बांग्लादेश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
बांग्लादेश गणतन्त्र
গণপ্রজাতন্ত্রী বাংলাদেশ
गणप्रजातन्त्री बांग्लदेश
ध्वज कुल चिह्न
राष्ट्रगान: आमार सोनार बांग्ला



मेरा सोने का बांग्ला
राजधानी
और सबसे बडा़ नगर
ढाका
23°42′N 90°22′E / 23.700°N 90.367°E / 23.700; 90.367
राजभाषा(एँ) बांग्ला
सदस्यता {{{membership}}}
सरकार संसदीय गणतंत्र
 -  प्रधानमंत्री शेख हसीना
 -  राष्ट्रपति अब्दुल हामिद
 -  अध्यक्ष अब्दुल हामिद
स्वतंत्रता पाकिस्तान से
 -  घोषणा 26 मार्च 1971 
 -  विजय दिवस 16 दिसंबर 1971 
क्षेत्रफल
 -  कुल 144,000 वर्ग किलोमीटर (94वाँ)
55,622 वर्ग मील
 -  जल (%) ६.०
जनसंख्या
 -  २००६ जनगणना १४७,३६५,३५२ (सातवां)
 -  २००१ जनगणना १२९,२४७,२३३1
सकल घरेलू उत्पाद (पीपीपी) २००८ प्राक्कलन
 -  कुल $२२४,८८९ बिलियन (३१वां)
 -  प्रति व्यक्ति $१३८९ (१४१ वां)
मानव विकास सूचकांक (२०१३)Green Arrow Up Darker.svg ०.५५८[1]
मध्यम · १४२वाँ
मुद्रा टाका (बीडीटी)
समय मण्डल बीडीटी (यू॰टी॰सी॰+६)
 -  ग्रीष्मकालीन (दि॰ब॰स॰) मनाया नहीं जाता (यू॰टी॰सी॰+६)
दूरभाष कूट +८८० - उपकूट
इंटरनेट टीएलडी .bd.বাংলা
1. Adjusted population, p.4, "Population Census 2001, Preliminary Report" (PDF). Bangladesh Bureau of Statistics. 2001-08. |date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
2. World Bank Development Indicators Database, 2006.

बांग्लादेश गणतन्त्र (बांग्ला) ("गणप्रजातन्त्री बांग्लादेश") दक्षिण जंबूद्वीप का एक राष्ट्र है। देश की उत्तर, पूर्व और पश्चिम सीमाएँ भारत और दक्षिणपूर्व सीमा म्यान्मार देशों से मिलती है;[2] दक्षिण में बंगाल की खाड़ी है। बांग्लादेश और भारतीय राज्य पश्चिम बंगाल एक बांग्लाभाषी अंचल, बंगाल हैं, जिसका ऐतिहासिक नाम “বঙ্গ” बंग या “বাংলা” बांग्ला है। इसकी सीमारेखा उस समय निर्धारित हुई जब 1947 में भारत के विभाजन के समय इसे पूर्वी पाकिस्तान के नाम से पाकिस्तान का पूर्वी भाग घोषित किया गया।[3]

पूर्व और पश्चिम पाकिस्तान के मध्य लगभग 1600 किमी (1000 मील) की भौगोलिक दूरी थी। पाकिस्तान के दोनों भागों की जनता का धर्म (इस्लाम) एक था, पर उनके बीच जाति और भाषागत काफ़ी दूरियाँ थीं। पश्चिम पाकिस्तान की तत्कालीन सरकार के अन्याय के विरुद्ध 1971 में भारत के सहयोग से एक रक्तरंजित युद्ध के बाद स्वाधीन राष्ट्र बांग्लादेश का उदभव हुआ।[4] स्वाधीनता के बाद बांग्लादेश के कुछ प्रारंभिक वर्ष राजनैतिक अस्थिरता से परिपूर्ण थे, देश में 13 राष्ट्रशासक बदले गए और 4 सैन्य बगावतें हुई। विश्व के सबसे जनबहुल देशों में बांग्लादेश का स्थान आठवां है। किन्तु क्षेत्रफल की दृष्टि से बांग्लादेश विश्व में 93वाँ है। फलस्वरूप बांग्लादेश विश्व की सबसे घनी आबादी वाले देशों में से एक है। मुसलमान- सघन जनसंख्या वाले देशों में बांग्लादेश का स्थान 4था है, जबकि बांग्लादेश के मुसलमानों की संख्या भारत के अल्पसंख्यक मुसलमानों की संख्या से कम है। गंगा-ब्रह्मपुत्र के मुहाने पर स्थित यह देश, प्रतिवर्ष मौसमी उत्पात का शिकार होता है और चक्रवात भी बहुत सामान्य हैं। बांग्लादेश दक्षिण एशियाई आंचलिक सहयोग संस्था, सार्क और बिम्सटेक का प्रतिष्ठित सदस्य है। यह ओआइसी और डी-8 का भी सदस्य है।[5][6]

