती हैं, जो शेष कर्नाटक से कुछ भिन्न है।[90] राज्य के पुरुषों का परंपरागत पहनावा धोती है, जिसे यहां पाँचे कहते हैं। वैसे शहरी क्षेत्रों में लोग प्रायः कमीज-पतलून तथा सलवार-कमीज पहना करते हैं। राज्य के दक्षिणी क्षेत्र में विशेष शैली की पगड़ी पहनी जाती है, जिसे मैसूरी पेटा कहते हैं और उत्तरी क्षेत्रों में राजस्थानी शैली जैसी पगड़ी पहनी जाती है और पगड़ी या पटगा कहलाती है।

चावल (कन्नड़:

अंग्रेज़ी
English
बोली जाती है संयुक्त राज्य अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ़्रीका, फ़िजी, न्यूज़ीलैंड, ज़िम्बाबवे समेत विश्व के अन्य कई देशों में।
कुल बोलने वाले ५३ देश
संयुक्त राष्ट्र
यूरोपीय संघ
राष्ट्रमण्डल
नाटो
नाफ्टा
भाषा परिवार हिन्द यूरोपीय भाषा
  • जर्मनिक
    • पश्चिमी जर्मनिक उपशाखा
      • ऍंग्लो फ़्रिसियन
        • अंग्रेज़ी
भाषा कूट
ISO 639-1 en
ISO 639-2 eng
ISO 639-3 eng

अंग्रेज़ी भाषा (अंग्रेज़ी: English हिन्दी उच्चारण: इंग्लिश) हिन्द-यूरोपीय भाषा-परिवार में आती है और इस दृष्टि से हिंदी, उर्दू, फ़ारसी आदि के साथ इसका दूर का संबंध बनता है। ये इस परिवार की जर्मनिक शाखा में रखी जाती है। इसे दुनिया की सर्वप्रथम अन्तरराष्ट्रीय भाषा माना जाता है। ये दुनिया के कई देशों की मुख्य राजभाषा है और आज के दौर में कई देशों में (मुख्यतः भूतपूर्व ब्रिटिश उपनिवेशों में) विज्ञान, कम्प्यूटर, साहित्य, राजनीति और उच्च शिक्षा की भी मुख्य भाषा है। अंग्रेज़ी भाषा रोमन लिपि में लिखी जाती है।

यह एक पश्चिम जर्मेनिक भाषा है जिसकी उत्पत्ति एंग्लो-सेक्सन इंग्लैंड में हुई थी। संयुक्त राज्य अमेरिका के 19 वीं शताब्दी के पूर्वार्ध[तथ्य वांछित] और ब्रिटिश साम्राज्य के 18 वीं, 19 वीं और 20 वीं शताब्दी के सैन्य, वैज्ञानिक, राजनीतिक, आर्थिक और सांस्कृतिक प्रभाव के परिणाम स्वरूप यह दुनिया के कई भागों में सामान्य (बोलचाल की) भाषा बन गई है।[91] कई अंतरराष्ट्रीय संगठनों और राष्ट्रमंडल देशों में बड़े पैमाने पर इसका इस्तेमाल एक द्वितीय भाषा और अधिकारिक भाषा के रूप में होता है।

ऐतिहासिक दृष्टि से, अंग्रेजी भाषा की उत्पत्ति ५वीं शताब्दी की शुरुआत से इंग्लैंड में बसने वाले एंग्लो-सेक्सन लोगों द्वारा लायी गयी अनेक बोलियों, जिन्हें अब पुरानी अंग्रेजी कहा जाता है, से हुई है। वाइकिंग हमलावरों की प्राचीन नोर्स भाषा का अंग्रेजी भाषा पर गहरा प्रभाव पड़ा है। नॉर्मन विजय के बाद पुरानी अंग्रेजी का विकास मध्य अंग्रेजी के रूप में हुआ, इसके लिए नॉर्मन शब्दावली और वर्तनी के नियमों का भारी मात्र में उपयोग हुआ। वहां से आधुनिक अंग्रेजी का विकास हुआ और अभी भी इसमें अनेक भाषाओँ से विदेशी शब्दों को अपनाने और साथ ही साथ नए शब्दों को गढ़ने की प्रक्रिया निरंतर जारी है। एक बड़ी मात्र में अंग्रेजी के शब्दों, खासकर तकनीकी शब्दों, का गठन प्राचीन ग्रीक और लैटिन की जड़ों पर आधारित है।

महत्व[संपादित करें]

आधुनिक अंग्रेजी, जिसको कभी - कभी प्रथम वैश्विक सामान्य भाषा के तौर पर भी वर्णित किया जाता है,[92][93]संचार, विज्ञान, व्यापार,[92] विमानन, मनोरंजन, रेडियो और कूटनीति के क्षेत्रों की प्रमुख अंतर्राष्ट्रीय भाषा है।[94][94]ब्रिटिश द्वीपों के परे इसके विस्तार का प्रारंभ ब्रिटिश साम्राज्य के विकास के साथ हुआ और 19 वीं सदी के अंत तक इसकी पहुँच सही मायने में वैश्विक हो चुकी थी।[95][96] यह संयुक्त राज्य अमेरिका की प्रमुख भाषा है। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से अमेरिका की एक वैश्विक महाशक्ति के रूप में पहचान और उसके बढ़ते आर्थिक और सांस्कृतिक प्रभाव के कारण अंग्रेजी भाषा के प्रसार में महत्त्वपूर्ण गति आयी है।[93]

अंग्रेजी भाषा का काम चलाऊ ज्ञान अनेक क्षेत्रों, जैसे की चिकित्सा और कंप्यूटर, के लिए एक आवश्यकता बन चुका है; परिणामस्वरूप एक अरब से ज्यादा लोग कम से कम बुनियादी स्तर की अंग्रेजी बोल लेते हैं (देखें: अंग्रेजी भाषा को सीखना और सिखाना). यह संयुक्त राष्ट्रकी छह आधिकारिक भाषाओं में से भी एक है।

डेविड क्रिस्टल जैसे भाषाविदों के अनुसार अंग्रेजी के बड़े पैमाने पर प्रसार का एक असर, जैसा की अन्य वैश्विक भाषाओँ के साथ भी हुआ है, दुनिया के अनेक हिस्सों में स्थानीय भाषाओँ की विविधता को कम करने के रूप में दिखाई देता है, विशेष तौर पर यह असर ऑस्ट्रेलेशिया और उत्तरी अमेरिका में दिखता है और इसका भारी भरकम प्रभाव भाषा के संघर्षण (एट्ट्रीशन) में एक महत्त्वपूर्ण भूमिका निरंतर अदा कर रहा है।[97] इसी प्रकार ऐतिहासी भाषाविद, जो की भाषा परिवर्तन की जटिलता और गतिशीलता से अवगत हैं, अंग्रेजी भाषा द्वारा अलग भाषाओँ के एक नए परिवार का निर्माण करने की इसकी असीम संभावनाओं के प्रति हमेशा अवगत रहते हैं। इन भाषाविदों के अनुसार इसका कारण है अंग्रेजी भाषा का विशाल आकार और इसका इस्तेमाल करने वाले समुदायों का प्रसार और इसकी प्राकृतिक आंतरिक विविधता, जैसे की इसके क्रीओल्स (creoles) और पिजिंस (pidgins).[98]o

इतिहास[संपादित करें]

इंग्लिश एक वेस्ट जर्मेनिक भाषा है जिसकी उत्पत्ति एन्ग्लो-फ्रिशियन और लोअर सेक्सन बोलियों से हुई है। इन बोलियों को ब्रिटेन में 5 वीं शताब्दी में जर्मन खानाबदोशों और रोमन सहायक सेनाओं द्वारा वर्त्तमान के उत्तर पश्चिमी जर्मनी और उत्तरी नीदरलैण्ड[तथ्य वांछित] के विभिन्न भागों से लाया गया था। इन जर्मेनिक जनजातियों में से एक थी एन्ग्लेस[99], जो संभवतः एन्गल्न से आये थे। बीड ने लिखा है कि उनका पूरा देश ही, अपनी पुरानी भूमि को छोड़कर, ब्रिटेन[100] आ गया था।'इंग्लैंड'(एन्ग्लालैंड) और 'इंग्लिश ' नाम इस जनजाति के नाम से ही प्राप्त हुए हैं।
एंग्लो सेक्संस ने 449 ई. में डेनमार्क और जूटलैंड से आक्रमण करना प्रारंभ किया था,[101][102] उनके आगमन से पहले इंग्लैंड के स्थानीय लोग ब्रायोथोनिक, एक सेल्टिक भाषा, बोलते थे।[103] हालाँकि बोली में सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण परिवर्तन 1066 के नॉर्मन आक्रमण के पश्चात् ही आये, परन्तु भाषा ने अपने नाम को बनाये रखा और नॉर्मन आक्रमण पूर्व की बोली को अब पुरानी अंग्रेजी कहा जाता है।[104]

शुरुआत में पुरानी अंग्रेजी विविध बोलियों का एक समूह थी जो की ग्रेट ब्रिटेन के एंग्लो-सेक्सन राज्यों की विविधता को दर्शाती है।[105] इनमें से एक बोली, लेट वेस्ट सेक्सन, अंततः अपना वर्चस्व स्थापित करने में सफल हुई. मूल पुरानी अंग्रेज़ी भाषा फिर आक्रमण की दो लहरों से प्रभावित हुई. पहला जर्मेनिक परिवार के उत्तरी जर्मेनिक शाखा के भाषा बोलने वालों द्वारा था; उन्होंने 8 वीं और 9 वीं सदी में ब्रिटिश द्वीपों के कुछ हिस्सों को जीतकर उपनिवेश बना दिया. दूसरा 11 वीं सदी के नोर्मंस थे, जो की पुरानी नॉर्मन भाषा बोलते थे और इसकी एंग्लो-नॉर्मन नमक एक अंग्रेजी किस्म का विकास किया। (सदियाँ बीतने के साथ, इसने अपने विशिष्ट नॉर्मन तत्व को पैरिसियन फ्रेंच और, तत्पश्चात, अंग्रेजी के प्रभाव के कारण खो दिया. अंततः यह एंग्लो-फ्रेंच विशिष्ट बोली में तब्दील हो गयी।) इन दो हमलों के कारण अंग्रेजी कुछ हद तक "मिश्रित" हो गयी (हालाँकि विशुद्ध भाषाई अर्थ में यह कभी भी एक वास्तविक मिश्रित भाषा नहीं रही; मिश्रित भाषाओँ की उत्पत्ति अलग अलग भाषाओँ को बोलने वालों के मिश्रण से होती है। वे लोग आपसी बातचीत के लिए एक मिलीजुली जबान का विकास कर लेते हैं).

स्कैंदिनेवियंस के साथ सहनिवास के परिणामस्वरूप अंग्रेजी भाषा के एंग्लो-फ़्रिसियन कोर का शाब्दिक अनुपूरण हुआ; बाद के नॉर्मन कब्जे के परिणामस्वरूप भाषा के जर्मनिक कोर का सुन्दरीकरण हुआ, इसमें रोमांस भाषाओँ से कई सुन्दर शब्दों को समाविष्ट किया गया। यह नोर्मन प्रभाव मुख्यतया अदालतों और सरकार के माध्यम से अंग्रेजी में प्रविष्ट हो गया। इस प्रकार, अंग्रेजी एक "उधार" की भाषा के रूप में विकसित हुई जिसमें लचीलापन और एक विशाल शब्दावली थी।

ब्रिटिश साम्राज्य के उदय और विस्तार और साथ ही संयुक्त राज्य अमेरिका के एक महान शक्ति के रूप में उभरने के परिणामस्वरूप अंग्रेजी का प्रसार दुनिया भर में हुआ।[तथ्य वांछित]

अंग्रेज़ी शब्दावली का इतिहास[संपादित करें]

पाँचवीं और छठी सदी में ब्रिटेन के द्वीपों पर उत्तर की ओर से एंगल और सेक्सन क़बीलों ने हमला किया था और उन्होंने केल्टिक भाषाएँ बोलने वाले स्थानीय लोगों को स्कॉटलैंड, आयरलैंड और वेल्स की ओर धकेल दिया था।

आठवीं और नवीं सदी में उत्तर से वाइकिंग्स और नोर्स क़बीलों के हमले भी आरंभ हो गए थे और इस प्रकार वर्तमान इंगलैंड का क्षेत्र कई प्रकार की भाषा बोलने वालों का देश बन गया और कई पुराने शब्दों को नए अर्थ मिल गए। जैसे – ड्रीम (dream) का अर्थ उस समय तक आनंद लेना था लेकिन उत्तर के वाइकिंग्स ने इसे सपने का अर्थ दे दिया। इसी प्रकार स्कर्ट का शब्द भी उत्तरी हमलावरों के साथ यहाँ आया। लेकिन इसका रूप बदल कर शर्ट (shirt) हो गया। बाद में दोनों शब्द अलग-अलग अर्थों में प्रयुक्त होने लगे और आज तक हो रहे हैं।

सन् ५०० से लेकर ११०० तक के काल को पुरानी अंग्रेज़ी का दौर कहा जाता है। १०६६ ईस्वी में ड्यूक ऑफ़ नॉरमंडी ने इंगलैंड पर हमला किया और यहाँ के एंग्लो-सैक्सॉन क़बीलों पर विजय पाई। इस प्रकार पुरानी फ़्रांसीसी भाषा के शब्द स्थानीय भाषा में मिलने लगे। अंग्रेज़ी का यह दौर ११०० से १५०० तक जारी रहा और इसे अंग्रेज़ी का विस्तार वाला दौर मध्यकालीन अंग्रेज़ी कहा जाता है। क़ानून और अपराध-दंड से संबंध रखने वाले बहुत से अंग्रेज़ी शब्द इसी काल में प्रचलित हुए। अंग्रेज़ी साहित्य में चौसर (Chaucer) की शायरी को इस भाषा का महत्त्वपूर्ण उदाहरण बताया जाता है।

सन् १५०० के बाद अंग्रेज़ी का आधुनिक काल आरंभ होता है जिसमें यूनानी भाषा के कुछ शब्दों ने मिलना आरंभ किया। यह दौर का शेक्सपियर जैसे साहित्यकार के नाम से आरंभ होता है और ये दौर सन १८०० तक चलता है। उसके बाद अंग्रेज़ी का आधुनिकतम दौर कहलाता है जिसमें अंग्रेज़ी व्याकरण सरल हो चुका है और उसमें अंग्रेज़ों के नए औपनिवेशिक एशियाई और अफ्रीक़ी लोगों की भाषाओं के बहुत से शब्द शामिल हो चुके हैं।
विश्व राजनीति, साहित्य, व्यवसाय आदि में अमरीका के बढ़ती हुए प्रभाव से अमरीकी अंग्रेज़ी ने भी विशेष स्थान प्राप्त कर लिया है। इसका दूसरा कारण ब्रिटिश लोगों का साम्राज्यवाद भी था। वर्तनी की सरलता और बात करने की सरल और सुगम शैली अमरीकी अंग्रेज़ी की विशेषताएँ हैं।

वर्गीकरण और संबंधित भाषाएँ[संपादित करें]

अंग्रेजी भाषा इंडो-यूरोपीय भाषा परिवार के जर्मनिक शाखा के पश्चिमी उप-शाखा की सदस्य है। अंग्रेजी के निकटतम जीवित सम्बन्धियों में दो ही नाम हैं, या तो स्कॉट्स, जो मुख्यतया स्कॉटलैंड अथवा उत्तरी आयरलैंड के हिस्सों में बोली जाती है, या फ़्रिसियन. चूँकि, स्कॉट्स को भाषाविद या तो एक पृथक भाषा या अंग्रेजी की बोलियों के एक समूह के रूप में देखते हैं, इसलिए अक्सर स्कॉट्स की अपेक्षा फ़्रिसियन को अंग्रेजी का निकटतम सम्बन्धी कहा जाता है। इनके बाद अन्य जर्मेनिक भाषाओँ का नंबर आता है जिनका नाता थोड़ा दूर का है, वे हैं, पश्चिमी यूरोपीय भाषाएँ (डच, अफ़्रीकांस, निम्न जर्मन, उच्च जर्मन) और उत्तरी जर्मेनिक भाषाएँ (स्वीडिश,डेनिश, नॉर्वेजियन, आईस्लैंडिक्) और फ़ारोईस. स्कॉट्स और संभवतः फ़्रिसियन के अपवाद के सिवा इनमें से किसी भी भाषा का अंग्रेजी के साथ पारस्परिक मेल नहीं बैठता है। इसका कारण शब्द भण्डारण, वाक्यविन्यास, शब्दार्थ विज्ञान और ध्वनी विoज्ञान में भिन्नता का होना है।[तथ्य वांछित]

अन्य जर्मेनिक भाषाओँ के साथ अंग्रेजी के शब्द भण्डारण में अंतर का मुख्य कारण अंग्रेजी में बड़ी मात्रा में लैटिन शब्दों का उपयोग है (उदाहरण के तौर पर, "एग्जिट" बनाम डच उइत्गैंग) (जिसका शाब्दिक अर्थ है "आउट गैंग", जहाँ "गैंग वैसा ही है जैसे की "गैंगवे" में) और फ्रेंच ("चेंज" बनाम जर्मन शब्द आन्देरुंग, "मूवमेंट" बनाम जर्मन बेवेगुंग (शब्दार्थ, "अथारिंग" और "बे-वे-इंग" ("रस्ते पर बढ़ते रहना")) जर्मन और अंग्रेजी का वाक्यविन्यास भी अंग्रेजी से काफी अलग है, वाक्यों को बनाने के लिए अलग नियम हैं (उदाहरण, जर्मन इच हबे नोच नी एत्वास ऑफ डेम प्लात्ज़ गेसेहें' ', बनाम अंग्रेजी " आई हेव स्टिल नेवर सीन एनिथिंग इन दी स्क्वेर "). शब्दार्थ विज्ञान अंग्रेजी और उसके सम्बन्धियों के बिच झूठी दोस्तियों का कारण है। ध्वनी के अंतर मूल रूप से सम्बंधित शब्दों को भी धुंधला देते हैं ("इनफ" बनाम जर्मन गेनुग), और कभी कभार ध्वनी और शब्दार्थ दोनों ही अलग होते हैं (जर्मन ज़ीत, "समय", अंग्रेजी के "टाइड" से सम्बंधित है, लेकिन अंग्रेजी शब्द का अर्थ ज्वार भाटा हो गया है).[तथ्य वांछित]

१५०० सौ से ज्यादा वर्षों से अंग्रेजी में यौगिक शब्दों के निर्माण और मौजूदा शब्दों में सुधार की क्रिया अपने अलग अंदाज में, जर्मनिक भाषाओँ से पृथक, चल रही है। उदहारण के तौर पर, अंग्रेजी में मूल शब्दों में -हुड, -शिप, -डम, -नेस जैसे प्रत्ययों को जोड़कर एबस्ट्रेक्ट संज्ञा का गठन हो सकता है। लगभग सभी जर्मेनिक भाषाओँ में इन सभी के सजातीय प्रत्यय मौजूद हैं लेकिन उनके उपयोग भिन्न हो गए हैं, जैसे की जर्मन "फ्री-हीत" बनाम अंग्रेजी "फ्री-डम" (-हीत प्रत्यय अंग्रेजी -हुड का सजातीय है, जबकि अंग्रेजी -डम प्रत्यय जर्मन -तुम का)

