टोक्यो

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
मिए प्रीफ़ेक्चर
जापानी : 三重県
Mie Ken
Map of Japan with टोक्यो highlighted
राजधानी त्सु शहर
क्षेत्र कांशाइ(तोकाई)
द्वीप हॉन्शू
राज्यपाल ऐकेई सुज़ुकी
क्षेत्रफल (श्रेणी) ५,७७७.२२किमी² (२५)
 - % जल १.०%
जनसंख्या  (१ अगस्त २०१६)
 - जनसंख्या १,८०८,५४९ (२३)
 - घनत्व ३१३.०५ /किमी²
जिले
नगरपालिकाएँ २९
ISO 3166-2 JP-24
वेबसाइट मेट्रो.टोक्यो.जेपी (जापानी)
राष्ट्रीय चिह्न
 - पुष्प सोमेइ-योशिनो चैरी ब्लॉसम
 - वृक्ष जापानी देवसार
 - पक्षी श्याम सिरी गल (Larus ridibundus)
टोक्यो महानगरीय चिह्न
महानगरीय चिह्न और टोकियो के दो आधिकारिक चिह्नों में से एक
साँचावार्तापैमानेविकिपरियोजना जापान

टोक्यो (जापानी: 東京, उच्चारणः तोउक्योउ) जापान की राजधानी और सबसे बड़ा नगर है। यह जापान के होन्शू द्वीप पर बसा हुआ है और इसकी जनसंख्या लगभग ८६ लाख है, जबकि टोक्यो क्षेत्र में १.२८ करोड़ और उपनगरीय क्षेत्रों को मिलाकर यहाँ अनुमानित ३.७ करोड़ लोग रहते हैं जो इसे दुनिया का सबसे अधिक जनसंख्या वाला महानगरीय क्षेत्र बनाता है। टोक्यो लगभग ८० किमी के क्षेत्र में फैला हुआ है और यह क्षेत्रफल की दृष्टि से भी विश्व का सबसे बड़ा नगरीय क्षेत्र है।

टोक्यो विश्व के सबसे विकसित नगरों में से एक है। यह जापान की राजनीतिक, आर्थिक और सांस्कृतिक गतिविधियों का प्रमुख केन्द्र होने के साथ-२ विश्व का एक प्रमुख आर्थिक केन्द्र भी है। यह विश्व की सबसे बड़ी महानगरीय अर्थव्य्स्था भी है जिसका सकल घरेलू उत्पाद, क्रय शक्ति के आधार पर २००५ में १,१९१ अरब डॉलर था। न्यूयॉर्क नगर और लंदन के साथ मिलकर यह विश्व अर्थव्यस्था को संचालित करने वाला इंजन है और इसे अल्फ़ा+ नगर का दर्जा प्राप्त है। विभिन्न संस्थाओ द्वारा कराए गए सर्वेक्षणों में टोक्यो को विश्व का लगातार सबसे महँगा महानगर होने का गौरव प्राप्त है।

नाम[संपादित करें]

टोक्यो को मूल रूप से ईडो के नाम से जाना जाता था, जिसका जापानी में अर्थ है मुहाना। १८६८ में जब इसे जापान की राजधानी बनाया गया तो इसका नाम बदलकर टोक्यो (तोउक्योउ: तोउ (पूर्व) + क्योउ (राजधानी)) कर दिया गया। आरम्भिक मेइजी काल में, इस नगर को "तोउकेइ" के नाम से भी जाना जाता था जो चीनी भाषा में लिखे गए शब्द के लिए वैकल्पिक उच्चारण था। बहुत से पुराने अंग्रेज़ी दस्तावेज़ो में अभी भी "टोकेई" (Tokei) लिखा जाता है लेकिन अब यह अप्रचलित शब्द है और "टोक्यो" शब्द का ही अब उपयोग किया जाता है।

इतिहास[संपादित करें]

टोक्यो मूलतः एक छोटा मछली पकड़ने गांव था जो ईदो नामित किया गया था।

इसे पहली बार ईदो वंशावली द्वारा, उत्तरोत्तर १२ वीं शताब्दी में किलाबद्ध किया गया था।

१४५७ में, ओटा दोकान ने ईदो कैसल बनाया। १५९० में, तोकुगावा ईयासु ने ईदो को अपना आधार बनाया और जब वह १६०३ में शोगुन बन गया, तो नगर देश में सैनिक शासन का केन्द्र बन गया। बाद में पश्चाद्गामी ईदो अवधि के दौरान, ईदो १८ वीं सदी में १० लाख की जनसंख्या के साथ दुनिया के सबसे बड़े नगरों में से एक बन गया।


प्रशासनिक प्रभाग[संपादित करें]


२३ विशेष वार्ड[संपादित करें]

मुख्य लेख: टोक्यो के विशेष वार्ड

विशेष वार्ड या तोकूबेत्सू-कू, टोक्यो के वे क्षेत्र हैं जो पहले औपचारिक रूप से टोक्यो नगर था। १ जुलाई, १९४३ को, टोक्यो नगर को टोक्यो प्रीफ़ेक्चर के साथ मिला दिया गया जो वर्तमान "महानगर प्रीफ़ेक्चर" बना। परिणामस्वरूप, जापान में अन्य नगर वार्डों से अलग, ये वार्ड किसी विशाल महानगर का भाग नहीं हैं। प्रत्येक वार्ड एक नगरपालिका है जिसका स्वयं का चयनित महापौर और विधानसभा होती है। टोक्यो के विशेष वार्ड हैं:

