भारत के प्रस्तावित राज्य तथा क्षेत्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
भारत के प्रस्तावित राज्य तथा क्षेत्र

भारत में नए राज्यों और क्षेत्रों के निर्माण का अधिकार पूरी तरह से भारत की संसद के लिए आरक्षित है। संसद नए राज्यों की घोषणा करके, किसी मौजूदा राज्य से एक क्षेत्र को अलग करके, या दो या दो से अधिक राज्यों या उसके हिस्सों में विलय करके ऐसा कर सकती है।[1] मौजूदा उनत्तीस राज्यों और सात केंद्र शासित प्रदेशों के अलावा समय के साथ भारत में कई नए राज्यों और क्षेत्रों को स्थापित करने का प्रस्ताव रखा जाता रहा है।

प्रस्तावित राज्य[संपादित करें]

  • राजस्थान

1. मत्स्य प्रदेश जिसमें पूर्वी राजस्थान समाहित होगा।


2. मरुधरा राज्य जिसमें पश्चिमी राजस्थान के क्षेत्र होंगे।

  • आसाम
    1. बोडोलैंड
      बोडोलैंड राज्य के लिए आसाम में एक लंबा संघर्ष चला था, जिसके बाद भारत सरकार, आसाम सरकार, तथा बोडो लिबरेशन टाइगर फ़ोर्स के मध्य एक समझौता किया गया। १० फरवरी २००३ को हुए इस समझौते के अनुसार आसाम सरकार के समकक्ष ही बोडोलैंड टेरिटोरियल कॉउंसिल का गठन आसाम के उन ४ जिलों को जोड़कर किया गया, जिनमें ३०८२ बोडो-बाहुल्य वाले ग्राम स्थित थे।[2][3] १३ मई २००३ को इस कॉउंसिल में मतदान हुआ, और ४ जून को हंगलम मोलिहारी को इस ४६ सदस्यीय कॉउंसिल का अध्यक्ष चुना गया।[4]
    2. कार्बी आंगलोंग
      कार्बी आंगलोंग आसाम के ३५ जिलों में से एक है। तब मिकिर हिल्स के नाम से विख्यात यह क्षेत्र ब्रिटिश काल में लगभग स्वायत्त था। कार्बी राज्य की पहली मांग सेमसोंगसिंग इंगति तथा खोरसिंग तरङ्ग ने मोहोंगडिजा में उठाई थी, जिन्होंने २८ अक्टूबर १९४० को तत्कालीन राज्यपाल को इस विषय मे ज्ञापन भी सौंपा था।[5] कार्बी समर्थक सभी नेता ६ जुलाई १९६० को गठित आल पार्टी हिल लीडर्स कांफ्रेंस के सदस्य बन गए थे।[6]

      १९८१ में कार्बी आंगलोंग जिला परिषद ने अलग राज्य की मांग के प्रस्ताव को पारित कर इस आंदोलन ने फिर से गति दे दी। इसके बाद १९८६ में स्वायत्त राज्य मांग समिति (एएसडीसी) के नेतृत्व में संविधान के अनुच्छेद २४४(ए) के तहत कार्बी आंगलोंग और दीमा हसाओ क्षेत्रों के लिए स्वायत्त राज्य की मांग की गई। २००२ में कार्बी आंगलोंग स्वायत्त परिषद ने राज्य की मांग के लिए एक और प्रस्ताव पारित किया। ३१ जुलाई २०१३ को बोडोलैंड तथा कार्बी आंगलोंग के लिए अलग राज्य की मांग अचानक हिंसक हो गई, और कई छात्र प्रदर्शनकारियों ने सरकारी भवनों को आग लगा दी।[7] इस घटना के बाद कार्बी आंगलोंग के निर्वाचित नेताओं ने संयुक्त रूप से भारत के प्रधानमंत्री को एक अलग राज्य मांगने के लिए एक ज्ञापन प्रस्तुत किया था।
  • बिहार
    1. भोजपुर
      बिहार के पश्चिमी, उत्तर प्रदेश के पूर्वी, छत्तीसगढ़ के उत्तरी, और झारखंड के भोजपुरी भाषी जिलों को मिलाकर समय समय पर भोजपुर राज्य की मांग की जाती रही है।[8][9][10]
    2. मिथिला
      मिथिला राज्य बिहार और झारखंड के मैथिली भाषी क्षेत्रों को मिलाकर बनाया जाना प्रस्तावित है। बिहार में २४, और झारखंड में ऐसे कुल ६ जिले हैं, जहां मैथिली मुख्य भाषा है। हालांकि राज्य की राजधानी पर अभी आमसहमति नहीं है, और यह दरभंगा, भागलपुर, पूर्णिया या बेगूसराय में हो सकती है।[11]
