कोरियाई युद्ध

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
कोरियाई युद्ध
शीतयुद्ध का भाग
Korean War Montage 2.png
तिथि 25 जून, 1950 - 27 जुलाई, 1953
(3 साल, 1 महीना, 2 दिन)
स्थान कोरियाई प्रायद्वीप ,पीला सागर ,जापान सागर, कोरिया जलडमरूमध्य, चीन-उत्तर कोरिया सीमा
परिणाम अनिर्णायक, सैन्य गतिरोध
  • दक्षिण कोरिया के उत्तर कोरियाई आक्रमण को खदेड़ा गया
  • उत्तर कोरिया पर अमेरिका के नेतृत्व वाले संयुक्त राष्ट्र के आक्रमण को निरस्त किया गया
  • दक्षिण कोरिया के चीनी और उत्तर कोरियाई आक्रमण को खदेड़ा गया
  • 1953 में कोरियाई युद्धविराम समझौते पर हस्ताक्षर किए गए
  • कोरियाई संघर्ष जारी
क्षेत्रीय
बदलाव
कोरियाई विसैन्यीकृत क्षेत्र स्थापित किया गया
योद्धा

मेडिकल सहायता
Flag of डेनमार्क डेनमार्क
Flag of भारत भारत
Flag of इटली इटली
Flag of पश्चिम जर्मनी पश्चिम जर्मनी
Flag of नॉर्वे नॉर्वे
Flag of स्वीडन स्वीडन

अन्य सहायता
Flag of क्यूबा क्यूबा
Flag of इज़राइल इज़राइल
Flag of अल साल्वाडोर अल साल्वाडोर
Flag of जापान जापान
फ्रेंकोइस्ट स्पेन
Flag of ताइवान ताईवान

सेनानायक
दक्षिण कोरिया रई सिन्ग-मैन

दक्षिण कोरिया चुंग इल-क्वोन
दक्षिण कोरिया पाइक सुन-यूप
दक्षिण कोरिया शिन सुंग-मो
संयुक्त राज्य हैरी एस ट्रूमैन
संयुक्त राज्य ड्वाइट डेविड आइज़नहावर
संयुक्त राज्य रॉबर्ट ए लवेटी
संयुक्त राज्य डगलस मैकआर्थर
संयुक्त राज्य मैथ्यू रिडवे
संयुक्त राज्य मार्क डब्ल्यू क्लार्क
यूनाइटेड किंगडम क्लिमेण्ट रिचर्ड एट्ली
यूनाइटेड किंगडम विन्सटन चर्चिल

उत्तर कोरिया किम इल-सुंग

उत्तर कोरिया पाक मान-योंग
उत्तर कोरिया चो योंग-गॉन
उत्तर कोरिया किम चाके 
चीनी जनवादी गणराज्य माओ से-तुंग
चीनी जनवादी गणराज्य झ़ोउ एनलाई
चीनी जनवादी गणराज्य पेंग देहुआई
चीनी जनवादी गणराज्य चेन गेंगो
चीनी जनवादी गणराज्य देंग हुआ
चीनी जनवादी गणराज्य हांग ज़ुएझी
सोवियत संघ जोसेफ स्टालिन
सोवियत संघ पावेल ज़िगरेव
सोवियत संघजॉर्जी मालेंकोव

शक्ति/क्षमता

Total: 972,214

16,42,600
सूचना: वास्तविक संख्या विभिन्न स्वरूपों में भिन्न होती है

मृत्यु एवं हानि
Total: 178,426 dead and 32,925 missing
Total wounded: 566,434
Total dead: 367,283–750,282
Total wounded: 686,500–789,000
  • कुल नागरिक मारे गए/घायल: 2.5 मिलियन (est.)[7]
  • दक्षिण कोरिया: 990,968
    373,599 मारे गए[7]
    229,625 घायल[7]
    387,744 अपहरण/लापता[7]
  • उत्तर कोरिया: 1,550,000 (est.)[7]
युद्ध के आरम्भिक दिनों में अधिकार-क्षेत्र बार-बार बदलते रहे। अन्ततः सीमा स्थिर हुई।
उत्तर कोरिया और चीनी सेनाएँ
दक्षिण कोरिया, अमेरिका, कॉमनवेल्थ तथा संयुक्त राष्ट्र की सेनायें

