इंफोसिस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
इन्फ़ोसिस लिमिटेड
प्रकार सार्वजनिक नैस्डैकINFY
BSE: 500209
उद्योग सॉफ्टवेयर सेवाएं
स्थापना २ जुलाई, १९८१
मुख्यालय भारत इलेक्ट्रॉनिक्स सिटी, होसर रोड, बेंगलुरु, भारत
प्रमुख व्यक्ति एन आर नारायण मूर्ति (सह-संस्थापक, गैर-कार्यपालक अध्यक्ष एवं चीफ मेन्टर)
नंदन नीलेकानी (सह-संस्थापक एवं सह-अध्यक्ष)
क्रिस गोपालकृष्णन (सह-संस्थापक), (मुख्य कार्यपालक अधिकारी तथा प्रबंध-निदेशक)
एस डी शिबुलाल (सह-संस्थापक एवं मुख्य प्रचालन अधिकारी)
उत्पाद फिनाक्ल (एक युनिवर्सल बैंकिंग समाधान)
सेवाएँ सूचना प्रौद्योगिकी सेवाएं एवं समाधान
राजस्व Increase रु. 16,692 करोड़ ($4.18 बिलियन) (FY 2007-08)
निवल आय Increase रु. 4,470 करोड़ ($1.11 billion) (FY 2007-08)
कर्मचारी 94,379 (30 जून अनुसार 2008)[1]
सहायक कंपनियाँ इन्फोसिस बीपीओ लिमिटेड (पूर्व प्रोजेयॉन)
इन्फ़ोसिस टेक्नोलॉजीज़ ऑस्ट्रेलिया लि.
इन्फ़ोसिस कन्सल्टिंग इंका..
इन्फ़ोसिस टेक्नोलॉजीज़ (चीन) कंपनी
इन्फ़ोसिस टेक्नोलॉजीज़ डे आर एल डे सी वी (मेक्सिको)
वेबसाइट www.infosys.com

इन्फोसिस लिमिटेड (BSE: 500209, नैस्डैकINFY) एक बहुराष्ट्रीय सूचना प्रौद्योगिकी सेवा कंपनी मुख्यालय है जो बेंगलुरु, भारत में स्थित है। यह एक भारत की सबसे बड़ी आईटी कंपनियों में से एक है जिसके पास 30 जून 2008 को (सहायकों सहित) 94,379 से अधिक पेशेवर हैं। इसके भारत में 9 विकास केन्द्र हैं और दुनिया भर में 30 से अधिक कार्यालय हैं। वित्तीय वर्ष|वित्तीय वर्ष २००७-२००८ के लिए इसका वार्षिक राजस्व US$4 बिलियन से अधिक है, इसकी बाजार पूंजी US$30 बिलियन से अधिक है।

इतिहास[संपादित करें]

इन्फोसिस की स्थापना २ जुलाई, १९८१ को पुणे में एन आर नारायण मूर्ति के द्वारा की गई। इनके साथ और छह अन्य लोग थे: नंदन निलेकानी, एनएसराघवन, क्रिस गोपालकृष्णन, एस डी.शिबुलाल, के दिनेश और अशोक अरोड़ा,[2] राघवन के साथ आधिकारिक तौर पर कंपनी के पहले कर्मचारी.मूर्ति ने अपनी पत्नी सुधा मूर्ति (Sudha Murthy) से 10,000 आई एन आर लेकर कम्पनी की शुरुआत की। कम्पनी की शुरुआत उत्तर मध्य मुंबई में माटुंगा में राघवन के घर में "इन्फोसिस कंसल्टेंट्स प्रा लि" के रूप में हुई जो एक पंजीकृत कार्यालय था।

2001 में इसे बिजनेस टुडे के द्वारा "भारत के सर्वश्रेष्ठ नियोक्ता " की श्रेणी में रखा गया।[3] इन्फोसिस ने वर्ष 2003, 2004 और 2005, के लिए ग्लोबल मेक (सर्वाधिक प्रशंसित ज्ञान एंटरप्राइजेज) पुरस्कार जीता। यह पुरस्कार जीतने वाली यह एकमात्र कम्पनी बन गई और इसके लिए इसे ग्लोबल हॉल ऑफ फेम में प्रोत्साहित किया गया।[4][5]

समयसीमा[संपादित करें]