जलवायु और भूकम्प विज्ञान[संपादित करें]


जनसांख्यिकी[संपादित करें]

टोक्यो की जनसंख्या[1]
क्षेत्रफलानुसार

टोक्यो
विशेष वार्ड
टामा क्षेत्र
द्वीप

१.२७९ करोड़
८६.५३ लाख
४१.०९ लाख
२८,०००

आयु अनुसार

तरुण (आयु ०-१४)
कार्यशील (आयु १५-६४)
सेवानिवृत (आयु ६५+)

१४.६१ लाख (११.८%)
८५.४६ लाख (६९.३%)
२३.३२ लाख (१८.९%)

घंटे अनुसार

दोपहर
रात्री

१.४९७८ करोड़
१.२४१६ करोड़

राष्ट्रीयतानुसार

विदेशी निवासी

३,६४,६५३

१ अक्टूबर २००७ तक का अनुमान।

१ जनवरी २००७ तक का।

२००५ की राष्ट्रीय जनगणना तक का।

१ जनवरी २००६ तक का।

अक्टूबर २००७ तक, आधिकारिक अंतरजनगणनीय अनुमानो के आधार पर टोक्यो में १.२७९ करोड़ लोग निवास करते हैं, जिन्में से ८६.५३ लाख टोक्यो के २३ वार्डों में निवास करते हैं। दोपहर के समय, जनसंख्या में लगभग २५ लाख की वृद्धि हो जाती है क्योंकि कर्मिक और विद्यार्थी आसपास के क्षेत्रों से टोक्यो में आते हैं। यह स्थिति तीन केन्द्रीय वार्डों चियोदा, चूओ और मिनातो में और अधिक स्पष्ट होती है, जिनकी २००५ की राष्ट्रीय जनगणना के अनुसार सामूहिक जनसंख्या रात्री के समय ३,२६,०० होती थी, पर दोपहर के समय २४ लाख तक पहुँच जाती थी।

समूचे प्रिफ़ेक्चर में २००७ में १,२७,९०,००० (२३ वार्डों में ८६,५३,०००) निवासी थे, जिसमें दोपहर के समय ३० लाख की वृद्धि होती थी। टोक्यो की अब तक की सर्वाधिक जनसंख्या १९६५ की जनगणना में थी, जब २३ वार्डों की आधिकारिक जनसंख्या ८८,९३,०९४ थी और १९९५ की जनगणना में यह संख्या ८० लाख से नीचे चली गई।[कृपया उद्धरण जोड़ें] लेकिन उसके बाद से लोग भूमि के दाम गिरने के कारण नगर के भीतरी भाग में बसते रहे।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

२००५ तक, टोक्यो मे रहने वाले विदेशियों में सर्वाधिक जनसंख्या चीनीयों (१,२३,६६१) की है, फिर कोरियाई (१,०६,६९७), फ़िलिपीनो (३१,०७७), अमेरिकी (१८,८४८), ब्रिटिश (७,६९६), ब्राज़ीलियाई (५,३००) और फ़्रांसीसी (३,०००)[2]

१८८९ की जनगणना में [तथ्य वांछित], टोक्यो में १३,८९,६०० लोग दर्ज किए गए थे, जो उस समय जापान में सर्वाधिक थे।

अर्थव्यवस्था[संपादित करें]

टोक्यो शेयर बाज़ार

टोक्यो, विश्व अर्थव्यवस्था का सञ्चालन करने वाले तीन केन्द्रों में से एक है, अन्य दो हैं लंदन और न्यूयॉर्क। टोक्यो विश्व की सबसे बड़ी महानगरीय अर्थव्यवस्था भी है। प्राइसवॉटरहाउसकूपर्स द्वारा कराए गए एक सर्वेक्षण के अनुसार टोक्यो नगरीय क्षेत्र (३.५२ करोड़) का कुल सकल घरेलू उत्पाद वर्ष २००८ में क्रय शक्ति के आधार पर १,४७९ अरब अमेरिकी डॉलर था जो सूची में सर्वाधिक था। २००८ की स्थिति तक, ग्लोबल ५०० में सूचीबद्ध समवायों में से ४७ के मुख्यालय टोक्यो में स्थित हैं, जो दूसरे स्थान के नगर पैरिस से लगभग दोगुने हैं।

टोक्यो, विश्व का एक प्रमुख वित्तीय केन्द्र भी है, जहाँ पर विश्व के सबसे बड़े निवेश बैंको और बीमा समवायों के मुख्यालय स्थित हैं और यह नगर जापान के परिवहन, प्रकाशन और प्रसारण उद्योगों का एक प्रमुख केन्द्र भी है। द्वितीय विश्व युद्ध के पश्चात जापान की केन्द्रीयकृत वृद्धि के दौरान, बहुत से व्यवसाय-संघ अपने मुख्यालय ओसाका से टोक्यो ले गए ताकी सरकार तक उत्तमतर पहुँच हो सके। लेकिन टोक्यो में बढ़ती जनसंख्या और महँगे जीवन स्तर के कारण अब इस चलन में कमी आने लगी है।

