विप्रो

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
विप्रो लिमिटेड
प्रकार Public
(BSE: 507685, NYSEWIT)
उद्मोग आईटी सेवा प्रबंधन
सूचना प्रौद्योगिकी सेवा
स्थापना 1945
संस्थापक अज़ीम प्रेमजी
मुख्यालय बेंगलूर, कर्नाटक, भारत
प्रमुख व्यक्ति अज़ीम प्रेमजी (चेयरमैन)
टीके कुरिएन (सीईओ)
सेवाएँ Application Development and Maintenance
BPO
Product Engineering Solutions
Technology Infrastructure Services
Consulting
राजस्व Green Arrow Up Darker.svg $6.03 billion (2010)[1]
प्रचालन आय Green Arrow Up Darker.svg $1.144 billion (2010)[1]
लाभ Green Arrow Up Darker.svg $1.02 billion (2010)[1]
कुल संपत्ति Green Arrow Up Darker.svg $7.498 billion (2010)[1]
कुल इक्विटी Green Arrow Up Darker.svg $4.373 billion (2010)[1]
कर्मचारी 119,491 (December 2010)[2]
वेबसाइट विप्रो.कॉम

विप्रो लिमिटेड, भारत की तीसरी सबसे बड़ी आईटी कंपनी है, जिसका मुख्यालय बेंगलूर में है। इसकी स्थापना १९६६ में एक व्यवसायी के पुत्र अज़ीम प्रेमजी ने किया था। आज इसकी आय कोई 350 अरब रुपये प्रतिवर्ष है और मुनाफ़ा कोई 70 अरब रुपये। यह सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र की सेवा कंपनी है।

१९७७ में जनता सरकार के समय विदेशी कंपनियों (जैसे IBM) के भारत छोड़ने के आदेश के बाद इसके व्यवसाय में असरदार इजाफ़ा हुआ था। आज यह एक बहु व्यवसाय तथा बहु स्थान कंपनी के रूप में उभरी है। इसका व्यसाय उपभोक्ता उत्पादों, अधोसरंचना यांत्रिकी से विशिष्ट सूचना प्रौद्योगिकी उत्पादों और सेवाओं तक विस्तारीत है। कंपनी की आंतरिक कार्यप्रणाली अन्य सॉफ्टवेर कंपनियों के मुकाबले अधिक सख़्त है।

मूल[संपादित करें]

वास्तव में इसकी जड़ें, एक puranI mil में अजीम प्रेमजी के पिता द्वारा स्थापीत एक छोटी सी वनस्पति तेल कंपनी के रूप में १९४७ से फैलना प्रारंभ हुई। उनके आकस्मिक निधन के बाद १९६६ में, स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय, अमरीका से इलेक्ट्रिकल इंजीनीय्रींग की उपाधि प्राप्त अजीम ने २१ वर्ष की आयु में नेतृत्व का बीडा उठाया। उन्होंने इसे पुनर्व्यवस्थित किया और १९६६ में (वेस्टर्न इंडिया वेजिटेबल प्रोडक्ट्स लिमिटेड) विप्रो लि को एक फास्ट मूविंग कंस्यूमर गुड्स (एफएमसीजी) कंपनी के रूप में स्थापित किया जो उस समय २ करोड़ डॉलर की एक हय्द्रोजिओनेतेद रसोई तेल/वसा, धुलाई के साबुन, मोम और टीन कंटेनर की कंपनी थी और बाद में १९७५ में हाय्द्रौलीक तथा नुमेटीक सिलेंडरों के निर्माण के लिए विप्रो फ्लुईड पॉवर की स्थापना की। जिस समय विप्रो अच्छा पैसा बना रही थी, उस समय भी प्रेमजी निरंतर नए अवसरों की तलाश में थे।