  • गुजरात
    1. भीलिस्तान
      भीलिस्तान राज्य के निर्माण की मांग लगभग ३० साल से भी अधिक पुरानी है।[12][13] एस एम माइकल की १९९९ की पुस्तक अनटचेबल दलित्स इन मॉडर्न इंडिया में इस विषय पर एक विस्तृत रिपोर्ट प्रकाशित हुई थी।[14] इसके बाद २०१२ में द टाइम्स ऑफ इंडिया की एक खबर में लिखा गया था कि भीलिस्तान राज्य की मांग धीरे धीरे भरुच के आस-पास के जनजातीय क्षेत्रों में पकड़ बनाती जा रही थी।[15] २०१३ की डीएनए की एक खबर के अनुसार तेलंगाना राज्य के गठन ने गुजरात के साथ साथ राजस्थान, मध्य प्रदेश तथा महाराष्ट्र के समीवर्ती क्षेत्रों के लोगों के मन में भी राज्य गठन की उम्मीद को पुनर्जीवित कर दिया है।[13]
    2. कच्छ
      कच्छ १९४७ से १९६० तक भारत का एक राज्य था, जिसका विस्तार वर्तमान गुजरात के कच्छ जिले तक था।[12][16] १९४७ में भारत के साथ कच्छ रियासत का एकीकरण ही इस शर्त पर हुआ था कि कच्छ अलग राज्य का दर्जा बनाए रखेगा। लेकिन बाद में इस क्षेत्र का राज्य पुनर्गठन अधिनियम के माध्यम से बॉम्बे राज्य में विलय कर दिया गया।[17] १ मई १९६० को महागुजरात आंदोलन के निष्कर्ष के तौर पर बॉम्बे राज्य के विभाजन के बाद यह क्षेत्र गुजरात का हिस्सा बन गया।

      १९६० में कच्छ को संविधान के अनुच्छेद ३७१ (२) के तहत एक स्वायत्त विकास बोर्ड बनाने का वादा किया गया था, जो राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी के कारण कभी अस्तित्व में नहीं आ सका। तब से कई लोग क्षेत्र के धीमे विकास का हवाला देते हुए कच्छ राज्य की वापसी की मांग करते रहे हैं।[18] अलग राज्य की मांग के पीछे मुख्य कारण गांधीनगर से सांस्कृतिक और भौगोलिक दूरी मानी जाती है। नर्मदा नदी के पानी का इस क्षेत्र के खेतों तक नहीं पहुंच पाना भी इसकी वजहों में एक है।
    3. सौराष्ट्र
      अलग सौराष्ट्र राज्य के लिए आंदोलन १९७२ में वकील रतिलाल तन्ना ने शुरू किया था, जो पूर्व प्रधान मंत्री मोरारजी देसाई के करीबी सहयोगी थे। सौराष्ट्र संकलन समिति के अनुसार सौराष्ट्र क्षेत्र में ३०० से अधिक ऐसे संगठन हैं, जो इस अलग राज्य की मांग का समर्थन करते हैं। समिति का यह भी दावा है कि गुजरात के अन्य हिस्सों की तुलना में सौराष्ट्र अविकसित है। क्षेत्र में बेहतर जल आपूर्ति की कमी, नौकरी के अवसरों की कमी और क्षेत्र से युवाओं के निरंतर प्रवासन को ही अलग राज्य की मांग के प्रमुख कारणों के रूप में उद्धृत किया जाता रहा है।[12][13][19] सौराष्ट्र गुजरात के बाकी हिस्सों से सौहार्दपूर्ण रूप से अलग है, क्योंकि यहां सौराष्ट्र बोली का प्रयोग किया जाता रहा है।[20]
  • कर्नाटक
    1. तुलुनाडु तथा कोडुगु का संयुक्त केंद्र शासित प्रदेश