  • 1981: को स्थापना की गई।
  • 1983: इसके मुख्यालय को कर्नाटक की राजधानी बैंगलोर में स्थापित कर दिया गया।
  • 1987: इसे अपना पहला विदेशी ग्राहक मिला, यह था संयुक्त राज्य अमेरिका से डाटा बेसिक्स कोर्पोरेशन.
  • 1992: इसने बोस्टन में अपना पहला ओवरसीज बिक्री कार्यालय खोला.
  • 1993: यह भारत में 13 करोड़ रुपए के प्रारंभिक सार्वजनिक प्रस्ताव के साथ एक पब्लिक लिमिटेड कंपनी बन गई।
  • 1996: यूरोप मिल्टन केंस , ब्रिटेन में प्रथम कार्यालय.
  • 1997: टोरंटो, कनाडा में कार्यालय.
  • 1999: NASDAQ पर सूचीबद्ध.
  • 1999: इसने स्तर 5 की SEI-CMM रैंकिंग प्राप्त की और NASDAQ पर सूचीबद्ध होने वाली पहली भारतीय कम्पनी बन गई।
  • 2000: फ्रांस और हांगकांग में कार्यालय खोले.
  • 2001: संयुक्त अरब अमीरात और अर्जेन्टीना में कार्यालय खोले.
  • 2002: नीदरलैंड, सिंगापुर और स्विट्ज़रलैंड में नए कार्यालय खोले.
  • 2002: बिज़नस वर्ल्ड ने इन्फोसिस को "भारत की सबसे सम्मानित कंपनी" कहा।

"BW Most Respected Company Awards 2004". Business World. 2004. अभिगमन तिथि 2006-10-10.</ref>

  • 2002: इसने अपने बीपीओ (बिजनेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग) सहायक Progeon (Progeon) की शुरुआत की.[6]
  • 2003: इसने एक्सपर्ट इन्फोर्मेशन सर्विसेज Pty लिमिटेड, ऑस्ट्रेलिया की 100% इक्विटी प्राप्त की और अपने नाम को बदल कर इन्फोसिस ऑस्ट्रेलिया Pty लिमिटेड कर दिया.
  • 2004: इन्फोसिस परामर्श इन्कोर्पोरेशन की स्थापना की, यह कैलिफोर्निया, अमेरिका में अमेरिका परामर्श सहायक है।
  • 2006: NASDAQ शेयर बाजार ओपनिंग बेल को घेरने वाली पहली भारतीय कम्पनी बन गई।
  • 2006: अगस्त 20, एनआरनारायण मूर्ति अपने कार्यकारी अध्यक्ष के पद से सेवानिवृत हो गए।[7]
  • 2006: सिटी बैंक बीपीओ शाखा Progeon में 23% हिस्सेदारी अर्जित की, इससे यह इन्फोसिस की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक बन गई और इसका नाम बदल कर इन्फोसिस बीपीओ लिमिटेड)[8]
  • 2006: दिसम्बर, इसे Nasdaq 100 बनाने वाली पहली भारतीय कम्पनी बन गयी।[9]
  • 2007: 13 अप्रैल नंदन निलेकानी सीईओ के पद पर आ गए। और जून 2007 में क्रिस गोपालकृष्णन के लिए उनकी कुर्सी पर कब्जा करने के लिए रास्ता बना दिया.
  • 2007:25 जुलाई रोयल फिलिप्स इलेक्ट्रोनिक्स (Royal Philips Electronics) से इन्फोसिस फायनांस व एकाउंटिंग क्षेत्र की सेवा में अपने यूरोपियन परिचालन को मजबूत बनाने के लिए कई अरब डॉलर में करार करता है।
  • 2007: सितम्बर, इन्फोसिस ने एक पूर्णतः स्वामित्व वाली लैटिन अमेरिकन (Latin America) सहायक इन्फोसिस टेक्नोलॉजीज एस डी आर की स्थापना की.L. de C.वी. और मॉन्टेरी (Monterrey), मेक्सिको में लैटिन अमेरिका (Latin America) में अपना पहला सॉफ्टवेयर विकास केन्द्र खोला.

1993 से 2007 तक 14 साल की अवधि में, इन्फोसिस शेयर के जारी होने के मूल्य में तीन हज़ार गुना वृद्धि हुई है। इसमें वे डिविडेंट शामिल नहीं हैं जो कम्पनी ने इस अवधि के दौरान चुकाए हैं।

प्रमुख उद्योग[संपादित करें]

बंगलौर में इन्फोसिस मुख्यालय.