१९७७ में, भारत की समाजवादी सरकार ने आई बी एम को देश छोड़ने के लिए कहा. प्रेमजी ने कंप्यूटर हार्डवेयर की राह अपनाने का फैसला किया। १९७९ में, उन्होंने अपने स्वयम के कंप्यूटर का विकास शुरू किया और १९८१ में, तैयार मशीन की बिक्री --उत्पादों की श्रेणी का पहला उत्पाद, जिसने दो दशकों के लिए विप्रो को भारत का सबसे बड़ा कंप्यूटर निर्माता बना दिया। कंपनी ने संयुक्त राज्य अमेरिका में सेंटीनेल कंप्यूटर से प्रोद्योगिकी अनुज्ञप्ति प्राप्त की और भारत के पहले मिनी कंप्यूटर का उत्पादन प्रारम्भ कर दिया। प्रेमजी ने ऐसे प्रबंधकों को नियोजित किया जो कंप्यूटर साक्षर और व्यावसायिक अनुभवों से लेस थे। उन्होंने तकनीक को तेजी से सीखा और हार्डवेयर को एक अत्यधिक मुनाफे का उद्यम बना दिया। कुछ ही समय में विप्रो के इंजीनियरो ने सॉफ्टवेयर पैकेज विकसित करना प्रारम्भ कर दिया जो उस समय हार्डवेयर ग्राहकों को आसानी से उपलब्ध नहीं थे। १९८० में इसने आईटी कारोबार को विविधतापूर्ण बना दिया और इसके बाद भारत की पहली ८०८६ चिप को आविष्कृत किया। १९९२ में एक प्रकाश व्यापार स्थापित हुआ और २००० तक विप्रो लिमिटेड एडीआर न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज (New York Stock Exchange) में सूचीबद्ध हो गई।

हाल ही में, विप्रो ने अपने उद्यम अनुप्रयोगों के व्यवसाय की स्थापना पर जोर दिया है। विप्रो ने स्वीकार किया कि दुनिया भर के वैश्विक दिग्गज, जिन्होंने ओरेकल और एसऐपी जैसे मंहगे पैकेज इंस्टाल किए थे, अपने निवेश से और अधिक प्राप्त करना चाहते थे। आम तौर पर अमेरिकी परामर्शी फर्म्स इसके लिए १२५ -१३० डॉलर प्रति घंटा लेती थी जबकि भारतीय कंपनियां ऐसा ७५ -१०० डॉलर प्रति घंटा में कर देती थी। यह विप्रो लिमिटेड की वैश्विक आईटी सेवा भुजा है (१९४५ से प्रचलित, १९४६ में स्थापित) इसका मुख्यालय बंगलूर में है और यह भारत में तीसरी सबसे बड़ी आईटी सेवा कंपनी है। इसके द्वारा २००२[3] में अधिग्रहित इसकी बिजनेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग (business process outsourcing) (बीपीओ) भुजा को मिला कर ३० जून २००८ को इसमे ९५,६७५ से अधिक कर्मचारी थे।

व्यवसाय[संपादित करें]

५ अरब डॉलर से अधिक के राजस्व के साथ विप्रो भारत की प्रमुख आईटी कंपनियों में से एक है (३०० अरब रूपये)। सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग संस्थान कार्नेगी मेलन यूनिवर्सिटी सर्टिफिकेशन प्रोसेस के अंतर्गत विप्रो टेक्नोलॉजीज का पीपल केपेबिलिटी मेचुरिटी मॉडल (PCMM) के 5 वें स्तर पर आंकलित किया गया है और यह प्रमाण पत्र प्राप्त करने वाली यह विश्व की पहली कंपनी है। विप्रो वैश्विक बाजार में कार्यरत एस ई आई सी एम् एम् की 5 वें स्तर की पहली प्रमाणित आईटी सेवा कंपनी है। विप्रो कर्मचारी स्टॉक विकल्प योजना (WESOP) कर्मचारियों को कंपनी की सफलता में हिस्सा लेने की अनुमति देती है। भारत भर में इसके समर्पित विकास केन्द्र और कार्यालय हैं, (बंगलोर में मुख्यालय है तथा कंपनी मुंबई, पुणे, चेन्नई, हैदराबाद तथा गुडगाँव में कार्य कर रही है।) यूरोप, (रोमानिया), मिस्र, उत्तर अमेरिका, लैटिन अमेरिका और एशिया पेसिफिक .वर्तमान अध्यक्ष (Chairman), प्रबंध निदेशक (Managing Director) तथा अधिकांश अंशधारिता स्वामी अजीम प्रेमजी (Azim Premji) हैं, जो विप्रो की स्थापना के समय से ही सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर प्रभागों के प्रमुख हैं।

