उत्तर कोरिया

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Democratic People's Republic of Korea
조선민주주의인민공화국
जोसन मिंजुजुई इंमिं गोंगहुआगुग

कोरिया जनवादी लोकतांत्रिक गणराज्य
ध्वज कुल चिह्न
राष्ट्रवाक्य: 강성대국
"शक्तिशाली और समृद्ध देश"
राष्ट्रगान: देशभक्ति का गीत (राष्ट्रगान उत्तर कोरिया) (अंग्रेज़ी: Aegukka)
राजधानी
और सबसे बडा़ नगर
प्योंगयांग
39°2′N 125°45′E / 39.033°N 125.750°E / 39.033; 125.750
राजभाषा(एँ) कोरियाई भाषा
निवासी उत्तरी कोरियाई, कोरियाई
सरकार जूचे समाजवादी गणराज्य,
एकल दल वामपंथी राज्य
 -  गणराज्य के चीर अध्यक्ष किम इल-सुंग
(दिवंगत)
 -  राष्ट्रीय रक्षा आयोग के अध्यक्ष किग जोंग-इल
 -  सुप्रीम पीपुल्स असेंबली के अध्यक्ष किम यांग-नाम
 -  प्रधानमंत्री किम यांग-इल
विधान मण्डल सुप्रीम पीपुल्स असेंबली
स्थापना
 -  स्वतंत्रता की घोषणा १ मार्च १९१९ 
 -  मुक्ति 15 अगस्त १९४५ 
 -  आधिकारिक घोषणा ९ सितंबर १९४८ 
क्षेत्रफल
 -  कुल १२०,५४० वर्ग किलोमीटर (९८ वां)
४६,५२८ वर्ग मील
 -  जल (%) ४.८७
जनसंख्या
 -  २००९ जनगणना २२,६६६,००० (५१ वां)
सकल घरेलू उत्पाद (पीपीपी) २००७ प्राक्कलन
 -  कुल $ ४० बिलियन (९५ वां)
 -  प्रति व्यक्ति $१,७०० (२००८ अनु.) (१९१ वां)
मानव विकास सूचकांक (१९९८) 0.७६६
उच्च · ७५ वां
मुद्रा उत्तर कोरियाई वॉन (₩) (KPW)
समय मण्डल कोरिया मानक समय (यू॰टी॰सी॰+९)
दिनांक प्रारूप yy, yyyy년 mm월 dd일
yy, yyyy/mm/dd (CE–१९११, CE)
दूरभाष कूट ८५०
इंटरनेट टीएलडी .kp
1. ^ अ. १९९४ में निधन, १९९८ में चीर अध्यक्ष घोषित।

^ ब. किग जोंग-इल देश और सरकार में किसी पद पर काबिज नहीं होने के बावजूद देश के सबसे बड़ी हस्ती हैं। इनका आधिकारिक दर्जा उत्तर कोरिया राष्ट्रीय रक्षा आयोग के अध्यक्ष के तौर पर है, जिस पर वे १९९४ से बने हुए हैं।

^ स. किग यांग-नाम विदेश मामलों के राज्य प्रमुख हैं।

उत्तर कोरिया, आधिकारिक रूप से कोरिया जनवादी लोकतांत्रिक गणराज्य (हंगुल: 조선 민주주의 인민 공화국, हांजा:朝鲜民主主义人民共和国) पूर्वी एशिया में कोरिया प्रायद्वीप के उत्तर में बसा हुआ देश है। देश की राजधानी और सबसे बड़ा शहर प्योंगयांग है। कोरिया प्रायद्वीप के 38 वां समानांतर पर बनाया गया कोरियाई सैन्यविहीन क्षेत्र उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया के बीच विभाजन रेखा के रूप में कार्य करता है। अमनोक नदी और तुमेन नदी उत्तर कोरिया और चीन के बीच सीमा का निर्धारण करती है, वहीं धुर उत्तर-पूर्वी छोर पर तुमेन नदी की एक शाखा रूस के साथ सीमा बनती है।