एक अंग्रेजी बोलने वाला अनेक फ्रेंच शब्दों को भी सुगमता से पढ़ सकता है (हालाँकि अक्सर उनका उच्चारण काफी अलग होता है) क्योंकि अंग्रेजी में फ्रेंच और नॉर्मन शब्दों का बड़ी मात्रा में समायोजन है। यह समायोजन नॉर्मन विजय के बाद एंग्लो-नॉर्मन भाषा से और बाद की सदियों में सीधे फ्रेंच भाषा से शब्दों को उठाने के कारण है। परिणामस्वरूप, अंग्रेजी शब्दावली का एक बड़ा भाग फ्रेंच भाषा से आता है, कुछ मामूली वर्तनी के अंतर (शब्दांत, पुरानी फ्रेंच वर्तनी का प्रयोग आदि) और तथाकथित झूठे दोस्तों के अर्थों में अंतर के साथ. अधिकांश फ्रेंच एकल शब्दों का अंग्रेजी उच्चारण (मिराज ' और कूप डी’इतट ' जैसे वाक्यांशों के अपवाद के सिवाय) पूर्णतया अंग्रेजीकृत हो गया है और जोर देने की विशिष्ट अंग्रेजी पद्धति का अनुसरण करता है।[तथ्य वांछित]डेनिश आक्रमण के फलस्वरूप कुछ उत्तरी जर्मेनिक शब्द भी अंग्रेजी भाषा में आ गए (डेनलौ देखें); इनमें शामिल हैं "स्काई", "विंडो", "एग" और "दे" (और उसके प्रकार) भी और "आर" ("टू बी" का वर्त्तमान बहुवचन)[तथ्य वांछित]

भौगोलिक वितरण[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: जनसंख्या के आधार पर विश्व के अंग्रेज़ बोलने वाले देशों की सूची
दुनिया के प्रमुख अंग्रेजी भाषी देशों के स्थानीय अंग्रेजी वक्ताओं की सम्बंधित संख्या को दर्शाता पाई चार्ट

लगभग 37.5 करोड़ लोग अंग्रेजी को प्रथम भाषा के रूप में बोलते हैं।[106] स्थानीय वक्ताओं की संख्या के हिसाब से मंदारिन चीनी और स्पेनिश के बाद वर्त्तमान में संभवतः अंग्रेजी ही तीसरे नंबर पर आती है।[107][108] हालाँकि यदि स्थानीय और गैर स्थानीय वक्ताओं को मिला दिया जाये तो यह संभवतः दुनिया की सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा बन जायेगी, परन्तु यदि चीनी भाषा के मिश्रणों को जोड़ा जाये तो यह संभवतः दूसरे स्थान पर रहेगी (यह इस बात पर निर्भर करेगा की चीनी भाषा के मिश्रणों को "भाषा" कहा जाये की "बोली").[109]

सर्वाधिक वक्ताओं (जिनकी मात्रभाषा अंग्रेजी है) की संख्या के हिसाब से, घटते हुए क्रम से, देश इस प्रकार हैं: संयुक्त राज्य (21.5 करोड़),[110] यूनाइटेड किंगडम (6.1 करोड़)[111], कनाडा (1.82 करोड़)[112], ऑस्ट्रेलिया (1.55 करोड़)[113], आयरलैंड (38 लाख),[111] दक्षिण अफ्रीका (37 लाख)[114] और न्यूजीलैंड (30-37 लाख)[115]. जमैका और नाईजीरिया जैसे जैसे देशों में भी लाखों की संख्या में कोन्टिन्युआ बोली के स्थानीय वक्ता हैं। यह बोली अंग्रेजी आधारित क्रियोल से लेकर अंग्रेजी के एक शुद्ध स्वरूप तक का इस्तेमाल करती है। भारत में अंग्रेजी का द्वितीय भाषा के रूप में उपयोग करने वालों की संख्या सबसे अधिक है ('भारतीय अंग्रेजी'). क्रिस्टल का दावा है कि यदि स्थानीय और गैर स्थानीय वक्ताओं को जोड़ दिया जाये तो वर्त्तमान में भारत में अंग्रेजी को बोलने और समझने वालों की संख्या विश्व में सबसे अधिक है।[116] इसके बाद चीन गणराज्य का नंबर आता है।[117]

कुल वक्ताओं की संख्या के अनुसार देशों का क्रम[संपादित करें]

रैंक देश कुल जनसंख्या का प्रतिशत प्रथम भाषा एक अतिरिक्त भाषा के रूप में जनसंख्या टिप्पणी
1 संयुक्त राज्य अमरिकासंयुक्त राज्य अमेरिका 251,388,301 96% 215,423,557 35,964,744 262,375,152 स्रोत: अमेरिकी जनगणना 2000: भाषा का प्रयोग और अंग्रेजी बोलने की योग्यता: 2000, टैबिल 1. दूसरी भाषा बोलने वालों की संख्या में वे लोग शामिल हैं जिन्होंने कहा की वे घर पर अंग्रेजी का प्रयोग नहीं करते हैं परन्तु "अच्छी" तरह या "बहुत अच्छी" तरह इसे जानते हैं। नोट: आंकडों में 5 वर्ष या उससे अधिक उम्र के लोगों को ही शामिल किया गया है
2 भारत 90,000,000 8% 78,598 65,000,000 द्वितीय भाषा के रूप में बोलने वाले.
25,000,000 तृतीय भाषा के रूप में बोलने वाले
1,028,737,436 आंकडों में दोनों शामिल हैं, अंग्रेजी को दूसरी और तीसरी भाषा के रूप में '''''''''बोलने वाले .1991 के आंकडे.[118][119] आंकडों में अंग्रेजी बोलने वाले शामिल हैं लेकिन अंग्रेजी का इस्तेमाल करने वाले नहीं.[120]
3 नाइजीरिया 79,000,000 53% 4,000,000 >75,000,000 148,000,000 आंकडे नाईजीरिया की पिगिन बोलने वालों के हैं, यह एक अंग्रेजी आधारित पिगिन या क्रियोल है। इहीमेयर के अनुसार 3 से 5 लाख स्थानीय वक्ता हैं; तालिका में इस सीमा के मध्य बिंदु का प्रयोग किया गया है। Ihemere, Kelechukwu Uchechukwu. 2006"एक बुनियादी विवरण और विश्लेषणात्मक उपचार संज्ञा खण्ड के नाइजीरिया पिडगिन में." नॉर्डिक जर्नल ऑफ अफ्रीकन स्टडीज 15 (3): 296-313
4 यूनाइटेड किंगडम 59,600,000 98% 58,100,000 1,500,000 60,000,000 स्रोत: क्रिस्टल (2005), पी. 109
5 फिलिपींस 45,900,000 52% 27000 42500000 88000000 कुल वक्ता : जनगणना 2000, आंकडों के ऊपर लेखन फिगर 7. 5 वर्ष या उससे अधिक आयु के 6.67 करोड़ लोगों में से 63.71% लोग अंग्रेजी बोल सकते हैं। स्थानीय वक्ताओं: जनगणना 1995, एंड्रयू गोंजालेज द्वारा फिलिपींस में भाषा प्लानिंग परिस्थिति में उद्घृत, बहुभाषी तथा बहुसांस्कृतिक विकास जर्नल, 19 (5 और 6), 487-525(1998)
6 कनाडा 25,246,220 85% 17,694,830 7,551,390 29,639,030 स्रोत: 2001 की जनगणना - ज्ञान राजभाषा और मातृ भाषा की. इस जन्म का वक्ताओं आंकड़ा दोनों फ्रेंच और एक मातृभाषा के रूप में अंग्रेजी, प्लस अंग्रेजी के साथ 17.572.170 लोगों और एक मातृभाषा के रूप में फ्रांस के साथ नहीं 122660 लोग शामिल हैं।
7 (ऑस्ट्रेलिया) 18,172,989 92% 15,581,329 2,591,660 19,855,288 स्रोत: 2006 की जनगणना.[121] यह आंकड़ा पहली भाषा में वास्तव में जो केवल घर पर अंग्रेजी बोलने ऑस्ट्रेलियाई निवासियों की संख्या है अंग्रेजी बोलने वालों कॉलम दिखाया. अतिरिक्त भाषा कॉलम "कौन" अच्छी तरह से "या" बहुत अच्छी तरह से अंग्रेजी बोलने का दावा अन्य निवासियों की संख्या दर्शाता है। निवासियों का एक अन्य 5% उनके घर या अंग्रेजी भाषा प्रवीणता राज्य नहीं था।
नोट: कुल = पहली भाषा + अन्य भाषा; प्रतिशत = कुल / जनसंख्या

अंग्रेजी इन देशों की प्राथमिक भाषा है : एंगुइला, एंटीगुआ और बारबुडा, ऑस्ट्रेलिया (ऑस्ट्रेलियन अंग्रेज़ी), बहामा, बारबाडोस, बरमूडा, बेलीज (बेलिजिया क्रीओल), ब्रिटिश हिंद महासागरीय क्षेत्र, ब्रिटिश वर्जिन द्वीप, कनाडा (कनाडियन अंग्रेज़ी), केमैन द्वीप, फ़ॉकलैंड द्वीप, जिब्राल्टर, ग्रेनेडा, गुआम, ग्वेर्नसे (चैनल द्वीप अंग्रेजी), गुयाना, आयरलैंड (हिबेर्नो -अंग्रेजी), आइल ऑफ मैन (मानद्वीप की अंग्रेजी), जमैका (जमैका अंग्रेजी), जर्सी, मोंटेसेराट, नॉरू, न्यूज़ीलैंड (न्यूजीलैंड अंग्रेजी), पिटकेर्न द्वीप, सेंट हेलेना, सेंट किट्स और नेविस, सेंट विंसेंट और द ग्रेनाडाइन्स, सिंगापुर,दक्षिण जॉर्जिया और दक्षिण सैंडविच द्वीप, त्रिनिदाद और टोबैगो, तुर्क और कोइकोस द्वीप समूह, ब्रिटेन, अमेरिका वर्जिन द्वीप समूह और संयुक्त राज्य अमेरिका.

कई अन्य देशों में, जहां अंग्रेजी सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषा नहीं है, यह एक आधिकारिक भाषा है;ये देश हैं: बोत्सवाना, कैमरून, डोमिनिका, फिजी, माइक्रोनेशिया के फ़ेडेरेटेद राज्य, घाना, जाम्बिया, भारत, केन्या, किरिबाती, लेसोथो, लाइबेरिया, मैडागास्कर, माल्टा, मार्शल द्वीप, मॉरीशस, नामीबिया, नाइजीरिया, पाकिस्तान, पलाऊ, पापुआ न्यू गिनी, फिलीपिंस (फिलीपीन अंग्रेजी), पर्टो रीको, रवांडा, सोलोमन द्वीप, सेंट लूसिया, समोआ, सेशेल्स, सियरालेओन, श्रीलंका श्रीलंका, स्वाजीलैंड, तंजानिया, युगांडा, जाम्बिया और जिम्बाब्वे. यह दक्षिण अफ्रीका (दक्षिण अफ्रीकी अंग्रेजी) कि 11 आधिकारिक भाषाओं में से एक है जिन्हें बराबर का दर्जा दिया जाता है। अंग्रेजी इन जगहों की भी अधिकारिक भाषा है: ऑस्ट्रेलिया के मौजूदा निर्भर क्षेत्रों (नॉरफ़ॉक आइलैंड, क्रिसमस द्वीप और कोकोस द्वीप) और संयुक्त राज्य (उत्तरी मारियाना द्वीप समूह, अमेरिकन समोआ और पर्टो रीको),[122] ब्रिटेन के पूर्व के उपनिवेश हाँग काँग और नीदरलैंड्स एंटिलीज़.

अंग्रेजी यूनाइटेड किंगडम के कई पूर्व उपनिवेशों और संरक्षित स्थानों की एक महत्त्वपूर्ण भाषा है परन्तु इसे आधिकारिक दर्जा प्राप्त नहीं है। ऐसे स्थानों में शामिल हैं: मलेशिया, ब्रुनेई, संयुक्त अरब अमीरात, बंगलादेश और बहरीन. अंग्रेजी अमेरिका और ब्रिटेन में भी अधिकारिक भाषा नहीं है।[123][124] यद्यपि संयुक्त राज्य अमेरिका की संघीय सरकार की कोई आधिकारिक भाषा नहीं है, इसकी 50 में से 30 राज्य सरकारों द्वारा अंग्रेजी को अधिकारिक दर्जा दिया गया है।[125] हालाँकि अंग्रेजी इसराइल की एक विधि सम्मत आधिकारिक भाषा नहीं है, लेकिन देश ने ब्रिटिश जनादेश के बाद से अधिकारिक भाषा के तौर पर इसके वास्तविक उपयोग को बनाये रखा है।[126]

अंग्रेजी एक वैश्विक भाषा के रूप में[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: अंतर्राष्ट्रीय अंग्रेज़ी एवं विश्व भाषा

अंग्रेजी के प्रयोग के इतना विस्तृत होने के कारण इसे अक्सर "वैश्विक भाषा" भी कहा जाता है, आधुनिक युग की सामान्य भाषा .[93] हालाँकि अधिकांश देशों में यह अधिकारिक भाषा नहीं है, फिर भी वर्त्तमान में दुनिया भर में अक्सर इसको द्वितीय भाषा के रूप में सिखाया जाता है। कुछ भाषाविदों (जैसे की डेविड ग्रादोल) का विश्वास है कि यह अब "स्थानीय अंग्रेजी वक्ताओं" की सांस्कृतिक संपत्ति नहीं रह गयी है, बल्कि अपने निरंतर विकास के साथ यह दुनिया भर की संस्कृतियों का अपने में समायोजन कर रही है।[93] अंतर्राष्ट्रीय संधि के द्वारा यह हवाई और समुद्री संचार के लिए आधिकारिक भाषा है।[127] अंग्रेजी अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति सहित संयुक्त राष्ट्र और कई अन्य अंतरराष्ट्रीय संगठनों की एक आधिकारिक भाषा है।

एक विदेशी भाषा के रूप में अंग्रेजी का सर्वाधिक अध्ययन यूरोपीय संघ में (89% स्कूली बच्चों द्वारा) होता है, इसके बाद नंबर आता है फ्रेंच (32%), जर्मन (18%), स्पेनिश (8%) और रूसियों का; यूरोपियों में विदेशी भाषाओँ कि उपयोगिता कि धरना का क्रम इस प्रकार है: 68% अंग्रेजी, फ्रेंच 25%, 22% जर्मन और 16% स्पेनिश.[128] अंग्रेजी न बोलने वाले यूरोपीय संघ के देशों में जनसँख्या का एक बड़ा प्रतिशत अंग्रेजी में बातचीत करने का सक्षम होने का दावा करता है, इनका क्रम इस प्रकार है: नीदरलैंड (87%), स्वीडन (85%), डेनमार्क (83%), लक्समबर्ग (66%), फिनलैंड (60%), स्लोवेनिया (56%), ऑस्ट्रिया (53%), बेल्जियम (52%) और जर्मनी (51%).[129] नॉर्वे और आइसलैंड भी-सक्षम अंग्रेजी बोलने वालों का एक बड़ा बहुमत है।[तथ्य वांछित]

दुनिया भर के कई देशों में अंग्रेजी में लिखित किताबें, पत्रिकाएं और अख़बार उपलब्ध होते हैं। विज्ञान के क्षेत्र में भी अंग्रेजी भाषा का ही प्रयोग सबसे अधिक होता है।[93] 1997 में, विज्ञान प्रशस्ति पत्र सूचकांक के अनुसार उसके 95% लेख अंग्रेजी में थे, हालाँकि इनमें से केवल आधे ही अंग्रेजी बोलने वाले देशों के लेखकों के थे।

बोलियाँ और क्षेत्रीय किस्में[संपादित करें]

ब्रिटिश साम्राज्य के विस्तार और द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से अमेरिका के प्रभुत्व के कारण दुनिया भर में अंग्रेजी का प्रसार हुआ।[93] इस वैश्विक प्रसार के कारण अनेक अंग्रेजी बोलियों और अंग्रेजी आधारित क्रीओल भाषाओँ और पिजिंस का विकास हुआ।

अंग्रेजी की दो शिक्षित स्थानीय बोलियों को दुनिया के अधिकांश हिस्सों में एक मानक के तौर पर स्वीकृत किया जाता है- एक शिक्षित दक्षिणी ब्रिटिश पर आधारित है और दूसरी शिक्षित मध्यपश्चिमी अमेरिकन पर आधारित है। पहले वाले को कभी कभार BBC (या रानी की) अंग्रेजी कहा जाता है, "प्राप्त उच्चारण" के प्रति अपने झुकाव की वजह से यह कबीले गौर है; यह कैम्ब्रिज मॉडल का अनुसरण करती है। यह मॉडल यूरोप, अफ्रीका भारतीय उपमहाद्वीप और अन्य क्षेत्रों जो की या तो ब्रिटिश राष्ट्रमंडल से प्रभावित हैं या फिर अमेरिका के साथ पहचानकृत होने के उनिच्चुक हैं, में अन्य भाषाओँ को बोलने वालों को अंग्रेजी सिखाने के लिए एक मानक के तौर पर काम करती है। बाद वाली बोली, जनरल अमेरिकी, संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा के अधिकांश हिस्सों में फैली हुई है। यह अमेरिकी महाद्वीपों और अमेरिका के निकट सम्बन्ध में रहे अथवा उसकी इच्छा रखने वाले क्षेत्रों (जैसे की फिलीपींस) के लिए एक मॉडल के तौर पर इस्तेमाल होती है। इन दो प्रमुख बोलियों के आलावा अंग्रेजी की अनेक किस्में हैं, जिनमे से अधिकांश में कई उप-प्रकार शामिल हैं, जैसे की ब्रिटिश अंग्रेजी के तहत कोकनी, स्काउस और जिओर्डी; कनाडियन अंग्रेजी के तहत न्यूफ़ाउंडलैंड अंग्रेजी; और अमेरिकी अंग्रेजी के तहत अफ्रीकन अमेरिकन स्थानीय अंग्रेजी ("एबोनिक्स") और दक्षिणी अमेरिकी अंग्रेजी. अंग्रेजी एक बहुकेंद्रित भाषा है और इसमें फ्रांस की 'एकेदिमिया फ्रान्काई' की तरह कोई केन्द्रीय भाषा प्राधिकरण नहीं है; इसलिए किसी एक किस्म को "सही" अथवा "गलत" नहीं माना जाता है।

स्कॉट्स का विकास, मुख्यतः स्वतन्त्र रूप से[तथ्य वांछित], समान मूल से हुआ था लेकिन संघ के अधिनियम 1707(Acts of Union 1707) के पश्चात् भाषा संघर्षण की एक प्रक्रिया आरंभ हुई जिसके तहत उत्तरोत्तर पीढियों ने अंग्रेजी के ज्यादा से ज्यादा लक्षणों को अपनाया इसके परिणामस्वरूप यह अंग्रेजी की एक बोली के रूप में विक्सित हो गयी। वर्त्तमान में इस बात पर विवाद चल रहा है कि यह एक पृथक भाषा है अथवा अंग्रेजी की एक बोली मात्र है जिसे स्कॉटिश अंग्रेजी का नाम दिया गया है। पारंपरिक प्रकारों के उच्चारण, व्याकरण और शब्द भंडार अंग्रेजी की अन्य किस्मों से भिन्न, कभी कभार भारी मात्रा में, हैं।

अंग्रेजी के दूसरी भाषा के रूप में व्यापक प्रयोग के कारण इसके वक्ताओं के लहजेभी भिन्न प्रकार के होते हैं जिनसे वक्ता की स्थानीय बोली अथवा भाषा का पता चलता है। क्षेत्रीय लहजों की अधिक विशिष्ट विशेषताओं के लिए 'अंग्रेजी के क्षेत्रीय लहजों' को देखें और क्षेत्रीय बोलियों की अधिक विशिष्ट विशेषताओं के लिए अंग्रेजी भाषा की बोलियों की सूचि को देखें. इंग्लैंड में, व्याकरण या शब्दकोश के बजाय अंतर अब उच्चारण तक ही सीमित रह गया है। अंग्रेजी बोलियों के सर्वेक्षण के दौरान देश भर में व्याकरण और शब्कोष में भिन्नता पाई गयी, परन्तु शब्द भण्डारण के एट्रिशन की एक प्रक्रिया के कारण अधिकांश भिन्नताएं समाप्त हो गयी हैं।[130]