इकॉनमिस्ट इण्टेलिजेन्स यूनिट द्वारा टोक्यो को विश्व के सबसे महँगे नगर के रूप में मूल्यांकित किया जो लगातार १४ वर्षों तक जारी रहा और २००६ में जाकर समाप्त हुआ। यह विश्लेषण निगमीय कार्यकारी जीवन शैली के लिए था, जिसमें असंलग्न घर और बहुत से वाहनों जैसे मदों को सम्मिलित किया गया था।

टोक्यो शेयर बाज़ार, जापान का सबसे बड़ा शेयर बाज़ार है और बाज़ारी पूँजीकरण के आधार पर विश्व में दूसरा सबसे बड़ा और शेयर बिक्री के आधार पर चौथा सबसे बड़ा। १९९० के अन्त में जापानी परिसंपत्ति मूल्य गुबार के समय इसकी विश्व स्टॉक बाज़ार निधि में ६०% की भागीदारी थी।

परिवहन[संपादित करें]

टोक्यों, वृहदतर टोक्यों क्षेत्र का केन्द्र होने के कारण, जापान का सबसे बड़ा घरेलू और अन्तर्राष्ट्रीय रेल, वायु और भूतलीय परिवहन का केन्द्र- बिन्दू है। टोक्यो का सार्वजनिक परिवहन साफ-सुथरे और कुशल ट्रेनों और भूमिगत रेलों का विशाल तन्त्र है जो विभिन्न संचालकों द्वारा संचालित किया जाता है, जिसमें बसें, मोनोरेल और ट्रामें गौण और सहायक परिवहन की भूमिका में है।

ओटा के भीतर, जो २३ विशेष वार्डों में से एक है, स्थित टोक्यों अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा ("हानेदा") घरेलू विमान सेवा प्रदान करता है, जबकि चीबा प्रेइफेक्चर में स्थित नरिता अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा, जापान आने वाले यात्रियों के लिए जापान का प्रवेशद्वार है।

टोक्यो मेट्रो मार्ग का मानचित्र

रेलें, टोक्यो में परिवहन का प्रमुख साधन हैं और टोक्यो का रेल तन्त्र विश्व का सबसे विशाल महानगरीय रेल तन्त्र है और सतही मार्गों का भी इतना ही विशाल तन्त्र है। जेआर ईस्ट, टोक्यो के सबसे बड़े रेल तन्त्र का संचालन करता है, जिसमें यामानोते लूप लाइन भी सम्मिलित है जो डाउनटाउन टोक्यो के केन्द्र का चक्कर लगाती है। दो संगठन भूमिगत तन्त्र का संचालन करते हैं: निजी टोक्यो मेट्रो और सरकारी टोक्यों महानगर परिवहन ब्यूरो। महानगरीय सरकार और निजि वाहक बस मार्गों को संचालित करते है। स्थानीय, क्षेत्रीय और राष्ट्रीय सेवाएं विशाल रेलमार्ग स्टेशनों पर स्थित प्रमुख टर्मिनलों पर से उपलब्ध हैं।

एक्स्पेस-मार्ग राजधानी को वृहद्तर टोक्यो क्षेत्र के अन्य बिन्दुओं से जोड़ते हैं, जैसे कान्तो क्षेत्र और क्युशु और शिकोकू द्वीप।

अन्य परिवहन के साधन है टेक्सियां जो विशेष वार्डों और नगरो और कस्बों में सेवाएं प्रदान करती हैं। लम्बी दूरी की नौकाएं टोक्यो के द्वीपों पर सेवाएं प्रदान करती है और यात्रियों और कार्गो (सामान) को घरेलू और विदेशी बन्दरगाहों तक लाती-ले जाती हैं।

शिक्षा[संपादित करें]

टोक्यो में बहुत से विश्वविद्यालय, जूनियर कॉलेज और वोकेश्नल स्कूल हैं। जापान के बहुत से नामी विश्वविद्यालयों में से कई टोक्यो में स्थित हैं, जिनमें टोक्यो विश्वविद्यालय, हितोत्सूबाशी विश्वविद्यालय, टोक्यो प्रौद्योगिकी संस्थान, वासीदा विश्वविद्यालय और कीओ विश्वविद्यालय सम्मिलित हैं। सर्वाधिक बडे़ राष्ट्रीय विश्वविद्यालयों में से टोक्यों में निम्नलिखित स्थित है:

  • ओचानोमिज़ू विश्वविद्यालय
  • वैद्युत-सञ्चार विश्वविद्यालय
  • टोक्यो विश्वविद्यालय
  • टोक्यो आयुर्विज्ञान और दन्त विश्वविद्यालय
  • टोक्यो विदेशी शिक्षा विश्वविद्यालय
  • टोक्यो समुद्री विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय
  • टोक्यो गाकूजेई विश्वविद्यालय
  • टोक्यो कला विश्वविद्यालय
  • टोक्यो प्रौद्योगिकी संस्थान
  • टोक्यों कृषि एवँ प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय
  • हितोत्सूबाशी विश्वविद्यालय

खेलकूद[संपादित करें]

टोक्यो में विविध प्रकार के खेल खेले जाते हैं और यह दो पेशेवर बेसबॉल क्लबों का घर है, योमियूरी जायंट्स जो टोक्यो डोम में खेलते हैं और टोक्यो याकुल्ट स्वैलोज जो मेइजेई-जिंगू स्टेडियम में खेलते हैं। जापान सूमो संघ का मुख्यालय भी टोक्यो में र्योगोकू कोकूजिकन सूमो एरीना में स्थित है जहाँ पर तीन वार्षिक आधिकारिक सूमो प्रतियोगिताएँ आयोजित की जाती हैं (जनवरी, मई और सितंबर)। टोक्यो के फुटबॉल क्लब हैं एफ. सी. टोक्यो और टोक्यो वेर्डी १९६९ और दोनों ही अजिनोमोतो स्टेडियम, चोफू में खेलते हैं।

