सिंगापुर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
सिंगपुर गणराज्य
新加坡共和国 (चीनी)
Republik Singapura (मलय)
சிங்கப்பூர் குடியரசு (तमिल)

सिंगपुर का कुलचिह्न
ध्वज कुल चिह्न
राष्ट्रवाक्य: Majulah Singapura
माजुलाह सिंगापुरा  (प्रगतिशील सिंगापुर)
राष्ट्रगान: माजुलाह सिंगापुरा
राजधानीसिंगापुर नगर
1°14′N 103°55′E / 1.233°N 103.917°E / 1.233; 103.917
राजभाषा(एँ) अंग्रेज़ी (प्रधान), मलय (राष्ट्रीय), चीनी और तमिल
निवासी सिंगापुरी
सरकार संसदीय गणराज्य
 -  राष्ट्रपति सेल्लपन रामनाथन
 -  प्रधानमंत्री ली शियन लोंग
 -  संसद का वक्ता अब्दुल्लाह तर्मुगी
 -  चीफ़ जस्टिस चान सेक कियोंग
विधान मण्डल संसद
गठन
 -  स्थापना 29 जनवरी 1819 
 -  स्वशासन 3 जून 1959 
 -  युनाईटेड किंगडम से स्वतंत्रता 31 अगस्त 1963 
 -  मलेशिया में विलय 16 सितंबर 1963 
 -  मलेशिया से अलगाव 9 अगस्त 1965 
क्षेत्रफल
 -  कुल 710.2 km2 (-)
 -  जल (%) 1.444
जनसंख्या
 -  2008 जनगणना 4,839,400 (114वां)
 -  2000 जनगणना 4,117,700
सकल घरेलू उत्पाद (पीपीपी) 2008 प्राक्कलन
 -  कुल $238.755 अरब (-)
 -  प्रति व्यक्ति $51,142 (-)
मानव विकास सूचकांक (2013)वृद्धि 0.901[1]
बहुत उच्च · 9वाँ
मुद्रा सिंगापुर डॉलर (एसजीडी)
समय मण्डल एसएसटी (यू॰टी॰सी॰+8)
 -  ग्रीष्मकालीन (दि॰ब॰स॰) - (यू॰टी॰सी॰-)
दूरभाष कूट 652
इंटरनेट टीएलडी .sg
सिंगापुर नगर-देश है

सिंगपुर, आधिकारिक रूप से सिंगपुर गणराज्य, सामुद्रिक दक्षिण पूर्व एशिया में एक सम्प्रभु द्वीप देश और नगर-राज्य है। यह भूमध्य रेखा के उत्तर में लगभग एक डिग्री अक्षांश (137 किलोमीटर) पर स्थित है, मलय प्रायद्वीप के दक्षिणी सिरे से दूर, पश्चिम में मलक्का जलसन्धि, दक्षिण में सिंगपुर जलसन्धि, पूर्व में दक्षिण चीन सागर, और उत्तर में जोहोर जलसन्धि। देश का क्षेत्र एक मुख्य द्वीप, 63 उपग्रह द्वीपों, और एक बाहरी द्वीपसमूह से बना है। व्यापक भूम्युद्धार परियोजनाओं के परिणामस्वरूप देश की स्वतंत्रता के बाद से इनका संयुक्त क्षेत्र 25% बढ़ गया है। इसका विश्व में तृतीय सबसे अधिक जनसंख्या घनत्व है। बहुसांस्कृतिक आबादी के साथ और राष्ट्र के भीतर प्रमुख जातीय समूहों की सांस्कृतिक पहचान का सम्मान करने की आवश्यकता को पहचानने के साथ, सिंगपुर की चार आधिकारिक भाषाएँ हैं: अंग्रेज़ी, मलय, मन्दारिन और तमिल। अंग्रेजी भाषा सम्पर्क भाषा है और कई सार्वजनिक सेवाएँ केवल अंग्रेज़ी में उपलब्ध हैं। बहुजातीयवाद संविधान में निहित है और शिक्षा, आवास और राजनीति में राष्ट्रीय नीतियों को आकार देना जारी रखता है।

