भारतीय जीवन बीमा निगम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
भारतीय जीवन बीमा निगम
भारतीय जीवन बिमा निगम
प्रकार राज्य के स्वामित्व वाले उद्यम
सरकार का स्वामित्व
प्रमुख व्यक्ति
  • वी के शर्मा (चियरमेन )
  • हेमंत भार्गव (प्रबंध निदेशक)

भारतीय जीवन बीमा निगम, भारत की सबसे बड़ी जीवन बीमा कंपनी है और देश की सबसे बड़ी निवेशक कंपनी भी है। यह पूरी तरह से भारत सरकार के स्वामित्व में है। इसकी स्थापना सन् १९५६ में हुई।

इसका मुख्यालय भारत की वित्तीय राजधानी मुंबई में है। भारतीय जीवन बीमा निगम के ८ आंचलिक कार्यालय और १०१ संभागीय कार्यालय भारत के विभिन्न भागों में स्थित हैं। इसके लगभग २०४८ कार्यालय देश के कई शहरों में स्थित हैं और इसके १० लाख से ज्यादा एजेंट भारत भर में फैले हैं।

भारतीय जीवन बीमा निगम, भारत की सबसे बड़ी जीवन बीमा कंपनी है और देश की सबसे बड़ी निवेशक कंपनी भी है। यह पूरी तरह से भारत सरकार के स्वामित्व में है। इसकी स्थापना सन् १९५६ में हुई।

इसका मुख्यालय भारत की वित्तीय राजधानी मुंबई में है। भारतीय जीवन बीमा निगम के ८ आंचलिक कार्यालय और १०१ संभागीय कार्यालय भारत के विभिन्न भागों में स्थित हैं। इसके लगभग २०४८ कार्यालय देश के कई शहरों में स्थित हैं और इसके १० लाख से ज्यादा एजेंट भारत भर में फैले हैं।

इतिहास[संपादित करें]

ओरिएण्टल जीवन कंपनी भारत की पहली बीमा कंपनी थी जी सन् १८१८ में कोलकाता में बिपिन दासगुप्ता एवं अन्य लोगों के द्वारा स्थापित की गयी। बॉम्बे म्यूचुअल लाइफ अस्युरंस सोसाइटी, जो १८७० में गठित हुई, देश की पहली बीमा प्रदाता इकाई थी। अन्य बीमा कंपनियां जो स्वतंत्रता के पहले गठित हुईं -

  • भारत बीमा कंपनी - १८९६
  • यूनाइटेड कंपनी - १९०६
  • नेशनल इंडियन - १९०६
  • नेशनल इंश्योरेंस - १९०६
  • कोऑपरेटिव अस्युरंस - १९०६
  • हिंदुस्तान कोऑपरेटिव - १९०७
  • इंडियन मर्केंटाइल
  • जनरल अस्युरंस
  • स्वदेशी लाइफ

राष्ट्रीयकरण[संपादित करें]

भारतीय संसद ने १९ जून १९५६ को भारतीय जीवन बीमा विधेयक पारित किया। जिसके तहत ०१ सितम्बर १९५६ को भारतीय जीवन बीमा निगम अस्तित्व में आया। भारतीय जीवन बीमा व्यापार का राष्ट्रीयकरण औद्योगिक नीति संकल्प १९५६ का परिणाम है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]