जिस प्रकार अंग्रेजी ने अपने इतिहास के दौरान स्वयं दुनिया के कई हिस्सों से शब्दों का इस्तेमाल किया है, उसी प्रकार अंग्रेजी के उधारशब्द भी दुनिया की कई भाषाओँ में दिखाई देते हैं। यह इसके वक्ताओं के तकनीकी और सांस्कृतिक प्रभाव को इंगित करता है। अंग्रेजी आधारित अनेक पिजिन और क्रेओल भाषाओँ का गठन किया गया है, जैसे की जमैकन पेटोईस, नाइजीरियन पिजिन और टोक पिसिन. अंग्रेजी शब्दों की भरमार वाली गैर अंग्रेजी भाषाओँ के प्रकारों का वर्णन करने के लिए अंग्रेजी भाषा में अनेक शब्दों की रचना की गयी है।

अंग्रेजी की निर्माण किस्में[संपादित करें]

  • बुनियादी अंग्रेजी का आसान अंतरराष्ट्रीय उपयोग के लिए सरलीकरण किया गया है। निर्माता और अन्य अंतरराष्ट्रीय व्यवसाय मैनुअल लिखने और संवाद करने के लिए बुनियादी अंग्रेजी का प्रयोग करते हैं। एशिया में कुछ स्कूल इसका उपयोग नौसिखियों को व्यवहारिक अंग्रेजी सिखाने के लिए करते हैं।
  • क्रिया टू बी के प्रकार ई-प्राइम में शामिल नहीं होते हैं।
  • अंग्रेजी सुधार अंग्रेजी भाषा को बेहतर बनाने का एक सामूहिक प्रयास है।
  • मनुष्य द्वारा कोडित अंग्रेजी  – अंग्रेजी भाषा को हस्त संकेतों द्वारा दर्शाने के लिए अनेक प्रणालियाँ विकसित की गयी हैं जिनका उपयोग मुख्यतया बधिरों की शिक्षा के लिए किया जाता है। एन्ग्लोफ़ोन देशों में प्रयुक्त ब्रिटिश सांकेतिक भाषा और अमेरिकी सांकेतिक भाषा से इनको भ्रमित नहीं करना चाहिए. ये सांकेतिक भाषाएँ स्वतन्त्र हैं और अंग्रेजी पर आधारित नहीं हैं।
  • विशिष्ट क्षेत्रों में अंतर्राष्ट्रीय सहयोग और संचार के सहायतार्थ, 1980 के दशक में एडवर्ड जॉनसन द्वारा सीमित शब्दकोश पर आधारित सीस्पीक और सम्बंधित एयरस्पीक और पुलिसस्पीक की रचना की गयी थी। चैनल सुरंग में प्रयोग के लिए एक टनलस्पीक भी है।
  • विशेष अंग्रेजी वोईस ऑफ अमेरिकाद्वारा प्रयुक्त अंग्रेजी का एक सरलीकृत संस्करण है यह सिर्फ 1500 शब्दों की शब्दावली का प्रयोग करता है।

ध्वनीज्ञान[संपादित करें]

स्वर[संपादित करें]

IPA विवरण हिन्दी उच्चारण (लगभग) अंग्रेज़ी शब्द अंग्रेज़ी स्पेलिंग के अक्षर
en:monophthongs
i/iː en:Close front unrounded vowel machine e, ee, ea, ie, i, ey, eo
ɪ en:Near-close near-front unrounded vowel bit i, e, y, a, u, ee, ey, ia, ai, ui, ei
ɛ en:Open-mid front unrounded vowel *छोटा ऍ red e, ea, a, u, ie, ei, ai, ay
æ en:Near-open front unrounded vowel *ऐ cat a
ɒ en:Open back rounded vowel *छोटा ऑ hot o, ua, au, ou, ow
ɔ en:Open-mid back rounded vowel *औ c'aught a, or, our, ore, ough, oor, aw, al, oar, ough, o, ar
ɑ/ɑː en:Open back unrounded vowel father a, au, e, ea
ʊ en:Near-close near-back rounded vowel put u, o, ou, oo, oe
u/uː en:Close back rounded vowel rule u, oo, o, ou, ui, ew, eau, oe, wo
ʌ/ɐ en:Open-mid back unrounded vowel, en:Near-open central vowel *छोटा आ cut u, o, ou, oo, oe
ɝ/ɜː en:Open-mid central unrounded vowel लम्बा अ bird er, ir, ur, or, ear, our
ə en:Schwa above a, ar, e, er, o (unstressed)
ɨ en:Close central unrounded vowel *छोटा इ rosez es, i
en:diphthongs
en:Close-mid front unrounded vowel
en:Close front unrounded vowel
*एइ gate a, ay, ai, ey, ea
oʊ/əʊ en:Close-mid back rounded vowel
en:Near-close near-back rounded vowel
*ओउ home o, ow, oa, ou
en:Open front unrounded vowel
en:Near-close near-front rounded vowel
आइ time i, y, igh, ei, uy
en:Open front unrounded vowel
en:Near-close near-back rounded vowel
आउ house ou, ow
ɔɪ en:Open-mid back rounded vowel
en:Close front unrounded vowel
*ऑइ spoil oi, oy

व्यंजन[संपादित करें]

bilabial ओष्ठ्य Labiodental दन्त्योष्ठ्य dental दन्त्य alveolar वर्त्स्य post-
alveolar परा-वर्त्स
palatal तालव्य velar कण्ठ्य glottal काकल्य
plosive स्पर्श p प b ब t *त--ट d *द--ड k क g ग
nasal अनुनासिक m म n न ŋ ङ
flap उत्क्षिपित ɾ *र
fricative संघर्षी f *फ़ v *व θ *थ ð *द s स z *ज़ ʃ *श ʒ *श्झ h *ह
affricate स्पर्श-संघर्षी tʃ *च dʒ *ज
en:approximant अर्धस्वर w *व ɹ *र j य
lateral approximant पार्श्विक l ल, ɫ *ल

यहाँ * का अर्थ उन स्वरों पर निशान लगाना है जो हिन्दी के ध्वनि-तन्त्र में नहीं होते, या जिनका शुद्ध उच्चारण अधिकांश भारतीय नहीं कर पाते।

ध्वनि-अक्षरमाला सम्बन्ध[संपादित करें]

IPA वर्ण्माला का अक्षर अन्य बोलियों में
p p
b b
t t, th (rarely) thyme, Thames th thing (African-American, New York)
d d th that (African-American, New York)
k c (+ a, o, u, consonants), k, ck, ch, qu (rarely) conquer, kh (in foreign words)
g g, gh, gu (+ a, e, i), gue (final position)
m m
n n
ŋ n (before g or k), ng
f f, ph, gh (final, infrequent) laugh, rough th thing (many forms of English used in England)
v v th with (en:Cockney, en:Estuary English)
θ th : there is no obvious way to identify which is which from the spelling.
ð
s s, c (+ e, i, y), sc (+ e, i, y)
z z, s (finally or occasionally medially),


सप्रा-सेग्मेंटल विशेषताएँ[संपादित करें]

टोन समूह[संपादित करें]

अंग्रेजी एक इन्टोनेशन भाषा है। इसका अर्थ यह है की वाणी के उतार चढाव को परिस्थिति के अनुसार इस्तेमाल किया जाता है। उदहारण के तौर पर, आश्चर्य अथवा व्यंग्य व्यक्त करना, या एक वक्तव्य को प्रश्न में बदलना.

अंग्रेजी में, इन्टोनेशन पैटर्न शब्दों के समूह पर होते हैं जिन्हें टोन समूह, टोन इकाई, इन्टोनेशन समूह या इन्द्रिय समूहों के नाम से जाना जाता है। टोन समूहों को एक ही सांस में कहा जाता है, इस कारण से इनकी लम्बाई सीमित रहती है। ये औसतन पांच शब्द लम्बे होते हैं और लगभग दो सेकंड में ख़तम हो जाते हैं। उदाहरण के लिए (प्राप्त उच्चारण में बोला गया):

/duː juː niːd ˈɛnɪˌθɪŋ/डू यू नीड एनिथिंग ?
/aɪ dəʊnt | nəʊ/आई डोंट, नो
/aɪ dəʊnt nəʊ/आई डोंट नो (उदहारण के लिए, घटाकर, -[220]या [221]/ ड्न्नो आम बोलचाल की भाषा में, यहाँ डोंट और नो के बीच के अंतर को और अधिक घटा दिया गया है)

इन्टोनेशन के अभिलक्षण[संपादित करें]

अंग्रेजी एक बहुत जोर दे कर बोलने वाली भाषा है। शब्दों और वाक्यों, दोनों के कुछ शब्दांशों को उच्चारण के समय अपेक्षाकृत अधिक महत्त्व/ जोर मिलता है जबकि अन्य को नहीं. पहले प्रकार के शब्दांशों को एक्सेंचुएटेड/ स्ट्रेस्ड कहा जाता है और बाद वालों को अनएक्सेंचुएटेड/ अनस्ट्रेस्ड .

इस प्रकार एक वाक्य में प्रत्येक टोन समूह को शब्दांशों में विभाजित किया जा सकता है जो की या तो स्ट्रेस्ड (शक्तिशाली) होंगे या अनस्ट्रेस्ड (कमजोर). स्ट्रेस्ड शब्दांश न्यूक्लियर शब्दांश कहा जाता है। उदाहरण के लिए:

दैट

वास द बेस्ट थिंग यू कुड हेव डन !'

यहां सारे शब्दांश अनस्ट्रेस्ड हैं, सिवाय बेस्ट और डन के, जो की स्ट्रेस्ड हैं। बेस्ट पर जोर (स्ट्रेस) थोड़ा अधिक दिया गया है इसलिए यह न्यूक्लियर शब्दांश है।

न्यूक्लियर शब्दांश वक्ता के मुख्य बिंदु का वर्णन करता है। उदाहरण के लिए:

जोन ने उस पैसे को नहीं चुराया है। (... (किसी और ने.)
जोन ने उस पैसे को नहीं चुराया है। (... किसी ने कहा की उसने ही चुराया है। या ...उस समय नहीं, पर बाद में उसने ऐसा किया।)
जोन ने उस पैसे को नहीं चुराया है। (... उसने पैसों को किसी और तरीके से हासिल किया है।)
जोन ने उस पैसे को नहीं चुराया है। (... उसने कोई अन्य पैसों को चुराया है।)
जोन ने उस पैसे को नहीं चुराया है। (... वह कुछ और चोरी किया था।)

यह भी

मैंने उसे वह नहीं बताया. (... उसे किसी और ने बताया.)
मैंने उसे वह नहीं बताया. (... तुमने कहा था की मैंने बताया. या ...अब मैं बताउंगी)
मैंने उसे वह नहीं बताया . (... मैंने ऐसा नहीं कहा; उसने ऐसा मतलब निकल लिया होगा, आदि)
मैंने उसे वह नहीं बताया. (... मैंने किसी और को कहा)
मैंने उसे वह नहीं बताया. (... मैंने उसे उसे कुछ और कहा)

यह भावना व्यक्त करने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है:

ओह सचमुच? (...मुझे यह नहीं पता था)
ओह, सचमुच ? (...मुझे तुमपर विश्वास नहीं है। या ... यह तो एकदम स्पष्ट है)

न्यूक्लियर शब्दांशों को ज्यादा ऊँचे स्वर में बोला जाता है और इनको बोलने के लहजे में एक विशिष्ट बदलाव होता है। इस लहजे के सबसे सामान्य बदलाव हैं आवाज को ऊँचा करना (rising pitch) और आवाज को निचा करना (falling pitch), हालाँकि गिरती-चढ़ती आवाज (fall-rising pitch) और चढ़ती-गिरती आवाज (rise-falling pitch) का भी यदा कदा इस्तेमाल होता है। अन्य भाषाओँ की अपेक्षा अंग्रेजी भाषा में आवाज को ऊँचा और नीचा करने का महत्त्व कहीं अधिक है। नीची आवाज में बोलना निश्चितता दर्शाता है और ऊँची आवाज में बोलना अनिश्चितता. इसका अर्थ पर एक महत्त्वपूर्ण प्रभाव पड़ सकता है, खासकर सकारात्मक अथवा नकारात्मक दृष्टिकोण को दर्शाने में; नीची आवाज में बोलने का मतलब है आपका "दृष्टिकोण (सकारात्मक/ नकारात्मक) ज्ञात" है और चढ़ती हुई आवाज का मतलब "दृष्टिकोण अज्ञात" है। हाँ/ नहीं वाले प्रश्नों की चढ़ती हुई आवाज के पीछे भी यही है। उदाहरण के लिए:

आप भुगतान कब पाना चाहते हैं?
अभी ? (ऊँची आवाज. इस मामले में यह एक प्रश्न को दर्शाता है: "क्या मेरा भुगतान अभी किया जा सकता है?" या "क्या अभी भुगतान करने की आपकी इच्छा है?")
अभी. (गिरती आवाज. इस मामले में यह एक वक्तव्य को दर्शाता है: "मेरी इच्छा अभी भुगतान पाने की है।")

स्वर[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: IPA chart for English dialects

स्वर प्रत्येक क्षेत्र में भिन्न भिन्न होते हैं।

जहाँ प्रतीक जोड़े में दृश्य हैं, पहला अमेरिकी अंग्रेजी के सामान्य अमेरिकी उच्चारण से मेल खाता है, दूसरा ब्रिटिश अंग्रेजी के प्राप्त उच्चारण से मेल खाता है।

IPA विवरण शब्द
मोनोफ्थोंग्स
i(ː) बंद मुख अगोलाकर स्वर बी साँचा:Bold dark redडी
ɪ निकट-बंद निकट-मुख अगोलाकर स्वर बी साँचा:Bold dark redडी
ɛ खुला-मध्य मुख अगोलाकर स्वर बी साँचा:Bold dark redडी
æ निकट-खुला मुख अगोलाकर स्वर बी साँचा:Bold dark redडी
ɒ खुला पिछला गोलाकार स्वर बी साँचा:Bold dark redएक्स[vn 1]
ɔ(ː) खुला-मध्य पिछला गोलाकार स्वर बी साँचा:Bold dark redएक्स[vn 2]
ɑ(ː) खुला पिछला अगोलाकर स्वर बीआर साँचा:Bold dark red
ʊ निकट-बंद निकट-पिछला स्वर जी साँचा:Bold dark redडी
u(ː) बंद पिछला गोलाकार स्वर बी साँचा:Bold dark redएड[vn 3]
ʌ खुला-मध्य पिछला अगोलाकर स्वर, निकट- खुला केन्द्रीय स्वर बी साँचा:Bold dark redडी
ɝ/ɜː खुला-मध्य केन्द्रीय अगोलाकर स्वर बी साँचा:Bold dark redडी[vn 4]
ə स्च्वा Ros[128]'s[vn 5]
ɨ बंद केन्द्रीय अगोलाकर स्वर आर ओ एस साँचा:Bold dark redएस[vn 5][vn 6]
डिप्थोन्ग्स
e(ɪ)/eɪ बंद -मध्य मुख अगोलाकर स्वर
बंद मुख अगोलाकर स्वर
b[138]ed[vn 7]
o(ʊ)/əʊ बंद -मध्य पिछला गोलाकार स्वर
निकट-बंद निकट-पिछला स्वर
b[145]de[vn 7]
खुला मुख अगोलाकर स्वर
निकट-बंद निकट-मुख अगोलाकर स्वर
cr[148][vn 8]
खुला मुख अगोलाकर स्वर
निकट-बंद निकट-पिछला स्वर
c[151]
ɔɪ खुला-मध्य पिछला गोलाकार स्वर
बंद मुख अगोलाकर स्वर
b[153]
ʊɚ/ʊə निकट-बंद निकट-पिछला स्वर
स्च्वा
b[155][vn 9]
ɛɚ/ɛə खुला-मध्य मुख अगोलाकर स्वर
स्च्वा
f[160][vn 10]

टिप्पणियाँ[संपादित करें]

  1. [94] ^ कुछ अमेरिकी अंग्रेजी बोलियों में इस ध्वनि का अभाव होता है ; इस ध्वनि वाले शब्दों का उच्चारण /ɑ/ या /ɔ/के साथ होता है।देखें, "लौट-क्लोथ स्प्लिट"
  2. [97] ^ उत्तरी अमेरिकी अंग्रेजी की कुछ बोलियों में यह स्वर नहीं होता है। देखें "cot-caught merger"
  3. [121] ^ अक्षर <यू> प्रतिनिधित्व कर सकता हैं /u/या आयोटेटेड स्वर का/ju/ BRP, अगर यह आयोतेतेद स्वर /ju/ [108], के बाद /t/ /d/ /s/ या /z/ यह अक्सर व्यंजन, पूर्ववर्ती [111] के लिए, [112], इसे बदल के /ʨ/ /ʥ/ /ɕ/ और /ʑ/ क्रमश, टयून, ड्यूरिंग, शुगर और एज्यूर. अमेरिकी अंग्रेजी में, पेलेटलाइज़ेशन आमतौर पर जब तक कि [115 नहीं होता] r द्वारा /ju/ जाता है, परिणाम है कि [116 के साथ] [117] /(t, d,s, z)jur/ बारी /tʃɚ/ /dʒɚ/ /ʃɚ/ /ʒɚ/ क्रमश, नेचर वेर्ड्यूर श्योर और ट्रेज़र.
  4. [126] ^ इस आवाज के उत्तरी अमेरिकी भिन्नरूप एक रोटिक स्वर है।
  5. [130] ^ उत्तरी अमेरिकी अंग्रेजी के कई वक्ता इन दो निर्बल स्वर के बीच अंतर नहीं करते हैं। उन के लिए, गुलाब और रोजा का उच्चारण एक ही तरह से किया जाता है और प्रतीक आमतौर पर इस्तेमाल किया स्च्वा /ə/
  6. [136] ^ यह आवाज अक्सर /i/ या /ɪ/ ट्रांसक्राइब की जाती है।
  7. [143] ^ दिफ्थोंग्स /eɪ/ और /oʊ/ कई अमेरिकी जनरल वक्ताओं के लिए, /eː/ के रूप /eː/ और /oː/ मोनोफ्थोंगल रहे /oː/
  8. [149] ^ स्वर लंबाई और अंग्रेजी बोलियों के बहुमत में एक ध्वन्यात्मक भूमिका निभाता है ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड अंग्रेजी जैसे कुछ बोलियों में फोनेमिक होने के लिए कहा है। आधुनिक अंग्रेजी भाषा के कुछ बोलियों में, उदाहरण के लिए सामान्य अमेरिकी में, वहाँ अल्लोफोनिक स्वर लंबाई होती है: स्वर फोनेमेस एक शब्दांश के कोडा में आवाज उठाई व्यंजन फोनेमेस पहले लंबे स्वर अल्लोफोनेस के रूप में महसूस कर रहे हैं। महान स्वर शिफ्ट से पहले, स्वर लंबाई फोनेमिकलि कोन्त्रास्तिव था।
  9. [158] ^ यह ध्वनि केवल गैर में होता है-रोटिक लहजा कुछ लहजों में, यह ध्वनि हो सकता है [156] /ɔː/ इसके बजाय /ʊə/ देखो अंग्रेजी-ऐतिहासिक r पहले भाषा स्वर परिवर्तन.
  10. [163] ^ यह ध्वनि केवल गैर रोटिक लहजों में होती है। कुछ लहजों में, [१६१] के स्च्वा ऑफ़ग्लाइड /ɛə/ छोड़े जा सकते हैं, ध्वनि को /ɛː/ में मोनोफ़्थाइज़ और लम्बा करके.