टोक्यो ने १९६४ ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक की मेज़बानी की थी। नैश्नल स्टेडियम, जिसे ओलंपिक स्टेडियम, टोक्यो के नाम से भी जाना जाता है में बहुत सी अंतर्राष्ट्रीय खेल प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है। टोक्यो के बहुत से विश्व-स्तरीय खेल स्थलों में बहुत सी राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय खेल प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है जैसे टेनिस, तैराकी, मैराथन, जूड़ो, कराटे, इत्यादि।

संस्कृति[संपादित करें]


पर्यटन स्थल[संपादित करें]

टोक्यो के पर्यटन स्थल निम्नलिखित हैं:

शाही महल

शाही महल जापान के राजा का आधिकारिक निवास है। इस महल में जापानी परंपराओं को देखा जा सकता है। महल में बहुत से सुरक्षा भवन और दरवाजें हैं। यहां की सबसे प्रसिद्ध जगहों में से कुछ हैं- ईस्ट गार्डन, प्लाजा और निजुबाशी पुल। यह महल सम्राट के जन्मदिन के दिन जनता के लिए खोला जाता है।

टोक्यो टावर

इस टावर का निर्माण १९५८ में हुआ था। ३३३ मीटर ऊंचा यह टावर एफिल टावर से भी १३ मीटर ऊंचा है। यहां पर दो वेधशालाएं हैं जहाँ से टोक्यो का दृश्य देखा जा सकता है। साफ़ मौसम में यहां से माउंट फ़्यूजी भी दिखता है। मुख्य वेधशाला १५० मीटर ऊंची है और विशेष वेधशाला २५० मीटर ऊंची है। इस टावर के अंदर टोक्यो टावर मोम संग्रहालय, रहस्मय पैदल क्षेत्र और हस्तलाघव कला गलियारा भी है।

असाकुसा श्राइन

दंतकथाओं के अनुसार सैकड़ों वर्ष पहले हिरोकुमा बंधुओं के मछली पकड़ने के जाल में कैनन की प्रतिमा फंस गई। तब गांव के मुखिया ने वहां प्रतिमा की स्थापना की। इन तीन लोगों को समर्पित असाकुसा श्राइन की स्थापना १६४९ में हुई थी। इसके बाद इस मंदिर का एक उपनाम संजा-समा पड़ा। यह टोक्यो का सबसे प्रमुख मंदिर है। मई के महीने में यहां संजा उत्सव भी मनाया जाता है।

मीजी जिंगू श्राइन

यह मंदिर शिंतो वास्तुकला का उत्तम नमूना है। इसका निर्माण १९२० में यहां के शासक मीजी (१९१२) की स्मृति में किया गया था। ७२ हैक्टेयर में फैले पेड़ों और मीजी जिंगू पार्क की जापानी वनस्पतियों से घिरा यह स्थान जापानी की सबसे सुन्दर और पवित्र जगहों में से एक है।

अमेयोको

अमेयोको में जूतों से लेकर कपड़ों तक, हर प्रकार की उपभोक्ता वस्तु खरीदी जा सकती हैं। बालों पर लगाने वाली क्रीम हो या छतरी यहां सब कुछ मिलता है। यह बाजार उएनो स्टेशन के पास है इसलिए यहां आने वाले लोग इस बाजार में आना पसंद करते हैं। यदि आप जापान के कामकाजी लोगों को निकट से देखना चाहते हैं और अद्भुत चीजें कम दाम पर खरीदना चाहते हैं तो यह जगह बिल्कुल उपयुक्त है।

इन्द्रधनुषी पुल

इस अनोखे नाम का कारण इस पुल पर रात को जलने वाली रंगबिरंगी रोशनी हैं। यह पुल मिनटोकु और ओडैबा को जोड़ता है। यहां पर आठ यातायात लेन और दो रेलमारग हैं। पैदल चलने वालों के लिए भी रास्ता है। यह पुल १९९३ में चालू किया गया था। इस पुल की सुन्दरता को देखने का एक अन्य उपाय है मोनोरल, जो शिम्बाशी से चलती है। इसके अतिरिक्त हिनोक पीयर से असाकुसा के बीच क्रूज से यात्रा करके इसकी सुन्दरता को निहारा जा सकता है।

समय: सुबह ९ बजे से रात ९ बजे तक, अप्रैल से अक्टूबर: सुबह १० बजे से शाम ६ बजे तक

महीने के तीसर सोमवार और राष्ट्रीय अवकाश के दिन बंद

तोशोगु मंदिर

इस मंदिर का मुख्य आकर्षण पत्थर की बनी ५० विशाल लालटेन हैं। इनमें से कई सामंती दासों द्वारा दान की गई थीं। यहां का मुख्य भवन जिसका निर्माण १६५१ में हुआ था, सोने से बनी थी। इसे बनाने का श्रेय तीसर शोगुम इमीत्सु तोकुगावा को जाता है। यह मंदिर जापान की राष्ट्रीय संपदा का भाग है।