कोरियाई युद्ध(1950-53)का प्रारंभ 25 जून, 1950 को उत्तरी कोरिया से दक्षिणी कोरिया पर आक्रमण के साथ हुआ।यह शीत युद्ध काल में लड़ा गया सबसे पहला और सबसे बड़ा संघर्ष था।एक तरफउत्तर कोरिया था जिसका समर्थन कम्युनिस्ट सोवियत संघ तथा साम्यवादी चीन कर रहे थे, दूसरी तरफ दक्षिणी कोरिया था जिसकी रक्षा अमेरिका कर रहा था।[25]युद्ध अन्त में बिना निर्णय ही समाप्त हुआ परन्तु जन क्षति तथा तनाव बहुत ज्यादा बढ़ गया था।

कोरिया-विवाद सम्भवतः संयुक्त राष्ट्र संघ के शक्ति-सामर्थ्य का सबसे महत्वपूर्ण परीक्षण था। अंतर्राष्ट्रीय राजनीति के विद्वान शूमा ने इसे “सामूहिक सुरक्षा परीक्षण” की संज्ञा दी है। 2020 में इस युद्ध के 70 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में दक्षिण कोरिया ने उस युद्ध में अहम भूमिका निभाने वाले भारतीय कर्नल(स्वर्गीय) ए.जी.रंगराज को अपने देश का सबसे बड़ा युद्ध सम्मान'वॉर हीरो'से सम्मानित करने का फैसला किया है।लेफ्टिनेंट कर्नल ए. जी. रंगराज की अगुवाई में 60वीं पैराशूट फील्ड एंबुलेंस ने नॉर्थ और साउथ कोरिया के बीच हुई जंग में मोबाइल आर्मी सर्जिकल हॉस्पिटल (MASH) को चलाया था।वेजिस प्लाटून की अगुवाई कर रहे थे उसमें कुल 627 जवान थे।[26]

युद्ध के पूर्व की स्धिति[संपादित करें]

1904-1905 में हुए रूस-जापान युद्ध के बाद जापान द्वारा कब्जा किए जाने के पहले प्रायद्वीप पर कोरियाई साम्राज्य का शासन था। सन् 1945 में द्वितीय विश्व युद्ध की समाप्ति के बाद यह सोवियत संघ और अमेरिका के कब्जे वाले क्षेत्रों में बांटा दिया गया।उत्तर कोरिया ने संयुक्त राष्ट्र संघ की पर्यवेक्षण में सन् 1948 में दक्षिण में हुए चुनाव में भाग लेने से इंकार कर दिया।जिसके परिणामस्वरूप दो कब्जे वाले क्षेत्रों में अलग कोरियाई सरकारों का गठन हुआ।उत्तरी कोरिया में कोरियाई कम्युनिस्टों के नेतृत्व में कोरियाई लोक जनवादी गणराज्यकी सरकार बनी।तथा दक्षिण भाग में अनेक पार्टियों की कोरियई गणराज्य की लोकतांत्रिक सरकार का गठन किया गया जिसका नेतृत्व सिंगमन री कर रहा था। री कम्युनिस्ट विरोधी था तथा वह कम्युनिज्म के फैलाव को रोकने के लिए च्यांग-काई शेक के साथ गठबंधन करना चाहता था । उत्तर और दक्षिण कोरिया दोनों ही पूरे प्रायद्वीप पर संप्रभुता का दावा किया,जिसकी परिणति सन् 1950 में कोरियाई युद्ध के रूप में हुई।सन् 1953 में हुए युद्धविराम के बाद लड़ाई तो खत्म हो गई,लेकिन दोनों देश अभी भी आधिकारिक रूप से युद्धरत हैं।[27]

कारण[संपादित करें]