व्यंजन[संपादित करें]

यह अंग्रेजी व्यंजन प्रणाली है जो अंतर्राष्ट्रीय ध्वन्यात्मक वर्णमाला(IPA) से प्रतीकों का प्रयोग कर रही है।

  बिलाबियल लेबियो -
डेंटल
डेंटल एल्विओलर पोस्ट -
एल्विओलर
पेलेतल वेलर लेबिअल -
वेलर
ग्लोट्टल
नेजल m     n     ŋ[167][cn 1][169]  
प्लोसिव p  b     t  d     k  ɡ  
एफ्रिकेट         [173][cn 2]      
फ्रिकेतिव   f  v θ  ð[cn 3] s  z [181][cn 2] [183][cn 4] [185][cn 5] h
फ्लेप       ɾ[cn 6]        
एप्रोक्सिमेंट       [195][cn 2]   j   [198][cn 7]  
लेटरल       l        

टिप्पणियाँ[संपादित करें]

  1. [169] ^ कुछ उत्तरी ब्रिटिश लहजों में वेलर नेसल [ŋ] /n/ का गैर फोनेमिक एलोफोन है, जो केवल /k/ और /g/ के पहले आता है। हालांकि यह सिर्फ शब्दांश कोडा में होता है अन्य सभी बोलियों में यह एक अलग फोनेम, है
  2. [176] ^ ध्वनी /ʃ/, /ʒ/, and /ɹ/ कुछ बोलियों में लेबिअलाइस्ड होती है। लेबिअलाइज़ेशन प्रारंभिक स्थिति में कभी कन्ट्रस्टिव नहीं होता है इसलिए कभी कभी इसे ट्रन्स्क्राइब नहीं करते हैं। अमेरिकी जनरल के अधिकांश वक्ताओं एहसास <r> (हमेशा) का रेत्रोफ्लेक्स एप्प्रोक्सिमंत [175] के रूप में, /ɻ/ उसी जबकि स्कॉटिश अंग्रेजी, इस दंतउलूखल त्रिल आदि के रूप में महसूस किया है।
  3. [179] ^ कुछ बोलियों में, कोकनी, इंटरदेंतल्स / θ जैसे / और / ð / आमतौर / च के साथ विलय कर रहे हैं / और / दूसरों / और ध्, अफ्रीकी अमेरिकी देशी भाषा अंग्रेजी, जैसे / ð / के साथ विलय कर दिया है दंत / घ /. कुछ आयरिश प्रकारों में /θ/ और /ð/ सम्बंधित डेंटल प्लोसिव्स बन जाते हैं, जो आम एल्विओलर प्लोसिव्स से कंट्रास्ट खाते हैं।
  4. [184] ^ ध्वनी रहित पेलेतिव फ्रिकेतिव /ç/ अधिकांश लहजों में /j/ से पहले /h/ का एलोफोन मात्र है। उदहारण, ह्यूमन /çjuːmən/. हालांकि, कुछ लहजों में (इसेदेखें), /j/ छोड़ दिया जाता है, लेकिन प्रारंभिक व्यंजन समान रहता है।
  5. [191] ^ बेज़बान फ्रिकातिव वेलर / x/ स्कॉटिश या स्कॉट्स के लिए अंग्रेजी का वेल्श वक्ताओं द्वारा प्रयोग किया जाता है / गेलिक शब्दों झील जैसे [186] या /lɒx/ से उधर शब्द और हिब्रू बक तरह के लिए कुछ वक्ताओं /bax/ या चानुका द्वारा / जानुका/x / एक्स / भी दक्षिण अफ्रीकी अंग्रेजी में किया जाता है। कुछ बोलियों जैसे की स्काउस(लिवेर्पूल) या [x]या एफ्रिकेट[kx] /क/ के एलोफोन की तरह इस्तेमाल हो सकते हैं, उदहारण डोकर . [dɒkxə]अधिकांश स्थानीय वक्ताओं को विदेशी भाषा सीखते वक्त इसके उच्चारण के लिए खासी मशक्कत करनी पड़ती है। अधिकांश वक्ताओं ने आवाज़ [k] और [j] का प्रयोग करते हैं।
  6. The alveolar tap [ɾ] is an allophone of /t/ and /d/ in unstressed syllables in North American English and Australian English.[131] This is the sound of tt or dd in the words latter and ladder, which are homophones for many speakers of North American English. In some accents such as Scottish English and Indian English it replaces /ɹ/. This is the same sound represented by single r in most varieties of Spanish.
  7. [200] ^ बेज़बान W [ʍ] स्कॉटिश और आयरिश अंग्रेजी में पाया जाता है, साथ ही में अमेरिका, न्यूजीलैंड और ब्रिटेन की अंग्रेजी की कुछ किस्मों में. अधिकांश बोलियों में इसे /w/ के साथ मिला दिया जाता है, स्कोट्स की कुछ बोलियों में इसे /f/ के साथ मिला दिया जाता है।

वाणी और एस्पिरेशंस[संपादित करें]

अंग्रेजी में स्टाप व्यंजनों की वाणी और एस्पिरेशंस बोली और सन्दर्भ पर निर्भर करती है, लेकिन कुछ ही सामान्य नियम दिए जा सकते हैं:

  • बेज़बान प्लोसिव्स और एफ्रिकेट्स(/[203]/, /[204]/, /[205]/ और /[206]/) को एस्पिरेतेड तब करते हैं जब वे शब्द की शुरुआत में होते हैं अथवा स्ट्रेस्ड शब्दांश को शुरू करते वक्त [207] तुलना करें पिन [208] और स्पिन [209], क्रेप [210] और स्क्रेप [211].
    • कुछ बोलियों में, एस्पिरेशंस की पहुँच तनावरहित शब्दांशों तक भी होती है।
    • अन्य बोलियों में, जैसे की भारतीय अंग्रेजी, सभी वाणीरहित अवरोध गैर एस्पिरेतेड रहते हैं।
  • कुछ बोलियों में शब्द-आरंभिक वाणीकृत प्लोसिव्स वाणीरहित हो सकते हैं।
  • शब्द-टर्मिनल वाणी रहित प्लोसिव्स कुछ बोलियों में ग्लोतल स्टाप के साथ पाए जा सकते हैं; उदहारण; टेप tʰæp̚[212], सेक sæk̚[213]
  • शब्द-टर्मिनल वाणीकृत प्लोसिव्स कुछ बोलियों में वाणी रहित भी हो सकते हैं (उदहारण, अमेरिकी अंग्रेजी की कुछ किस्में)[214] उदहारण: सेड 215, बेग 216.अन्य बोलियों में, अंतिम स्थान पर वे पूर्णतया वाणीकृत होते हैं, लेकिन शुरुआती स्थान पर केवल आंशिक रूप से वाणीकृत होते हैं।

व्याकरण[संपादित करें]

अन्य इंडो-यूरोपियन भाषाओँ की तुलना में अंग्रेजी में न्यूनतम मोड़(घुमाव/बदलाव) होते हैं। उदाहरण के लिए, आधुनिक जर्मन या डच और रोमांस भाषाओं के विपरीत आधुनिक अंग्रेजी में लिंग व्याकरण और विशेषण समझौते का अभाव है। केस मार्किंग (अंकन) भाषा से लगभग गायब हो चुकी है और आज इसका इस्तेमाल मुख्य रूप से सर्वनाम में ही किया जाता है। जर्मनिक मूल से प्राप्त मजबूत (स्पीक/स्पोक/स्पोकेन) बनाम कमजोर क्रिया के स्वरूप का आधुनिक अंग्रेजी में महत्त्व घाट गया है और घुमाव के अवशेषों (जैसे की बहुवचन अंकन) का उपयोग बढ़ गया है।

वर्त्तमान में भाषा अधिक विश्लेषणात्मकबन गयी है और अर्थ स्पष्ट करने के लिएद्योतक क्रिया और शब्द क्रम जैसे साधनों का विकास हुआ है। सहायक क्रियायें प्रश्नों, नकारात्मकता, पैसिव वोईस और प्रगतिशील पहलुओं को दर्शाती हैं।

शब्दावली[संपादित करें]

चूँकी अंग्रेज़ी एक जर्मनिक भाषा है, उसकी अधिकतर दैनिक उपयोग की शब्दावली प्राचीन जर्मन से आयी है। इसके अतिरिक्त भी अंग्रेज़ी में कई ऋणशब्द हैं। एक सर्वेक्षण के अनुसार स्थिति ये है:

अंग्रेजी के मूल शब्द लगभग १०,००० हैं

अंग्रेजी शब्दावली सदियाँ बीतने के साथ काफी बदल गयी है।[132]

प्रोटो-इंडो-यूरोपियन (PIE) से निकली अनेक भाषाओँ की तरह अंग्रेजी के सबसे आम शब्दों के मूल (जर्मनिक शाखा के द्वारा) को PIE में खोजा जा सकता है। इन शब्दों में शामिल हैं बुनियादी सर्वनाम ' जैसे आई, पुरानी अंग्रेजी के शब्द आईसी से, (cf. लैटिन ईगो, ग्रीक ईगो, संस्कृत अहम्), मी (cf. लैटिन मी, ग्रीक इमे, संस्कृत मम्), संख्यायें (उदहारण, वन, टू, थ्री, cf. लैटिन उनस, ड्यूओ, त्रेस, ग्रीक ओइनोस "एस (पांसे पर)", ड्यूओ, त्रीस), सामान्य पारिवारिक सम्बन्ध जैसे की माता, पिता, भाई, बहन आदि (cf. ग्रीक "मीतर", लैटिन "मातर" संस्कृत "मात्र"; माता), कई जानवरों के नाम (cf. संस्कृत मूस, ग्रीक मिस, लैटिन मुस ; माउस) और कई आम क्रियायें (cf. ग्रीक गिग्नोमी, लैटिन नोसियर, हिट्टी केन्स ; टू नो).

जर्मेनिक शब्द (आमतौर पर पुरानी अंग्रेजी और कुछ कम हद तक नॉर्स मूल के शब्द) अंग्रेजी के लैटिन शब्दों से ज्यादा छोटे होते हैं और सामान्य बोलचाल में इनका उपयोग ज्यादा आम है। इसमें लगभग सभी बुनियादी सर्वनाम, पूर्वसर्ग, संयोजक, द्योतक क्रियायें आदि शामिल हैं जो की अंग्रेजी के बुनियादी वाक्यविन्यास और व्याकरण को बनाती हैं। लम्बे लैटिन शब्दों को अक्सर ज्यादा अलंकृत और शिक्षित माना जाता है। हालाँकि लैटिन शब्दों के जरुरत से ज्यादा प्रयोग को दिखावटी अथवा मुद्दा छिपाने की एक कोशिश माना जाता है। जोर्ज ओरवेल का निबंध "राजनीती और अंग्रेजी" इस चीज और भाषा के अन्य कथित दुरूपयोगों की आलोचना करता है। इस निबंध को अंग्रेजी भाषा की एक महत्त्वपूर्ण समीक्षा माना जाता है।

एक अंग्रेजी भाषी को लैटिन और जर्मेनिक पर्यायवाचियों में से चयन करने की सुविधा मिलती है: कम या एराइव ; साईट या विज़न ; फ्रीडम या लिबर्टी . कुछ मामलों में, एक जर्मेनिक व्युत्पन्न शब्द (ओवरसी), एक लैटिन व्युत्पन्न शब्द (सुपरवाइज़) और समान लैटिन शब्द (सर्वे) से व्युत्पन्न एक फ्रेंच शब्द में से चयन करने का विकल्प रहता है। विविध अर्थों और बारीकियों को समेटे ये पर्यायवाची शब्द वक्ताओं को बारीक़ भेद और विचारों की भिन्नता को व्यक्त करने में सहायक होते हैं। पर्यायवाची शब्द समूहों के इतिहास का ज्ञान अंग्रजी वक्ता को अपनीभाषा पर अधिक नियंत्रण प्रदान कर सकता है।देखें: अंग्रेजी में जर्मेनिक और लैटिन समकक्षों की सूचि.

इस बात का एक अपवाद और एक विशेषता है जो शायद केवल अंग्रजी भाषा में ही पाई जाती है। वह यह है की, गोश्त की संज्ञा आमतौर पर उसे प्रदान करने वाले जानवर की संज्ञा से भिन्न और असंबंधित होती है। जानवर का आमतौर पर जर्मेनिक नाम होता है और गोश्त का फ्रेंच से व्युत्पन्न होता है। उदहारण, हिरन और वेनिसन ; गाय और बीफ ; सूअर/पिग और पोर्क, तथा भेड़ और मटन . इसे नॉर्मन आक्रमण का परिणाम माना जाता है, जहाँ एंग्लो-सेक्सन निम्न वर्ग द्वारा प्रदान किये गए गोश्त को फ्रेंच बोलने वाले अभिजात वर्ग के लोग खाते थे।[तथ्य वांछित]

किसी बहस के दौरान अपनी बात को सीधे तौर पर प्रकट करने के लिए वक्ता इन शब्दों का इस्तेमाल करना पसंद करते हैं क्योंकि अनौपचारिक परिवेश में प्रयुक्त अधिकांश शब्द आमतौर पर जर्मेनिक होते हैं। अधिकांश लैटिन शब्दों का प्रयोग आमतौर पर औपचारिक भाषण अथवा लेखन में होता है, जैसे की एक अदालत अथवा एक विश्वकोश लेख.[तथ्य वांछित] हालाँकि अन्य लैटिन शब्द भी हैं जिनका उपयोग आमतौर पर सामान्य बोलचाल में किया जाता है और वे ज्यादा औपचारिक भी प्रतीत नहीं होते हैं; ये शब्द मुख्यता अवधारणाओं के लिए हैं जिनका कोई जर्मेनिक शब्द अब नहीं बचा है। सन्दर्भ से इनका तालमेल बेहतर होता है और कई मामलों में ये लैटिन भी प्रतीत नहीं होते हैं। उदहारण, ये सभी शब्द लैटिन हैं: पहाड़, तराई, नदी, चाची, चाचा, चलना, उपयोग धक्का और रहना .

अंग्रेजी आसानी से तकनीकी शब्दों को स्वीकार करती है और अक्सर नए शब्दों और वाक्यों को आयात भी करती है। इसके उदहारण हैं, समकालीन शब्द जैसे की कूकी, इन्टरनेट और URL (तकनीकी शब्द),जेनर, उबेर, लिंगुआ फ्रांका और एमिगो (फ्रेंच, इतालवी, जर्मन और स्पेनिश से क्रमशः आयातित शब्द). इसके अलावा, ठेठ शब्द (स्लैंग) अक्सर पुराने शब्दों और वाक्यांशों को नया अर्थ प्रदान करते हैं। वास्तव में, यह द्रव्यता इतनी स्पष्ट है की अंग्रेजी के समकालीन उपयोग और उसके औपचारिक प्रकारों में अक्सर भेद करने की आवश्यकता होती है।

इन्हें भी देखें: सामाजिक भाषा ज्ञान

अंग्रेजी में शब्दों की संख्या[संपादित करें]

ऑक्सफोर्ड अंग्रेजी शब्दकोष का शुरुआती स्पष्टीकरण :

The Vocabulary of a widely diffused and highly cultivated living language is not a fixed quantity circumscribed by definite limits... there is absolutely no defining line in any direction: the circle of the English language has a well-defined centre but no discernible circumference.

अंग्रेजी शब्दावली बेशक विशाल है, परन्तु इसको एक संख्या प्रदान करना गणना से अधिक परिभाषा के तहत आयेगा. फ्रेंच, जर्मन, इतालवी और स्पेनिश भाषाओँ के विपरीत, अंग्रेजी भाषा के लिए अधिकारिक तौर पर स्वीकृत शब्दों और मात्राओं को परिभाषित करने के लिए कोई अकादमी नहीं है। चिकित्सा, विज्ञान, प्रौद्योगिकी और अन्य क्षेत्रों में नियमित रूप से निओलोजिज़्म गढे जा रहे हैं और नए स्लैंग निरंतर विकसित हो रहे हैं। इनमें से कुछ नए शब्दों का व्यापक इएतेमाल होता है; अन्य छोटे दायरों तक ही सीमित रहते हैं। अप्रवासी समुदायों में प्रयुक्त विदेशी शब्द अक्सर व्यापक अंग्रेजी उपयोग में अपना स्थान बना लेते हैं। प्राचीन, उपबोली और क्षेत्रीय शब्दों को व्यापक तौर पर "अंग्रेजी" कहा भी जा सकता है और नहीं भी.

ऑक्सफोर्ड अंग्रेजी शब्दकोष, द्वितीय संस्करण (OED2) में ६ लाख से अधिक परिभाषाएं शामिल हैं, ज्यादा ही समग्र निति का अनुसरण करते हुए:

It embraces not only the standard language of literature and conversation, whether current at the moment, or obsolete, or archaic, but also the main technical vocabulary, and a large measure of dialectal usage and slang (Supplement to the OED, 1933).[133]

वेबस्टर के तीसरे नए अंतर्राष्ट्रीय शब्दकोश, बिना छंटनी के (475,000 प्रमुख शब्द), के संपादकों ने अपनी प्रस्तावना में इस संख्या के कहीं अधिक होने का अनुमान लगाया है। ऐसा अनुमान है की लगभग 25,000 शब्द हर साल भाषा में जुड़ते हैं।[134]

शब्दों के मूल[संपादित करें]

फ्रेंच प्रभाव का एक परिणाम यह है की कुछ हद तक अंग्रेजी की शब्दावली जर्मेनिक (उत्तरी जर्मेनिक शाखा के लघु प्रभाव वाले मुख्यतया पश्चिमी जर्मेनिक शब्द) और लैटिन (लैटिन व्युत्पन्न, सीधे तौर पर अथवा नॉर्मन फ्रेंच या अन्य रोमांस भाषाओँ से) शब्दों में विभाजित हो गयी है।

अंग्रेजी के 1000 सबसे आम शब्दों में से 83% और 100 सबसे आम में से पूरे 100 जर्मेनिक हैं।[135] इसके उलट, विज्ञान, दर्शन, गणित जैसे विषयों के अधिक उन्नत शब्दों में से अधिकांश लैटिन अथवा ग्रीक से आये हैं। खगोल विज्ञान, गणित और रसायन विज्ञान से उल्लेखनीय संख्या में शब्द अरबी से आये हैं।

अंग्रेजी शब्दावली के अनुपाती मूलों को प्रदर्शित करने के लिए अनेक आंकडे प्रस्तुत किये गए हैं। अधिकांश भाषाविदों के अनुसार अभी तक इनमे से कोई भी निश्चित नहीं है।

थॉमस फिन्केंस्तात और डीटर वोल्फ (1973)[136] द्वारा और्डर्ड प्रोफ़्युज़न में पुरानी लघु ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी (तृतीय संस्करण) के लगभग 80,000 शब्दों का कम्प्यूटरीकृत सर्वेक्षण प्रकाशित हुआ था, इसने अंग्रेजी शब्दों की उत्पत्ति का अनुमान इस प्रकार लगाया था:

अंग्रेजी शब्दावली में प्रभाव

जोसफ एम. विलियम्स द्वारा ओरिजिंस ऑफ़ द इंग्लिश लैंग्वेज में हजारों व्यवसायिक पत्रों से लिए गए 10,000 शब्दों के एक सर्वेक्षण ने ये आंकडे प्रस्तुत किये:[137]

  • फ्रेंच (langue d'oïl): 41%
  • "मूल" अंग्रेजी: 33%
  • लाटिन: 15%
  • ओल्ड नॉर्स: 2%
  • डच: 1%
  • अन्य: 10%

डच मूल[संपादित करें]

नौसेना, जहाजों के प्रकार, अन्य वस्तुएं और जल क्रियाओं का वर्णन करने वाले अनेक शब्द डच मूल के हैं। उदहारण, यौट (जात), स्किपर (शिपर) और क्रूसर (क्रूसर). डच का अंग्रेजी स्लैंग में भी योगदान है, उदहारण, स्पूक, अब अप्रचलित शब्द स्नाइडर (दरजी) और स्तिवर (छोटा सिक्का).