विप्रो के उत्पाद डिजाइन विकास कार्य के उदाहरण में शामिल हैं- १९९८ में जापान की एक दूरसंचार कंपनी के लिए इंटरनेट ब्राउज़िंग फ़ोन, चिप निर्माता टेक्सास इंस्ट्रूमेंट को डिजिटल सिग्नल प्रोसेसिंग सॉफ़्टवेयर के उत्पादन में सहायता, तथा इटली के एक निर्माता मग्नेट मरेल्ली को एक ऑटो मोटिव डिसप्ले यूनिट के निर्माण में सहायता जिसमे सेल फोन की क्षमता, वैश्विक प्रणाली स्तर की सिस्टम प्रौद्योगिकी, एक नेविगेशन प्रणाली तथा एक सीडी प्लेयर के सयुंक्त कार्य सम्मिलित है।

आईटी सेवा के ग्राहक[संपादित करें]

फॉर्चून 500 कि 50 कंपनियों सहित, विप्रो के अमेरिका, यूरोप और जापान में 300 से अधिक ग्राहक हैं। इसके कुछ ग्राहक हैं नोर्टेल, बोईंग, बीपी, सिस्को, इरिक्सन, आईबीएम्, माइक्रोसॉफ्ट, प्रूडेंशियल, सीगेट, सोनी, एचपी, विंडड्राईवर , एयरबस, तोशिबा, विंडस्ट्रीम कम्युनिकेशन और वाल-मार्ट। मध्य पूर्व में इसके कुछ ग्राहकों में स्टेट कम्पनी शरजाह इलेक्ट्रिसिटी और वाटर अथॉरिटी, मेटल, दुबई ई-गवर्नमेंट, क़तर पेट्रोलियम, बहरीनी साउदी बैंक, फ्यूचर कम्युनिकेशन कंपनी, कुवैत, दोहा बैंक, पेट्रो रबिहा, SASREF और साउदी पोलियोलेफिंस कंपनी भी शामिल है। यह न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध है और टीएमटी (टेक्नोलॉजी मीडिया टेलिकॉम) का एक भाग है।

विप्रो लिमिटेड (पश्चिमी भारत पाम परिशोधित तेल लिमिटेड [3] या हाल ही में, पश्चिमी भारत उत्पाद लिमिटेड [4]) एक भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी सेवा निगम है जिसका मुख्यालय बेंगलुरु, भारत में है। [5]

2013 में, विप्रो ने अपने गैर-आईटी व्यवसायों को स्वतंत्र व्यवसायों पर और अधिक ध्यान देने के लिए अलग-अलग कंपनियों में विसर्जित किया। [6]

इतिहास

प्रारंभिक प्रारंभिक वर्ष

कंपनी को 29 दिसंबर 1 9 45 को अमलनेर, महाराष्ट्र में मोहम्मद प्रेमजी द्वारा 'वेस्टर्न इंडिया सब्ज़ी प्रोडक्ट्स लिमिटेड' के रूप में शामिल किया गया था, जिसे बाद में 'विप्रो' के रूप में संक्षिप्त किया गया था। यह शुरू में किसान, सूरजमुखी और ऊंट के व्यापार नामों के तहत भारत के अमलानेर, भारत में वनस्पति और परिष्कृत तेलों के निर्माता के रूप में स्थापित किया गया था। [4] [7] [8]

1 9 66 में, मोहम्मद प्रेमजी की मृत्यु के बाद, उनके बेटे अजीम प्रेमजी ने स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से घर लौट कर 21 वर्ष की उम्र में विप्रो को अपने अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया। [9] [10]