द्वितीय विश्वयुद्ध के अंतिम दिनों में मित्र-राष्ट्रों में यह तय हुआ कि जापानी आत्म-समर्पण के बाद सोवियत सेना उत्तरी कोरिया के 38 वें अक्षांश तक तथा संयुक्त राष्ट्र संघ की सेना इस लाइन के दक्षिण भाग की निगरानी करेगी। दोनों शक्तियों ने “अन्तिम कोरियाई प्रजातांत्रिक सरकार” की स्थापना के लिए संयुक्त आयोग की स्थापना की। किन्तु 25 जून, 1950 को उत्तरी कोरिया ने दक्षिण कोरिया पर आक्रमण कर दिया। इसी दिन सुरक्षा परिषद में सोवियत अनुपस्थिति का फायदा उठाते हुए अमरीका ने अन्य सदस्यों से उत्तरी कोरिया को आक्रमणकारी घोषित करवा दिया। सुरक्षा परिषद ने यह सिफारिश की संयुक्त राष्ट्र संघ के सदस्य कोरियाई गणराज्य को आवश्यक सहायता प्रदान करे जिससे वह सशस्त्र आक्रमण का मुकाबला कर सके तथा उस क्षेत्र में शांति और सुरक्षा स्थापित की जा सके। पहली बार 7 जुलाई, 1950 को अमरीकी जनरल मैकार्थर की कमान में संयुक्त राष्ट्र संघ के झण्डे के नीचे संयुक्त कमान का निर्माण किया गया। सोल में कम्युनिस्ट समर्थकों के दमन के बाद उत्तर कोरिया के तत्कालीन नेता किम उल-सुंग ने दक्षिण कोरिया के ख़िलाफ़ मोर्चा खोल दिया था।किम उल-सुंग उत्तर कोरिया के वर्तमान शासक किम उल-जोंग के दादा थे।

लेकिन सोवियत संघ ने बाद में सुरक्षा परिषद् की कार्रवाई में भाग लेना आरंभ कर दिया और कोरिया में संयुक्त राष्ट्र संघ की कार्रवाई रोकने के लिए “वीटो” का प्रयोग कर दिया। इसके परिणामस्वरूप 3 नवम्बर, 1950 को महासभा ने “शांति के लिए एकता प्रस्ताव” पास कर अतर्राष्ट्रीय शांति और सुरक्षा का उत्तरदायित्व स्वयं ले लिया। फलस्वरूप अमरीकी और चीनी सेनाएँ कोरियाई मामले को लेकर उलझ पड़ी।युद्ध शुरू होने के कुछ महीनों के बाद चीन को ये आशंका सताने लगी कि अमरीकी फौज उसकी सरहदों की तरफ रुख कर सकती है।इसलिए उसने तय किया कि इस लड़ाई में वो अपने साथी उत्तर कोरिया का बचाव करेगा। चीनी सैनिकों के मोर्चा खोलने के बाद अमरीकी सैनिकों को ज्यादा नुकसान उठाना पड़ा। उसके हताहत होने वाले सैनिकों की संख्या बढ़ गई। हालांकि चीनी सैनिकों के पास उम्दा हथियार नहीं थे लेकिन उनकी तादाद बहुत बड़ी थी। उत्तर कोरिया को चीन और सोवियत संघ से मिलने वाली सप्लाई लाइन को काटना बहुत जरूरी हो गया था।"

इसके बाद जनरल डगलस मैकअर्थर ने 'धरती को जला देने वाली अपनी युद्ध नीति' पर अमल करने का फैसला किया।इसी लम्हे से उत्तर कोरिया के शहरों और गांवों के ऊपर से रोज़ाना अमरीकी बम वर्षक विमान बी-29 और बी-52 मंडराने लगे। इन लड़ाकू विमानों पर जानलेवा नापलम लोड था. नापलम एक तरह का ज्वलनशील तरल पदार्थ होता है जिसका इस्तेमाल युद्ध में किया जाता है।इससे जनरल डगलस मैकअर्थर की बहुत बदनामी भी हुई लेकिन ये हमले रुके नहीं। अमरीकी कार्रवाई के बाद जल्द ही उत्तर कोरिया के शहर और गांव मलबे में बदलने लगे।[28]

कोरियाई युद्ध में भारत की भूमिका[संपादित करें]

भारत के अनथक प्रयास के बावजूद दोनों पक्षों को जून1953 में साथ लाना संभव हो पाया।भारतीय राजदूत और कोरिया संबंधी संयुक्तराष्ट्र संघ के कमीशन के अध्यक्ष के.पी.एस.मेनन(कृष्ण मेनन)द्वारा तैयार फार्मूले के अनुसार युद्धबंदी पर सहमति हुई और लड़ाई में बंदी बनाए गए सैनिकों की अदला-बदली का फार्मूला तैयार हो पाया।जिसे संयुक्त राष्ट्र संघ और स्टालिन की मृत्यु के बाद सोवियत गुट ने स्वीकार किया।भारतीय जनरल थिमैय्या की अध्यक्षता में निष्पक्ष देशों का रिहाई कमिशन बनाया गया।उनकी देखरेख में में तैयार भारतीय "देखरेख दल" ने सैनिकों की रिहाई का कठिन कार्य अपने हाथों में लिया।