सूमो संग्रहालय

सूमो रसलिंग जापान का सबसे प्रसिद्ध खेल है। इस संग्रहालय में समारोह के दौरान पहले जाने वाले कपड़ों, सूमो वस्त्रों, रैफरी के पैडलों को प्रदर्शित किया गया है और प्रसिद्ध रसलरों के बार में बताया गया है। यह संग्रहालय नेशनल सूमो स्टेडियम के साथ बना है।

गिंजा

गिंजा जापान का और कदाचित एशिया का सबसे अच्छा और भव्य शॉपिंग एरिया है। दुनिया भर के प्रसिद्ध ब्रैण्ड स्टोर यहां मिल जाएंगे। मित्सुकोशी, मत्सुया और मत्सुजकाया डिपार्टमेंटल स्टोर यहां हैं, साथ ही यामहा म्यूजिक शॉप और सबसे मशहूर कॉस्मेटिक्स शीसेडो भी यहां हैं। गिंजा कार्यालय में काम करने वालों से लेकर विद्यार्थियों तक को पसंद आता है। यहां पर मदिरा, पानी और खाना खाने की कई जगहें मिल जाएंगी। इनमें साधारण और महंगी दोनों तरह के स्थान सम्मिलित हैं।

नेशनल म्यूजियम ऑफ वेस्टर्न आर्ट

यह संग्रहालय पर्यटकों के बीच बहुत की प्रसिद्ध है क्योंकि यहां सुदूर पूर्व में पश्चिमी कला का आधुनिकतम संग्रह है। इस संग्रह के पीछे का इतिहास बहुत रोचक है। सैन फ़्रांसिस्को शांति समक्षौते में कहा गया कि कोजिरो मत्सुकाता संग्रह जो द्वितीय विश्वयुद्ध के समय फ़्रांस के पास चला गया था, अब फ्रांस की संपत्ति होगा। बाद में फ्रांस सरकार ने यह संग्रह जापान को वापस कर दिया। यह संग्रहालय १९५९ में खुला था।

कुल मिलाकर देखें तो यह शहर आधुनिकता और परंपराओ का एक अनुपम उदाहरण है। अत्याधुनिक महानगर होते हुए भी इसने अपनी परंपराओं को छोड़ा नहीं है। यहां आपको जापान की उन्नति दिखाई देगी, तो साथ ही इसकी संस्कृति भी।

टोक्यो (जापानी: [इस ध्वनि के बारे में], अंग्रेजी: /toʊki.oʊ/), आधिकारिक तौर पर टोक्यो मेट्रोपोलिस, [6] जापान की राजधानी और इसके 47 प्रीफेक्चर्स में से एक है। [7] ग्रेटर टोक्यो क्षेत्र दुनिया में सबसे अधिक आबादी वाला महानगरीय क्षेत्र है। [8] यह जापान के सम्राट और जापानी सरकार की सीट है टोक्यो, मुख्य द्वीप होन्शु के दक्षिण-पूर्व की ओर कांटो क्षेत्र में है और इसमें इज़ू द्वीप और ओगासवाड़ा द्वीप शामिल हैं। [9] पूर्व में ईदो के रूप में जाना जाता है, यह 1603 के बाद से सरकार की वास्तविक सीट रही है जब शोगुन टोकुगावा इयासु ने शहर का मुख्यालय बना दिया था। 1868 में सम्राट मीजी ने क्योटो की पुरानी राजधानी से शहर में अपनी जगह ले ली, यह आधिकारिक तौर पर राजधानी बन गई; उस समय ईदो का नाम बदलकर टोक्यो था। टोक्यो मेट्रोपोलिस का गठन 1 9 43 में पूर्व टोक्यो प्रीफेक्चर (東京 府 टोक्यो-फू) और टोक्यो शहर (東京 市 टोककी-शि) के विलय से हुआ था।

टोक्यो को अक्सर एक शहर के रूप में जाना जाता है, लेकिन आधिकारिक तौर पर "महानगरीय प्रान्त" के रूप में जाना जाता है और इसे नियंत्रित किया जाता है, जो शहर के तत्वों और एक प्रान्त से अलग है और एक टोक्यो के लिए अद्वितीय विशेषता है। टोक्यो मेट्रोपॉलिटन सरकार टोक्यो के 23 विशेष वार्डों का संचालन करती है (प्रत्येक व्यक्ति को अलग-अलग शहर के रूप में शासित किया जाता है), जो उस क्षेत्र को कवर करता है जो कि इससे पहले विलय और टोक्यो शहर था और 1 9 43 में महानगरीय प्रान्त बन गया। महानगर सरकार भी 39 नगरपालिका का प्रशासन करती है प्रीफेक्चर का पश्चिमी भाग और दो बाहरी द्वीप श्रृंखलाएं विशेष वार्ड की आबादी 9 मिलियन से अधिक है, 13 लाख से अधिक प्रान्त की कुल जनसंख्या के साथ। प्रीफेक्चर दुनिया के सबसे अधिक आबादी वाले महानगरीय क्षेत्र का हिस्सा है, जिसमें 37.8 मिलियन लोगों और विश्व के सबसे बड़े शहरी ढांचे की अर्थव्यवस्था शामिल है। शहर की फॉर्च्यून ग्लोबल 500 कंपनियों में से 51, दुनिया के किसी भी शहर की सबसे बड़ी संख्या है। [10] अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय केंद्र विकास सूचकांक में टोक्यो तीसरा स्थान पर है। यह शहर फुजी टीवी, टोक्यो एमएक्स, टीवी टोक्यो, टीवी असाही, निप्पॉन टेलीविजन, एनएचके और टोक्यो ब्रॉडकास्टिंग सिस्टम जैसे विभिन्न टेलीविजन नेटवर्कों का भी घर है।