फ्रेंच मूल[संपादित करें]

अंग्रेजी शब्दावली का एक बड़ा हिस्सा फ्रेंच (Langues d'oïl) मूल का है, अधिकांश शब्द एंग्लो-नॉर्मन से निकल कर आये हैं। एंग्लो-नॉर्मन भाषा नॉर्मन की इंग्लैंड विजय के बाद उच्च वर्गों द्वारा सैकडों सालों तक बोली जाती थी। उदहारण, कोम्पतीशन, आर्ट, टेबल, पब्लिसिटी, पोलिस, रोल, रोटीन, मशीन, फोर्स, और अनेक अन्य शब्द जिनका अंग्रेजीकरण या तो हो चुका है या हो रहा है; कई का उच्चारण अब फ्रेंच के बजाय अंग्रेजी के ध्वनी विज्ञान के नियमों के तहत किया जाता है (कुछ अपवाद भी हैं, जैसे की फेकेड और अफेयर दी सिउर).

लेखन प्रणाली[संपादित करें]

नौवीं शताब्दी के आसपास से अंग्रेजी के लेखन के लिए एंग्लो-सेक्सन रून्स के स्थान पर लैटिन वर्णमाला का प्रयोग हो रहा है। वर्तनी प्रणाली, अथवा ओर्थोग्राफी, बहुस्तरीय है। इसमें स्थानीय जर्मेनिक प्रणाली के ऊपर फ्रेंच, ग्रीक और लैटिन वर्तनी के तत्व शामिल हैं; भाषा के ध्वनी विज्ञान से यह काफी हट गया है। शब्दों के उच्चारण और उनकी वर्तनी में अक्सर काफी अंतर पाया जाता है।

हालाँकि अक्षर और ध्वनी अलगाव में मेल नहीं खाते हैं, फिर भी शब्द संरचना, ध्वनी और लहजों को ध्यान में रखकर बनाये गए वर्तनी नियम 75% विश्वसनीय हैं।[138] कुछ ध्वन्यात्मक वर्तनी अधिवक्ताओं का दावा है की अंग्रेजी 80% से ज्यादा ध्वन्यात्मक है।[139] हालाँकि अन्य भाषाओँ की अपेक्षा अंग्रेजी में अक्षर और ध्वनी के बीच सम्बन्ध उतना प्रगाढ़ नहीं है; उदहारण, ध्वनी अनुक्रम आउघ को सात भिन्न प्रकारों से उच्चारित किया जा सकता है। इस जटिल ओर्थोग्रफिक इतिहास का परिणाम यह है की पढ़ना एक चुनौतीपूर्ण कार्य हो सकता है।[140] ग्रीक, फ्रेंच और स्पेनिश और कई अन्य भाषाओँ की तुलना में, एक छात्र को अंग्रेजी पाठन का पारंगत बनने में ज्यादा वक्त लगता है।[141]

बुनियादी ध्वनि-अक्षर मेल[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: Hard and soft C एवं Hard and soft G

सिर्फ व्यंजन अक्षरों का उच्चारण ही अपेक्षाकृत नियमित तरीके से किया जाता है:

अक्षरात्मक प्रतिनिधित्व बोली विशिष्ट
P P
b b
t t, th (शायद ही कभी) थाइम, थेम्स th थिंग (अफ्रीकी अमेरिकी, न्यू यार्क)
d d th दैट (अफ्रीकी अमेरिकी, न्यू यार्क
k c (+ a, o, u, व्यंजन ), k, ck, ch, qu ((शायद ही कभी) कौन्कर , kh ((विदेशी शब्दों में)
g g, gh, gu (+ a, e, i), ग्यू (अंतिम स्थान )
m m
n n
ŋ n (g या क से पहले ), ng
f f, ph, gh ((अंतिम, यदा कदा) लाफ, रफ th थिंग (इंग्लैंड में अंग्रेजी भाषा के अनेक प्रकार)
v v th विद (कोकनी, एस्तुअरी इंग्लिश)
θ ' th थिक, थिंक, थ्रू (/0}
ð th दैट, दिस, दी
s s, c (+ e, i, y), sc (+ e, i, y), ç (फेकेद )
Z z, s (अंतिम अथवा यदा कदा मध्यवर्ती), ss ((शायद ही कभी) पोस्सेस, देस्सेर्ट, शुरुआती-शब्द x ज़ाइलोफ़ोन
ʃ sh, sch, ti (स्वर से पहले) पोर्शन, ci/ce (स्वर से पहले) सस्पिशन, ओशन ; si/ssi (स्वर से पहले) टेंशन, मिशन ; ch ((खास कर फ्रेंच मूल के शब्दों में ); शायद ही कभी s/ss u से पहले शुगर, इशू ; chsi केवल फुचसिया
ʒ मध्यवर्ती si (स्वर से पहले) डिविजन, मध्यवर्ती s ("ur" से पहले) प्लेज़र, zh (विदेशी शब्दों में ), z उ से पहले azure, g (फ्रेंच मूल के शब्दों में) (+e, i, y) जेनर
X kh, ch, h (विदेशी शब्दों में ) कभी कभार ch लोच (स्कॉटिश इंग्लिश, वेल्श इंग्लिश)
h h (शब्दांश-शुरुआत में, अन्यथा चुप )
ch, tch, t u से पहले फ्यूचर , कल्चर t (+ u, ue, eu) टयून, टयूस्डे, ट्यूटोनिक (कई बोलियाँ - अंग्रेजी व्यंजन समूहों की ध्वनि इतिहास देखें)
j, g (+ e, i, y), dg (+ e, i, व्यंजन) बैज, जज (e) मेंट d (+ u, ue, ew) दयून, ड्यू, ड्यू (कई बोलियाँ - योड संघीकरण का एक और उदाहरण )
((IPA | ɹ)) r, wr (शुरुआती) रैन्गल
j y (या शुरुआत में या स्वरों से घिरा हुआ )
l l
w W
ʍ wh (उच्चारित hw) स्कॉटिश और आयरिश अंग्रेजी, साथ ही अमेरिका, न्यूजीलैंड और इंग्लैंड की अंग्रेजी की कुछ किस्मे,

लिखित लहजे[संपादित करें]

अधिकांश जर्मेनिक भाषाओँ के विपरीत, अंग्रेजी में डायाक्रिटिक्स, सिवाय विदेशी उधारशब्दों के (जैसे की कैफे का तीव्र लहजा), लगभग नहीं के बराबर हैं और दो स्वरों के उच्चारण को एक ध्वनी (नाईव, ज़ो) की बजाय पृथक दर्शाने के लिए डायारिसिस निशान के असामान्य उपयोग में (अक्सर औपचारिक लेखन में).डेकोर, कैफे, रेस्यूम, एंट्री, फिअंसी और नाइव जैसे शब्द अक्सर दोनों तरीकों से लिखे जाते हैं। विशेषक चिह्न अक्सर शब्द के साथ उनको "उच्च कोटि" का दर्शाने के लिए जोड़े जाते हैं। हाल में, अंग्रेजी भाषित देशों में कई कंप्यूटर कुंजीपटलों में प्रभावी विशेषक कुंजियों के आभाव के कारण caf'e या cafe' जैसे कंप्यूटर से उत्पन्न चिह्नों का प्रचलन बढ़ गया है।[तथ्य वांछित]

कुछ अंग्रेजी शब्द अपने को पृथक दर्शाने के लिए डायाक्रिटिक्स को बनाये रखते हैं। उदहारण, animé, exposé, lamé, öre, øre, pâté, piqué, and rosé, हालाँकि अक्सर इनको छोड़ भी दिया जाता है (उदहारण के तौर पर 'résumé /resumé को अमेरिका में रिज्यूमे लिखा जाता है). उच्चारण को स्पष्ट करने के लिए कुछ उधार शब्द डायाक्रिटिक का उपयोग कर सकते हैं, हालाँकि मूल शब्द में यह मौजूद नहीं था। उदहारण, maté, स्पेनिश yerba mate से)

औपचारिक लिखित अंग्रेजी[संपादित करें]

दुनिया भर के शिक्षित अंग्रेजी वक्ताओं द्वारा लगभग सार्वभौमिक रूप से स्वीकृत भाषा के एक संस्करण को औपचारिक लिखित अंग्रेजी कहा जाता है। लगभग हर जगह इसका लिखित प्रकार समान ही रहता है, इसके विपरीत भाषित अंग्रेजी बोलियों, लहजों, स्लैंग के प्रकारों, स्थानीय और क्षेत्रीय अभिव्यक्तियों के अनुसार भिन्न भिन्न होती है। भाषा के औपचारिक लिखित संस्करण में स्थानीय भिन्नताएं काफी सीमित हैं। इस भिन्नता का दायरा मुख्यतः ब्रिटिश और अमेरिकी अंग्रेजी के वर्तनी अंतर तक ही सिमटा हुआ है।

बुनियादी और सरलीकृत संस्करण[संपादित करें]

अंग्रेजी पाठन को आसन करने के लिए इसके कुछ सरलीकृत संस्करण भी मौजूद हैं। इनमें से एक है बेसिक इंग्लिश, सीमित शब्दों के साथ चार्ल्स के ओग्डेन ने इसका गठन किया और अपनी किताब बेसिक इंग्लिश: ए जनरल इन्ट्रोडक्शन विद रूल्स एंड ग्रामर (१९३०) में इसका वर्णन किया। यह भाषा अंग्रेजी के एक सरलीकृत संस्करण पर आधारित है। ओग्डेन का कहना था की अंग्रेजी सीखने के लिए सात वर्ष लगेंगे, एस्पेरेन्तो के लिए सात महीने और बेसिक इंग्लिश के लिए केवल सात दिन. कम्पनियाँ जिनको अंतर्राष्ट्रीय उपयोग के लिए जटिल पुस्तकों की आवश्यकता हो और साथ ही स्कूल जिनको कम अवधि में लोगों को बुनियादी अंग्रेजी सिखानी हो, वे बेसिक इंग्लिश का उपयोग कर सकते हैं।

ओग्डेन ने बेसिक इंग्लिश में ऐसा कोई शब्द नहीं डाला जिसे कुछ अन्य शब्दों के साथ बोला जा सके और अन्य भाषाओँ के वक्ताओं के लिए भी ये शब्द काम करें, इस बात का भी उसने ख्याल रखा. अपने शब्दों के समूह पर उसने बड़ी संख्या में परीक्षण और सुधार किये. उसने न सिर्फ व्याकरण को सरल बनाया, वरन उपयोगकर्ताओं के लिए व्याकरण को सामान्य रखने की भी कोशिश की.

द्वितीय विश्व युद्ध के तुंरत बाद विश्व शांति के लिए एक औजार के रूप में इसको खूब प्रचार मिला.[तथ्य वांछित] हालाँकि इसको एक प्रोग्राम में तब्दील नहीं किया गया, लेकिन विभिन्न अंतर्राष्ट्रीय उपयोगों के लिए इसी प्रकार के अन्य संस्करण बनाये गए।

एक अन्य संस्करण, सरलीकृत अंग्रेजी, मौजूद है जो की एक नियंत्रित भाषा है जिसका गठन मूल रूप से एयरोस्पेस उद्योग के रखरखाव मैनुअल के लिए किया गया था। यह अंग्रेजी के एक सीमित और मानकीकृत उपसमूह को उपलब्ध[कौन?] कराता है। सरलीकृत अंग्रेजी में अनुमोदित शब्दों का एक शब्दकोश है और उन शब्दों को कुछ विशिष्ट मायनों में ही इस्तेमाल किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, शब्द क्लोज़ का उपयोग इस वाक्यांश में हो सकता है "क्लोज़ द डोर " पर "डू नोट गो क्लोज़ टू द लैंडिंग गियर" में इसका उपयोग नहीं हो सकता है।

भाषाई साम्राज्यवाद एवं अंग्रेज़ी[संपादित करें]

अंग्रेज़ों ने दुनिया के अनेक देशों को राजनीतिक रूप से अपना उपनिवेश बनाया। इसके साथ ही उन्होंने उन देशों पर बड़ी चालाकी से अंग्रेज़ी भी लाद दी। इसी का परिणाम है कि आज ब्रिटेन के बाहर सं रा अमेरिका, आस्ट्रेलिया, न्यूजीलैण्ड, कनाडा, भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश्, दक्षिण अफ्रिका आदि अनेक देशों में अंग्रेज़ी का वर्चस्व है। अंग्रेज़ी ने यहां कि देशी भाषाओं को बुरी तरह पंगु बना रखा है। ब्रिटिश काउन्सिल जैसी संस्थायें इस अंग्रेज़ी के प्रसार के लिये तरह-तरह के दुष्प्रचार एवं गुप्त अभियान करती रहतीं हैं। परंतु मातृभाषा के तौर पर हिंदी और चीनी भाषा अंग्रेजी से कोसों आगे निकल चुकी है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

ग्रन्थसूची[संपादित करें]

  • Baugh, Albert C.; Thomas Cable (2002). A history of the English language (5th संस्करण). Routledge. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-415-28099-0.
  • Bragg, Melvyn (2004). The Adventure of English: The Biography of a Language. Arcade Publishing. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-55970-710-0.
  • Crystal, David (1997). English as a Global Language. Cambridge: Cambridge University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-521-53032-6.
  • Crystal, David (2003). The Cambridge encyclopedia of the English language (2nd संस्करण). Cambridge University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-521-53033-4.
  • Crystal, David (2004). The Stories of English. Allen Lane. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-7139-9752-4.
  • Halliday, MAK (1994). An introduction to functional grammar (2nd संस्करण). London: Edward Arnold. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-340-55782-6.
  • Hayford, Harrison; Howard P. Vincent (1954). Reader and Writer. Houghton Mifflin Company. http://www.archive.org/details/readerandwriter030101mbp
  • केन्यन, जॉन शमूएल और क्नोत्त, थॉमस अल्बर्ट, अमेरिकी अंग्रेजी का एक उच्चारण शब्दकोष, जी और सी मरियम कंपनी, स्प्रिंगफील्ड, मास, अमरीका, 1953.
  • McArthur, T. (ed.) (1992). The Oxford Companion to the English Language. Oxford University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-19-214183-X.
  • Plotkin, Vulf (2006). The Language System of English. BrownWalker Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-58112-993-9.
  • Robinson, Orrin (1992). Old English and Its Closest Relatives. Stanford Univ. Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8047-2221-8.
शब्दकोश

टिप्पड़ीसूचना[संपादित करें]