  • जय बांग्ला (জয় বাংলা) बांग्लादेश का जातीय स्लोगाण है।
बांग्लादेश के राष्ट्रीय चिन्न
राज्य जानवर Panthera tigris.jpg
राज्य चिड़िया Oriental Magpie Robin (Copsychus saularis)- Male calling in the rain at Kolkata I IMG 3746.jpg
राज्य वृक्ष Mango blossoms.jpg
राज्य फूल Nymphaea pubescens (9149867657).jpg
राज्य जलीय जानवर PlatanistaHardwicke.jpg
राज्य सरीसृप जीव Gavial-du-gange.jpg
राज्य फल (Artocarpus heterophyllus) Jack fruits on Simhachalam Hills 01.jpg
राज्य मछली Ilish.JPG
राज्य मस्जिद Baitul Mukarram (Arabic, بيت المكرّم; Bengali, বায়তুল মুকাররম; The Holy House).jpg
राज्य मंदिर Hindu Temple in Dhaka.jpg
राज्य नदी Boat on Jamuna River.jpg
राज्य पर्वत Keokradong.jpg

इतिहास[संपादित करें]

बांग्लादेश में सभ्यता का इतिहास काफी पुराना रहा है। आज के भारत का अंधिकांश पूर्वी क्षेत्र कभी बंगाल के नाम से जाना जाता था। बौद्ध ग्रंथों के अनुसार इस क्षेत्र में आधुनिक सभ्यता की शुरुआत ७०० इसवी ईसा पू. में आरंभ हुआ माना जाता है। यहाँ की प्रारंभिक सभ्यता पर बौद्ध और हिन्दू धर्म का प्रभाव स्पष्ट देखा जा सकता है। उत्तरी बांग्लादेश में स्थापत्य के ऐसे हजारों अवशेष अभी भी मौज़ूद हैं जिन्हें मंदिर या मठ कहा जा सकता है।[7]

बंगाल का इस्लामीकरण मुगल साम्राज्य के व्यापारियों द्वारा १३ वीं शताब्दी में शुरु हुआ और १६ वीं शताब्दी तक बंगाल एशिया के प्रमुख व्यापारिक क्षेत्र के रूप में उभरा। युरोप के व्यापारियों का आगमन इस क्षेत्र में १५ वीं शताब्दी में हुआ और अंततः १६वीं शताब्दी में ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा उनका प्रभाव बढ़ना शुरु हुआ। १८ वीं शताब्दी आते-आते इस क्षेत्र का नियंत्रण पूरी तरह उनके हाथों में आ गया जो धीरे-धीरे पूरे भारत में फैल गया। जब स्वाधीनता आंदोलन के फलस्वरुप १९४७ में भारत स्वतंत्र हुआ तब राजनैतिक कारणों से भारत को हिन्दू बहुल भारत और मुस्लिम बहुल पाकिस्तान में विभाजित करना पड़ा।[8]

पाकिस्तान के गठन के समय पश्चिमी क्षेत्र में सिंधी, पठान, बलोच और मुजाहिरों की बड़ी संख्या थी, जबकि पूर्व हिस्से में बंगाली बोलने वालों का बहुमत था। हालांकि पूरबी भाग में राजनैतिक चेतना की कभी कमी नहीं रही लेकिन पूर्वी हिस्सा देश की सत्ता में कभी भी उचित प्रतिनिधित्व नहीं पा सका एवं हमेशा राजनीतिक रूप से उपेक्षित रहा। इससे पूर्वी पाकिस्तान के लोगों में जबर्दस्त नाराजगी थी। और इसी नाराजगी का राजनैतिक लाभ लेने के लिए बांग्लादेश के नेता शेख मुजीब-उर-रहमान ने अवामी लीग का गठन किया और पाकिस्तान के अंदर ही और स्वायत्तता की मांग की। 1970 में हुए आम चुनाव में पूर्वी क्षेत्र में शेख की पार्टी ने जबर्दस्त विजय हासिल की। उनके दल ने संसद में बहुमत भी हासिल किया लेकिन बजाए उन्हें प्रधानमंत्री बनाने के उन्हें जेल में डाल दिया गया। और यहीं से पाकिस्तान के विभाजन की नींव रखी गई।[9]

