डीएलएफ़ यूनिवर्सल लिमिटेड

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
DLF Limited
प्रकार Public
(BSE: 532868)
(NSEDLF)
उद्योग Real estate, Retail, Sports
स्थापना 1946
मुख्यालय New Delhi, India [1]
प्रमुख व्यक्ति Kushal Pal Singh (Chairman)
उत्पाद Offices
Apartments
Shopping Malls
Hotels
Golf courses
राजस्व Red Arrow Down.svg $3.50 billion (FY 2009)
प्रबंधन आधीन परिसंपत्तियां Red Arrow Down.svg $1.97 billion (FY 2009)
कुल संपत्ति Red Arrow Down.svg $9.87 billion (FY 2009)
स्वामित्व KP Singh & family (78%)
वेबसाइट www.dlf.in
डीएलएफ सेंटर, डीएलएफ मुख्यालय, नई दिल्ली

डीएलएफ लिमिटेड (DLF Limited) या डीएलएफ (मूल रूप से जिसका नाम दिल्ली लैंड एण्ड फाइनेंस था), भारत की राजधानी नई दिल्ली में स्थित सबसे बड़ी भारतीय अचल संपत्ति विकासक (रीयल एस्टेट डेवेलपर) कंपनी है. डीएलएफ ग्रुप की स्थापना 1946 में रघुवेंद्र सिंह द्वारा की गई थी.[2] डीएलएफ ने दिल्ली में शिवाजी पार्क (जो वास्तव में इसका पहला निर्माण था), राजौरी गार्डन, कृष्णा नगर, साउथ एक्सटेंशन, ग्रेटर कैलाश, कैलाश कॉलोनी और हौज़ खास जैसी आवासीय कॉलोनियों का विकास किया. 1957 में दिल्ली विकास अधिनियम के पारित होने के साथ स्थानीय सरकार ने दिल्ली में अचल संपत्ति के विकास को अपने हाथ में ले लिया और निजी अचल संपत्ति विकासक कंपनियों को ऐसा करने से प्रतिबंधित कर दिया.

परिणामस्वरूप डीएलएफ ने दिल्ली विकास प्राधिकरण के नियंत्रण क्षेत्र से बाहर और इससे सटे हरियाणा राज्य के गुड़गांव जिले में अपेक्षाकृत कम लागत वाली जमीन पर कब्ज़ा करना शुरू कर दिया. 1970 के दशक के मध्य में कंपनी ने गुड़गांव में डीएलएफ सिटी परियोजना को विकसित करना शुरू किया. इसकी आगामी योजनाओं में होटल, बुनियादी ढांचे और विशेष आर्थिक क्षेत्र संबंधी विकास परियोजनाएं शामिल हैं.[3]

फ़िलहाल इस कंपनी का नेतृत्व बुलंद शहर के एक जाट और भारतीय अरबपति कुशल पाल सिंह द्वारा किया जा रहा है. फोर्ब्स की 2009 की सबसे अमीर अरबपतियों की सूची के अनुसार कुशल पाल सिंह अब दुनिया के 98वें सबसे अमीर व्यक्ति और दुनिया के सबसे अमीर संपत्ति विकासक हैं. जुलाई 2007 में कंपनी का 2 बिलियन अमेरिकी डॉलर वाला आईपीओ भारत का अब तक का सबसे बड़ा आईपीओ रहा है.[4] जुलाई 2007 में डीएलएफ ने 30 जून 2007 को समाप्त होने वाले अपने पहले तिमाही परिणामों की घोषणा की. कंपनी ने 3,120.98 करोड़ रूपए के कारोबार और 1,515.48 करोड़ रूपए के पीएटी (PAT) की घोषणा की.

इतिहास[संपादित करें]

1940-50 के शुरुआती दशकों में रघुवेंद्र सिंह ने दिल्ली के आसपास काफी मात्र में अचल संपत्ति को खरीदा. पंजाबी बाग, राजौरी गार्डन, कृष्णा नगर, साउथ एक्सटेंशन, ग्रेटर कैलाश 1 एवं 2, कैलाश कॉलोनी, हौज़ खास और पंचशील जैसे क्षेत्रों में निवेश के माध्यम से कुछ दशकों में यह पैसा कई गुना बढ़ गया. 1970 और 1980 के दशकों में डीएलएफ ने 2000 डॉलर प्रति एकड़ की दर से गुड़गांव के किसानों से 3,000-एकड़ (1,214 ha) जमीन खरीदी.[5]

लेकिन उस समय हरियाणा सरकार ने निजी कंपनियों को जमीन को विकसित करने की अनुमति नहीं दी. कुछ साल बाद जब राजीव प्रधानमंत्री बने तब उन्होंने सुनश्चित किया कि हरियाणा सरकार स्थानीय कानून में परिवर्तन करे और निजी कंपनियों को जमीन विकसित करने की अनुमति दे. हरियाणा सरकार ने नरमी दिखाई और गुड़गांव में निजी अचल संपत्ति विकास का काम शुरू हो गया जो आज भी जारी है.[6]

1985 में डीएलएफ ने किसानों से प्राप्त 3,000 एकड़s (12 कि.मी.) को विकसित करना शुरू किया.[2]

1999 में डीएलएफ ने गुड़गांव में किराए पर देने के लिए अपने पहले ए-ग्रेड वाले कार्यालय स्थलों को विकसित किया.[2]

इन विकास कार्यों में विश्व स्तरीय कार्यालय इमारत, अपार्टमेंट, गोल्फ कोर्स, शॉपिंग मॉल, 5-स्टार होटल और दिल्ली हवाई अड्डे से गुड़गांव को जोड़ने वाला एक निजी चौड़ा रास्ता शामिल हैं.