  1. "Report of the Commissioner for linguistic minorities: 50th report (July 2012 to June 2013)" (PDF). Commissioner for Linguistic Minorities, Ministry of Minority Affairs, Government of India. अभिगमन तिथि 12 जुलाई 2017.
  2. देखें लॉर्ड मैकॉले'ज़ लाइफ़ ऑफ क्लाइव एण्ड जेम्स टॉलबॉयज़ व्हीलर: अर्ली हिस्ट्री ऑफ ब्रिटिश इण्डिया, लंदन (१८७८), पृ.९८। The principal meaning is the western half of this area, but the rulers there controlled the कोरोमंडल तट as well.
  3. संस्कृति का समंदर दक्षिण भारत। डेली न्यूज़। २६ जनवरी, २०११। अभिगमन तिथि: १८ फ़रवरी २०११
  4. कर्नाटक। भारत सरकार के पोर्टल पर
  5. एस रंगनाथन. "द गोल्डन हैरिटेज ऑफ कर्नाटक". खनन विभाग. भारतीय विज्ञान संस्थान, बंगलुरु. मूल से |archive-url= दिए जाने पर |archive-date= भी दी जानी चाहिए (मदद) को पुरालेखित.
  6. "ट्रेड". ब्रिटिश संग्रहालय.
  7. तालगुण्ड शिलालेख के अनुसार (डॉ॰ बी एल राइस, कामत (२००१), पृ.३०)
  8. मोअरेज़ (१९३१), पृ.१०
  9. अडिग एवं शेख अली, अडिग (२००६), पृ.८९
  10. रमेश (१९८४), पृ.१-२
  11. फ़्रॉम द हाल्मिदी इन्स्क्रिप्शन (रमेश १९८४, पृ १०-११)
  12. कामत (२००१), पृ.१०
  13. द चालुक्याज़ हेल्ड फ़्रॉम द प्रेज़ेण्ट डे कर्नाटक (किएय (२०००), पृ. १६८)
  14. द चालुक्याज़ वर नेटिव कन्नड़िगाज़ (एन लक्ष्मी नारायण राव एवं डॉ॰एस.सी नंदीनाथ, कामत (२००१), पृ.५७)
  15. आल्तेकर (१९३४), पृ.२१-२४।
  16. मेज़िका (१९९१), पृ.४५-४६
  17. बैलागांव इन मैसूर टेरिटरी वॉज़ ऍन अर्ली पावर सेन्टर (कॉज़ेन्स (१९२६), पृ.१० एवं १०५)
  18. तैलप द्वितीय, द फ़ाउण्डर किंग वॉज़ द गवर्नर ऑफ तारावाड़ी इन मॉडर्न बीजापुर डिस्ट्रिक्ट, अण्डर द राष्ट्रकूटाज़ (कामत (२००१), पृ.१०१)
  19. कामत (२००१), पृ. ११५
  20. फ़ोएकेमा (२००३), पृ.९
  21. ए हिस्ट्री ऑफ साउथ इण्डिया, के ए नीलकांत शास्त्री (१९५५), पृ.१६४
  22. ए हिस्ट्री ऑफ साउथ इण्डिया, के ए नीलकांत शास्त्री (१९५५), पृ.१७२
  23. ए हिस्ट्री ऑफ साउथ इण्डिया, के ए नीलकांत शास्त्री (१९५५), पृ.१७४
  24. कामत (२००१), पृ.१३२-१३४
  25. शास्त्री (१९५५), पृ.३५८-३५९, ३६१।
  26. फ़ोकेमा (१९९६), पृ.१४।
  27. कामत (२००१), पृ.१२२-१२४
  28. कामत (२००१), पृ.१५७-१६०।
  29. कुल्के एण्ड रदरमड (२००४), पृ. १८८
  30. कामत (२००१), पृ.१९०-१९१।
  31. कामत (२००१), पृ.२०१
  32. कामत (२००१), पृ. २०२
  33. कामत (२००१), पृ.२०७.
  34. जैन, धनेश (२००३). जैन, धनेश; कार्डोना, जॉर्ज, संपा॰. द इण्डो-आर्यन लैंग्वेजेज़. राउटलेज लैंग्वेज फ़ैमिली सीरीज़. . राउटलेज. पृ॰ 757. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0700711309. नामालूम प्राचल |coauthors= की उपेक्षा की गयी (|author= सुझावित है) (मदद)
  35. पिंटो, पाइयुस फ़िडलिस (१९९९). हिन्स्ट्री ऑफ क्रिश्चियन्स इन कोस्टल कर्नाटक, १५००-१७६३ ए.डी. मंगलौर: समन्वय प्रकाशन. पृ॰ १२४.
  36. Menon, Parvathi. "Karnataka's agony". The Frontline, Volume 18 - Issue 17, 18–31 अगस्त 2001. Frontline. अभिगमन तिथि 2007-05-04.
  37. अगुम्बे के सर्वाधिक वर्षा पाने का उल्लेख घोष, अरबिन्द. "लिंक गोदावरी, कृष्णा & कावेरी". द सेन्ट्रल क्रॉनिकल, दि:२८ मार्च २००७. २००७, सेन्ट्रल क्रॉनिकल. अभिगमन तिथि १६ मई २००७.
  38. "कर्नाटक – ऍन इन्ट्रोडक्शन". कर्नाटक विधायिका के आधिकारिक जालस्थल पर. अभिगमन तिथि ४ अक्टूबर २००७.
  39. "टू न्यू डिस्ट्रिक्ट्स नोटीफाइड इन बैंगलॉर". द टाइम्स ऑफ इण्डिया, ६ अगस्त २००७.
  40. "कर्नाटका, पॉपुलेशन: पर्सन्स (टोटल)". भारत की जनगणना, २००१.
  41. "सेन्सस पॉपुलेशन" (पीडीएफ). सेन्सस ऑफ इण्डिया. वित्त मंत्रालय, भारत सरकार. अभिगमन तिथि १८ फ़रवरी २००८.
  42. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; popu नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  43. "इण्डिया (रिलीजन), सेन्सस (२००१)". भारत की जनगणना. महालेखाधिकारी, भारत सरकार.
  44. ए आर फ़ातिही. "कर्नाटक में उर्दु". लैंग्वेज इन इण्डिय़ा, खण्ड-२: ९ दिसम्बर २००२. एम एस तिरुमलै, प्रबधन शंपादक, लैंग्वेज इन इण्डिय़ा. अभिगमन तिथि २९ जून २००७.
  45. "एन्विसेजिंग अ हैल्दी ग्रोथ". द फ़्रंटलाइन. द हिन्दू. अभिगमन तिथि २१ जून २००७.
  46. "कर्नाटक बैट्स बिग ऑन हेलथकेयर टुरिज़्म". द हिन्दू बिज़्नेस लाइन, तिथि:२३ नवम्बर २००४. २००४, द हिन्दू. अभिगमन तिथि २१ जून २००७.
  47. "टिकिंग चाइल्ड हेलथकेयर टाइम बॉम्ब". द एड्युकेशन वर्ल्ड. एड्युकेशन वर्ल्ड. अभिगमन तिथि २१ जून २००७.
  48. "स्टैटिस्टिक्स – कर्नाटक स्टेट". वन विभाग. कर्नाटक सरकार. अभिगमन तिथि ४ जून २००७. सन्दर्भ त्रुटि: Invalid <ref> tag; name "split" defined multiple times with different content
  49. "ओरिजिन एण्ड ग्रोथ ऑफ कर्नाटक लेजिस्लेचर". कर्नाटक सरकार. कर्नाटक सरकार. अभिगमन तिथि ५ मई २००७.
  50. पायली, एम वी. २००३ कॉन्स्टीट्यूश्नल गवर्न्वेंट इन इण्डिया, न्यू देह्ली: एस.चांद & कं. पृ.३६५
  51. "The Head of the State is called the Governor who is the constitutional head of the state as the President is for the whole of India", पायली, एम वी, २००३। कॉन्स्टीट्यूश्नल गवर्न्वेंट इन इण्डिया, न्यू देह्ली: एस.चांद & कं. पृ.३५७।
  52. "हमारी संसद – एक परिचय". भारतीय संसद. भारत सरकार. अभिगमन तिथि २५ दिसम्बर २०१०.
  53. "लोक सभा- इंट्रोडक्शन". द इण्डियन पार्लियामेण्ट. भारत सरकार. अभिगमन तिथि ४ जून २००७.
  54. "कर्नाटक पॉलिटिक्स – सस्पेन्स टिल २७ जनवरी". OurKarnataka.com. OurKarnataka.Com,Inc. अभिगमन तिथि ४ जून २००७.
  55. "'गवर्न्मेंट नॉट कीन ऑन सॉल्विंग कसरगोड डिस्प्यूट'" (अंग्रेज़ी में). द हिन्दू. २४ अक्टूबर २००५.
  56. "बॉर्डर रो: गवर्न्मेन्ट टोल्ड टू फ़ाइण्ड पर्मानेन्ट सॉल्यूशन" (अंग्रेज़ी में). द हिन्दू. २९ सितंबर २००६.
  57. "बॉर्डर डिस्प्यूट सॉल्व्स एन.सी.पी द ब्लशेज़". द टाइम्स ऑफ इण्डिया. २६ सितंबर २००६.
  58. "हाईलाईट्स ऑफ कर्नाटक्स बजट २००८-०९" (पीडीएफ़). वित्त विभाग. कर्नाटक सरकार. अभिगमन तिथि १९ अगस्त २००८.
  59. ए. श्रीनिवास. "कर्नाटक्स बजट बेस्ड ऑन ५% इन्फ़्लेशन रेट". द हिन्दू, २१ जुलाई २००८. २००८, द हिन्दू बिज़्नेस लाइन. अभिगमन तिथि १९ अगस्त २००८.
  60. "स्टेटमेन्ट: ग्रॉस स्टेट डोमेस्टिक प्रॉडक्ट ऍट करेन्ट प्राइसेज़". सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय. भारत सरकार. अभिगमन तिथि ११ जून २००७.
  61. "इन टर्म्स ऑफ पर कैपिटा जीडीपी — कर्नाटक, बंगाल फ़ास्टेस्ट ग्रोइंग स्टेट्स". द हिन्दु, ९ जून २००५. द हिन्दू, २००५. अभिगमन तिथि ११ जून २००७.
  62. भारत सरकार. "फ़ॉरेन डयरेक्ट इन्वेस्टमेंट" (पीडीएफ़). इण्डियन बजट - २००७. अभिगमन तिथि ११ जून २००७.
  63. भारत सरकार. "एम्प्लॉयमेंट एण्ड अनेम्प्लॉयमेंट" (पीडीएफ). इण्डियन बजट - २००७. अभिगमन तिथि १९ जून २००७.
  64. "बजट २००६-२००७". वित्त विभाग. कर्नाटक सरकार. अभिगमन तिथि १९ जून २००७.
  65. "पोवर्टी एस्टिमेट्स फ़ॉर २००४-२००५" (पीडीएफ). योजना आयोग. भारत सरकार. अभिगमन तिथि १८ जुलाई २००७.
  66. "कर्नाटक ह्यूमन डवलपमेंट रिपोर्ट २००५" (पीडीएफ़). योजना आयोग. भारत सरकार. अभिगमन तिथि ४ जून २००७.
  67. "कर्नाटक एग्रीकल्चरल पॉलिसी २००६" (पीडीएफ़). कृषि विभाग. कर्नाटक सरकार. अभिगमन तिथि ४ जून २००७.
  68. "आईटी एक्स्पोर्ट्स फ़्रॉम कर्नाटक एक्सीड्स रु.५०के करोड़". द फ़ाइनेन्शियल एक्स्प्रेस, २२ मई २००७. २००७: इण्डियन एक्स्प्रेस न्यूज़पेपर (मुंबई) लि. अभिगमन तिथि ५ जून २००७.
  69. स्टेट कैबिनेट अप्रूव्स आई.टी पार्क नियर देवनहल्ली एयरपोर्ट। द हिन्दू। २९ जनवरी २०१०। विशेष संवाददाता
  70. "India in Business". Ministry of External affairs. भारत सरकार. अभिगमन तिथि 2007-06-11.
  71. "बैंगलौर टॉप्स बायोक्लस्टर लिस्ट विद रु.१४०० करोड़ रेवेन्यु". द हिन्दू बिज़्नेस लाइन, ८ जून. २००६. © २००६, द हिन्दू बिज़्नेस लाइन. अभिगमन तिथि ५ जून २००६.
  72. "फ्लोरीकल्चर". वन इण्डिया न्यूज़, १२ जून २००७. www.Karnataka.com. अभिगमन तिथि १२ जून २००७.
  73. रवि शर्मा. "बिल्डिंग ऑन अ स्ट्रॉन्ग बेस". द फ़्रंटलाइन, खण्ड २२, इशू-२१ अक्टूबर २००५. फ़्रंटलाइन. अभिगमन तिथि २१ जून २००७.
  74. रवि शर्मा. "ए पायोनियर्स प्रॉग्रेस". द फ़्रंटलाईन, खण्ड २०, इशु:१५, १९ जुलाई,-१ अगस्त २००३. फ़्रंटलाईन. अभिगमन तिथि २१ जून २००७.
  75. "स्टेट/यूनियन टेरिटरी वाइज़ नंबर ऑफ ब्रांचेज़ ऑफ शिड्यूल्ड कमर्शियल बैंक्स एण्ड एवरेज पॉपुलेशन पर बैंक ब्रांच– मार्च २००२" (पीडीएफ़). भारतीय रिज़र्व बैंक का ऑनलाइन वेबपेज. अभिगमन तिथि २१ जून २००७.
  76. सिल्क सिटी टू कम अप नियर बंगलौर
  77. कर्नाटक के रेशम बुनकर वैश्वीकरण के चलते घाटे में गिरते जा रहे हैं
  78. "५ एयरपोर्ट्स टू बी ऑपरेश्नल सून". डेक्कन हेराल्ड, ऑनलाइन; तिथि: ५ जून २००७. २००७, द प्रिंटर्स (मैसूर) प्रा.लि. अभिगमन तिथि २९ जून २००७.
  79. "प्राइम मिनिस्टर टू डेडिकेट कोंकण रेलवे लाइन टू द नेशन ऑन १ मई". पी.आई.बी. भारत सरकार. अभिगमन तिथि 2007-07-18.
  80. "पायलट प्रोजेक्ट: जीपीएस सिस्टम ऑन बंगलौर-हुबली जन शताब्दी". डेकन हेराल्ड, ऑनलाइन, ति:२५, दिसम्बर, २००६. २००५, द प्रिंटर्स (मैसूर) प्रा.लि. अभिगमन तिथि ६ मई २००७.
  81. जी.एस. प्रसन्न कुमार. "कर्नाटक एण्ड इण्डियन रेलवेज़, Colossal wastage of available resources or is it sheer madness of the authorities concerned". ऑनलाईन वेबपेज:OurKarnataka.com. OurKarnataka.Com, इंका. अभिगमन तिथि 2007-04-20.
  82. "माइनर पोर्ट्स ऑफ कर्नाटक". Online Webpage of Karnataka Ports Department. कर्नाटक सरकार. अभिगमन तिथि 2007-05-06.
  83. कर्नाटक पोर्ट्स.इन
  84. "अबाउट के.एस.आर.टी.सी". ऑनलाइन वेबपेज KSRTC. KSRTC. अभिगमन तिथि 2007-05-06.
  85. मुख्य संपादक:एच चित्तरंजन। २००५। हैण्डबुक ऑफ कर्नाटक। राजपत्र विभाग, कर्नाटक सरकार। अध्याय-१३। पृष्ठ:३३२-३३७
  86. मुख्य संपादक:एच चित्तरंजन। २००५। हैण्डबुक ऑफ कर्नाटक। राजपत्र विभाग, कर्नाटक सरकार। अध्याय-१३। पृष्ठ:३५०-३५२
  87. कर्नाटक म्यूज़िक ऍज़ ऍस्थेटिक फ़ॉर्म/ आर सत्यनारायण। नई दिल्ली। सेन्टर फ़ॉर स्टडीज़ इन सिविलाइज़ेशन्स, २००४, त्रयोदश, पृ. १८५, ISBN 81-87586-16-8.
  88. डॉ॰ज्योत्सना कामत. "पुरंदर दास". कामत्स पॉट पौरी. अभिगमन तिथि ३१ दिसम्बर २००६.
  89. कामत (२००१), पृ. २८३
  90. के.जेशी. "रीविज़िटिंग टैक्स्टाइल ट्रैडीशंस". हिन्दू का ऑनलाइन संस्करण, १२ सितंबर २००६. द हिन्दू. अभिगमन तिथि २४ जुलाई २००७.
  91. http://www.bartleby.com/224/1501.html
  92. "Global English: gift or curse?". अभिगमन तिथि 2005-04-04.
  93. David Graddol (1997). "The Future of English?" (PDF). The British Council. अभिगमन तिथि 2007-04-15.
  94. "The triumph of English". The Economist. 2001-12-20. अभिगमन तिथि 2007-03-26.
  95. "Lecture 7: World-Wide English". EHistLing. अभिगमन तिथि 2007-03-26.
  96. "Lecture 7: World-Wide English". EHistLing. अभिगमन तिथि 2007-03-26.
  97. Crystal, David (2002). Language Death. Cambridge University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0521012716. डीओआइ:10.2277/0521012716.
  98. Cheshire, Jenny (1991). English Around The World: Sociolinguistic Perspectives. Cambridge University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0521395658. डीओआइ:10.2277/0521395658.
  99. [18] ^ अंग्लिक अंग्रेजी भाषा संसाधन
  100. http://www.ccel.org/ccel/bede/history.vixiv.html
  101. भाषाविज्ञान अनुसंधान केंद्र टेक्सास विश्वविद्यालय
  102. [21] ^ पश्चिमी यूरोप पर जर्मेनिक आक्रमण, कैलगरी विश्वविद्यालय
  103. अंग्रेजी भाषा विशेषज्ञ
  104. अंग्रेजी का इतिहास, अध्याय 5 "पुराने से मध्यम अंग्रेजी तक"
  105. डेविड ग्रदोल, दिक् लीथ और जुआन स्वान, इंग्लिश: हिस्ट्री, डाईवर्सिटी एंड चेंज (न्यू यार्क: रूटलेज, 1996), 101.
  106. कर्टिस, एंडी. रंग, रेस और अंग्रेजी भाषा शिक्षण: अर्थ के रंग . 2006, पृष्ठ 192.
  107. [33] ^ एथ्नोलोगुए, 1999
  108. [https: / / www.cia.gov/library/publications/the-world-factbook/fields/2098.html सीआईए दुनिया Factbook], फील्ड लिस्टिंग - भाषाएँ (दुनिया).
  109. [35] ^ दुनिया की भाषाएँ (चार्ट), कामरी (1998), वेबर (1997), और ग्रीष्मकालीन संस्थान भाषाविज्ञान (एसआईएल) 1999 एथ्नोलोग सर्वेक्षण. दुनिया की सबसे व्यापक रूप से बोली जाने वाली भाषाओँ पर उपलब्ध
  110. "U.S. Census Bureau, Statistical Abstract of the United States: 2003, Section 1 Population" (pdf) (अंग्रेज़ी में). U.S. Census Bureau. पपृ॰ 59 pages.टैबिल 47 214809000 पंच साल या उससे ऊपर के उन लोगों का आंकडा देता है जो घर पर केवल अंग्रेजी बोलते हैं। अमेरिकी समुदाय के सर्वेक्षण पर आधारित, इन परिणामों में वे लोग शामिल नहीं हैं जो समूह में रहते हैं (जैसे की महाविद्यालय शयनगृह, संसथान और सामूहिक गृह) और परिभाषा के अर्न्तगत उन लोगों को भी छोड़ता है को घर पर एक से अधिक भाषा का प्रयोग करते हैं।
  111. [46] ^ अंग्रेजी भाषा का कैम्ब्रिज विश्वकोश, द्वितीय संस्करण, क्रिस्टल, डेविड, कैंब्रिज, ब्रिटेन: कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस, [1995] (2003/08/03).
  112. कनाडा, प्रांतों और क्षेत्रों-20% नमूना डेटा, जनगणना 2006 के लिए मातृभाषा और आयु समूहों, 2006 मायने, द्वारा जनसंख्या, सांख्यिकी कनाडॉ॰
  113. [48] ^ जनगणना डाटा ऑस्ट्रेलियाई सांख्यिकी ब्यूरो का घर पर बोली जाने वाली मुख्य भाषा. यह आंकड़ा घर पर केवल अंग्रेजी बोलने वालों की संख्या का है।
  114. [50] ^ जनगणना संक्षिप्त में, पृष्ठ 15 (टैबिल 2.5), 2001 की जनगणना, सांख्यिकी दक्षिण अफ्रीका की.
  115. [51] ^ बोली जाने वाली भाषाएँ, 2006 की जनगणना, सांख्यिकी न्यूजीलैंड की. स्थानीय भाषियों के लिए कोई आंकडे प्रदान नहीं किये गए हैं, लेकिन यह केवल अंग्रेजी बोलने वालों (3,008,058) और अंग्रेजी बोलने वालो की कुल संख्या (3,673,623) के बीच का कोई आंकडा होगा, यदि आप उन 197,187 लोगों को छोड़ दें जिन्होंने प्रयोज्य जवाब नहीं दिया है।
  116. [52] ^ 1355064,00.html उपमहाद्वीप अपनी आवाज बुलंद करता है, क्रिस्टल, डेविड, गार्जियन साप्ताहिक: शुक्रवार 19 नवम्बर 2004.
  117. [53] ^ येओंग झाओ; कीथ पी. कैम्पबेल (1995). "चीन में अंग्रेजी". दुनिया की अंग्रेजियाँ 14 (3): 377-390. हाँग काँग द्वारा 2.5 लाख अतिरिक्त वक्ताओं का योगदान दिया जाता है -(१९९६ जनगणना द्वारा).
  118. [54] ^ जनगणना भारत की भारतीय जनगणना, अंक 10, 2003, पीपी 8-10, (फ़ीचर: जनगणना और सर्वेक्षण में पश्चिम बंगाल की भाषाएँ, द्विभाषीय और त्रिभाषीय).
  119. [55] ^ त्रोफ़, हरबर्ट एस 2004. भारत और इसकी भाषाएँ. सीमंस एजी, म्यूनिख
  120. "अंग्रेजी का उपयोग करने वालों" और "अंग्रेजी बोलने वालों" के बीच का अंतर, देखें: TESOL- भारत (अन्य भाषा बोलने वालों के लिए अंग्रेजी के अध्यापक).

    Wikipedia's India estimate of 350 million includes two categories - "English Speakers" and "English Users". The distinction between the Speakers and Users is that Users only know how to read English words while Speakers know how to read English, understand spoken English as well as form their own sentences to converse in English. The distinction becomes clear when you consider the China numbers. China has over 200~350 million users that can read English words but, as anyone can see on the streets of China, only handful of million who are English speakers.

    उनका लेख विकिपीडिया के पूर्व के लेख में दी गयी संख्या 35 करोड़ और एक ज्यादा उचित संख्या 9 करोड़ के अंतर को स्पष्ट करता है।
  121. [58] ^ ऑस्ट्रेलियाई सांख्यिकी ब्यूरो
  122. Nancy Morris (1995), Puerto Rico: Culture, Politics, and Identity, Praeger/Greenwood, पृ॰ 62, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0275952282
  123. [61] ^ अमेरिका में बोली जाने वाली भाषाएँ , राष्ट्रीय वर्चुअल अनुवाद केन्द्र, 2006.
  124. [63] ^ अमेरिकी अंग्रेजी फाउंडेशन, राजभाषा रिसर्च  – ब्रिटेन.
  125. [64] ^ अमेरिकी अंग्रेजी,Inc
  126. [65] ^ [65] ^ इस्राइल में बहुभाषावाद, भाषा नीति अनुसंधान केंद्र
  127. अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन
  128. यूरोबैरोमीटर द्वारा 2006 सर्वेक्षण, यूरोपीय संघ की आधिकारिक भाषाओँ की वेबसाइट में
  129. यूरोपीय संघ
  130. [77] ^ पीटर त्रजिल, इंग्लैंड की बोलियाँ द्वितीय संस्करण, पृष्ठ 125, ब्लैकवेल, ऑक्सफोर्ड, 2002
  131. Cox, Felicity (2006). "Australian English Pronunciation into the 21st century" (PDF). Prospect. 21: 3–21. अभिगमन तिथि 2007-07-22.
  132. अंग्रेजी शब्दावली परिवर्तन की प्रक्रियाएं और ट्रिगर्स cf. अंग्रेजी और सामान्य ऐतिहासिक कोशकला(जोकिम ग्रेगा और मेरिओं शोनर द्वारा)
  133. It went on to clarify,

    Hence we exclude all words that had become obsolete by 1150 [the end of the Old English era] . . . Dialectal words and forms which occur since 1500 are not admitted, except when they continue the history of the word or sense once in general use, illustrate the history of a word, or have themselves a certain literary currency.