1 9 70 और 1 9 80 के दशक के दौरान, कंपनी ने आईटी और कंप्यूटिंग उद्योग में नए व्यापार के अवसरों पर अपना ध्यान केंद्रित किया, जो उस वक्त भारत में एक नए स्तर पर था। 7 जून 1 9 77 को, कंपनी का नाम वेस्टर्न इंडिया सब्जी प्रोडक्ट्स लिमिटेड से विप्रो प्रॉडक्ट्स लिमिटेड को बदल गया। [7]

वर्ष 1 9 80 में आईटी डोमेन में विप्रो के आगमन का उल्लेख किया गया था। 1 9 82 में, विप्रो प्रोडक्ट्स लिमिटेड से नाम विप्रो लिमिटेड को बदल दिया गया था। [11] इस बीच, विप्रो उपभोक्ता उत्पादों के क्षेत्र में "तुषु" के एक परिवार के साबुन और "विप्रो जैस्मीन", एक टॉयलेट साबुन "रलाक" के प्रक्षेपण के साथ-साथ विस्तार करना जारी रखता है। 1 9 88 में प्रेमजी ने सोनाकार और संस से 10 मिलियन डॉलर के ऋण को परियोजना की स्थापना के लिए लिया। बाद में पूरे ऋण की राशि को छूट मिली। [7]

1966-1992

1 9 88 में, विप्रो ने अपने उत्पाद लाइन को भारी शुल्क औद्योगिक सिलेंडर और मोबाइल हाइड्रोलिक सिलेंडर में बदल दिया। [7] विप्रो जीई मेडिकल सिस्टम्स प्राइवेट के नाम पर संयुक्त राज्य अमेरिका के जनरल इलेक्ट्रिक के साथ एक संयुक्त उद्यम कंपनी लिमिटेड की स्थापना 1 9 8 9 में नैदानिक ​​और इमेजिंग उत्पादों की निर्माण, बिक्री और सेवा के लिए की गई थी। [12] बाद में, 1 99 1 में, सिस्टम टिटिंग और ईटन हाइड्रोलिक उत्पादों को लॉन्च किया गया। विप्रो फ्लड पावर डिवीजन, 1992 में, निर्माण उपकरण और ट्रक टिपिंग सिस्टम के लिए मानक हाइड्रोलिक सिलेंडरों की पेशकश करने के लिए विशेषज्ञता विकसित की। बाजार ने 1 99 0 में "संतूर" तालुक पाउडर और "विप्रो बेबी सॉफ्ट" श्रेणी के बेबी टॉयलेटरीज़ का शुभारंभ किया। [12]

1994-2000

1 99 5 में, विदेशी ग्राहकों के लिए उन्नत प्रौद्योगिकियों में परियोजनाओं और उत्पाद विकास के लिए विप्रो ने एक विदेशी डिजाइन केंद्र, ओडिसी 21 की स्थापना की। विप्रो इंफोटेक और विप्रो सिस्टम्स को विप्रो के साथ उस वर्ष अप्रैल में जोड़ा गया। [12] 1994-95 के दौरान विप्रो के विनिर्माण और विकास सुविधाओं में से पांच आईएसओ 9 001 प्रमाणीकरण हासिल कर चुके हैं। 1 999 में, विप्रो ने विप्रो एसर का अधिग्रहण किया। [13] विप्रो अधिक लाभदायक, विविधिक निगम बन गया, जैसे विप्रो सुपरजैनियस पर्सनल कंप्यूटर (पीसी)। 1999 में, सभी मॉडलों के लिए हार्डवेयर में वर्ष 2000 (Y2K) के अनुपालन के लिए यूएस-आधारित राष्ट्रीय सॉफ्टवेयर टेस्टिंग लैबोरेटरी (एनएसटीएल) प्रमाणीकरण प्राप्त करने वाला उत्पाद एक भारतीय पीसी श्रेणी था। [14]