1971 के समय पाकिस्तान में जनरल याह्या खान राष्ट्रपति थे और उन्होंने पूर्वी हिस्से में फैली नाराजगी को दूर करने के लिए जनरल टिक्का खान को जिम्मेदारी दी। लेकिन उनके द्वारा दबाव से मामले को हल करने के प्रयास किये गये जिससे स्थिति पूरी तरह बिगड़ गई। 25 मार्च 1971 को पाकिस्तान के इस हिस्से में सेना एवं पुलिस की अगुआई में जबर्दस्त नरसंहार हुआ। इससे पाकिस्तानी सेना में काम कर रहे पूर्वी क्षेत्र के निवासियों में जबर्दस्त रोष हुआ और उन्होंने अलग मुक्ति वाहिनी बना ली। पाकिस्तानी फौज का निरपराध, हथियार विहीन लोगों पर अत्याचार जारी रहा। जिससे लोगों का पलायन आरंभ हो गया जिसके कारण भारत ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से लगातार अपील की कि पूर्वी पाकिस्तान की स्थिति सुधारी जाए, लेकिन किसी देश ने ध्यान नहीं दिया और जब वहां के विस्थापित लगातार भारत आते रहे तो अप्रैल 1971 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने मुक्ति वाहिनी को समर्थन देकर, बांग्लादेश को आजाद करवाने का निर्णय लिया।[10]

बांग्लादेश बनने से पूर्व[संपादित करें]

बांग्लादेश बनने से पहले पूर्वी पाकिस्तान में पाकिस्तानी सेना ने स्थानीय नेताओं और धार्मिक चरमपंथियों की मदद से मानवाधिकारों का हनन किया। २५ मार्च १९७१ को शुरू हुए ऑपरेशन सर्च लाइट से लेकर पूरे बांग्लादेश की आज़ादी की लड़ाई के दौरान पूर्वी पाकिस्तान में जमकर हिंसा हुई। बांग्लादेश सरकार के मुताबिक इस दौरान करीब ३० लाख लोग मारे गए। हालांकि, पाकिस्तान सरकार की ओर से गठित किए गए हमूदूर रहमान आयोग ने इस दौरान सिर्फ २६ हजार आम लोगों की मौत का नतीजा निकाला।[11]

स्वतन्त्रता दिवस[संपादित करें]

26 मार्च को प्रत्येक वर्ष यह देश अपना स्वतन्त्रता दिवस मानता है। इस दिन यहाँ राष्ट्रीय अवकाश होता है। उल्लेखनीय है, कि 26 मार्च 1971 में बांग्लादेश की स्वतंत्रता की घोषणा की गई है और मुक्ति युद्ध शुरू कर दिया गया था। ईस्ट बंगाल के लोगों के सभी वर्गों के मुक्ति के लिए पाकिस्तानी सेना के शासकों के निरंतर उत्पीड़न से बचाने के बांग्लादेश युद्ध में भाग लिया। स्वतंत्रता नौ महीने मानव जीवन के मामले में पाकिस्तानी सेना और के बारे में 3 मिलियन की हानि के खिलाफ गृहयुद्ध के माध्यम से प्राप्त किया गया था।[12] अंत में जीत 16 दिसम्बर को एक ही वर्ष में हासिल किया गया, जो विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है।[13] इस प्रकार सन् १९७१ में पूर्वी पाकिस्तान बांग्लादेश बना।[14]

राजनीति[संपादित करें]

बांग्लादेश की राजनीति में राष्ट्रपति संवैधानिक प्रधान होता है, जबकि प्रधानमंत्री देश का प्रशासनिक प्रमुख होता है। राष्ट्रपति को हर पाँच साल बाद चुना जाता है। प्रधानमंत्री की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा की जाती है, प्रधानमंत्री ऐसे व्यक्ति को चुना जाता है जो उस समय संसद का सदस्य हो और राष्ट्रपति को विश्वास दिलाये कि उसे संसद में बहुमत का समर्थन हासिल है। प्रधानमंत्री अपने मंत्रियों की कैबिनेट गठित करता है जिसके नियुक्ति की मंजूरी राष्ट्रपति देता है।[15]

बांग्लादेश की संसद को जातीय संसद कहा जाता है जिसके 300 सदस्य प्रत्यक्ष मतदान द्वारा चुनकर आते हैं और पाँच साल तक अपने क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। देश की सबसे बड़ी वैधानिक संस्था बांग्लादेशी सर्वोच्च न्यायालय जिसके प्रधान न्यायाधीश और अन्य न्यायधीशों की नियुक्ति राष्ट्रपति करता है।[16]

क्षेत्र[संपादित करें]

