युयुत्सु

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

युयुत्सु महाभारत का एक उज्जवल और तेजस्वी एक पात्र है।[1] यह पात्र इसलिए विशेष है क्योंकि महाभारत का युद्ध आरम्भ होने से पूर्व धर्मराज युद्धिष्ठिर के आह्वान इस पात्र ने कौरवों की सेना का साथ छोड़कर पाण्डव सेना के साथ मिलने का निर्णय लिया था। युयुत्सु का जन्म एक वेश्या से हुआ था। युयुत्सु दुर्योधन का सौतेला भाई था।[2][3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. निगम, शोभा. महाभारत पर आधारित रम्य रचना व्यास-कथा. 
  2. कमल किशोर गोयनका, सं. अभिमन्यु अनत. http://books.google.co.in/books?id=aFDLYvB44d0C&pg=PA206&dq=%E0%A4%AF%E0%A5%81%E0%A4%AF%E0%A5%81%E0%A4%A4%E0%A5%8D%E0%A4%B8%E0%A5%81&hl=en&sa=X&ei=0xvaUb-iBYXtrAeevYCoBQ&ved=0CD8Q6AEwAw#v=twopage&q=%E0%A4%AF%E0%A5%81%E0%A4%AF%E0%A5%81%E0%A4%A4%E0%A5%8D%E0%A4%B8%E0%A5%81&f=true. 
  3. "महाभारत के वो 10 पात्र जिन्हें जानते हैं बहुत कम लोग!". दैनिक भास्कर. २७ दिसम्बर २०१३. Archived from the original on २८ दिसम्बर २०१३. http://archive.is/ko9DA.