      तुलुनाडु दक्षिणी भारत में कर्नाटक और केरल राज्यों की सीमा के बीच स्थित एक क्षेत्र है। इस क्षेत्र में अलग राज्य की मांग एक अलग संस्कृति, अलग भाषा (तुलु, जिसे आधिकारिक स्थिति प्राप्त नहीं है), और दोनों राज्य सरकारों द्वारा इस क्षेत्र की उपेक्षा पर आधारित है।[21][22] इन मांगों और आरोपों का मुकाबला करने के लिए कर्नाटक और केरल राज्य सरकारों ने तुलु संस्कृति को संरक्षित कर बढ़ावा देने के लिए तुलु साहित्य अकादमी का गठन किया है।[23] प्रस्तावित राज्य में तीन जिले होंगे; कर्नाटक से दक्षिणी कन्नड़ और उडुपी, और केरल का कासरगोड जिला। कर्नाटक के कोडुगु जिले को भी साथ मिलकर इस पूरे राज्य / संघ शासित प्रदेश को "तुलुनाडु और कोडुगु भूमि" के रूप में नामित किया जा सकता है।
  • जम्मू एवं काश्मीर
    1. जम्मू
      जम्मू भारतीय राज्य जम्मू-कश्मीर का हिस्सा है। यह भौगोलिक दृष्टि से कश्मीर घाटी और लद्दाख क्षेत्र से अलग है। जम्मू मण्डल मुख्यतः डोगरा लोगों का निवास क्षेत्र है, जो डोगरी भाषा बोलते हैं।
    2. काश्मीर
      प्रस्तावित काश्मीर राज्य में जम्मू-काश्मीर का काश्मीर घाटी क्षेत्र शामिल होगा। कई क्षेत्रीय कश्मीरी नेताओं ने जम्मू-काश्मीर राज्य के विभाजन को भारत में कश्मीर संघर्ष के एकमात्र समाधान के रूप में चिन्हित किया है। कश्मीरी लेखक और नेता गुलाम नबी खयाल ने लद्दाख को स्वतंत्र संघ शासित प्रदेश, और जम्मू क्षेत्र का पंजाब राज्य में विलय करने या अलग राज्य का दर्जा देने की बात कही है।[24]
    3. लद्दाख
      जम्मू-कश्मीर के पूर्वी हिस्से में स्थित लद्दाख के लोगों ने अपनी संस्कृति की रक्षा करने के लिए कई बार संघ शासित प्रदेश की स्थिति मांगी है। ये लोग मुख्य रूप से लद्दाखी बोलते हैं। लद्दाख स्वायत्त हिल विकास परिषद (एलएएचडीसी) को मूल रूप से १९९३ में लद्दाख को जम्मू-कश्मीर से अलग कर संघ शासित प्रदेश बनाने की लद्दाखी लोगों की मांग के लिए बनाया गया था। अक्टूबर २०१५ की शुरुआत में, लद्दाख स्वायत्त हिल विकास परिषद, लेह के चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी के चुनावी घोषणापत्र में इस क्षेत्र को संघ शासित प्रदेश की स्थिति के लिए एक वादा शामिल था।[25] भाजपा ने २४ सीटों में से १८ सीटों पर विजय प्राप्त की।[26]
  • मध्य प्रदेश
    1. बाघेलखण्ड, बुन्देलखण्ड तथा विन्ध्य प्रदेश
      विन्ध्य प्रदेश भारत का एक पूर्व राज्य है। राज्य की राजधानी रीवा थी। २३,६०३ वर्ग मील के क्षेत्रफल में फैले इस राज्य को १९४८ में भारत की स्वतन्त्रता के कुछ समय बाद ही केंद्रीय भारत एजेंसी के पूर्वी हिस्से की रियासतों को जोड़कर बनाया गया था।[27] इसका नाम विंध्य पर्वतमाला के नाम पर रखा गया था, जो प्रांत के केंद्र से गुजरता है। यह उत्तर प्रदेश के बीच उत्तर और मध्य प्रदेश के बीच दक्षिण में स्थित है, और दतिया के घेरे, जो पश्चिम की दूरी से थोड़ी दूरी पर स्थित है, मध्य भारत राज्य से घिरा हुआ था।

      राज्य पुनर्गठन अधिनियम, १९५६ के अंतर्गत इसका विलय मध्य प्रदेश में कर दिया गया था।[17] २००० में मध्यप्रदेश विधानसभा के पूर्व स्पीकर श्रीनिवास तिवारी ने मध्य प्रदेश के नौ जिलों से विन्ध्य प्रदेश का नया राज्य बनाने की मांग की थी, हालांकि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री ने इसे खारिज कर दिया था।[28] एकलौते विन्ध्य प्रदेश के बजाय पृथक बुन्देलखण्ड और बाघेलखण्ड राज्यों को भी पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश के कुछ जिलों को समायोजित कर बनाने की वकालत की जाती रही है।[29][30]