1910 में, कोरिया साम्राज्य पर जापान के द्वारा कब्जा कर लिया गया था। 1945 में द्वितीय विश्व युद्ध के अंत में जापानी आत्मसमर्पण के बाद, कोरिया को संयुक्त राज्य और सोवियत संघ द्वारा दो क्षेत्रों में विभाजित किया कर दिया गया, जहाँ इसके उत्तरी क्षेत्र पर सोवियत संघ तथा दक्षिण क्षेत्र पर अमेरिका द्वारा कब्ज़ा कर लिया गया। इसके एकीकरण पर बातचीत विफल रही, और 1948 में, दोनों क्षेत्रो पर अलग-अलग देश और सरकारें: उत्तर में सोशलिस्ट डेमोक्रेटिक पीपुल रिपब्लिक ऑफ कोरिया, और दक्षिण में पूंजीवादी गणराज्य कोरिया बन गईं। दोनों देश के बीच एक यूद्ध (1950-1953) भी लड़ा जा चूका हैं। कोरियाई युद्धविधि समझौता से युद्धविराम तो हुआ, लेकिन दोनों देश के बीच शांति समझौता पर हस्ताक्षर नहीं किए गए।[1]


उत्तर कोरिया आधिकारिक तौर पर खुद को आत्मनिर्भर समाजवादी राज्य के रूप में बताता है।[2] और औपचारिक रूप से चुनाव भी किया जाता है। हालांकि आलोचक इसे अधिनायकवादी तानाशाही का रूप मानते है, क्युकि यहाँ की सत्ता पर किम इल-सुंग और उसके परिवार के लोगो का अधिपत्य हैं। कई अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के अनुसार उत्तर कोरिया में मानवाधिकार उल्लंघन का समकालीन दुनिया में कोई समानांतर नहीं है।[3][4][5] सत्तारूढ़ परिवार के सदस्य की अगुवाई में कोरिया की श्रमिक पार्टी (डब्ल्यूपीके), देश की सत्ता चलती है और दोनों देशो के पुनर्मिलन के लिए डेमोक्रेटिक फ्रंट का नेतृत्व करता है जिसमें सभी राजनीतिक अधिकारियों के सदस्य होने की आवश्यकता होती है।[6]

राष्ट्रीय आत्मनिर्भरता की विचारधारा "जुचे", 1972 में "मार्क्सवादी-लेनीनवादी के रचनात्मक प्रयोग" के रूप में संविधान में पेश की गई। राज्य के उद्यमों और सामूहिक कृषि के माध्यम से कृषि उत्पादन पर राज्य का स्वामित्व होता हैं। स्वास्थ्य सेवाओं, शिक्षा, आवास और खाद्य उत्पादन जैसी अधिकांश सेवाएं सब्सिडी वाली या राज्य-वित्त पोषित हैं। 1994 से 1998 तक, उत्तर कोरिया में अकाल पड़ा था, जिसके परिणामस्वरूप 0.24 से 3.5 मिलियन लोगों की मौत हुई और देश अब भी खाद्य उत्पादन में संघर्ष कर रहा है।[7] उत्तर कोरिया सोंगुन या "सैन्य-पहले" नीति का पालन करता है।[8] 1.21 मिलियन की इसकी सक्रिय सेना, चीन, अमेरिका और भारत के बाद दुनिया में चौथी सबसे बड़ी है।[9] नार्थ कोरिया एक परमाणु हथियार संपन्न देश हैं।.[10][11] उत्तर कोरिया अपने आप को एक नास्तिक देश मानता है यहाँ पर कोई आधिकारिक धर्म भी नहीं है साथ ही सार्वजनिक रूप से धर्म को एक हासिए पे ही रखा जाता हैं।

इतिहास[संपादित करें]

जापानी आधिपत्य (1910-1945)[संपादित करें]

सन् १९०५ में रुसो-जापान युद्ध के बाद जापान द्वारा कब्जा किए जाने के पहले प्रायद्वीप पर कोरियाई साम्राज्य का शासन था। सन् १९४५ में द्वितीय विश्व युद्ध की समाप्ति के बाद यह सोवियत संघ और अमेरिका के कब्जे वाले क्षेत्रों में बांटा दिया गया। उत्तर कोरिया ने संयुक्त राष्ट्र संघ की पर्यवेक्षण में सन् १९४८ में दक्षिण में हुए चुनाव में भाग लेने से इंकार कर दिया, जिसके परिणामस्वरूप दो कब्जे वाले क्षेत्रों में अलग कोरियाई सरकारों का गठन हुआ। उत्तर और दक्षिण कोरिया दोनों ही पूरे प्रायद्वीप पर संप्रभुता का दावा किया, जिसकी परिणति सन् १९५० में कोरियाई युद्ध के रूप में हुई। सन् 1953 में हुए युद्धविराम के बाद लड़ाई तो खत्म हो गई, लेकिन दोनों देश अभी भी आधिकारिक रूप से युद्धरत हैं, क्योंकि शांतिसंधि पर कभी हस्ताक्षर नहीं किए गए। दोनों देशों को सन् १९९१ में संयुक्त राष्ट्र में स्वीकार किया गया। २६ मई २००९ में उत्तर कोरिया ने एकतरफा युद्धविराम वापस ले लिया।