  134. [229] ^ किस्टर, केन. "शब्दकोष परिभाषित"लाइब्रेरी जर्नल, 6/15/92, Vol. 117 अंक 11, p43, 4p, 2bw
  135. पुरानी अंग्रेजी ऑनलाइन
  136. Finkenstaedt, Thomas; Dieter Wolff (1973). Ordered profusion; studies in dictionaries and the English lexicon. C. Winter. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 3-533-02253-6.
  137. [234] ^ जोसफ एम. विललाम्स, Amazon.com में अंग्रेजी भाषा के मूल
  138. [238] ^ अब्बोत्त, एम. (2000). शब्द वर्तनी के लिए विश्वसनीय समान्यीकरण की पहचान: बहुस्तर विश्लेषण का महत्व. प्राथमिक स्कूल जर्नल 101 (2), 233-245.
  139. [239] ^ मोअट्स, एल.एम्.((२००१).भाषण से मुद्रित करने के लिए: भाषा के शिक्षकों के लिए अनिवार्य. बाल्टीमोर, एमडी: पॉल एच. ब्रूक्स कंपनी.
  140. [240] ^ डियन ंक्ग़ुइन्नेस्स, क्यों हमारे बच्चे नहीं पढ़ सकते (न्यूयॉर्क: टचस्टोन, 1997) पीपी. 156-169
  141. [241] ^ जिएग्लेर, जे.सी. और गोस्वामी, यू (,2005.भाषाओँ की सीमा के परे पाठन अधिग्रहण, विकास डिसलेक्सिया और कुशल पाठनमनोवैज्ञानिक बुलेटिन, 131 (1), 3-29.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

) और रागी राज्य के प्रधान खाद्य में आते हैं और जोलड रोट्टी, सोरघम उत्तरी कर्नाटक के प्रधान खाद्य हैं। इनके अलावा तटीय क्षेत्रों एवं कोडगु में अपनी विशिष्ट खाद्य शैली होती है। बिसे बेले भात, जोलड रोट्टी, रागी बड़ा, उपमा, मसाला दोसा और मद्दूर वड़ा कर्नाटक के कुछ प्रसिद्ध खाद्य पदार्थ हैं। मिष्ठान्न में मैसूर पाक, बेलगावी कुंड, गोकक करदंतु और धारवाड़ पेड़ा मशहूर हैं।

धर्म[संपादित करें]

श्रवणबेलगोला में गोमतेश्वर (९८२-९८३) की एकाश्म-प्रतिमा, आज जैन धर्मावलंबियों के सर्वप्रिय तीर्थों में से एक है।

आदि शंकराचार्य ने शृंगेरी को भारत पर्यन्त चार पीठों में से दक्षिण पीठ हेतु चुना था। विशिष्ट अद्वैत के अग्रणी व्याख्याता रामानुजाचार्य ने मेलकोट में कई वर्ष व्यतीत किये थे। वे कर्नाटक में १०९८ में आये थे और यहां ११२२ तक वास किया। इन्होंने अपना प्रथम वास तोंडानूर में किया और फिर मेलकोट पहुंचे, जहां इन्होंने चेल्लुवनारायण मंदिर और एक सुव्यवस्थित मठ की स्थापना की। इन्हें होयसाल वंश के राजा विष्णुवर्धन का संरक्षण मिला था।[1] १२वीं शताब्दी में जातिवाद और अन्य सामाजिक कुप्रथाओं के विरोध स्वरूप उत्तरी कर्नाटक में वीरशैवधर्म का उदय हुआ। इन आन्दोलन में अग्रणी व्यक्तित्वों में बसव, अक्का महादेवी और अलाम प्रभु थे, जिन्होंने अनुभव मंडप की स्थापना की जहां शक्ति विशिष्टाद्वैत का उदय हुआ। यही आगे चलकर लिंगायत मत का आधार बना जिसके आज कई लाख अनुयायी हैं।[2] कर्नाटक के सांस्कृतिक और धार्मिक ढांचे में जैन साहित्य और दर्शन का भी महत्त्वपूर्ण योगदान रहा है।

इस्लाम का आरंभिक उदय भारत के पश्चिमी छोर पर १०वीं शताब्दी के लगभग हुआ था। इस धर्म को कर्नाटक में बहमनी साम्राज्य और बीजापुर सल्तनत का संरक्षण मिला।[3] कर्नाटक में ईसाई धर्म १६वीं शताब्दी में पुर्तगालियों और १५४५ में सेंट फ्रांसिस ज़ेवियर के आगमन के साथ फैला।[4] राज्य के गुलबर्ग और बनवासी आदि स्थानों में प्रथम सहस्राब्दी में बौद्ध धर्म की जड़े पनपीं। गुलबर्ग जिले में १९८६ में हुई अकस्मात खोज में मिले मौर्य काल के अवशेष और अभिलेखों से ज्ञात हुआ कि कृष्णा नदी की तराई क्षेत्र में बौद्ध धर्म के महायन और हिनायन मतों का खूब प्रचार हुआ था।

मैसूर मैसूर राज्य में नाड हब्बा (राज्योत्सव) के रूप में मनाया जाता है। यह मैसूर के प्रधान त्यौहारों में से एक है।[5] उगादि (कन्नड़ नव वर्ष), मकर संक्रांति, गणेश चतुर्थी, नाग पंचमी, बसव जयंती, दीपावली आदि कर्नाटक के प्रमुख त्यौहारों में से हैं।

भाषा[संपादित करें]

कन्नड़ भाषा में प्राचीनतम अभिलेख ४५० ई. के हल्मिडी शिलालेखों में मिलते हैं।

राज्य की आधिकारिक भाषा है कन्नड़, जो स्थानीय निवासियों में से ६५% लोगों द्वारा बोली जाती है।[6][7] कन्नड़ भाषा ने कर्नाटक राज्य की स्थापना में एक महत्त्वपूर्ण भूमिका निभायी है, जब १९५६ में राज्यों के सृजन हेतु भाषायी सांख्यिकी मुख्य मानदंड रहा था। राज्य की अन्य भाषाओं में कोंकणी एवं कोडव टक हैं, जिनका राज्य में लंबा इतिहास रहा है। यहां की मुस्लिम जनसंख्या द्वारा उर्दु भी बोली जाती है। अन्य भाषाओं से अपेक्षाकृत कम बोली जाने वाली भाषाओं में बेयरे भाषा व कुछ अन्य बोलियां जैसे संकेती भाषा आती हैं। कन्नड़ भाषा का प्राचीन एवं प्रचुर साहित्य है, जिसके विषयों में काफी भिन्नता है और जैन धर्म, वचन, हरिदास साहित्य एवं आधुनिक कन्नड़ साहित्य है। अशोक के समय की राजाज्ञाओं व अभिलेखों से ज्ञात होता है कि कन्नड़ लिपि एवं साहित्य पर बौद्ध साहित्य का भी प्रभाव रहा है। हल्मिडी शिलालेख ४५० ई. में मिले कन्नड़ भाषा के प्राचीनतम उपलब्ध अभिलेख हैं, जिनमें अच्छी लंबाई का लेखन मिलता है। प्राचीनतम उपलब्ध साहित्य में ८५० ई. के कविराजमार्ग के कार्य मिलते हैं। इस साहित्य से ये भी सिद्ध होता है कि कन्नड़ साहित्य में चट्टान, बेद्दंड एवं मेलवदु छंदों का प्रयोग आरंभिक शताब्दियों से होता आया है।[8]

राष्ट्रकवि कुवेंपु, २०वीं शताब्दी के कन्नड़ साहित्य के प्रतिष्ठित कवि

कुवेंपु, प्रसिद्ध कन्नड़ कवि एवं लेखक थे, जिन्होंने जय भारत जननीय तनुजते लिखा था, जिसे अब राज्य का गीत (एन्थम) घोषित किया गया है।[9] इन्हें प्रथम कर्नाटक रत्न सम्मान दिया गया था, जो कर्नाटक सरकार द्वारा दिया जाने वाला सर्वोच्च नागरिक सम्मान है। अन्य समकालीन कन्नड़ साहित्य भी भारतीय साहित्य के प्रांगण में अपना प्रतिष्ठित स्थान बनाये हुए है। सात कन्नड़ लेखकों को भारत का सर्वोच्च साहित्य सम्मान ज्ञानपीठ पुरस्कार मिल चुका है, जो किसी भी भारतीय भाषा के लिये सबसे बड़ा साहित्यिक सम्मान होता है।[10] टुलु भाषा मुख्यतः राज्य के तटीय जिलों उडुपी और दक्षिण कन्नड़ में बोली जाती है। टुलु महाभरतो, अरुणब्ज द्वारा इस भाषा में लिखा गया पुरातनतम उपलब्ध पाठ है।[11] टुलु लिपि के क्रमिक पतन के कारण टुलु भाषा अब कन्नड़ लिपि में ही लिखी जाती है, किन्तु कुछ शताब्दी पूर्व तक इस लिपि का प्रयोग होता रहा था। कोडव जाति के लोग, जो मुख्यतः कोडगु जिले के निवासी हैं, कोडव टक्क बोलते हैं। इस भाषा की दो क्षेत्रीय बोलियां मिलती हैं: उत्तरी मेन्डले टक्क और दक्षिणी किग्गाति टक।[12] कोंकणी मुख्यतः उत्तर कन्नड़ जिले में और उडुपी एवं दक्षिण कन्नड़ जिलों के कुछ समीपस्थ भागों में बोली जाती है। कोडव टक्क और कोंकणी, दोनों में ही कन्नड़ लिपि का प्रयोग किया जाता है। कई विद्यालयों में शिक्षा का माध्यम अंग्रेज़ी है और अधिकांश बहुराष्ट्रीय कंपनियों तथा प्रौद्योगिकी-संबंधित कंपनियों तथा बीपीओ में अंग्रेज़ी का प्रयोग ही होता है।

राज्य की सभी भाषाओं को सरकारी एवं अर्ध-सरकारी संस्थाओं का संरक्षण प्राप्त है। कन्नड़ साहित्य परिषत एवं कन्नड़ साहित्य अकादमी कन्नड़ भाषा के उत्थान हेतु एवं कन्नड़ कोंकणी साहित्य अकादमी कोंकणी साहित्य के लिये कार्यरत है।[13] टुलु साहित्य अकादमी एवं कोडव साहित्य अकादमी अपनी अपनी भाषाओं के विकास में कार्यशील हैं।

शिक्षा[संपादित करें]

भारतीय विज्ञान संस्थान, भारत का एक प्रतिष्ठित विज्ञान संस्थान, बंगलुरु में स्थित है

२००१ की जनसंख्या अनुसार, कर्नाटक की साक्षरता दर ६७.०४% है, जिसमें ७६.२९% पुरुष तथा ५७.४५% स्त्रियाँ हैं।[14] राज्य में भारत के कुछ प्रतिष्ठित शैक्षिक और अनुसंधान संस्थान भी स्थित हैं, जैसे भारतीय विज्ञान संस्थान, भारतीय प्रबंधन संस्थान, राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, कर्नाटक और भारतीय राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय

मार्च २००६ के अनुसार, कर्नाटक में ५४,५२९ प्राथमिक विद्यालय हैं, जिनमें २,५२,८७५ शिक्षक तथा ८४.९५ लाख विद्यार्थी हैं।[15] इसके अलावा ९४९८ माध्यमिक विद्यालय जिनमें ९२,२८७ शिक्षक तथा १३.८४ लाख विद्यार्थी हैं।[15] राज्य में तीन प्रकार के विद्यालय हैं, सरकारी, सरकारी सहायता प्राप्त निजी (सरकार द्वारा आर्थिक सहायता प्राप्त) एवं पूर्णतया निजी (कोई सरकारी सहायता नहीं)। अधिकांश विद्यालयों में शिक्षा का माध्यम कन्नड़ एवं अंग्रेज़ी है। विद्यालयों में पढ़ाया जाने वाला पाठ्यक्रम या तो सीबीएसई, आई.सी.एस.ई या कर्नाटक सरकार के शिक्षा विभाग के अधीनस्थ राज्य बोर्ड पाठ्यक्रम (एसएसएलसी) से निर्देशित होता है। कुछ विद्यालय ओपन स्कूल पाठ्यक्रम भी चलाते हैं। राज्य में बीजापुर में एक सैनिक स्कूल भी है।

विद्यालयों में अधिकतम उपस्थिति को बढ़ावा देने हेतु, कर्नाटक सरकार ने सरकारी एवं सहायता प्राप्त विद्यालयों में विद्यार्थियों हेतु निःशुल्क अपराह्न-भोजन योजना आरंभ की है।[16] राज्य बोर्ड परीक्षाएं माध्यमिक शिक्षा अवधि के अंत में आयोजित की जाती हैं, जिसमें उत्तीर्ण होने वाले छात्रों को द्विवर्षीय विश्वविद्यालय-पूर्व कोर्स में प्रवेश मिलता है। इसके बाद विद्यार्थी स्नातक पाठ्यक्रम के लिये अर्हक होते हैं।

राज्य में छः मुख्य विश्वविद्यालय हैं: बंगलुरु विश्वविद्यालय,गुलबर्ग विश्वविद्यालय, कर्नाटक विश्वविद्यालय, कुवेंपु विश्वविद्यालय, मंगलौर विश्वविद्यालय तथा मैसूर विश्वविद्यालय। इनके अलावा एक मानिव विश्वविद्यालय क्राइस्ट विश्वविद्यालय भी है। इन विश्वविद्यालयों से मान्यता प्राप्त ४८१ स्नातक महाविद्यालय हैं।[17] १९९८ में राज्य भर के अभियांत्रिकी महाविद्यालयों को नवगठित बेलगाम स्थित विश्वेश्वरैया प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत्त लाया गया, जबकि चिकित्सा महाविद्यालयों को राजीव गांधी स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय के अधिकारक्षेत्र में लाया गया था। इनमें से कुछ अच्छे महाविद्यालयों को मानित विश्वविद्यालय का दर्जा भी प्रदान किया गया था। राज्य में १२३ अभियांत्रिकी, ३५ चिकित्सा ४० दंतचिकित्सा महाविद्यालय हैं।[18] राज्य में वैदिक एवं संस्कृत शिक्षा हेतु उडुपी, शृंगेरी, गोकर्ण तथा मेलकोट प्रसिद्ध स्थान हैं। केन्द्र सरकार की ११वीं पंचवर्षीय योजना के अंतर्गत्त मुदेनहल्ली में एक भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान की स्थापना को स्वीकृति मिल चुकी है। ये राज्य का प्रथम आई.आई.टी संस्थान होगा।[19] इसके अतिरिक्त मेदेनहल्ली-कानिवेनारायणपुरा में विश्वेश्वरैया उन्नत प्रौद्योगिकी संस्थान का ६०० करोड़ रुपये की लागत से निर्माण प्रगति पर है।[20]

मीडिया[संपादित करें]

राज्य में समाचार पत्रों का इतिहास १८४३ से आरंभ होता है, जब बेसल मिशन के एक मिश्नरी, हर्मैन मोग्लिंग ने प्रथम कन्नड़ समाचार पत्र मंगलुरु समाचार का प्रकाशन आरंभ किया था। प्रथम कन्नड़ सामयिक, मैसुरु वृत्तांत प्रबोधिनी मैसूर में भाष्यम भाष्याचार्य ने निकाला था। भारतीय स्वतंत्रता उपरांत १९४८ में के। एन.गुरुस्वामी ने द प्रिंटर्स (मैसूर) प्रा.लि. की स्थापना की और वहीं से दो समाचार-पत्र डेक्कन हेराल्ड और प्रजावनी का प्रकाशन शुरु किया। आधुनिक युग के पत्रों में द टाइम्स ऑफ इण्डिया और विजय कर्नाटक क्रमशः सर्वाधिक प्रसारित अंग्रेज़ी और कन्नड़ दैनिक हैं।[21][22] दोनों ही भाषाओं में बड़ी संख्या में साप्ताहिक, पाक्षिक और मासिक पत्रिकाओं का प्रकाशन भी प्रगति पर है। राज्य से निकलने वाले कुछ प्रसिद्ध दैनिकों में उदयवाणि, कन्नड़प्रभा, संयुक्त कर्नाटक, वार्ता भारती, संजीवनी, होस दिगंत, एईसंजे और करावली आले आते हैं।

दूरदर्शन भारत सरकार द्वारा चलाया गया आधिकारिक सरकारी प्रसारणकर्त्ता है और इसके द्वारा प्रसारित कन्नड़ चैनल है डीडी चंदना। प्रमुख गैर-सरकारी सार्वजनिक कन्नड़ टीवी चैनलों में ईटीवी कन्नड़, ज़ीटीवी कन्नड़, उदय टीवी, यू२, टीवी९, एशियानेट सुवर्ण एवं कस्तूरी टीवी हैं।[23]

कर्नाटक का भारतीय रेडियो के इतिहास में एक विशिष्ट स्थान है। भारत का प्रथम निजी रेडियो स्टेशन आकाशवाणी १९३५ में प्रो॰एम॰वी॰ गोपालस्वामी द्वारा मैसूर में आरंभ किया गया था।[24] यह रेडियोस्टेशन काफी लोकप्रिय रहा और बाद में इसे स्थानीय नगरपालिका ने ले लिया था। १९५५ में इसे ऑल इण्डिया रेडियो द्वारा अधिग्रहण कर बंगलुरु ले जाया गया। इसके २ वर्षोपरांत ए.आई.आर ने इसका मूल नाम आकाशवाणी ही अपना लिया। इस चैनल पर प्रसारित होने वाले कुछ प्रसिद्ध कार्यक्रमों में निसर्ग संपदा और सास्य संजीवनी रहे हैं। इनमें गानों, नाटकों या कहानियों के माध्यम से विज्ञान की शिक्षा दी जाती थी। ये कार्यक्रम इतने लोकप्रिय बने कि इनका अनुवाद १८ भाषाओं में हुआ और प्रसारित किया गया। कर्नाटक सरकार ने इस पूरी शृंखला को ऑडियो कैसेटों में रिकॉर्ड कराकर राज्य भर के सैंकड़ों विद्यालयों में बंटवाया था।[24] राज्य में एफ एम प्रसारण रेडियो चैनलों में भी बढ़ोत्तरी हुई है। ये मुख्यतः बंगलुरु, मंगलौर और मैसूर में चलन में हैं।[25][26]

क्रीड़ा[संपादित करें]

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान, अनिल कुंबले अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में भारत के लिये सर्वाधिक विकेट लेने वाले खिलाड़ी

कर्नाटक का एक छोटा सा जिला कोडगु भारतीय हाकी टीम के लिये सर्वाधिक योगदान देता है। यहां से अनेक खिलाड़ियों ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर हॉकी में भारत का प्रतिनिधित्व किया है।[27] वार्षिक कोडव हॉकी उत्सव विश्व में सबसे बड़ा हॉकी टूर्नामेण्ट है।[28] बंगलुरु शहर में महिला टेनिस संघ (डब्लु.टी.ए का एक टेनिस ईवेन्ट भी हुआ है, तथा १९९७ में शहर भारत के चतुर्थ राष्ट्रीय खेल सम्मेलन का भी आतिथेय रहा है।[29] इसी शहर में भारत के सर्वोच्च क्रीड़ा संस्थान, भारतीय खेल प्राधिकरण तथा नाइके टेनिस अकादमी भी स्थित हैं। अन्य राज्यों की तुलना में तैराकी के भी उच्च आनक भी कर्नाटक में ही मिलते हैं।[30]

राज्य का एक लोकप्रिय खेल क्रिकेट है। राज्य की क्रिकेट टीम छः बार रणजी ट्रॉफी जीत चुकी है और जीत के आंकड़ों में मात्र मुंबई क्रिकेट टीम से पीछे रही है।[31] बंगलुरु स्थित चिन्नास्वामी स्टेडियम में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट मैचों का आयोजन होता रहता है। साथ ही ये २००० में आरंभ हुई राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी का भी केन्द्र रहा है, जहां अकादमी भविष्य के लिए अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों को तैयार करती है। राज्य क्रिकेट टीम के कई प्रसिद्ध क्रिकेट खिलाड़ी राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अग्रणी रहे हैं। १९९० के दशक में हुए एक अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट मैच में यहीं के खिलाड़ियों का बाहुल्य रहा था।[32][33] कर्नाटक प्रीमियर लीग राज्य का एक अंतर्क्षेत्रीय ट्वेन्टी-ट्वेन्टी क्रिकेट टूर्नामेंट है। रॉयल चैलेन्जर्स बैंगलौर भारतीय प्रीमियर लीग का एक फ़्रैंचाइज़ी है जो बंगलुरु में ही स्थित है।