इन्फोसिस अपनी औद्योगिक व्यापार इकाइयों (IBU) के माध्यम से विभिन्न उद्योगों की सेवाएं प्रदान करता है, जैसे:

  • बैंकिंग एवं पूंजी बाजार (बी सी एम)
  • संचार मीडिया और मनोरंजन (सीएमई)
  • एयरोस्पेस और एविओनिक्स
  • ऊर्जा, सुविधाएँ और सेवाएँ (EUS)
  • बीमा, हेल्थकेयर और जीवन विज्ञान (IHL)
  • विनिर्माण (MFG)
  • खुदरा, उपभोक्ता उत्पाद सामान और रसद (RETL)
  • नए विकास इंजन (NGE)
  • भारत बिजनेस ईकाई (इंडस्ट्रीज़)

इन के अलावा, कई क्षैतिज व्यावसायिक इकाइयां (HBUs) हैं।

  • परामर्श
  • एंटरप्राइज समाधान (ई एस) (ESAP & ESX)
  • बुनियादी प्रबंधन सेवायें (IMS)
  • उत्पाद इंजीनियरिंग और मान्यकरण सेवाएं (PEVS)
  • सिस्टम एकीकरण (SI)

पहल[संपादित करें]

1996 में, इन्फोसिस ने कर्नाटक राज्य में इन्फोसिस संस्थान बनाया. जो स्वास्थ्य रक्षा (health care), सामाजिक पुनर्वास और ग्रामीण उत्थान, शिक्षा, कला और संस्कृति के क्षेत्रों में कार्य कर रहा है। तब से, यह संस्थान (foundation) भारत के तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, उड़ीसा और पंजाब राज्यों में फ़ैल गया है। इन्फोसिस संस्थान का नेतृत्व श्रीमती सुधा मूर्ति (Sudha Murthy) कर रही हैं, जो अध्यक्ष नारायण मूर्ति की पत्नी हैं।

2004 के बाद से, इन्फोसिस ने AcE - Academic Entente नमक कार्यक्रम के अंतर्गत दुनिया भर में अपने अकादमिक रिश्तों को मजबूत और औपचारिक बनाने की पहल की है। कम्पनी मामले का अध्ययन लेखन, शैक्षणिक सम्मेलनों और विश्वविद्यालय के कार्यक्रमों में भाग लेना, अनुसंधान में सहयोग, इन्फोसिस विकास केन्द्रों के लिए अध्ययन यात्राओं की मेजबानी करना और इन्स्टेप ग्लोबल इंटर्नशिप कार्यक्रम चलाना आदि के माध्यम से महत्वपूर्ण दावेदारों के साथ संचार करती है।

इन्फोसिस का ग्लोबल इंटर्नशिप कार्यक्रम जो इनस्टेप के नाम से जाना जाता है, अकादमिक एंटिटी पहल के मुख्य अव्यवों में से एक है। यह दुनिया भर में विश्वविद्यालयों से इन्टर्नस के लिए लाइव परयोजनाएं प्रस्तुत करता है। इनस्टेप व्यापार, तकनीक और उदार कला विश्वविद्यालयों से स्नातक, अधो स्नातक और पी एच डी विद्यार्थियों की भर्ती करता है, जो किसी भी एक इन्फोसिस ग्लोबल कार्यालय में 8 से 24 सप्ताह की इंटर्नशिप में भाग लेते हैं। इनस्टेप इन्टर्नस को इन्फोसिस में करियर में भी अवसर प्रदान किए जाते हैं।

1997 में, इन्फोसिस ने "Catch them Young Programme" की शुरुआत की, जिसमें एक गर्मी की छुट्टीयों के कार्यक्रम के आयोजन के द्वारा शहरी युवाओं को सूचना प्रौद्योगिकी की दुनिया के लिए आगे बढ़ने का मौका दिया गया। इस कार्यक्रम का उद्देश्य था कंप्यूटर विज्ञान (computer science) और सूचना प्रौद्योगिकी के बारे में समझ और रूचि विकसित करना.इस कार्यक्रम में श्रेणी IX के स्तर के छात्रों को लक्ष्य बनाया गया।[10]