लंदन शहीद मीनार, अलताब अली पार्क, ढाका
मर्मी लोग बांग्लादेश में सबसे बड़े गैर बंगाली समूहों में से एक हैं।

बांग्लादेश को छः उपक्षेत्रों में बांटा गया है जिनका नाम उन राज्यों की राजधानियों के नाम पर रखा गया है।[17][18]

भूगोल[संपादित करें]

बांग्लादेश का अधिकतर हिस्सा समुद्र की सतह से बहुत कम ऊँचाई पर स्थित है। ज्यादातर हिस्सा भारतीय उपमहाद्वीप में नदियों के मुहाने पर स्थित है जो सुंदरवन के नाम से जाना जाता है। ये मुहाने गंगा (स्थानीय नाम पद्मा नदी), ब्रम्हपुत्र, यमुना और मेघना नदियों के हैं जो बंगाल की खाड़ी क्षेत्र में अवस्थित हैं जो ज्यादातर हिमालय से निकलती हैं। बांग्लादेश की मिट्टी बहुत ही उपजाऊ है लेकिन बाढ और अकाल दोनों से काफी प्रभावित होती रहती है।[19] पहाड़ी क्षेत्र सिर्फ़ चिटागांग जिले में स्थित हैं जिसकी सबसे ऊँची चोटी केओक्रादांग 1,230 मीटर ऊँची है जो सिलहट मंडल के दक्षिण पूर्व में स्थित है।[20][21]

बांग्ला देश की जलवायु उष्णकटिबंधीय जलवायु है, यहाँ अक्तूबर से मार्चतक जाड़े का मौसम होता है। मार्च से जून तक उमस भरी गर्मी होती है और मार्च से जून तक मानसून के मौसम की बारिश होती है। बांग्लादेश को प्राय: हर साल चक्र्वातीय तूफान का सामन करना पड़ता है। मिट्टी का अपरदन और वनों की अंधाधुंध कटाई यहाँ की कुछ बड़ी समस्याएँ हैं। ढाका यहाँ का सबसे बड़ा शहर है, अन्य बड़े शहरों में चिटागांग, राजशाही और खुलना हैं। चिटागांग के दक्षिण में स्थित काक्स बाजार विश्व के सबसे लंबी बीच में से एक है।[22][23]

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

वर्षवार जनसंख्या (लाख मे)
वर्ष जन.
1971 67.8
1980 80.6 18.9%
1990 105.3 30.6%
2000 129.6 23.1%
2010 148.7 14.7%
2012 161.1 8.3%

2011 की जनगणना के अनुसार बांग्लादेश की जनसंख्या 142.3 लाख है।[24] एक अनुमान के मुताबिक 2007 से 2010 के बीच बांग्लादेश की जनसंख्या 150 से 170 लाख के बीच होना चाहिए था, किन्तु अनुमान से कम है, लेकिन यह दुनिया का 8 वां सबसे अधिक आबादी वाला देश है। यद्यपि 1951 में, इस देश की जनसंख्या 44 लाख थी।[25] यह दुनिया का सबसे घनी आबादी वाला देश है और बहुत छोटे देशों तथा शहर राज्यों शामिल कराते हुये जनसंख्या घनत्व के मामले में यह विश्व में 11 वें स्थान पर है।[26]

राजनैतिक दल[संपादित करें]

बैतूल मुकर्रम राष्ट्रीय मस्जिद है।
गुरुद्वारा नानक शाही ढाका में एक सिख गुरुद्वारा है।
अर्मेनियाई चर्च (ढाका) पुराने ढाका में स्थित है।

राष्ट्रगान[संपादित करें]

गुरुदेव रवीन्द्रनाथ ठाकुर विश्व के एकमात्र व्यक्ति हैं, जिनकी रचना को एक से अधिक देशों क्रमश: भारत और बांग्लादेश में राष्ट्रगान का दर्जा प्राप्त है। उनकी कविता 'आमार सोनार बाँग्ला' बांग्लादेश का राष्ट्रगान है।

भाषा[संपादित करें]

बांग्लादेश में अपनी मूल भाषा के रूप में 98% से अधिक बंगाली भाषा बोलते हैं, जो यहाँ की आधिकारिक भाषा है।[27][28] अंग्रेजी का भी मध्य और उच्च वर्ग के बीच एक दूसरी भाषा के रूप में प्रयोग किया जाता है और भी व्यापक रूप से उच्च शिक्षा और कानूनी प्रणाली में इसका इस्तेमाल होता है।[29]

मीडिया[संपादित करें]