    2. गोंडवाना तथा महाकोशल
      महाकोशल क्षेत्र मध्य प्रदेश में नर्मदा नदी घाटी के ऊपरी या पूर्वी इलाकों में स्थित है। जबलपुर इस क्षेत्र का सबसे बड़ा शहर और प्रस्तावित राजधानी है। महाकोशल मुक्ति मोर्चा और भारतीय जनशक्ति जैसे संगठनों इस क्षेत्र के लिए अलग राज्य की मांग करते रहे हैं।[31][32] यह कहा जाता है कि महाकोशल क्षेत्र के खनिजों, जंगलों, जल और भूमि संसाधनों में समृद्ध होते हुए भी संबंधित उद्योगों को कभी यहाँ स्थापित नहीं किया गया।[32] साथ ही, जबलपुर शहर के कारण इस क्षेत्र की एक अलग सांस्कृतिक पहचान है, जिसे राज्य के संस्कृतधानी (सांस्कृतिक राजधानी) के रूप में जाना जाता है, और जो मध्य भारत के सबसे पुराने शहरों में से एक है। सांस्कृतिक और सामाजिक रूप से, महाकोशल क्षेत्र पड़ोसी विंध्य प्रदेश से काफी अलग है।[33]
      मध्यप्रदेश के उसी महाकोशल क्षेत्र से गोंडवाना राज्य के लिए समानांतर मांग इस तथ्य के कारण उत्पन्न हुई है, कि महाकोशल के विशाल क्षेत्रों पर एक समय गोंड राजाओं द्वारा शासन किया जाता था और आज भी मंडला, चिनद्वारा, डिंडोरी, सेनी और बालाघाट की आबादी मुख्य रूप से गोंड आदिवासी हैं। १९९१ में गोंडवाना गणतंत्र पार्टी (जीजीपी) की स्थापना एक अलग गोंडवाना राज्य के निर्माण के लिए संघर्ष करने के उद्देश्य से हुई थी, जिसमें गोंड द्वारा शासित क्षेत्र शामिल थे। गोंडवाना गणतंत्र पार्टी (जीजीपी) बाद में राष्ट्रीय गोंडवाना पार्टी और गोंडवाना मुक्ति दल जैसे कई गुटों में विभाजित हो गई।[33]
    3. मालवा
      इंदौर में प्रस्तावित राजधानी के साथ अलग मालवा राज्य के लिए कई बार मांगें उठी हैं। इस क्षेत्र में मध्य प्रदेश के अग्रर, देवास, धार, इंदौर, झाबुआ, मंदसौर, नीमच, राजगढ़, रतलाम, शाजापुर, उज्जैन और गुना जिले और सेहोर के कुछ हिस्सों, और साथ ही राजस्थान के झलवाड़, बंसवाड़ा और प्रतापगढ़ जिले शामिल हैं। मालवा की मुख्य भाषा मालवी है, हालांकि शहरों में हिंदी व्यापक रूप से बोली जाती है। २००१ के एक सर्वेक्षण में यहाँ चार बोली/भाषाएं मिलीं: उज्जैनी (उज्जैन, इंदौर, देवास और सीहोर जिलों में), राजवाड़ी (रतलाम, मंदसौर और नीमच), उम्मावरी (राजगढ़) और सोंधवारी (राजस्थान के झलवार में)। मालवा की लगभग ५५% आबादी राज्य की आधिकारिक भाषा हिंदी में साक्षर है।[34]
  • महाराष्ट्र
    1. खानदेश
      खानदेश मध्य भारत का एक क्षेत्र है, जो महाराष्ट्र राज्य के उत्तर-पश्चिमी हिस्से में पड़ता है।[35] खानदेश तापी नदी की घाटी में दक्कन पठार के उत्तर-पश्चिमी कोने पर स्थित है, और पूर्व में सतपुरा पर्वतमाला से, उत्तर में बिरार (विदर्भ) क्षेत्र से, दक्षिण में अजंता की पहाड़ियों से, और पश्चिम में पश्चिमी घाटों की उत्तरीतम सीमाओं से घिरा है। १९४७ में भारत की आजादी के बाद, यह बॉम्बे राज्य का हिस्सा बन गया, जिसे १९६० में महाराष्ट्र और गुजरात राज्यों में बांटा गया था। महाराष्ट्र राज्य के गठन के दौरान, बुरहानपुर मध्य प्रदेश राज्य का हिस्सा बन गया, और १९६० में ही, पूर्वी खानदेश को जलगांव, और पश्चिम खानदेश को धुले नाम दे दिया गया।
