बर्लिन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
बर्लिन कैथेड्रल
ब्रांडेनबर्ग गेट, जर्मनी के एक मील का पत्थर
बर्लिन टीवी टावर, शहर के लिए मील का पत्थर
बर्लिन-मिटे के क्षितिज
बर्लिन का ओलंपिक स्टेडियम
भालू मेरा साथी: बर् लन की शांती और स्वतंत्रता का प्रतीक

बर्लिन जर्मनी की राजधानी और इसके 16 राज्यों में से एक है। यह बर्लिन-ब्रैन्डनबर्ग मेट्रोपोलिटन क्षेत्र के मध्य में, जर्मनी के उत्तर-पूर्वी भाग में स्थित है। इसकी जनसंख्या 34 लाख है। यह जर्मनी का सबसे बड़ा और यूरोपीय संघ का दूसरा सबसे बड़ा शहर है। बर्लिन यूरोप की राजनीति, संस्कृति और विज्ञान का महत्त्वपूर्ण केन्द्र है। यूरोप के यातायात के लिए यह एक धुरी के समान है। यहाँ कई महत्त्वपूर्ण विश्वविद्यालय, संग्रहालय और शोध केन्द्र हैं। यह शहर बहुत तेजी से विकास कर रहा है और यहाँ के समारोह, उत्सव, अग्रणी कलाएँ, वास्तुशिल्प और रात्रि-जीवन काफी प्रसिद्ध हैं। बर्लिन 13वीं शताब्दी में स्थापित हुआ और इस क्षेत्र के कई राज्यों और साम्राज्यों की राजधानी रहा- प्रुशिया राज्य (1701 से), जर्मन साम्राज्य (1871-1918), वेइमार गणतंत्र (1919-1932) और तीसरी राइख (1933-1945). द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद इस शहर का विभाजन हो गया। पूर्वी बर्लिन जर्मन लोकतान्त्रिक गणराज्य (पूर्वी जर्मनी) की राजधानी बना और बर्लिन दीवार से घिरा पश्चिमी बर्लिन पश्चिमी जर्मनी के हिस्से आया। 1989 में बर्लिन दीवार के टूटने पर बर्लिन शहर फिर एक हो गया और जर्मनी के एकीकरण के बाद पूरे जर्मनी की राजधानी बना।

स्थिति[संपादित करें]

52° 32मि. उत्तरी अक्षांश तथा 13° 24मिनट पूर्वी देशान्तर। यह उत्तर-पूर्वी जर्मनी में बाल्टिक सागर के तट से 110 मील अंदर की ओर एल्ब और ओडर नदियों के बीच स्प्री नदी के दोनों किनारों पर बसा हुआ है।

इतिहास[संपादित करें]

बर्लिन कैथेड्रल (बाएं)। बर्लिन के रॉयल पैलेस (दाएं), प्रशिया राजाओं और जर्मन सम्राटों के निवास। यह 2019 तक खंगाला किया जाएगा।
बर्लिन में हिंदू मंदिर

द्वितीय विश्वयुद्ध के पूर्व बर्लिन एक बड़ा समृद्धिशाली और सब प्रकार से उन्नत नगर था। यूरोप में लंदन और पेरिस के बाद इसी का स्थान था। पर द्वितीय विश्वयुद्ध के समय (1945 ई.) नगर में इतना अधिक परिवर्तन हुआ कि इसका सारा ढाँचा ही बदल गया। यह मुख्यत: दो भागों में विभाजित हो गया - एक पश्चिमी बर्लिन और दूसरा पूर्वी बर्लिन। पश्चिमी बर्लिन वस्तुत: पश्चिमी जर्मनी के संघीय गणराज्य की राजधानी के रूप में था और इस पर संयुक्त राज्य अमरीका, ग्रेट ब्रिटेन तथा फ्रांस का संयुक्त अधिकार था। पूर्वी बर्लिन पूर्णतया पूर्वी जर्मनी के लोकतान्त्रिक गणराज्य के अंतर्गत हो गया तथा वास्तव में यह रूस की संरक्षण में था।