कोरियाई युद्ध गुटनिरपेक्षता में भारत की आस्था और शांति में उसके विश्वास की भी परीक्षा साबित हुई जिसमें वह ख्ररा उतरा।भारत द्वारा उत्तर कोरिया को हमलावर बताए जाने के कारण उसे चीन और सोवियत विरोध का सामना करना पड़ा। युद्ध में अमरीकी हस्तक्षेप से इनकार करने तथा चीन को हमलावार नहीं मानने के कारण भारत को अमरीका के गुस्से का सामना करना पड़। 1950में चीन ने तिब्बत पर हमला करके उसे बिना किसी विशेष प्रयत्न के अपने में मिला लिया।और भारत को चुप रहना पड़ा।

अमरीकी नीति के विरोध में सोवियत संघ सुरक्षा परिषद से बाहर निकल गया।ऐसे हालात में भारत ने चीन को सुरक्षा परिषद में सीट देने पर खास जोर दिया।भारत में उत्पन्न अकाल जैसे हालात से निपटने के लिए अमरीका से अनाज मंगाने की सख्त जरूरत थी ।परंतु इससे कोरिया में अमरीकी भूमिका संबंधी अपनी दृष्ट्रि प्रभावित नहीं होने दी।सफलता न मिलने पर भी भारत लगातार कोशिश करता रहा और अंतत:भारत की स्थिति सही साबित हुई:दोनों पक्षों ने उसी सीमा को स्वीकार किया जिसे वे बदलना चाह रहे थे।[29] अंततः भारत तथा कुछ अन्य शांतिप्रिय राष्ट्रों की पहल के कारण 27 जुलाई, 1953 में दोनों पक्षों के बीच युद्ध विराम-सन्धि हुई। इस प्रकार कोरिया युद्ध को संयुक्त राष्ट्र संघ रोकने में सफल हुआ। वैसे उत्तरी तथा दक्षिणी कोरिया में आपसी तनाव जारी रहा।

जनहानि[संपादित करें]

अमेरिकी रक्षा मंत्रालय के अनुसार वहाँ इस युद्ध के कारण 33,686 सैनिकों और 2,830 आम नागरिकों की मौत हो गई। 1 नवम्बर 1950 को चीन का सामना करने पर सैनिकों के मौत की संख्या 8,516 बढ़ गई।