सोवियत आधिपत्य और कोरिया का विभाजन (1945–1950)[संपादित करें]

कोरियाई युद्ध (1950-1953)[संपादित करें]

युद्ध के बाद की स्थिति[संपादित करें]

21वीं सदी[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "गुरिल्ला वार क्षमताओं को बढ़ाता नार्थ कोरिया :यू.एस". Associated Press. FOX News Network, LLC. 23 June 2009. http://www.foxnews.com/story/0,2933,528320,00.html. अभिगमन तिथि: 4 July 2009. 
  2. "Preamble". Socialist Constitution of the Democratic People's Republic of Korea. Pyongyang: Foreign Languages Publishing House. 2014. प॰ 1. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-9946-0-1099-1. Archived from the original on 8 June 2016. https://web.archive.org/web/20160608030306/http://www.naenara.com.kp/en/book/download.php?4%2B4047 Amended and supplemented on 1 April, Juche 102 (2013), at the Seventh Session of the Twelfth Supreme People's Assembly. 
  3. "Report of the Commission of Inquiry on Human Rights in the Democratic People's Republic of Korea, Chapter VII. Conclusions and recommendations", United Nations Office of the High Commissioner for Human Rights: प॰ 346, 17 February 2014, http://www.ohchr.org/Documents/HRBodies/HRCouncil/CoIDPRK/Report/A.HRC.25.CRP.1_ENG.doc, अभिगमन तिथि: 1 November 2014 
  4. "Issues North Korea". Amnesty International UK. http://www.amnesty.org.uk/issues/North-Korea. अभिगमन तिथि: 1 November 2014. 
  5. "World Report 2014: North Korea". Human Rights Watch. https://www.hrw.org/world-report/2014/country-chapters/north-korea. अभिगमन तिथि: 1 November 2014. 
  6. "The Parliamentary System of the Democratic People's Republic of Korea" (PDF). Constitutional and Parliamentary Information. Association of Secretaries General of Parliaments (ASGP) of the Inter-Parliamentary Union. p. 5. Archived from the original on 3 March 2012. https://web.archive.org/web/20120303054935/http://www.asgp.info/Resources/Data/Documents/CJOZSZTEPVVOCWJVUPPZVWPAPUOFGF.pdf. अभिगमन तिथि: 1 October 2010. 
  7. "UN: North Korea's policies cause the nation's food shortages". Pajamas Media. 23 October 2009. http://www.thenational.ae/featured-content/latest/un-north-koreas-policies-cause-the-nations-food-shortages. अभिगमन तिथि: 22 October 2011. 
  8. H. Hodge (2003). "North Korea’s Military Strategy", Parameters, U.S. Army War College Quarterly.
  9. Bureau of East Asian and Pacific Affairs (April 2007). "पृष्ठभूमि नोट: उत्तर कोरिया". United States Department of State. http://www.state.gov/r/pa/ei/bgn/2792.htm. अभिगमन तिथि: 1 August 2007. 
  10. "सशस्त्र बलों: पूरी तरह से सशस्त्र सेना". The Economist. 19 July 2011. http://www.economist.com/blogs/dailychart/2011/07/armed-forces. अभिगमन तिथि: 28 July 2011. 
  11. Anthony H. Cordesman (21 July 2011). कोरियाई सैन्य बैलेंस. Center for Strategic & International Studies. प॰ 156. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-89206-632-2. http://csis.org/files/publication/110712_Cordesman_KoreaMilBalance_WEB.pdf. अभिगमन तिथि: 28 July 2011. "The DPRK has implosion fission weapons." 

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]