    2. कोंकण
      कोंकण भारत की पश्चिमी तट रेखा का एक ऊबड़-खाबड़ खंड है। इसमें महाराष्ट्र, गोवा और कर्नाटक के तटीय जिले शामिल हैं। प्राचीन सप्त-कोकण सह्याद्रीखंड में वर्णित एक छोटा सा क्षेत्र है जहाँ इसे "परशुरामक्षेत्र" के नाम से भी संदर्भित किया गया है। प्रस्तावित कोंकण राज्य में महाराष्ट्र के रत्नागिरी और सिंधुदुर्ग, गोवा के उत्तर और दक्षिण जिले और कर्नाटक में अघनाशीनी जिले शामिल हैं।[36]
    3. मराठवाड़ा
      मराठवाड़ा भारतीय राज्य महाराष्ट्र के पांच क्षेत्रों में से एक है। यह क्षेत्र महाराष्ट्र के औरंगाबाद मण्डल के सामान है। मराठवाड़ा हैदराबाद के निजाम के शासन में आता था, जो बाद में ब्रिटिश भारत के तहत हैदराबाद की रियासत बन गया। इसके बाद, १७ सितंबर १९४८ को ऑपरेशन पोलो के अंतर्गत हैदराबाद भारत में शामिल हुआ, जिसके बाद १ नवंबर १९५६ को मराठवाड़ा को हैदराबाद राज्य से बॉम्बे राज्य में स्थानांतरित कर दिया गया। १ मई १९६० को बॉम्बे राज्य महाराष्ट्र और गुजरात राज्यों में विभाजित हुआ, और मराठवाड़ा महाराष्ट्र का हिस्सा बन गया।
    4. विदर्भ
      विदर्भ पूर्वी महाराष्ट्र का एक क्षेत्र है, जिसमें अमरावती और नागपुर मण्डल शामिल हैं। १९५६ के राज्य पुनर्गठन अधिनियम ने विदर्भ को बॉम्बे राज्य में रखा। इसके तुरंत बाद, १९५८-५९ में राज्य पुनर्गठन आयोग ने नागपुर में राजधानी के साथ विदर्भ राज्य के निर्माण की सिफारिश की, लेकिन इसके बजाय १ मई १९६० को इसे महाराष्ट्र राज्य में शामिल किया गया। विदर्भ के अलग राज्य के लिए समर्थन लोकनायक बापूजी ऐनी और बृजलाल बियानी विदर्भ द्वारा व्यक्त किया गया था। अलग राज्य के निर्माण की मांग महाराष्ट्र राज्य सरकार द्वारा इस क्षेत्र की उपेक्षा के आरोपों पर आधारित है। जंबुंतराव ढोटे ने ७० के दशक में विदर्भ राज्य के लिए एक लोकप्रिय संघर्ष का नेतृत्व किया। दो राजनेता, एन के पी साल्वे और वसंत साठे ने हाल के दिनों में विदर्भ राज्य निर्माण के लिए प्रयासरत हैं।
  • एनसीआर (राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र)
    राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली, मेरठ, बागपत, मुजफ्फरनगर, गुड़गांव, सोनीपत, फरीदाबाद, गाजियाबाद, नोएडा और ग्रेटर नोएडा से मिलकर बना है, और इसकी जनसंख्या लगभग २२ मिलियन है।[37][38] दिल्ली का राजनीतिक प्रशासन किसी केंद्रीय शासित प्रदेश की तुलना में राज्य के अधिक समान है, क्योंकि दिल्ली की अपनी विधायिका, उच्च न्यायालय और मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में मंत्रियों की कार्यकारी परिषद होती है। नई दिल्ली संयुक्त रूप से केंद्र सरकार और दिल्ली की स्थानीय सरकार द्वारा प्रशासित है। पिछली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार ने २००३ में संसद में एक बिल पेश किया, ताकि दिल्ली को पूरा राज्य दिया जा सके, लेकिन यह कानून पारित नहीं हुआ था।[39]
  • मणिपुर