किम जैसे शोधकर्ता बताते हैं कि तीन सालों की लड़ाई के दौरान उत्तर कोरिया पर 635,000 टन बम गिराये गए। उत्तर कोरिया के अपने सरकारी आंकड़ों के अनुसार इस युद्ध में 5000 स्कूल, 1000 हॉस्पिटल और छह लाख घर तहस-नहस हो गए थे। युद्ध के बाद जारी किए गए एक सोवियत दस्तावेज़ के मुताबिक़ बम हमले में 282,000 लोग मारे गए थे। एक अंतरराष्ट्रीय आयोग ने भी उत्तर कोरिया की राजधानी का दौरा किया था जिसने अपनी रिपोर्ट में कहा कि बम हमले से शायद ही कोई इमारत अछूता रह पाया हो। दूसरे विश्व युद्ध के दौरान जर्मनी के ड्रेसडेन जैसे शहरों के साथ हुआ था,वैसे हालात उत्तर कोरियाई लोगों ने अपनी सड़कों पर धुएं का गुबार देखा। [30] दक्षिण कोरिया ने बताया कि इस लड़ाई से उसके 3,73,599 आम नागरिक और 1,37,899 सैनिक मारे गए। पश्चिम स्रोतो के अनुसार इससे चार लाख लोगों कि मौत और 4,86,000 लोग घायल हुए हैं। केपीए के अनुसार 2,15,000 लोगों की मौत और 3,03,000 लोग घायल हुए थे।[31]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Millett, Allan Reed, संपा॰ (2001). The Korean War, Volume 3. Korea Institute of Military History. U of Nebraska Press. पृ॰ 692. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780803277960. अभिगमन तिथि 16 February 2013. Total Strength 602,902 troops
  2. Tim Kane (27 October 2004). "Global U.S. Troop Deployment, 1950–2003". Reports. The Heritage Foundation. अभिगमन तिथि 15 February 2013.
    Ashley Rowland (22 October 2008). "U.S. to keep troop levels the same in South Korea". Stars and Stripes. अभिगमन तिथि 16 February 2013.
    Colonel Tommy R. Mize, United States Army (12 March 2012). "U.S. Troops Stationed in South Korea, Anachronistic?". United States Army War College. Defense Technical Information Center. मूल से 13 अप्रैल 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 February 2013. नामालूम प्राचल |dead-url= की उपेक्षा की गयी (मदद)
    Louis H. Zanardi; Barbara A. Schmitt; Peter Konjevich; M. Elizabeth Guran; Susan E. Cohen; Judith A. McCloskey (August 1991). "Military Presence: U.S. Personnel in the Pacific Theater" (PDF). Reports to Congressional Requesters. United States General Accounting Office. अभिगमन तिथि 15 February 2013.
  3. USFK Public Affairs Office. "USFK United Nations Command". United States Forces Korea. United States Department of Defense. अभिगमन तिथि 29 July 2016. Republic of Korea – 590,911
    Colombia – 1,068
    United States – 302,483
    Belgium – 900
    United Kingdom – 14,198
    South Africa – 826
    Canada – 6,146
    The Netherlands – 819
    Turkey – 5,453
    Luxembourg – 44
    Australia – 2,282
    Philippines – 1,496
    New Zealand – 1,385
    Thailand – 1,204
    Ethiopia – 1,271
    Greece – 1,263
    France – 1,119
  4. Rottman, Gordon L. (2002). Korean War Order of Battle: United States, United Nations, and Communist Ground, Naval, and Air Forces, 1950–1953. Greenwood Publishing Group. पृ॰ 126. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780275978358. अभिगमन तिथि 16 February 2013. A peak strength of 14,198 British troops was reached in 1952, with over 40,000 total serving in Korea.
    "UK-Korea Relations". British Embassy Pyongyang. Foreign and Commonwealth Office. 9 February 2012. अभिगमन तिथि 16 February 2013. When war came to Korea in June 1950, Britain was second only to the United States in the contribution it made to the UN effort in Korea. 87,000 British troops took part in the Korean conflict, and over 1,000 British servicemen lost their lives
    Jack D. Walker. "A Brief Account of the Korean War". Information. Korean War Veterans Association. अभिगमन तिथि 17 February 2013. Other countries to furnish combat units, with their peak strength, were: Australia (2,282), Belgium/Luxembourg (944), Canada (6,146), Colombia (1,068), Ethiopia (1,271), France (1,119), Greece (1,263), Netherlands (819), New Zealand (1,389), Philippines (1,496), Republic of South Africa (826), Thailand (1,294), Turkey (5,455), and the United Kingdom (Great Britain 14,198).
  5. "Land of the Morning Calm: Canadians in Korea 1950 – 1953". Veterans Affairs Canada. Government of Canada. 7 January 2013. अभिगमन तिथि 22 February 2013. Peak Canadian Army strength in Korea was 8,123 all ranks.
  6. Edwards, Paul M. (2006). Korean War Almanac. Almanacs of American wars. Infobase Publishing. पृ॰ 517. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780816074679. अभिगमन तिथि 22 February 2013.
  7. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; ROK Web नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  8. Zhang 1995, पृष्ठ 257.
  9. Shrader, Charles R. (1995). Communist Logistics in the Korean War. Issue 160 of Contributions in Military Studies. Greenwood Publishing Group. पृ॰ 90. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780313295096. अभिगमन तिथि 17 February 2013. NKPA strength peaked in October 1952 at 266,600 men in eighteen divisions and six independent brigades.