राज्य के अंचलिक क्षेत्रों में खो खो, कबड्डी, चिन्नई डांडु तथा कंचे या गोली आदि खेल खूब खेले जाते हैं।

राज्य के उल्लेखनीय खिलाड़ियों में १९८० के ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन चैंपियनशिप विजेता प्रकाश पादुकोन का नाम सम्मान से लिया जाता है। इनके अलावा पंकज आडवाणी भी उल्लेखनीय हैं, जिन्होंने २० वर्ष की आयु से ही बैडमिंटन स्पर्धाएं आरंभ कर दी थीं तथा तथा क्यू स्पोर्ट्स के तीन उपाधियां धारण की हैं, जिनमें २००३ की विश्व स्नूकर चैंपियनशिप एवं २००५ की विश्व बिलियर्ड्स चैंपियनशिप आती हैं।[34][35]

राज्य में साइकिलिंग स्पर्धाएं भी जोरों पर रही हैं। बीजापुर जिले के क्षेत्र से राष्ट्रीय स्तर के अग्रणी सायक्लिस्ट हुए हैं। मलेशिया में आयोजित हुए पर्लिस ओपन ’९९ में प्रेमलता सुरेबान भारतीय प्रतिनिधियों में से एक थीं। जिले की साइक्लिंग प्रतिभा को देखते हुए उनके उत्थान हेतु राज्य सरकार ने जिले में भारतीय रुपये ₹ ४० लाख की लागत से यहां के बी.आर अंबेडकर स्टेडियम में सायक्लिंग ट्रैक बनवाया है।[36]

पर्यटन[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: कर्नाटक का स्थापत्य
केशव मंदिर, सोमनाथपुर

अपने विस्तृत भूगोल, प्राकृतिक सौन्दर्य एवं लम्बे इतिहास के कारण कर्नाटक राज्य बड़ी संख्या में पर्यटन आकर्षणों से परिपूर्ण है। राज्य में जहां एक ओर प्राचीन शिल्पकला से परिपूर्ण मंदिर हैं तो वहीं आधुनिक नगर भी हैं, जहां एक ओर नैसर्गिक पर्वतमालाएं हैं तो वहीं अनान्वेषित वन संपदा भी है और जहां व्यस्त व्यावसायिक कार्यकलापों में उलझे शहरी मार्ग हैं, वहीं दूसरी ओर लम्बे सुनहरे रेतीले एवं शांत सागरतट भी हैं। कर्नाटक राज्य को भारत के राज्यों में सबसे प्रचलित पर्यटन गंतव्यों की सूची में चौथा स्थान मिला है।[37] राज्य में उत्तर प्रदेश के बाद सबसे अधिक राष्ट्रीय संरक्षित उद्यान एवं वन हैं,[38] जिनके साथ ही यहां राज्य पुरातत्त्व एवं संग्रहालय निदेशलय द्वारा संरक्षित ७५२ स्मारक भी हैं। इनके अलावा अन्य २५,००० स्मारक भी संरक्षण प्राप्त करने की सूची में हैं।[39][40]

बीजापुर का गोल गुम्बज, बाईज़ैन्टाइन साम्राज्य के हैजिया सोफिया के बाद विश्व का दूसरा सबसे बड़ा गुम्बद है।

राज्य के मैसूर शहर में स्थित महाराजा पैलेस इतना आलीशान एवं खूबसूरत बना है, कि उसे सबसे विश्व के दस कुछ सुंदर महलों में गिना जाता है।[41][42] कर्नाटक के पश्चिमी घाट में आने वाले तथा दक्षिणी जिलों में प्रसिद्ध पारिस्थितिकी पर्यटन स्थल हैं जिनमें कुद्रेमुख, मडिकेरी तथा अगुम्बे आते हैं। राज्य में २५ वन्य जीवन अभयारण्य एवं ५ राष्ट्रीय उद्यान हैं। इनमें से कुछ प्रसिद्ध हैं: बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान, बनेरघाटा राष्ट्रीय उद्यान एवं नागरहोल राष्ट्रीय उद्यानहम्पी में विजयनगर साम्राज्य के अवशेष तथा पत्तदकल में प्राचीन पुरातात्त्विक अवशेष युनेस्को विश्व धरोहर चुने जा चुके हैं। इनके साथ ही बादामी के गुफा मंदिर तथा ऐहोल के पाषाण मंदिर बादामी चालुक्य स्थापात्य के अद्भुत नमूने हैं तथा प्रमुख पर्यटक आकर्षण बने हुए हैं। बेलूर तथा हैलेबिडु में होयसाल मंदिर क्लोरिटिक शीस्ट (एक प्रकार के सोपस्टोन) से बने हुए हैं एवं युनेस्को विश्व धरोहर स्थल बनने हेतु प्रस्तावित हैं।[43] यहाँ बने गोल गुम्बज तथा इब्राहिम रौज़ा दक्खन सल्तनत स्थापत्य शैली के अद्भुत उदाहरण हैं। श्रवणबेलगोला स्थित गोमतेश्वर की १७ मीटर ऊंची मूर्ति जो विश्व की सर्वोच्च एकाश्म प्रतिमा है, वार्षिक महामस्तकाभिषेक उत्सव में सहस्रों श्रद्धालु तीर्थायात्रियों का आकर्षण केन्द्र बनती है।[44]

मैसूर पैलेस, मैसूर का रात्रि दृश्य

कर्नाटक के जल प्रपात एवं कुद्रेमुख राष्ट्रीय उद्यान "विश्व के १००१ प्राकृतिक आश्चर्य" में गिने गये हैं।[45] जोग प्रपात को भारत के सबसे ऊंचे एकधारीय जल प्रपात के रूप में गोकक प्रपात, उन्चल्ली प्रपात, मगोड प्रपात, एब्बे प्रपात एवं शिवसमुद्रम प्रपात सहित अन्य प्रसिद्ध जल प्रपातों की सूची में शम्मिलित किया गया है।

यहां अनेक खूबसूरत सागरतट हैं, जिनमें मुरुदेश्वर, गोकर्ण एवं करवर सागरतट प्रमुख हैं। इनके साथ-साथ कर्नाटक धार्मिक महत्त्व के अनेक स्थलों का केन्द्र भी रहा है। यहां के प्रसिद्ध हिन्दू मंदिरों में उडुपी कृष्ण मंदिर, सिरसी का मरिकंबा मंदिर, धर्मस्थल का श्री मंजुनाथ मंदिर, कुक्के में श्री सुब्रह्मण्यम मंदिर तथा शृंगेरी स्थित शारदाम्बा मंदिर हैं जो देश भर से ढेरों श्रद्धालुओं को आकर्षित करते हैं। लिंगायत मत के अधिकांश पवित्र स्थल जैसे कुदालसंगम एवं बसवन्ना बागेवाड़ी राज्य के उत्तरी भागों में स्थित हैं। श्रवणबेलगोला, मुदबिद्री एवं कर्कला जैन धर्म के ऐतिहासिक स्मारक हैं। इस धर्म की जड़े राज्य में आरंभिक मध्यकाल से ही मजबूत बनी हुई हैं और इनका सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण केन्द्र है श्रवणबेलगोला

मैसूर शैली का एक तैल चित्र

हाल के कुछ वर्षों में कर्नाटक स्वास्थ्य रक्षा पर्यटन हेतु एक सक्रिय केन्द्र के रूप में भी उभरा है। राज्य में देश के सर्वाधिक स्वीकृत स्वास्थ्य प्रणालिययाँ और वैकल्पिक चिकित्सा उपलब्ध हैं। राज्य में आईएसओ प्रमाणित सरकारी चिकित्सालयों सहित, अंतर्राष्ट्रीय स्तर की चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने वाले निजी संस्थानों के मिले-जुले योगदान से वर्ष २००४-०५ में स्वास्थ्य-रक्षा उद्योग को ३०% की बढोत्तरी मिली है। राज्य के अस्पतालों में लगभग ८,००० स्वास्थ्य संबंधी सैलानी आते हैं।[46]

खुदाई : सन्नति•कनगनहल्ली
दुर्ग : गजेंद्रगढ़  • सौंदत्ती  • बेल्लारी  • पारसगढ़ दुर्ग  • कित्तूर  • चित्रदुर्ग  • बेलगाम  • बीदर  • गुलबर्ग  • बसवकल्याण  • कोप्पल

MysorePalacePano.jpg
स्मारक: मैसूर  • लक्कुंडी  • सुदी  • बादामि  • ऐहोल  • पत्तदकल  • हंगल  • हलसी  • बनवासी  • हैलेबिड  • बेलूर  • सोमनाथपुरा  • महादेव मंदिर, इतगी  • हूली  • सन्नति  • हम्पी  • ऐनेगुंडी  • मस्की  • गलगनाथ  • चौदैयादानापुर  • बीदरगुलबर्गबीजापुररायचूर

प्राचीन : लक्कुंडी  • सुदी  • बादामी  • ऐहोल  • मैसूर  • पत्तदकल • हंगल  • हलसी  • बनवासी  • हैलेबिड  • बेलूर  • महादेव मंदिर, इतगी  • हूली  • सन्नति  • हम्पी  • ऐनेगुंडी  • मस्की  • कोप्पल

इन्हें भी देखें[संपादित करें]


सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. कामत (२००१) पृ.१५०-१५२
  2. कामत (२००१), पृ. १५३-१५४
  3. शास्त्री (१९५५), पृ.३९६
  4. शास्त्री (१९५५), पृ.३९८
  5. "दशहरा फ़ेस्ट पैनल मीट्स थर्स्डे". द टाइम्स ऑफ इण्डिया, दि. २२ जुलाई २००३. टाइम्स इंटरनेट लि. अभिगमन तिथि १७ जुलाई २००७.
  6. "कर्नाटक लोकल अथॉरिटीज़ (ऑफीशियल लैंग्वेज) एक्ट, १९८१" (पी डी एफ़). कर्नाटक सरकार, आधिकारिक जालस्थल. कर्नाटक सरकार. अभिगमन तिथि २६ जुलाई २००७.
  7. "डिक्लेयरेशन ऑफ तेलुगु एण्ड कन्नड़ ऍज़ क्लासिकल लैंग्वेजेज़". प्रेस सूचना ब्यूरो. पर्यटन एवं संस्कृति विकास मंत्रालय, भारत सरकार. अभिगमन तिथि ३१ अक्टूबर २००८.
  8. नरसिंहाचार्य (१९८८), पृ. १२, १७
  9. "पोयम डिक्लेयर्ड स्टेट सॉन्ग". ऑनलाइन वेबपेज ऑफ द हिन्दू. द हिन्दू. अभिगमन तिथि १५ जुलाई २००७.
  10. एच एस व्यंकटेश, मूर्ति. "ग्लोबल थॉट्स इन द लोकल टंग". ऑनलाईन एडिशन, द हिन्दू: ३१ अक्टूबर २००२. अभिगमन तिथि १ नवम्बर २००७.
  11. रवि प्रसाद कामिल. "टुलु अकादमी येट टू रियलाइज़ इट्स गोल". द हिन्दू, ऑनलाईन वेबपेज: १३ नवम्बर २००४. द हिन्दू. अभिगमन तिथि ५ मई २००७.
  12. के एस राज्यश्री. "कोदव स्पीच कम्युनिटी: एन एथनोलिंग्विस्टिक स्टडी". लैंग्वेज इण्डिया.कॉम. एम एस तिरुमलै. अभिगमन तिथि ६ मई २००७.
  13. "कोंकण प्रभा रिलीज़्ड". डेक्कन हेरल्ड, १६ सितंबर २००५. २००५, द प्रिंटर्स (मैसूर) प्रा. लि. अभिगमन तिथि ६ मई २००७.
  14. "राज्य वार साक्षरता दर". राष्ट्रीय साक्षरता अभियान, भारत. अभिगमन तिथि १ नवम्बर २००७.
  15. "नंबर ऑफ स्कूल्स इन कर्नाटक ऐज़ ऑफ ३१ मार्च २००६" (पी डी एफ़). जन निर्देश विभाग. कर्नाटक सरकार. अभिगमन तिथि ६ जून २००७.
  16. "मिड डे मील स्कीम एक्स्टेण्डेड". द टाइम्स ऑफ इण्डिया, दि. १६ मई २००७. टाइम्स इंटरनेट लि. अभिगमन तिथि ६ जून २००७.
  17. "२००६-०७ के दौरान स्नातक छात्रों की जिलेवार एवं विश्वविद्यालयवार सांख्यिकी" (पी डी एफ़). कॉलिजियेट एड्युकेशन विभाग. कर्नाटक सरकार. अभिगमन तिथि ६ जून २००७.
  18. "सी.ई.टी ब्रोशर, २००७" (पी डी एफ़). द कॉमन एंट्रेंस टेस्ट सेल. कर्नाटक सरकार. अभिगमन तिथि ६ जून २००७.
  19. आई.टी ऍट मुद्दनहल्ली, डिक्कन हेरल्ड, १४ सितंबर २००९, चिकबल्लपुर
  20. ऍन इमर्जिंग एड्युकेशन हब, द हिन्दू, ७ सितंबर २००९, के वी सुब्रह्मण्यम
  21. शुमा राहा. "बैटलेग अराउण्ड बैंग्लौर". ऑनलाइन एडिशन, द टेलीग्राफ, १९ नवम्बर २००६. द टेलीग्राफ.
  22. "टाइम्सग्रुप एक्वायर्स विजयानंद प्रिंटर्स". द टाइम्स ऑफ इण्डिया, दिनांक १५ जून २००६ का ऑनलाइन संस्करण. टाइम्स इण्टरनेट लि.
  23. "कंसॉलिडेटेड लिस्ट ऑफ चैनल्स अलाउड टू बी कैरीड बाए केबल ऑपरेटर्स/मल्टीसिस्टम ऑपरेटर्स/डीटीएच लाइसेंसीज़ इन इण्डिया". भारत सरकार की सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के आधिकारिक जालस्थल का ओनलाइनवेबपेज. मूल से |archive-url= दिए जाने पर |archive-date= भी दी जानी चाहिए (मदद) को पुरालेखित.
  24. Named by Na. Kasturi, a popular Kannada writer Deepa Ganesh. "स्टिल अ हॉट फ़ेवरेट ऍट 50". द हिन्दू का ९ मार्च २००६ का ऑनलाइन संस्करण. चेन्नई, भारत: २००६, द हिन्दू.
  25. "रेडियो स्टेशंस इन कर्नाटक, इण्डिया". asiawaves.net पर. एलान जी. डेवीज़.
  26. "रेडियो हैज़ बिकम पॉपुलर अगेन". द हिन्दू का १२ जनवरी २००६ का ऑनलाईन संस्करण. चेन्नई, भारत: द हिन्दू.
  27. "अ फ़ील्ड डे इन कूर्ग". द हिन्दू. चेन्नई, भारत. Since Coorg (Kodagu) was the cradle of Indian hockey, with over 50 players from the region going on to represent the nation so far, seven of whom were Olympians...
  28. कृष्ण कुमार. "अ फ़ील्ड डे इन कूर्ग". चेन्नई: द हिन्दू. ...the festival assumed such monstrous proportions (one year, 350 families took part in the festival) that it found place in the Limca Book of Records. It was recognized as the largest hockey tournament in the world. This has been referred to the Guinness Book of World Records too.
  29. राव, रूपा. "कर्टेन्स डाउन ऑन फ़ोर्थ नेश्नल गेम्स". इंडियन एक्स्प्रेस.
  30. एस.सबनायकन. "सेटिंग न्यू स्टैण्डर्ड्स". द स्पोर्ट्स्टार खण्ड.८०:संख्या.०८, दिनांक २४ फ़र.२००७. द हिन्दू.
  31. "Ranji Trophy winners". Cricinfo.
  32. इस मैच में सुजीत सोमसुंदर, राहुल द्रविड़, जावागल श्रीनाथ, सुनील जोशी, अनिल कुंबले तथा व्यंकटेश प्रसाद आदि खिलाड़ी कर्नाटक से ही थे: "ओ.डी.आई.सं. ११२७, टाईटन कप – फ़र्स्ट मैच इण्डिया वर्सेज़ साउथ अफ़्रीका १९९६/९७ सीज़न". क्रिक इन्फ़ो.
  33. विजय भारद्वाज, राहुल द्रविड़, जवागल श्रीनाथ, सुनील जोशी, अनिल कुंबले एण्ड वेंकटेश प्रसाद, ऑल फ़्रॉम कर्नाटक प्लेय्ड दिस मैच:"टैस्ट सं:१४६२ न्यूज़ीलैंड इन इण्डिया टेस्ट शृंखला- प्रथम टेस्ट भारत बनाम न्यूज़ीलैण्ड १९९९/०० सीज़न". Cricinfo.
  34. "फ़ैकल्टी". टाटा प्रकाश पादुकोन बैडमिंटन अकादमी के ऑनलाइन जालपृष्ठ से. © २००७, टाटा प्रकाश पादुकोन बैडमिंटन अकादमी.
  35. "पंकज आडवाणी इज़ अ फ़ेनोमेनाँ:सावुर". चेन्नई, भारत: द हिन्दू. १२ जुलाई २००५.
  36. "मुखपृष्ठ समाचार: शुक्रवार, १६ जुलाई २०१०". चेन्नई: द हिन्दू. २६ मई २००९.
  37. "कर्नाटक टू टर्न ऑन टूरिज़्म चार्म्स". द हिन्दू बिज़्नेस लाइन का ऑनलाइन संस्करण, १५ फ़र.२००२. द हिन्दू बिज़्नेस लाइन.
  38. "एल्फ़ाबैटिकल लिस्ट ऑफ मॉन्युमेण्ट्स". संरक्षित स्मारक. भारतीय पुरातात्त्विक सर्वेक्षण विभाग.
  39. "प्लान टू कंज़र्व हैरिटेज मॉन्युमेण्ट्स, म्यूज़ियम्स". द हिन्दू. चेन्नई: द हिन्दू का ऑनलाइन संस्करण, ६ जनवरी २००७. ६ जन. २००७. |date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  40. आर कृष्ण कुमार (१७ अगस्त २००८). "मैसूर पैलेस बीट्स ताजमहल इन पॉपुलैरिटी". द हिन्दू का ऑनलाइन संस्करण, १७ अगस्त २००७. चेन्नई.
  41. [listphobia.com/2009/08/22/10-most-beautiful-palaces-of-the-world/ टेन मोस्ट ब्यूटिफ़ुल पैलेसेज़ ऑफ द वर्ल्ड]। लिस्टोफोबिया। अभिगमन तिथि: ५ फ़रवरी २०११
  42. [www.mostinterestingfacts.com/building/top-10-most-beautiful-palaces-in-the-world.html टॉप टेन मोस्ट ब्यूटिफुल पैलेसेज़ ऑफ द वर्ल्ड। मोस्ट इन्टरेस्टिंग फ़ैक्ट्स। अभि.तिथि:५ फ़रवरी २०११
  43. "Belur for World Heritage Status". द हिन्दू का ऑनलाइन संस्करण, दिनांक:२५ जुलाई २००४. चेन्नई: द हिन्दू.
  44. कीएय (२०००), पृ. ३२४
  45. माइकल ब्राइट, 1001 Natural Wonders of the World द्वारा:बैरन्स एड्युकेश्नल सीरीज़ इंका., प्रकाशक: क्विण्टेड इंका., २००५.
  46. "कर्नाटक बेट्स बिग ऑन हैल्थकेयर टूअरिज़्म". हिन्दू बिज़्नेसलाइन का ऑनलाइन जालस्थल, दिनांक २३ नवं, २००४. द हिन्दू, २००४.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]