विप्रो लिमिटेड ने भारत में इंटरनेट सेवाएं प्रदान करने के लिए एक संयुक्त उद्यम कंपनी "विप्रो नेट लिमिटेड" बनाने के लिए एक वैश्विक दूरसंचार प्रमुख केपीएन (रॉयल डच टेलीकॉम) के साथ हाथ मिला लिया। [10] वर्ष 2000, विप्रो ओएसएस स्मार्ट और विप्रो डब्ल्यूएपी स्मार्ट के नाम पर इंटरनेट और दूरसंचार समाधान प्रदाताओं पर लक्षित संक्रमित नेटवर्क के लिए विप्रो ने सालाना शुरू किया था। [15] उसी वर्ष, विप्रो को न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध किया गया था। [16] 2000 के शुरुआती दिनों में विप्रो के वाइस चेयरमैन विवेक पॉल और अजीम प्रेमजी ने दो संगठनों के बीच मेगा आउटसोर्सिंग संयुक्त उद्यम बनाने के लिए केपीएमजी कंसल्टिंग के वाइस चेयरमैन केयर पटेल और सीईओ रैंड ब्लेज़र से संपर्क किया।

2001-वर्तमान

फरवरी 2002 में, आईओएस 14001 प्रमाणीकरण के लिए प्रमाणित होने के लिए विप्रो भारत में पहली सॉफ्टवेयर प्रौद्योगिकी और सेवा कंपनी बन गई। [17] 2002 में एसईआई लोक क्षमता मुक्ति मॉडल (पीसीएमएम) स्तर 5 पाने के लिए विप्रो ने पहली सॉफ्टवेयर कंपनी बनने के लिए आईएसओ 9000 प्रमाणन भी हासिल किया। [18] [1 9] विप्रो उपभोक्ता देखभाल और प्रकाश समूह ने कॉम्पैक्ट फ्लोरोसेंट लैंप के बाजार में विप्रो स्मार्टलाइट के ब्रांड नाम के तहत सीएफएल की एक श्रृंखला शुरू की। [20] जैसा कि कंपनी की वृद्धि हुई, एक अध्ययन से पता चला कि विप्रो 5 साल (1997-2002) के लिए सबसे तेजी से धन निर्माता था। [21] [22] वही वर्ष में इंटेल की सेंट्रिनो मोबाइल प्रोसेसर के साथ विप्रो के अपने लैपटॉप का शुभारंभ हुआ। [23] विप्रो ने भारत में चुनिंदा राज्यों में साबुन के विपणन के लिए चंद्रिका के मालिकों के साथ एक विशेष समझौते में भी प्रवेश किया। [24] [25] यह एक पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी है, अर्थात उपभोक्ता देखभाल और प्रकाश उत्पादों के निर्माण के लिए विप्रो कंज्यूमर केयर लिमिटेड। [26] 2004 में विप्रो अरब डॉलर के क्लब में शामिल हुए। [27] यह i-शिक्षा के लिए इंटेल के साथ भी भागीदारी करता है। [28] [2 9] वर्ष 2006 में विप्रो ने अमेरिका आधारित प्रौद्योगिकी बुनियादी ढांचा परामर्श फर्म [30] [31] एनबेलर और यूरोप आधारित खुदरा समाधान प्रदाता सीएमगो इंक का अधिग्रहण किया। [32] 2007 में, विप्रो ने लॉकहीड मार्टिन के साथ एक बड़ा सौदा किया। [33] [34] ओकी टेक्नो सेंटर सिंगापुर पीटीई लिमिटेड (ओटीसीएस) [34] [35] को अधिग्रहण करने और जर्मनी में नोकिया सीमेंस नेटवर्क के साथ एक आर एंड डी पार्टनरशिप अनुबंध पर हस्ताक्षर करने के लिए एक निश्चित समझौते में भी प्रवेश किया। [36] [37]

2008 में विप्रो ने विप्रो इको ऊर्जा के साथ स्वच्छ ऊर्जा कारोबार में प्रवेश किया। [38] [3 9] अप्रैल 2011 में, विप्रो ने टी के अधिग्रहण के लिए साइंस एप्लीकेशन इंटरनेशनल कॉर्पोरेशन (एसएआईसी) के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए

2008 में विप्रो ने विप्रो इको ऊर्जा के साथ स्वच्छ ऊर्जा कारोबार में प्रवेश किया। [38] [3 9] अप्रैल 2011 में, विप्रो ने व्यावसायिक बिजनेस सर्विस बिजनेस यूनिट के वैश्विक तेल और गैस सूचना प्रौद्योगिकी अभ्यास के अधिग्रहण के लिए साइंस एप्लीकेशन इंटरनेशनल कॉर्पोरेशन (एसएआईसी) के साथ समझौता किया। [40] [41] 2012 में विप्रो ने 35 लाख डॉलर में ऑस्ट्रेलियाई व्यापार प्रचार प्रबंधन कंपनी प्रोमैक एप्लीकेशन ग्रुप (पीएजी) का अधिग्रहण किया था। [42] [43] 2012 में विप्रो ने संयुक्त राज्य में 70,000 एच-बीबी वीजा पेशेवर अस्थायी श्रमिकों को रोजगार दिया। [44]

2012 में विप्रो लिमिटेड ने विप्रो एंटरप्राइजेज लिमिटेड नामक एक अलग कंपनी में अपने उपभोक्ता देखभाल, प्रकाश व्यवस्था, फर्नीचर, बुनियादी ढांचा इंजीनियरिंग (हाइड्रॉलिक्स और पानी और चिकित्सा निदान व्यवसाय) के डिमर्जर की घोषणा की [45] विलय 31 मार्च 2013 से प्रभावी हो गया। [46] [47] विलंबित कंपनियों ने पिछले वित्तीय वर्ष में विप्रो लिमिटेड के लगभग 10% राजस्व का योगदान दिया। [48] [4 9]

2014 में, विप्रो ने कैलगरी, अल्बर्टा से बाहर आधारित एक कनाडाई एनर्जी एंड यूटिलिटी कार्पोरेशन, एटीसीओ के साथ 10 वर्षीय 1.2 अरब डॉलर के अनुबंध पर हस्ताक्षर किए। यह विप्रो के इतिहास में सबसे बड़ा सौदा था। [50]

अक्टूबर 2016 में, विप्रो ने घोषणा की कि वह इंडियानापोलिस स्थित ऐपिरियो 500 मिलियन डॉलर में क्लाउड सेवा कंपनी खरीद रहा था। [51] [52] [53]

विप्रो कंपनियों के समूह

पश्चिमी इंडिया प्रोडक्ट्स लिमिटेड

विप्रो लिमिटेड सिस्टम आईटींग, परामर्श, सूचना प्रणाली आउटसोर्सिंग, आईटी-सक्षम सेवाओं, आर एंड डी सेवाओं सहित व्यापक आईटी समाधान और सेवाओं का एक वैश्विक प्रदाता है। [54]

विप्रो 1981 में टेक्नोलॉजी कारोबार में प्रवेश कर चुके हैं और 54 देशों में 140,000 से अधिक कर्मचारियों और ग्राहकों को शामिल किया गया है। [55] आईटी राजस्व 31 मार्च 2015 को समाप्त वर्ष के लिए 7.1 अरब डॉलर था, जिसमें 95% से अधिक दोहराए गए व्यापार अनुपात थे। [56] [57]

विप्रो उपभोक्ता देखभाल एवं प्रकाश

विप्रो लिमिटेड की एक व्यावसायिक इकाई विप्रो कंज्यूमर केयर एंड लाइटिंग (डब्लूसीसीएलजी) उपभोग्य वस्तुओं में एफएमसीजी सेगमेंट में काम करती है। 1 9 45 में स्थापित, इसका पहला उत्पाद वनस्पति तेल था, बाद में ब्रांड नाम "सूरजमुखी वनस्पति" के तहत बेच दिया गया था यह व्यक्तिगत देखभाल उत्पादों को बेचता है, जैसे विप्रो बेबी सॉफ्ट और विप्रो सफ़ाईश, टॉयलेट साबुन संतूर और चंद्रिका और साथ ही साथ यार्डली। [58] यह स्मार्टलाइट सीएफएल, [5 9] एलईडी और आपातकालीन रोशनी सहित प्रकाश उत्पाद बेचता है। [60]