सिंगपुर का इतिहास न्यूनतम एक सहस्राब्दी पहले का है, एक सामुद्रिक जहाजान्तरण रहा है जिसे तेमासेक के रूप में जाना जाता है और बाद में कई सामुद्रिक साम्राज्यों के एक प्रमुख घटक के रूप में जाना जाता है। इसका समकालीन युग 1819 में शुरू हुआ जब स्टैम्फ़ोर्ड रैफ़ल्स ने सिंगपुर को ब्रिटिश साम्राज्य के एक पण्यालय केन्द्र स्थान के रूप में स्थापित किया। 1867 में, दक्षिण पूर्व एशिया में उपनिवेशों को पुनर्गठित किया गया और जलसन्धि उपनिवेशों के भागों के रूप में सिंगपुर ब्रिटेन के सीधे नियन्त्रण में आ गया। द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान, 1942 में जापान द्वारा सिंगपुर पर कब्जा कर लिया गया था, और 1945 में जापान के आत्मसमर्पण के पश्चात् एक अलग क्राउन कॉलोनी के रूप में ब्रिटिश नियन्त्रण में वापस आ गया। सिंगपुर ने 1959 में स्व-शासन प्राप्त किया और 1963 में मलाया के साथ, उत्तर बोर्नियो और सरवाक मलयसिया के नए संघ का भाग बन गया।। वैचारिक मतभेद, विशेष रूप से ली कुआन याउ के नेतृत्व में समतावादी "मलयीय मलयसिया" राजनैतिक विचारधारा के कथित अतिक्रमण ने मलयसिया के अन्य घटक संस्थाओं में - भूमिपुत्र और केतुआनन मेलायू की नीतियों के कथित खर्च पर - अंततः सिंगपुर से निष्कासन का नेतृत्व किया। संघ दो साल बाद; 1965 में सिंगपुर एक स्वतंत्र सम्प्रभु देश बन गया।

आधुनिक सिंगापुर

दक्षिण-पूर्व एशिया में, निकोबार द्वीप समूह से लगभग 1500 कि॰मी॰ दूर एक छोटा, सुंदर व विकसित देश सिंगापुर पिछले बीस वर्षों से पर्यटन व व्यापार के एक प्रमुख केंद्र के रूप में उभरा है। आधुनिक सिंगापुर की स्थापना सन्‌ 1819 में सर स्टेमफ़ोर्ड रेफ़ल्स ने की, जिन्हें ईस्ट इंडिया कंपनी के अधिकारी के रूप में, दिल्ली स्थित तत्कालीन वॉयसराय द्वारा, कंपनी का व्यापार बढ़ाने हेतु सिंगापुर भेजा गया था। आज भी सिंगापुर डॉलर व सेंट के सिक्कों पर आधुनिक नाम सिंगापुर व पुराना नाम सिंगापुरा अंकित रहता है। सन्‌ 1965 में मलेशिया से अलग होकर नए सिंगापुर राष्ट्र का उदय हुआ। किंवदंती है कि चौदहवीं शताब्दी में सुमात्रा द्वीप का एक हिन्दू राजकुमार जब शिकार हेतु सिंगापुर द्वीप पर गया तो वहाँ जंगल में सिंहों को देखकर उसने उक्त द्वीप का नामकरण सिंगापुरा अर्थात सिंहों का द्वीप कर दिया।

अर्थव्यवस्था

सिंगापुर विश्व की 9वीं तथा एशिया की चौथी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है। अर्थशास्त्रियों ने सिंगापुर को 'आधुनिक चमत्कार' की संज्ञा दी है। यहाँ के सारे प्राकृतिक संसाधन यहाँ के निवासी ही हैं। यहाँ पानी मलेशिया से, दूध, फल व सब्जियाँ न्यूजीलैंड व ऑस्ट्रेलिया से, दाल, चावल व अन्य दैनिक उपयोग की वस्तुएँ थाईलैंड, इंडोनेशिया आदि से आयात की जाती हैं।

१९७० के दशक से यहाँ के व्यवसाय ने ज़ोर पकड़ना शुरु किया जिसने पूरी दुनिया का ध्यान खींचा। आज मुख्य व्यवसायों में इलेक्ट्रॉनिक, रसायन और सेवाक्षेत्र की कंपनी जैसे होटल, कॉलसेंटर, बैकिंग, आउटसोर्सिंग इत्यादि प्रमुख हैं। यह विदेशी निवेश के लिये काफ़ी आकर्षक रहा है और हाल ही में यहाँ की कंपनियों ने विदेशों में अच्छा निवेश किया है।