यूरोपीय स्तर पर बर्लिन एक नया नगर माना जाता है। इसका विकास प्रारंभ में काल्न (Kalln) और बर्लिन नामक दो गाँवों से शुरू हुआ। बर्लिन स्प्री नदी के दक्षिण में तथा काल्न उत्तर में नदी की दोनों भुजाओं द्वारा निर्मित टापू पर विकसित हुआ। इन दोनों नगरों के नियम एवं प्रशासन पहले बिलकुल अलग अलग थे, फिर भी दोनों सन् 1307 से सामान्य कार्यपालिका के अंतर्गत रहे। आगे चलकर सन् 1709 ई. में ये दोनों पूरी तरह संयुक्त हो गए।

थोड़े समय बाद पूर्व एवं उत्तर-पूर्व के व्यापार के लिए इन दोनों नगरों की स्थिति अत्यंत महत्वपूर्ण प्रतीत हुई और इस दृष्टि से इनकी बड़ी उन्नति हुई। सामरिक दृष्टि से भी इसका स्थान अद्वितीय समझा गया। इस प्रकार तीव्र व्यापारिक उन्नति के कारण जर्मनी के प्रगतिशील उत्तरी नगरों से इसका संबंध होना आवश्यक हो गया और अंत में अपने उद्देश्यों की पूर्ति के लिए यह हैंसियाटिक लीग में सम्मिलित हो गया। फिर तो विभिन्न वातावरण एवं परिस्थितियों में बर्लिन शनै: शनै: विकसित होता रहा।

19वीं शताब्दी के प्रारंभ में बर्लिन में बहुत सी आंतरिक एवं बाह्य गड़बड़ियाँ हुईं जिनके कारण इस नगर की उन्नति में बाधाएँ उत्पन्न हुई। आगे चलकर फिर वह उपयुक्त अवसर आया जब नगर की उन्नति भली प्रकार हुई। सन् 1860 से लेकर सन् 1920 तक बर्लिन की सीमा में कोई परिवर्तन नहीं हुआ, यद्यपि सन् 1912 ई. में प्रमुख नगर एवं उसके आस पास के क्षेत्रों की एक संस्था का निर्माण हुआ और इसमें सम्मिलित संपूर्ण क्षेत्रों को विशाल बर्लिन के नाम से संबोधित किया गया। इस संस्था का उद्देश्य सड़कों, रेलों तथा भवन योजनाओं और सामान्य नियंत्रण रखना, आंतरिक सुरक्षा कायम करना एवं जंगलों तथा भवन निर्माण के लिए जमीन उपलब्ध करना था। इसके शीघ्र ही पश्चात् फिर कुछ सुधार करना आवश्यक प्रतीत हुआ। सन् 1920 में बर्लिन में एक नई नगरपालिका स्थापित की गई जिसमें सभी पड़ोसी क्षेत्रों को प्रभावकारी उन्नति की दृष्टि से एक प्रशासन के अंतर्गत रखा गया। इस प्रकार द्वितीय विश्वयुद्ध के पूर्व जर्मनी के इतिहास में बर्लिन का विकास चरमोत्कर्ष पर रहा।

सन् 1945 के पहले नगर की अवस्था को दृष्टिगत करते हुए यह देखा गया कि नगर के पश्चिमी भाग की ओर रहने के लिए मकान बसाए गए थे अर्थात् इसी भाग में लोग बसे। उत्तरपश्चिमी भाग में शैक्षणिक, वैज्ञानिक, एवं मिलिटरी संस्थाओं का विकास हुआ। उत्तरी भाग में यंत्रों के कार्य उन्नत हुए। उत्तर-पूर्वी भाग ऊनी सामान के निर्माण के लिए प्रसिद्ध हुआ। पूर्वी तथा दक्षिण-पूर्वी भाग में रँगाई, फर्नीचर, धातु आदि के उद्योग पनपे और दक्षिणी भाग रेल के उद्योग के लिए प्रसिद्ध हुआ। राजधानी का सामाजिक कार्यालय संबंधी जीवन रॉयल पैलेस से लेकर ब्रैडेनबर्गर टॉर तक अंटरडेन लिंडेन पर केंद्रित हुआ।