हाल का इतिहास[संपादित करें]

गुड़गांव में एक प्रमुख कार्यालय परिसर

1990 के दशक के मध्य तक डीएलएफ (दिल्ली लैंड एण्ड फाइनेंस) के अधिकांश कार्य गुड़गांव और दिल्ली महानगरीय क्षेत्र में हुए थे. हालांकि परिसंपत्तियों में हुई वृद्धि की सहायता से डीएलएफ अपने कार्यों को पूरे भारत में फैलाने की कोशिश कर रही है. डीएलएफ द्वारा किया गया एक बहुत बड़ा निवेश मुंबई में 700 करोड़ भारतीय रूपए में एनटीसी मिल की जमीन की खरीदारी थी. डीएलएफ के अन्य विकास पहलों में तमिलनाडु में 2.1 बिलियन अमेरिकी डॉलर का निवेश,[7] बैंगलोर में अरबों डॉलर वाला एक व्यावसायिक पार्क,[8] मध्यप्रदेश की अचल संपत्ति और बुनियादी ढांचे के क्षेत्र में 1.7 बिलियन अमेरिकी डॉलर का निवेश[9] और उड़ीसा में विशेष आर्थिक क्षेत्रों के विकास के लिए 10 बिलियन रूपए वाली एक निवेश योजना शामिल हैं.[10]

विकास[संपादित करें]

डीएलएफ आवासीय, कार्यालय और खुदरा (रिटेल) संपत्तियों का निर्माण करती है.

संयुक्त उद्यम[संपादित करें]

दुबई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे और लन्दन के मिलेनियम टावर इत्यादि के निर्माण का श्रेय प्राप्त करने वाली लैंग ओ'रूर्के नामक यूके आधारित निर्माण कंपनी डीएलएफ की सभी प्रमुख परियोजनाओं का निर्माण करेगी. डीएलएफ और लैंग ओ'रूर्के दोनों एक साथ मिलकर भारत की नई अर्थव्यवस्था से जुड़े एक्सप्रेसवे (चौड़ा रास्ता), बंदरगाहों और अन्य विशाल संरचनाओं का निर्माण करेंगे.

दुबई की नखील नामक कंपनी भारत में नगर क्षेत्रों को विकसित करने के लिए डीएलएफ के साथ साझेदारी कर रही है.

डब्ल्यूएसपीई ग्रुप पीएलसी भी कृत्रिम एवं प्राकृतिक पर्यावरण के लिए डीएलएफ के साथ साझेदारी कर रही है और उसे प्रबंधन एवं परामर्श प्रदान कर रही है.

फीडबैक वेंचर्स, डीएलएफ को परियोजनाओं के शीघ्र निष्पादन के लिए परामर्श प्रदान कर रही है.

भारत में संयुक्त रूप से होटलों का विकास करने के लिए डीएलएफ ने हिल्टन होटल्स के साथ भी हाथ मिला लिया है.

प्रायोजन[संपादित करें]

डीएलएफ फ़िलहाल भारतीय प्रीमियर लीग (आईपीएल) का प्रायोजन कर रही है जो भारत की एक ट्वंटी 20 प्रारूप वाली क्रिकेट लीग है. डीएलएफ ग्रुप ने 5 साल तक इस टूर्नामेंट का प्रमुख प्रायोजक बने रहने के लिए 40 मिलियन अमेरिकी डॉलर का भुगतान किया है.[11]

गैलरी[संपादित करें]

बाह्य कड़ियां[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. DLF.in - Contact Us
  2. "DLF Ltd.". http://www.dlf.in/dlf/wcm/connect/721e93804c65d8e99c91fc8b9fa0b98f/CorpPresentation-May08.pdf?MOD=AJPERES. अभिगमन तिथि: 2010-07-17. 
  3. [1][मृत कड़ियाँ]
  4. IndianExpress.com :: Is India’s largest IPO going to change the Sensex stakes?
  5. "Print Article - Amazing story of India's richest realty man". Rediff.com. 2006-04-08. http://www.rediff.com/cms/print.jsp?docpath=/money/2006/apr/08forbes.htm. अभिगमन तिथि: 2010-01-21. 
  6. "The Telegraph - Calcutta : 7days". Telegraphindia.com. 2007-11-25. http://www.telegraphindia.com/1071125/asp/7days/story_8589410.asp. अभिगमन तिथि: 2010-01-21. 
  7. आईएनआरन्यूज़ - इंडियन रियल एस्टेट न्यूज़: डीएलएफ टू इंवेस्ट $2.1 बिलियन इन तमिल नाडू रियल एस्टेट एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर
  8. आईएनआरन्यूज़ - इंडियन रियल एस्टेट न्यूज़: डीएलएफ प्लान्स हाई-टेक आईटी पार्क इन बंगलौर
  9. आईएनआरन्यूज़ - इंडियन रियल एस्टेट न्यूज़: डीएलएफ टू इंवेस्ट $1.7 बिलियन इन मध्य प्रदेश रियल एस्टेट एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर
  10. आईएनआरन्यूज़ - इंडियन रियल एस्टेट न्यूज़: रियल एस्टेट मेजर डीएलएफ टू इंवेस्ट रुपीज़ 1,0000000 करोड़ ऑन उडीसा आईटी एसईज़ेड | आईएनआरन्यूज़
  11. "#98 Kushal Pal Singh - The World's Billionaires 2009". Forbes.com. 2009-02-13. http://www.forbes.com/lists/2009/10/billionaires-2009-richest-people_Kushal-Pal-Singh_0UU7.html. अभिगमन तिथि: 2010-01-21.