सिंगापुर में कैनेडियन इंटरनेशनल स्कूल

सिंगापुर

सिंगापुर एक लोकतांत्रिक देश है जहाँ पीपल्स एक्शन पार्टी, (संक्षेप में PAP) का बोलबाला रहा है। ली कुआन यू इसके सबसे प्रभावशाली नेता थे जो ३1 साल तक सत्ता में रहे (1959-90)। इस दौरान सिंगापुर ने बहुत व्यावसायिक प्रगति की। सन् २००६ के चुनाव में इसने ८४ में से ८२ सीटें जीतीं। यहाँ की संसद एक सदन वाली है जिसके पास विधान बनाने का हक है, यानि विधायिका है। इसके अलावे यहाँ की सरकार में कार्यकरने वाली कार्यपालिका तथा न्याय मामलों के लिए न्यायपालिका दो अन्य अंग हैं। यहाँ की सरकार व्यवसाय को प्रभावित करती है [2]। वैसे तो यहाँ ४३ पार्टियाँ है पर कुछ मुख्य ये हैं -

  • Democratic Progressive Party
  • National Solidarity Party
  • People’s Action Party
  • People’s Liberal Democratic Party
  • Pertubuhan Kebangsaan Melayu Singapura
  • Reform Party
  • Singapore Democratic Alliance
  • Singapore Democratic Pary
  • Singapore Justice Party
  • Singapore People’s Party
  • Singapore National Front
  • Workers’ Party

पर्यटन

सिंगापुर के प्रमुख दर्शनीय स्थलों में यहाँ के तीन संग्रहालय, जूरोंग बर्ड पार्क, रेप्टाइल पार्क, जूलॉजिकल गार्डन, साइंस सेंटर सेंटोसा द्वीप, पार्लियामेंट हाउस, हिन्दू, चीनी व बौद्ध मंदिर तथा चीनी व जापानी बाग देखने लायक हैं। सिंगापुर म्यूजियम में सिंगापुर की आजादी की कहानी आकर्षक थ्री-डी वीडियो शो द्वारा बताई जाती है। इस आजादी की लड़ाई में भारतीयों का भी महत्वपूर्ण योगदान था।

रात में दमकता सिंगापुर का क्षितिज

कल्चर म्यूजियम में विभिन्न जातियों के त्योहारों को प्रदर्शित किया गया है, जिनमें दशहरा, दीपावली व इनका महत्व बताया गया है। 600 प्रजातियों व 8000 से ज्यादापक्षियों के संग्रह के साथ जुरोंग बर्ड पार्क एशिया-प्रशांत क्षेत्र का सबसे बड़ा पक्षी पार्क है। दक्षिणी ध्रुव का कृत्रिम वातावरण बनाकर यहाँ पेंग्विन पक्षी रखे गए हैं। 30 मीटर ऊँचा मानव निर्मित जलप्रपात व ऑल स्टार बर्ड शो जिसमें पक्षी टेलीफोन पर बात करते हैं, अन्य प्रमुख आकर्षण हैं।

रेप्टाइल पार्क में 10 फुट लंबे जिंदा मगरमच्छ के मुँह में प्रशिक्षक द्वारा अपना मुँह डालना व कोबरा साँप का चुंबन लेना रोमांचकारी है। जूलॉजिकल गार्डन में एनिमल फीडिंग शो सी. लायन डांस शो आदि दर्शकों का मन मोह लेते हैं।

सिंगापुर का श्री मरिअम्मन मन्दिर

यह भी देखिए

सन्दर्भ

  1. "2014 Human Development Report Summary" (PDF). संयुक्त राष्ट्र Development Programme. 2014. पपृ॰ 21–25. मूल से 29 जुलाई 2016 को पुरालेखित (PDF). अभिगमन तिथि 27 जुलाई 2014.
  2. "संग्रहीत प्रति". मूल से 22 मार्च 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 26 अप्रैल 2015.