उत्पाद बिक्री और अधिग्रहण के माध्यम से, एफएमसीजी सेगमेंट में विप्रो उपभोक्ता देखभाल और प्रकाश स्थिरता में वृद्धि हुई है। [61] [62] [63]

विप्रो इंफ्रास्ट्रक्चर इंजीनियरिंग

विप्रो इंफ्रास्ट्रक्चर इंजीनियरिंग विप्रो लिमिटेड के हाइड्रॉलिक्स बिजनेस डिविजन है और 1 9 76 के बाद से ही हाइड्रोलिक सिलेंडर, ट्रक सिलेंडर और उनके घटकों और समाधानों के निर्माण में है। यह डिविजन हाइड्रोलिक सिलेंडरों को अंतरराष्ट्रीय ओएमआई तक पहुंचाता है और कावासाकी, सन हाइड्रोलिक्स का प्रतिनिधित्व करता है [64 ] और भारत में हाइड्रोलिक उत्पादों की तेज़ीन सिकी श्रेणी [65] यह कावासाकी साझेदारी [66] [67] और एरोस्पेस विशाल ईएडीएस में प्रवेश कर चुका है। [68] 2010 में विप्रो इंफ्रास्ट्रक्चर इंजीनियरिंग दुनिया में हाइड्रोलिक सिलेंडरों का दूसरा सबसे बड़ा स्वतंत्र निर्माता था। [69]

विप्रो जीई मेडिकल सिस्टम

विप्रो जीई मेडिकल सिस्टम लिमिटेड जीई हेल्थकेयर दक्षिण एशिया के साथ विप्रो के संयुक्त उपक्रम है। यह स्वास्थ्य देखभाल में रोगी और ग्राहक की जरूरतों को पूरा करने के लिए उन्नत समाधान के अनुसंधान और विकास में लगी हुई है। यह साझेदारी, जो 1 99 0 में शुरू हुई, [70] आज स्वास्थ्य पेशेवरों के कैंसर, हृदय रोग और अन्य बीमारियों के लिए डायग्नॉस्टिक्स, हेल्थकेयर आईटी समाधान और सेवाओं के लिए गैजेट और उपकरण शामिल हैं सभी उत्पादों में सिक्स सिग्मा गुणवत्ता मानकों का पूर्ण अनुपालन है। [71] [72] [73]

विप्रो में स्थिरता

विप्रो को 2010 की एशियाई स्थिरता रेटिंग (एएसआर) में भारतीय कंपनियों [1 9] में पहला स्थान दिया गया है और यह नासडैक ग्लोबल रिस्टेनेबिलिटी इंडेक्स [75] के साथ-साथ डो जोन्स सस्टेनेबिलिटी इंडेक्स के सदस्य भी है। [76]

ग्रीनियर इलेक्ट्रॉनिक्स के लिए नवंबर 2012 में गाइड, ग्रीनपीस ने विप्रो को 7.1 / 10 के स्कोर के साथ पहले स्थान दिया था। [77]

लिस्टिंग और शेयरहोल्डिंग

एक दूसरे पर इशारा करते तीरों के साथ विस्मयादिबोधक चिह्न

यह खंड स्वयं का विरोध करने लगता है अधिक जानकारी के लिए कृपया टॉक पृष्ठ देखें। (जुलाई 2017)

लिस्टिंग: विप्रो के इक्विटी शेयरों को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध किया गया है जहां यह बीएसई सेंसेक्स इंडेक्स का एक घटक है, [78] और भारत का नेशनल स्टॉक एक्सचेंज जहां यह एस एंड पी सीएनएक्स निफ्टी का एक घटक है। [7 9] कंपनी का अमेरिकी डिपॉजिटरी शेयर अक्टूबर 2000 से एनवाईएसई में सूचीबद्ध हैं। [80]