== सन्दर्भ == बांग्लादेश ने हाल ही सरकारी नोकरियों से आरक्षण का प्रावधान खत्म की।

  1. "Human Development Report 2014 Summary" (PDF). The संयुक्त राष्ट्र. अभिगमन तिथि २४ जुलाई २०१४.
  2. "Rohingya crisis: Security tightened along India-Myanmar border".
  3. Salik, Siddiq (1978). Witness to Surrender. Oxford University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-19-577264-4.
  4. "Special report: The Breakup of Pakistan 1969-1971".
  5. "Meeting Millennium Development Goals". बीबीसी न्यूज़. अभिगमन तिथि 27 मार्च 2014.
  6. "Ban lauds Bangladesh's progress on women's and children's health". UN News Center. संयुक्त राष्ट्र. 15 नवम्बर 2011. अभिगमन तिथि 27 मार्च 2014.
  7. LaPorte, R (1972). "Pakistan in 1971: The Disintegration of a Nation". Asian Survey. 12 (2): 97–108. डीओआइ:10.1525/as.1972.12.2.01p0190a.
  8. James Heitzman and Robert L. Worden, संपा॰ (1989). "Early History, 1000 B.C.-A.D. 1202". Bangladesh: A country study. Library of Congress. OCLC 15653912. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 82-90584-08-3.
  9. Bharadwaj, G (2003). "The Ancient Period". प्रकाशित Majumdar, RC. History of Bengal. B.R. Publishing Corp.
  10. विजय दिवस
  11. 1971 भारत-पाक युद्ध की कुछ यादें - चरम पर था भारतीय नौसेना का पराक्रम
  12. "Independence Day of Bangladesh-26 मार्च 1971 | Best Travel Site". Xplore4life.com. अभिगमन तिथि 27 मार्च 2014.
  13. "तेरह दिन का युद्ध और एक नए राष्ट्र का जन्म".
  14. "Constitution of Bangladesh". Parliament.gov.bd. अभिगमन तिथि 27 मार्च 2014.
  15. Mascarenhas, A (1986). Bangladesh: A Legacy of Blood. Hodder & Stoughton, London. OCLC 13004864 16583315 242251870 |oclc= के मान की जाँच करें (मदद). आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-340-39420-X.
  16. Baxter, C (1997). Bangladesh, from a Nation to a State. Westview Press. OCLC 47885632. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8133-3632-5.
  17. "Rangpur becomes a division". bdnews24.com. 25 जनवरी 2010. अभिगमन तिथि 27 मार्च 2014.
  18. Local Government Act, No. 20, 1997
  19. Bangladesh cyclone of 1991. Britannica Online Encyclopedia.
  20. Collins, L; D Lapierre (1986). Freedom at Midnight, Ed. 18. Vikas Publishers, नई दिल्ली. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-7069-2770-2.
  21. "Lowest temperature in Jessore". bdnews24.com. 12 जनवरी 2011
  22. Sen, Amartya (1973). Poverty and Famines. Oxford University Press. OCLC 10362534 177334002 191827132 31051320 40394309 53621338 63294006 |oclc= के मान की जाँच करें (मदद). आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-19-828463-2.
  23. Brijen Kishore Gupta (1966). Sirajuddaullah and the East India company, 1756–1757, background to the foundation of British power in India. Brill Archive. पपृ॰ 134–. GGKEY:RS7D7HRH8KA. अभिगमन तिथि 27 मार्च 2014.
  24. "Bangladesh's Population to Exceed 160 Mln after Final Census Report". English.cri.cn. अभिगमन तिथि 28 मार्च 2014.
  25. "Bangladesh – population". Library of Congress Country Studies.
  26. "Population density – Persons per sq km 2010 Country Ranks". मूल से 24 अक्टूबर 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 मार्च 2014.
  27. "Condition of English in Bangladesh". ESL Teachers Board. अभिगमन तिथि 28 मार्च 2014.
  28. Constitution of Bangladesh, Part I, Article 5.
  29. S. M. Mehdi Hasan, Condition of English in Bangladesh: Second Language or Foreign Language. Retrieved 28 मार्च 2014.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

बांग्लादेश के बारे में, विकिपीडिया के बन्धुप्रकल्पों पर और जाने:
Wiktionary-logo-hi-without-text.svg शब्दकोषीय परिभाषाएं
Wikibooks-logo.svg पाठ्य पुस्तकें
Wikiquote-logo.svg उद्धरण
Wikisource-logo.svg मुक्त स्रोत
Commons-logo.svg चित्र एवं मीडिया
Wikinews-logo.svg समाचार कथाएं
Wikiversity-logo-en.svg ज्ञान साधन