    1. कूकीलैंड
      ब्रिटिश औपनिवेशिक काल के दौरान कुकी हिल्स एक स्वतंत्र पहाड़ी देश था। बाद में इसका मणिपुर में विलय कर दिया गया। कुकी राज्य मांग समिति के नेतृत्व में[40] कुकी लोग मणिपुर के कुकी इलाकों के लिए अलग कुकीलैंड नामक राज्य की मांग करते रहे हैं।[41]
  • उड़ीसा
    1. कोशल
      कोशल क्षेत्र पश्चिमी उड़ीसा राज्य में १९°३७'-२३° डिग्री अक्षांश और ८२°२८'-८५°२२' के देशान्तरों के बीच स्थित है। सुंदरगढ़, झारसुगुडा, देबागढ़, संबलपुर, बरगढ़, सोनपुर, बौद्ध, बोलंगिर, नुपादा, कालाहांडी, नबरंगपुर, अंगुल जिले के आदममलिक उप-विभाजन और रायगढ़ जिले का काशीपुर ब्लॉक इसका हिस्सा हैं। यह उत्तर में झारखंड राज्य से, पूर्व में केंजर, अंगुल और कंधमाल से; दक्षिण में रायगढ़, कोरापुट और पश्चिम में छत्तीसगढ़ राज्य द्वारा घिरा हुआ है। यह भौगोलिक क्षेत्र पश्चिमी उड़ीसा विकास परिषद के अंतर्गत आता है।
  • तमिलनाडु
    1. कोंगु नाडु
  • उत्तर प्रदेश
    1. अवध
    2. ब्रज/हरित प्रदेश/पश्चिमांचल
    3. बुन्देलखण्ड
    4. पूर्वांचल
  • पश्चिम बंगाल
    1. गोरखालैंड
    2. कामतापुर

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Articles 2 and 3 of the Constitution of India" (PDF). Government of India. मूल से 24 जनवरी 2013 को पुरालेखित (PDF). अभिगमन तिथि 23 May 2013.
  2. "The Hindu : Assam: accord and discord". Hinduonnet.com. मूल से 5 सितंबर 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2012-03-04.
  3. "Memorandum of Settlement on Bodoland Territorial Council (BTC)". Satp.org. 10 February 2003. मूल से 8 नवंबर 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2012-03-04.
  4. "Mahillary sworn in Bodoland council chief". The Hindu. Chennai, India. 4 June 2005. मूल से 8 फ़रवरी 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 मई 2018.
  5. Dharamsing Teron, "Opium Curse – A Forgotten Chapter", unpublished.
  6. J. I. Kathar (IAS Retd), "1971 Aningkan Kilik Kehai Un:e....", Thekar (5 February 2013); available from http://thekararnivang.com/2013/02/05/1971-aningkan-kilik-kehai-un-e-karbi-asongja-atum-karbi-atum-aphan-autonomous-state-kapelong-aphurkimo-2/ Archived 16 मई 2018 at the वेबैक मशीन.
  7. कार्बी आंगलोंग, बोडोलैंड की मांग पर सुलगा असम, 2 मरे Archived 16 मई 2018 at the वेबैक मशीन. आज तक
  8. "Bhojpuri-speaking people demand separate state – Latest News & Updates at Daily News & Analysis". 6 November 2006. मूल से 24 सितंबर 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 September 2016.
  9. http://newsviews.satya-weblog.com/2013/08/seperate-mithila-state-demand-from.html
  10. "Demand for creation of ten new states – Indian Express". मूल से 5 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 September 2016.
  11. "Small States Syndrome in India". पृ॰ 146. अभिगमन तिथि 16 February 2017.