  10. Kolb, Richard K. (1999). "In Korea we whipped the Russian Air Force". VFW Magazine. Veterans of Foreign Wars. 86 (11). मूल से 10 मई 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 17 February 2013. Soviet involvement in the Korean War was on a large scale. During the war, 72,000 Soviet troops (among them 5,000 pilots) served along the Yalu River in Manchuria. At least 12 air divisions rotated through. A peak strength of 26,000 men was reached in 1952.
  11. "U.S. Military Casualties - Korean War Casualty Summary". Defense Casualty Analysis System. United States Department of Defense. 5 February 2013. मूल से 11 दिसंबर 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 6 February 2013.
  12. "Summary Statistics". Defense POW/Missing Personnel Office. United States Department of Defense. 24 January 2013. मूल से 31 जनवरी 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 6 February 2013.
  13. "Records of American Prisoners of War During the Korean War, created, 1950 - 1953, documenting the period 1950 - 1953". Access to Archival Databases. National Archives and Records Administration. अभिगमन तिथि 6 February 2013. This series has records for 4,714 U.S. military officers and soldiers who were prisoners of war (POWs) during the Korean War and therefore considered casualties.
  14. Office of the Defence Attaché (30 September 2010). "Korean war". British Embassy Seoul. Foreign and Commonwealth Office. अभिगमन तिथि 16 February 2013.
  15. Australian War Memorial Korea MIA Retrieved 17 March 2012
  16. "Korean War WebQuest". Veterans Affairs Canada. Government of Canada. 11 October 2011. मूल से 30 जनवरी 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 May 2013. In Brampton, Ontario, there is a 60 metre long "Memorial Wall" of polished granite, containing individual bronze plaques which commemorate the 516 Canadian soldiers who died during the Korean War.
    "Canada Remembers the Korean War". Veterans Affairs Canada. Government of Canada. 1 March 2013. मूल से 6 अक्तूबर 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 May 2013. The names of 516 Canadians who died in service during the conflict are inscribed in the Korean War Book of Remembrance located in the Peace Tower in Ottawa.
  17. Aiysha Abdullah; Kirk Fachnie (6 December 2010). "Korean War veterans talk of "forgotten war"". Canadian Army. Government of Canada. मूल से 23 मई 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 May 2013. Canada lost 516 military personnel during the Korean War and 1,042 more were wounded.
    "Canadians in the Korean War". kvacanada.com. Korean Veterans Association of Canada Inc. मूल से 19 जनवरी 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 May 2013. Canada's casualties totalled 1,558 including 516 who died.
    "2013 declared year of Korean war veteran". MSN News. The Canadian Press. 8 January 013. मूल से 2 नवंबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 May 2013. The 1,558 Canadian casualties in the three-year conflict included 516 people who died.
  18. Ted Barris (1 July 2003). "Canadians in Korea". legionmagazine.com. Royal Canadian Legion. अभिगमन तिथि 28 May 2013. Not one of the 33 Canadian PoWs imprisoned in North Korea signed the petitions.
    "Behind barbed wire". CBC News. 29 September 2003. मूल से 9 जुलाई 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 May 2013.
  19. Sandler, Stanley, संपा॰ (2002). Ground Warfare: H-Q. Volume 2 of Ground Warfare: An International Encyclopedia. ABC-CLIO. पृ॰ 160. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781576073445. अभिगमन तिथि 19 March 2013. Philippines: KIA 92; WIA 299; MIA/POW 97
    New Zealand: KIA 34; WIA 299; MIA/POW 1
  20. "Two War Reporters Killed". The Times. London, United Kingdom. 14 August 1950. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0140-0460.
  21. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; Rummel1997 नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  22. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; Hickey नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  23. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; Li111 नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  24. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; Krivosheev1997 नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  25. "संग्रहीत प्रति". मूल से 28 अगस्त 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 नवंबर 2019.
  26. https://aajtak.intoday.in/story/south-korea-war-hero-a-g-rangraj-indian-army-korean-war-hero-1-1141344.html
  27. पृ-340 सभ्यता की कहानी भाग-२,10वीं कक्षा,पुरानी एन.सी.ई.आर.टी
  28. "संग्रहीत प्रति". मूल से 3 अप्रैल 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 नवंबर 2019.
  29. पृ-210,आजादी के बाद का भारत ,बिपिन चंद्र
  30. "संग्रहीत प्रति". मूल से 3 अप्रैल 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 नवंबर 2019.
  31. Bethany Lacina and Nils Petter Gleditsch, Monitoring Trends in Global Combat: A New Dataset of Battle Deaths Archived 2014-10-06 at the Wayback Machine, European Journal of Population (2005) 21: 145–166. Also available here Archived 2014-10-06 at the Wayback Machine

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]