ग्लोबल इकनॉमिक पावर इंडेक्स में टोक्यो पहले स्थान पर था और ग्लोबल सिटीज इंडेक्स में चौथा स्थान पर था। गाव का 2008 की सूची [11] - और 2014 में, टोक्यो को सबसे पहले "सर्वश्रेष्ठ समग्र अनुभव" श्रेणी में ट्रिपएडवियर्स के विश्व शहर सर्वेक्षण (शहर ने निम्न में भी स्थान दिया था) के रूप में सूचीबद्ध किया गया - शहर को अल्फा + विश्व शहर माना जाता है। श्रेणियां: "स्थानीय लोगों की असहायता", "नाइटलाइफ़", "खरीदारी", "स्थानीय सार्वजनिक परिवहन" और "सड़कों की सफाई")। [12] अर्थशास्त्री इंटेलिजेंस यूनिट के लागत-रहने वाले सर्वेक्षण के मुताबिक, 2015 में, मकर सलाहकार फर्म [13] और दुनिया के 11 वें सबसे महंगे शहर के अनुसार टोक्यो को 11 वें सबसे महंगे शहर के रूप में स्थानांतरित किया गया था। [14] 2015 में, टोक्यो को पत्रिका मोनोकले द्वारा दुनिया में सर्वाधिक जीवंत शहर का नाम दिया गया था। [15] मिशेलिन गाइड ने दुनिया के किसी भी शहर के सबसे मिशेलिन सितारे तक टोक्यो को सम्मानित किया है। [16] [17] सुरक्षित शहर सूचकांक में टोक्यो दुनिया में सबसे पहले स्थान पर है। [18] 2016 के क्यूएस बेस्ट स्टूडेंट्स शहरों के टोक्यो विश्वविद्यालय ने विश्वविद्यालय के छात्र होने के लिए दुनिया का तीसरा सबसे अच्छा शहर माना। [1 9] टोक्यो ने 1 9 64 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक, 1 9 7 9 जी -7 शिखर सम्मेलन, 1 9 86 जी -7 शिखर सम्मेलन और 1 99 3 जी -7 शिखर सम्मेलन की मेजबानी की, और 2020 ग्रीष्मकालीन ओलंपिक और 2020 ग्रीष्मकालीन पैराएलिंपिक की मेजबानी करेगा।

विषय वस्तु [छिपाएं] 1 व्युत्पत्ति 2 इतिहास 2.1 पूर्व 1869 (ईदो अवधि) 2.2 1869-1943 2.3 1943-वर्तमान 3 भूगोल 3.1 विशेष वार्ड 3.2 टामा क्षेत्र (पश्चिमी टोक्यो) 3.2.1 शहरों 3.2.2 निशी-तमा जिला 3.3 आइलैंड्स 3.4 राष्ट्रीय उद्यान 3.5 भूकंपीयता 3.6 जलवायु 4 सिटीस्केप 5 पर्यावरण 6 जनसांख्यिकी 7 अर्थव्यवस्था 8 परिवहन 9 शिक्षा 10 संस्कृति 11 खेल लोकप्रिय संस्कृति में 12 13 अंतर्राष्ट्रीय संबंध 13.1 बहन शहरों, बहन राज्यों, और दोस्ती समझौतों 14 भी देखें 15 सन्दर्भ 16 ग्रंथ सूची 17 आगे पढ़ने 17.1 गाइड 17.2 समकालीन 18 बाहरी लिंक व्युत्पत्ति [संपादित करें] टोक्यो मूल रूप से एदो (江 戸) के नाम से जाना जाता था, जिसका अर्थ है "मुहाना"। [20] इसका नाम बदलकर टोक्यो (東京? टोक्यो, 東 टो "पूर्वी" और "कैओ" राजधानी ") में बदल दिया गया था, जब यह सम्राट मीजी के आगमन के साथ 1868 में, [21] पूर्वी एशियाई परंपरा के अनुसार राजधानी शहर के नाम पर शब्द राजधानी (京) भी शामिल है। [20] मीजी की शुरुआती अवधि के दौरान, शहर को "टोककी" भी कहा जाता था, "टोक्यो" का प्रतिनिधित्व करने वाले एक ही चीनी अक्षरों के लिए एक वैकल्पिक उच्चारण, इसे एक कांजी का स्मारक बना दिया गया था। कुछ जीवित आधिकारिक अंग्रेज़ी दस्तावेज़ वर्तनी "टोके" का उपयोग करते हैं। [22] हालांकि, यह उच्चारण अब अप्रचलित है। [23]

टोक्यो का पहला नाम 1813 में कोंडो हिसाकू (जेए) (सिक्रेट प्लान ऑफ कॉमिंगलिंग) में, सोटो नोहहिरो द्वारा लिखित किताब में सुझाया गया था। [उद्धरण वांछित] जब Ōkubo तोशिमीची ने मेईजी बहाली के दौरान सरकार के नाम बदलने का प्रस्ताव किया, ओडा कांशी के अनुसार (織田 完 之), [अस्पष्ट] उस किताब से विचार आया