  12. "Now, Gujarat revives Statehood demand". मूल से 3 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 September 2016.
  13. "Clamour for separate Saurashtra, Bhilistan to get louder". 1 August 2013. मूल से 25 सितंबर 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 September 2016.
  14. Michael, S. M. (1 January 1999). "Untouchable: Dalits in Modern India". Lynne Rienner Publishers. अभिगमन तिथि 3 September 2016 – वाया Google Books.
  15. "'White House' to be centre of Bhilistan movement!". मूल से 27 नवंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 September 2016.
  16. Lakhani, Abdul Hafiz. "Telangana heat catches Gujarat". मूल से 4 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 September 2016.
  17. "States Reorganisation Act, 1956". India Code Updated Acts. Ministry of Law and Justice, Government of India. 31 August 1956. पपृ॰ section 9. मूल से 27 सितंबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 May 2013.
  18. "Demand for separate Kutch state picks pace in poll run-up". मूल से 12 अक्तूबर 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 September 2016.
  19. "Call to revive movement for separate Saurashtra state". मूल से 5 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 September 2016.
  20. "संग्रहीत प्रति". मूल से 2 नवंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 मई 2018.
  21. "Tulu Nadu movement gaining momentum". The Hindu. Mangalore, India. 13 August 2006. मूल से 2 मार्च 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 May 2013.
  22. "Samithi seeks separate Tulu state". Deccan Herald. Mangalore, India. 21 October 2006. मूल से 4 March 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 May 2013.
  23. "Tulu academy urged to publish Machendranath's selected dramas". The Hindu. Mangalore, India. 13 April 2003. मूल से 19 अप्रैल 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 May 2013.
  24. "Trifurcation Of J&K Is The Only Realistic Solution To The Kashmir Problem". मूल से 30 अक्तूबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 September 2016.
  25. "संग्रहीत प्रति". मूल से 16 मई 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 मई 2018.
  26. "Will Kashmiryat unite regional parties?". मूल से 3 फ़रवरी 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 September 2016.
  27. Bhattacharyya, P. K. (1977). Historical Geography of Madhya Pradesh from Early Records. Delhi: Motilal Banarsidass. पपृ॰ 54–5. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0 8426 909 13. मूल से 28 अप्रैल 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 मई 2018.
  28. "No more division of State: Digvijay". The Hindu. 10 September 2000. अभिगमन तिथि 16 May 2013.
  29. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; daily.bhaskar.com नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  30. Mishra, Chakresh (9 December 2011). "Bundelkhand or vindhya pradesh: proposed state". मूल से 11 अक्तूबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 September 2016.
  31. "महाकौशल राज्य बनने पर ही खत्म होगी लड़ाई, तन्खा से मिले ममुमो के कार्यकर्ता". 8 October 2014. मूल से 14 सितंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 September 2016.
  32. "Prahlad Patel demands separate state in Mahakaushal". 24 October 2008. मूल से 14 सितंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 September 2016.
  33. "संग्रहीत प्रति". मूल से 1 अप्रैल 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 मई 2018.
  34. "Malvi". मूल से 5 अक्तूबर 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 September 2016.
  35. "Welcome to Khandesh!". Khandesh.com. मूल से 17 अगस्त 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2010-08-01.
  36. "Konkani State – Vishal Gomantak – Facebook". अभिगमन तिथि 3 September 2016.
  37. "Urban agglomerations/cities having population 1 million and above" (PDF). Provisional population totals, census of India 2011. Registrar General & Census Commissioner, India. 2011. मूल (PDF) से 15 दिसंबर 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 23 May 2013.
  38. "World Urbanization Prospects: The 2009 Revision Population Database". United Nations. 2012. मूल से 10 जुलाई 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 23 May 2013.
  39. "Bill on statehood for Delhi cleared". The Hindu. 12 August 2003. मूल से 29 जुलाई 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 23 May 2013.
  40. "KSDC announces 'Quit Kuki Land' protest in Manipur from 24 January – RK Suresh – Tehelka – Investigations, Latest News, Politics, Analysis, Blogs, Culture, Photos, Videos, Podcasts". मूल से 23 दिसंबर 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 September 2016.
  41. "संग्रहीत प्रति". मूल से 25 जनवरी 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 मई 2018.