जापानी युद्धोत्तर आर्थिक चमत्कार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
ओसाका स्थित विश्व व्यापार केन्द्र और जापान की आर्थिक प्रगति का एक सूचक।

जापानी युद्धोत्तर आर्थिक चमत्कार (जापानी: 高度経済成長 उच्चारण: कोदो केइज़ाइ सीचो) द्वितीय विश्व युद्ध में लगभग पूरी तरह विनष्ट हो चुके जापान के चमत्कारिक आर्थिक उत्थान को कहा जाता है। इस चमत्कारिक उत्थान का कुछ योगदान संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा किए गए निवेश और कुछ योगदान जापानी सरकार के आर्थिक हस्तक्षेप का था। "चमत्कारिक आर्थिक" वर्षों के दौरान जापानी अर्थव्यवस्था की प्रभेदिक विशेषताएँ निम्नलिखित थीं: विनिर्माणकर्ताओं, आपूर्तीकर्ताओं, वितरकों और बैंकों का केइरेत्सू नामक समूहों में सहयोग, शक्तिशाली उद्यम संघ और शुन्तो; सरकारी नौकरशाहों के साथ मधुर सम्बन्ध और बड़े निगमों और अत्यधिक संघीकृत कारखानों में आजीवन रोज़गार की गारण्टी (शूशिन कोयो)। १९८३ के बाद से जापानी कम्पनियों ने इनमें से कुछ प्रतिमान का परित्याग कर दिया है ताकि लाभ और कार्यक्षमता बढ़ाई जा सके।