इतिहास [संपादित करें] मुख्य लेख: टोक्यो का इतिहास प्री -18 9 6 (ईदो अवधि) [संपादित करें]

नगर दृश्यावली[संपादित करें]

माउंट फूजी का विहंगम दृश्य
टोक्यो इम्पीरियल पैलेस का विहंगम दृश्य
टोक्यो इम्पीरियल महल में सकूरा

भगिनी नगर[संपादित करें]

टोक्यो के ग्यारह भगिनी नगर हैं:[3]

इसके अतिरिक्त, टोक्यो का लंदन, संयुक्त राजशाही के साथ एक "भागीदारी" समझौता भी है।[3]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "टोक्यो की जनसंख्या". टोक्यो महानगरीय सरकार. http://www.metro.tokyo.jp/ENGLISH/PROFILE/overview03.htm. अभिगमन तिथि: 2009-01-01. 
  2. "टोक्यो सांख्यिकीय वार्षिकपुस्तिका २००५, जनसंख्या". ब्यूरो ऑफ़ जनरल अफ़ेयर्स, टोक्यो मेट्रोपॉलिटन गवर्न्मेन्ट. http://www.toukei.metro.tokyo.jp/tnenkan/2005/tn05qyte0510b.htm. अभिगमन तिथि: 2007-10-14. 
  3. "Sister Cities (States) of Tokyo - Tokyo Metropolitan Government". http://www.metro.tokyo.jp/ENGLISH/PROFILE/policy06.htm. अभिगमन तिथि: 2008-09-16. 

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

टोक्यो के बारे में, विकिपीडिया के बन्धुप्रकल्पों पर और जाने:
Wiktionary-logo-hi-without-text.svg शब्दकोषीय परिभाषाएं
Wikibooks-logo.svg पाठ्य पुस्तकें
Wikiquote-logo.svg उद्धरण
Wikisource-logo.svg मुक्त स्रोत
Commons-logo.svg चित्र एवं मीडिया
Wikinews-logo.svg समाचार कथाएं
Wikiversity-logo-en.svg ज्ञान साधन

टोक्यो (जापानी: [इस ध्वनि के बारे में], अंग्रेजी: /toʊki.oʊ/), आधिकारिक तौर पर टोक्यो मेट्रोपोलिस, [6] जापान की राजधानी और इसके 47 प्रीफेक्चर्स में से एक है। [7] ग्रेटर टोक्यो क्षेत्र दुनिया में सबसे अधिक आबादी वाला महानगरीय क्षेत्र है। [8] यह जापान के सम्राट और जापानी सरकार की सीट है टोक्यो, मुख्य द्वीप होन्शु के दक्षिण-पूर्व की ओर कांटो क्षेत्र में है और इसमें इज़ू द्वीप और ओगासवाड़ा द्वीप शामिल हैं। [9] पूर्व में ईदो के रूप में जाना जाता है, यह 1603 के बाद से सरकार की वास्तविक सीट रही है जब शोगुन टोकुगावा इयासु ने शहर का मुख्यालय बना दिया था। 1868 में सम्राट मीजी ने क्योटो की पुरानी राजधानी से शहर में अपनी जगह ले ली, यह आधिकारिक तौर पर राजधानी बन गई; उस समय ईदो का नाम बदलकर टोक्यो था। टोक्यो मेट्रोपोलिस का गठन 1 9 43 में पूर्व टोक्यो प्रीफेक्चर (東京 府 टोक्यो-फू) और टोक्यो शहर (東京 市 टोककी-शि) के विलय से हुआ था।

टोक्यो को अक्सर एक शहर के रूप में जाना जाता है, लेकिन आधिकारिक तौर पर "महानगरीय प्रान्त" के रूप में जाना जाता है और इसे नियंत्रित किया जाता है, जो शहर के तत्वों और एक प्रान्त से अलग है और एक टोक्यो के लिए अद्वितीय विशेषता है। टोक्यो मेट्रोपॉलिटन सरकार टोक्यो के 23 विशेष वार्डों का संचालन करती है (प्रत्येक व्यक्ति को अलग-अलग शहर के रूप में शासित किया जाता है), जो उस क्षेत्र को कवर करता है जो कि इससे पहले विलय और टोक्यो शहर था और 1 9 43 में महानगरीय प्रान्त बन गया। महानगर सरकार भी 39 नगरपालिका का प्रशासन करती है प्रीफेक्चर का पश्चिमी भाग और दो बाहरी द्वीप श्रृंखलाएं विशेष वार्ड की आबादी 9 मिलियन से अधिक है, 13 लाख से अधिक प्रान्त की कुल जनसंख्या के साथ। प्रीफेक्चर दुनिया के सबसे अधिक आबादी वाले महानगरीय क्षेत्र का हिस्सा है, जिसमें 37.8 मिलियन लोगों और विश्व के सबसे बड़े शहरी ढांचे की अर्थव्यवस्था शामिल है। शहर की फॉर्च्यून ग्लोबल 500 कंपनियों में से 51, दुनिया के किसी भी शहर की सबसे बड़ी संख्या है। [10] अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय केंद्र विकास सूचकांक में टोक्यो तीसरा स्थान पर है। यह शहर फुजी टीवी, टोक्यो एमएक्स, टीवी टोक्यो, टीवी असाही, निप्पॉन टेलीविजन, एनएचके और टोक्यो ब्रॉडकास्टिंग सिस्टम जैसे विभिन्न टेलीविजन नेटवर्कों का भी घर है।

