चौहान वंश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
अजमेर के चौहान राजा विग्रह राज चतुर्थ के काल (११५०-६४ ई) के सिक्के

शाकम्भरी के चाहमान या चौहान वंश, एक राजवंश था जिसने वर्तमान राजस्थान तथा इसके समीपवर्ती क्षेत्रों पर ७वीं शताब्दी से लेकर १२वीं शताब्दी तक शासन किया। उनके द्वारा शासित क्षेत्र सपादलक्ष कहलाता था।

चौहान वंश, राजपूतों के प्रसिद्ध वंशों में से अन्यतम है। 'चौहान' ये उत्तरभारत के आर्यों का कोई वंश है। चौहान गोत्र राजपूतों में अन्तर्भूत होता है। शाकम्भरी में चौहान वंश के संस्थापक वासुदेव चौहान थे।

इतिहासविदों का मत है कि, चौहानवंशीय जयपुर के साम्भर तालाब के समीप में, पुष्कर-प्रदेश में और आमेर-नगर में निवास करते थे। सद्य वे उत्तरभारत में विस्तृत रूप से फैले हैं। उत्तरप्रदेशराज्य के मैनपुरी बिजनौर जिले में अथवा नीमराणा राजस्थान में बहुधा निवास करते हैं।

चौहान वंश के शासक[संपादित करें]

पृथ्वीराज चौहान, चाहमान वंश का सबसे प्रतापी राजा थे।

नीचे शाकम्भरी और अजमेर के चाहमान शासकों की सूची दी गयी है। इसमें दिए गए उनके शासनकाल श्री आर बी सिंह द्वारा अनुमानित हैं।[1]

  1. चाहमान (सम्भवतः मिथकीय राजा)
  2. वासुदेव (ल. छटी शताब्दी)
  3. सामन्तराज (ल. 684-709 ईस्वी)
  4. नारा-देव (ल. 709–721 ईस्वी)
  5. अजयराज प्रथम (ल. 721–734 ईस्वी), उर्फ ​​जयराज या अजयपाल
  6. विग्रहराज प्रथम (ल. 734–759 ईस्वी)
  7. चंद्रराज प्रथम (ल. 759–771 ईस्वी)
  8. गोपेंद्रराज (ल. 771–784 ईस्वी)
  9. दुर्लभराज प्रथम (ल. 784–809 ईस्वी)
  10. गोविंदराज प्रथम (ल. 809–836 ईस्वी), उर्फ ​​गुवाक प्रथम
  11. चंद्रराज द्वितीय (ल. 836-863 ईस्वी)
  12. गोविंदराजा द्वितीय (ल. 863–890 ईस्वी), उर्फ ​​गुवाक द्वितीय
  13. चंदनराज (ल. 890–917 ईस्वी)
  14. वाक्पतिराज प्रथम (ल. 917–944 ईस्वी); उनके छोटे बेटे ने नद्दुल चाहमान शाखा की स्थापना की।
  15. सिम्हराज (ल. 944–971 ईस्वी)
  16. विग्रहराज द्वितीय (ल. 971–998 ईस्वी)
  17. दुर्लभराज द्वितीय (ल. 998–1012 ईस्वी)
  18. गोविंदराज तृतीय (ल. 1012-1026 ईस्वी)
  19. वाक्पतिराज द्वितीय (ल. १०२६-१०४० ईस्वी)
  20. विर्याराम (ल. 1040 ईस्वी)
  21. चामुंडराज चौहान (ल. १०४०-१०६५ ईस्वी)
  22. दुर्लभराज तृतीय (ल. 1065-1070 ईस्वी), उर्फ ​​दुआला
  23. विग्रहराज तृतीय (ल. 1070-1090 ईस्वी), उर्फ ​​विसला
  24. पृथ्वीराज प्रथम (ल. 1090–1110 ईस्वी)
  25. अजयराज द्वितीय (ल. १११०-११३५ ईस्वी), राजधानी को अजयमेरु (अजमेर) ले गए।
  26. अर्णोराज चौहान (ल. 1135–1150 ईस्वी)
  27. जगददेव चौहान (ल. ११५० ईस्वी)
  28. विग्रहराज चतुर्थ (ल. 1150–1164 ईस्वी), उर्फ ​​विसलदेव
  29. अमरगंगेय (ल. 1164–1165 ईस्वी)
  30. पृथ्वीराज द्वितीय (ल. 1165–1169 ईस्वी)
  31. सोमेश्वर चौहान (ल. ११६ ९ -११vv ईस्वी)
  32. पृथ्वीराज तृतीय (ल. 1178–1192 ईस्वी), इन्हें पृथ्वीराज चौहान के नाम से जाना जाता है
  33. गोविंदाराज चतुर्थ (ल. 1192 ईस्वी); मुस्लिम अस्मिता स्वीकार करने के कारण हरिराज द्वारा निर्वासित; रणस्तंभपुरा के चाहमान शाखा की स्थापना की।
  34. हरिराज (ल. 1193–1194 ईस्वी)


सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. R. B. Singh 1964, पृ॰प॰ 51-70.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]