2002 में, पेनसिल्वेनिया विश्वविद्यालय के (University of Pennsylvania) व्हार्टन बिजनेस स्कूल (Wharton Business School) और इन्फोसिस ने व्हार्टन इन्फोसिस व्यवसाय रूपांतरण पुरस्कार (Wharton Infosys Business Transformation Award) की शुरुआत की। यह तकनीकी पुरस्कार उन व्यक्तियों और एंटरप्राइजेज को मान्यता देता है जिन्होंने अपने व्यापार और समाज की सूचना प्रौद्योगिकी को रूपांतरित कर दिया है। पिछले विजेताओं में शामिल हैं सैमसंग (Samsung), Amazon.com (Amazon.com), केपिटल वन (Capital One), आरबीएस (RBS) और ING प्रत्यक्ष (ING Direct).

अनुसंधान[संपादित करें]

अनुसंधान के मामले में इन्फोसिस के द्वारा की गई एक मुख्य पहल यह है कि इसने एक कोर्पोरेट R&D (R&D) विंग का विकास किया है जो सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग तथा प्रौद्योगिकी प्रयोगशाला (SETLabs) कहलाती है। SETLabs की स्थापना 2000 में हुई। इसे प्रक्रिया में विकास के लिए अनुसंधान हेतु, प्रभावी ग्राहक आवश्यकताओं के लिए ढांचों और विधियों हेतु और एक परियोजना के जीवन चक्र के दौरान सामान्य जटिल मुद्दों को सुलझाने के लिए स्थापित किया गया।

इन्फोसिस समान स्तर के समूहों की समीक्षा का त्रैमासिक जर्नल प्रकाशित करती है जो SETLabs Briefings कहलाता है, इसमें SETLabs के शोधकर्ताओं के द्वारा विभिन्न वर्तमान और भविष्य की व्यापार रूपांतरण तकनीक प्रबंधन विषय पर लेख लिखे जाते हैं। इन्फोसिस के पास एक आर एफ आई डी और व्यापक कम्प्यूटिंग प्रौद्योगिकी प्रथा है जो अपने ग्राहकों को आरएफआईडी (RFID) और बेतार सेवाएं उपलब्ध कराती हैं।[11] इन्फोसिस ने मोटोरोला के साथ Paxar के लिए एक आरएफआईडी इंटरैक्टिव बिम्ब का विकास किय है।[12][13]

SETLabs ने व्यापार मॉडलिंग, प्रौद्योगिकी और उत्पाद नवीनता के क्षेत्रों में पाँच से छः आधारभूत ढांचों का निर्माण किया है।[14]

वैश्विक कार्यालय[संपादित करें]

एशिया प्रशांत[संपादित करें]

उत्तरी अमेरिका[संपादित करें]

यूरोप[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Infosys Technologies Announces Results for the Quarter ended June 30, 2008 Archived 5 फ़रवरी 2009 at the वेबैक मशीन. (Press Release)
  2. "The amazing Infosys story". Rediff.com. July 11, 2006. मूल से 6 मार्च 2009 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2006-10-30.
  3. R. Sukumar. "India's Best Employers: The Top 5". A BT-Hewitt study. Business Today. मूल से 27 अक्तूबर 2006 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2006-10-10.
  4. "Infosys recognized as a Globally Most Admired Knowledge Enterprise for 2004" (PDF). A Teleos study. Infosys Media. अभिगमन तिथि 2004-12-01.[मृत कड़ियाँ]
  5. "इन्फोसिस - आरएफआईडी और व्यापक तकनीकें". मूल से 16 फ़रवरी 2009 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 फ़रवरी 2009.
  6. "Paxar Reinvents नई इंटरैक्टिव आरएफआईडी प्रतिबिम्ब का एक खुदरा अनुभव. AllBusiness.com से व्यवसाय समाधान". मूल से 7 जनवरी 2009 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 फ़रवरी 2009.
  7. "इंटरेक्टिव आरएफआईडी फिटिंग-रूम मिरर". मूल से 15 मई 2008 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 फ़रवरी 2009.
  8. "द हिन्दू Business Line : जो परदे के पीछे कार्य कर रहा है।". मूल से 12 अक्तूबर 2007 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 फ़रवरी 2009.
  9. "विशाखापटनम सूचना प्रौद्योगिकी". मूल से 21 अगस्त 2008 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 फ़रवरी 2009.

बाहरी सम्बन्ध[संपादित करें]