ग्लोबल इकनॉमिक पावर इंडेक्स में टोक्यो पहले स्थान पर था और ग्लोबल सिटीज इंडेक्स में चौथा स्थान पर था। गाव का 2008 की सूची [11] - और 2014 में, टोक्यो को सबसे पहले "सर्वश्रेष्ठ समग्र अनुभव" श्रेणी में ट्रिपएडवियर्स के विश्व शहर सर्वेक्षण (शहर ने निम्न में भी स्थान दिया था) के रूप में सूचीबद्ध किया गया - शहर को अल्फा + विश्व शहर माना जाता है। श्रेणियां: "स्थानीय लोगों की असहायता", "नाइटलाइफ़", "खरीदारी", "स्थानीय सार्वजनिक परिवहन" और "सड़कों की सफाई")। [12] अर्थशास्त्री इंटेलिजेंस यूनिट के लागत-रहने वाले सर्वेक्षण के मुताबिक, 2015 में, मकर सलाहकार फर्म [13] और दुनिया के 11 वें सबसे महंगे शहर के अनुसार टोक्यो को 11 वें सबसे महंगे शहर के रूप में स्थानांतरित किया गया था। [14] 2015 में, टोक्यो को पत्रिका मोनोकले द्वारा दुनिया में सर्वाधिक जीवंत शहर का नाम दिया गया था। [15] मिशेलिन गाइड ने दुनिया के किसी भी शहर के सबसे मिशेलिन सितारे तक टोक्यो को सम्मानित किया है। [16] [17] सुरक्षित शहर सूचकांक में टोक्यो दुनिया में सबसे पहले स्थान पर है। [18] 2016 के क्यूएस बेस्ट स्टूडेंट्स शहरों के टोक्यो विश्वविद्यालय ने विश्वविद्यालय के छात्र होने के लिए दुनिया का तीसरा सबसे अच्छा शहर माना। [1 9] टोक्यो ने 1 9 64 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक, 1 9 7 9 जी -7 शिखर सम्मेलन, 1 9 86 जी -7 शिखर सम्मेलन और 1 99 3 जी -7 शिखर सम्मेलन की मेजबानी की, और 2020 ग्रीष्मकालीन ओलंपिक और 2020 ग्रीष्मकालीन पैराएलिंपिक की मेजबानी करेगा।

विषय वस्तु [छिपाएं] 1 व्युत्पत्ति 2 इतिहास 2.1 पूर्व 1869 (ईदो अवधि) 2.2 1869-1943 2.3 1943-वर्तमान 3 भूगोल 3.1 विशेष वार्ड 3.2 टामा क्षेत्र (पश्चिमी टोक्यो) 3.2.1 शहरों 3.2.2 निशी-तमा जिला 3.3 आइलैंड्स 3.4 राष्ट्रीय उद्यान 3.5 भूकंपीयता 3.6 जलवायु 4 सिटीस्केप 5 पर्यावरण 6 जनसांख्यिकी 7 अर्थव्यवस्था 8 परिवहन 9 शिक्षा 10 संस्कृति 11 खेल लोकप्रिय संस्कृति में 12 13 अंतर्राष्ट्रीय संबंध 13.1 बहन शहरों, बहन राज्यों, और दोस्ती समझौतों 14 भी देखें 15 सन्दर्भ 16 ग्रंथ सूची 17 आगे पढ़ने 17.1 गाइड 17.2 समकालीन 18 बाहरी लिंक व्युत्पत्ति [संपादित करें] टोक्यो मूल रूप से एदो (江 戸) के नाम से जाना जाता था, जिसका अर्थ है "मुहाना"। [20] इसका नाम बदलकर टोक्यो (東京? टोक्यो, 東 टो "पूर्वी" और "कैओ" राजधानी ") में बदल दिया गया था, जब यह सम्राट मीजी के आगमन के साथ 1868 में, [21] पूर्वी एशियाई परंपरा के अनुसार राजधानी शहर के नाम पर शब्द राजधानी (京) भी शामिल है। [20] मीजी की शुरुआती अवधि के दौरान, शहर को "टोककी" भी कहा जाता था, "टोक्यो" का प्रतिनिधित्व करने वाले एक ही चीनी अक्षरों के लिए एक वैकल्पिक उच्चारण, इसे एक कांजी का स्मारक बना दिया गया था। कुछ जीवित आधिकारिक अंग्रेज़ी दस्तावेज़ वर्तनी "टोके" का उपयोग करते हैं। [22] हालांकि, यह उच्चारण अब अप्रचलित है। [23]

टोक्यो का पहला नाम 1813 में कोंडो हिसाकू (जेए) (सिक्रेट प्लान ऑफ कॉमिंगलिंग) में, सोटो नोहहिरो द्वारा लिखित किताब में सुझाया गया था। [उद्धरण वांछित] जब Ōkubo तोशिमीची ने मेईजी बहाली के दौरान सरकार के नाम बदलने का प्रस्ताव किया, ओडा कांशी के अनुसार (織田 完 之), [अस्पष्ट] उस किताब से विचार आया

इतिहास [संपादित करें] मुख्य लेख: टोक्यो का इतिहास प्री -18 9 6 (ईदो अवधि) [संपादित करें]