शेयरहोल्डिंग: 30 सितंबर 2013 को, कंपनी के इक्विटी शेयरों में से 73.51% हिस्सेदारी प्रमोटरों की थी: अजीम प्रेमजी, उनके परिवार के सदस्यों, साझेदारी फर्म जिसमें वह एक भागीदार और उसके द्वारा बनाई गई ट्रस्ट हैं उनके परिवार बाकी 26.4 9% शेयर दूसरों के स्वामित्व में हैं

शेयरधारक (20-जनवरी-2016 तक) शेयरहोल्डिंग

अजीम प्रेमजी के नेतृत्व में प्रमोटर समूह 73.36%

विदेशी संस्थागत निवेशक (एफआईआई) 10.68%

भारतीय जनता 4.9 9%

निकाय कॉर्पोरेट 2.50%

म्युचुअल फंड / यूटीआई 1.90%

एनआरआई 1.11%

न्यास / अन्य 0.77%

अमेरिकन डिपॉजिटरी शेयर्स 2.30%

कुल 100%

कर्मचारियों

31 दिसंबर, 2015 के अंत में

इसकी कर्मचारी शक्ति 170,664 थी। [81] 2016 की शुरुआत में टी.के. के बाद अबिद अली नेमोचवाला को विप्रो के सीईओ के रूप में नियुक्त किया गया था। [82]

पुरस्कार और मान्यता

मार्च 2017 में, विप्रो विश्व के सबसे नैतिक कंपनियों में से एक के रूप में अमेरिका स्थित एथिस्फेयर संस्थान द्वारा सलग लगातार साल के लिए मान्यता प्राप्त था। [83] [84] [85] [86]

मई 2016 में, फोर्ब्स ग्लोबल 2000 की सूची में यह 755 वें स्थान पर था। [87]

विप्रो ने 11 वीं वार्षिक 2015 सूचना सुरक्षा पीजी के ग्लोबल एक्सलेंस अवार्ड्स की 'भेद्यता आकलन, उपार्जन और प्रबंधन' श्रेणी के अंतर्गत 'एकीकृत सुरक्षा आश्वासन सेवा (आईएसएएस)' के लिए स्वर्ण पुरस्कार जीता। [88]

विप्रो ने 7 पुरस्कार जीते जिनमें सीआईओ चॉइस अवार्ड 2015, भारत [9 8] में सर्वश्रेष्ठ मैनेजेटेड आईटी सर्विसेज और बेस्ट सिस्टम इंटिग्रेटर शामिल हैं।

2014 में, ट्रस्ट रिसर्च एडवाइजरी द्वारा किए गए एक अध्ययन, ब्रांड ट्रस्ट रिपोर्ट के अनुसार, विप्रो को भारत के सबसे विश्वसनीय ब्रांडों में 52 वां स्थान दिया गया था। [9 0]

विप्रो को न्यूजवीक 2012 ग्लोबल 500 ग्रीन कंपनियों में दूसरा स्थान मिला था। [9 1]

विकलांग लोगों के लिए प्रथाओं और प्रौद्योगिकी का सबसे प्रभावी कार्यान्वयन 'श्रेणी में विप्रो को' विविधता और उत्कृष्टता में उत्कृष्टता के लिए 'NASSCOM कॉर्पोरेट अवार्ड' प्राप्त हुआ। [92]

2012 में, यह आईसीआरए लिमिटेड द्वारा स्टॉकहोल्डर वैल्यू और कारपोरेट रेटिंग 1 (एसवीजी 1) का उच्चतम रेटिंग प्रदान किया गया। [9 3]

वर्ष 2004 के दौरान भारत के कंपनी सचिवों से कॉर्पोरेट गवर्नेंस में उत्कृष्टता के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त हुआ। [9 4]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Wipro". Wipro.com. http://www.wipro.com/corporate/investors/pdf-files/ifrs_pressrelease-Q4-FY09-10.pdf. अभिगमन तिथि: 2010-09-07. 
  2. Qrtr_Results, Dec2010. "WIPRO_Qtr_result_dec_2010". www.wipro.com. http://www.wipro.com/corporate/investors/q3_1011_pdf/IFRS_GAAP_press_release_q3_FY10-11.pdf. अभिगमन तिथि: 21 जनवरी 2011. 

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]