द्वितीय विश्वयुद्ध के समय बर्लिन की दशा बिल्कुल खराब हो गई और यह बुरी तरह तहस नहस हो गया। जैसा ऊपर कहा गया है, यह कई भागों में विभाजित हो गया और विभिन्न शक्तियों ने इसपर अपना प्रभुत्व जमा लिया। वास्तव में इस समय यह नगर राजनीतिक खींचा तानी का विषय बन गया था। फिर भी द्वितीय विश्वयुद्ध की समाप्ति के बाद से विभिन्न खंडों में होते हुए भी बर्लिन ने फिर उन्नति करना प्रारंभ किया परंतु वह अपनी पुरानी स्थिति में अब भी नहीं आ सका है।

बर्लिन में यातायात तथा संदेशवाहन को देखने से पता चलता है कि पश्चिमी बर्लिन में वायुयान द्वारा आना जाना बहुत अधिक होता है। घेरे के बाद अधिकतर विदेशी भ्रमणकारी वायुयानों द्वारा यहाँ आते जाते रहे हैं। यहाँ के स्थानीय उद्योग धंधों की निर्मित वस्तुएँ वायुयानों द्वारा ही बाहर भेजी जाती रही हैं। वैसे सामान्यत: रेल द्वारा भी यातायात प्रचलित है। कभी कभी सोवियत सरकार द्वारा कुछ बातों को लेकर बीच बीच में विघ्न बाधाएँ उत्पन्न हो जाया करती हैं। पूर्वी क्षेत्र से द्रुतगामी रेले पूर्वी जर्मनी तथा मध्य यूरोप के अन्य भागों में पूर्व, पश्चिम रेल यातायात के अंतर्गत, खूब प्रचलित हैं। जो भी हो, इतना अवश्य है कि विभिन्न राजनीतिक परिस्थितियों के कारण बर्लिन में यातायात बहुत बाधापूर्ण रहा है। बर्लिन में एक भाग से दूसरे भाग के बीच यातायात सेवा प्रचलित है परंतु विभागीय सीमाओं पर रेलगाड़ियाँ बदलनी पड़ती हैं। नित्य पूर्वी बर्लिन के लोग पश्चिम बर्लिन में दुकानदारी आदि कार्य करने के लिए जाते रहते हैं। वास्तव में देखा जाए तो पूर्वी तथा पश्चिमी जर्मनी की समस्या ने बर्लिन के व्यापारिक महत्व को कम कर दिया है, विशेषकर जलयातायात के मामले में।

सन् 1945 के पहले बर्लिन नगर जर्मनी का प्रसिद्ध व्यापारिक, बीमा, बैकिंग एवं दलाली का केंद्र रहा। साथ ही असंख्य विशाल भवनों के कार्यालय भी रहे। उद्योग धंधों के मामलों में भी यह नगर बेजोड़ रहा और हर प्रकर के वैज्ञानिक उपकरण, बिजली के सामान, मशीनें, मोटरें, वस्त्र, वायुयान, मशीनों के औजार, टर्बाइन, ट्रैक्टर, लेंस आदि बनाने में यूरोप में इसका प्रमुख स्थान रहा। सन् 1945 के बाद से बर्लिन ने अपनी आर्थिक क्षमता को फिर से कायम करने की कोशिश की परंतु यहाँ की विचित्र कठिन राजनीतिक परिस्थितियों ने पश्चिम बर्लिन को काफी पंगु बना दिया जिससे बेरोजगारी की समस्या काफी बढ़ गई।

यह भी देखें: जर्मनी की अर्थव्यवस्था

भूगोल[संपादित करें]

जर्मनी में बर्लिन का स्थान
12 जिलों और बर्लिन के 96 जिलों

प्रशासन[संपादित करें]

अर्थशास्त्र[संपादित करें]

शिक्षा[संपादित करें]

संस्कृति[संपादित करें]

खेल[संपादित करें]

यातायात[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]