भीष्म

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
देवव्रत
गंगा अपने पुत्र देवव्रत को उसके पिता शान्तनु को सौंपते हुए
गंगा अपने पुत्र देवव्रत को उसके पिता शान्तनु को सौंपते हुए
हिंदू पौराणिक कथाओं के पात्र
नाम:देवव्रत
अन्य नाम:भीष्म(आजीवन ब्रह्मचारी रहने के विषम, भीषण तथा कठिन प्रतिज्ञा लेने के कारण भीष्म कहलाए), गंगापुत्र, पितामह
संदर्भ ग्रंथ:महाभारत, श्रीमद्भगवद्गीता, पुराण
जन्म स्थल:हस्तिनापुर
व्यवसाय:क्षत्रिय
मुख्य शस्त्र:धनुष बाण
राजवंश:कुरुवंश
माता-पिता:गंगा और राजा शान्तनु
भाई-बहन:वेदव्यास , चित्रांगद और विचित्रवीर्य ( सभी सौतेले भाई)
जीवनसाथी:{{{जीवनसाथी}}}
संतान:{{{संतान}}}
भीष्म प्रतिज्ञा

भीष्म अथवा भीष्म पितामह महाभारत के सबसे महत्वपूर्ण पात्रों में से एक थे। भीष्म महाराजा शान्तनु के पुत्र थे महाराज शांतनु की पटरानी और नदी गंगा की कोख से उत्पन्न हुए थे | उनका मूल नाम देवव्रत था। भीष्म में अपने पिता शान्तनु का सत्यवती से विवाह करवाने के लिए आजीवन ब्रह्मचर्य का पालन करने की भीषण प्रतिज्ञा की थी | अपने पिता के लिए इस तरह की पितृभक्ति देख उनके पिता ने उन्हें इच्छा मृत्यु का वरदान दे दिया था | इनके दूसरे नाम गाँगेय, शांतनव, नदीज, तालकेतु आदि हैं।

इन्हें अपनी उस भीष्म प्रतिज्ञा के लिये भी सर्वाधिक जाना जाता है जिसके कारण इन्होंने राजा बन सकने के बावजूद आजीवन हस्तिनापुर के सिंहासन के संरक्षक की भूमिका निभाई। इन्होंने आजीवन विवाह नहीं किया व ब्रह्मचारी रहे। इसी प्रतिज्ञा का पालन करते हुए महाभारत में उन्होने कौरवों की तरफ से युद्ध में भाग लिया था। इन्हें इच्छा मृत्यु का वरदान था। यह कौरवों के पहले प्रधान सेनापति थे। जो सर्वाधिक दस दिनो तक कौरवों के प्रधान सेनापति रहे थे। कहा जाता है कि द्रोपदी ने शरसय्या पर लेटे हुए भीष्म पितामह से पूछा की उनकी आंखों के सामने चीर हरण हो रहा था और वे चुप रहे तब भीष्म पितामह ने जवाब दिया कि उस समय मै कौरवों के नमक खाता था इस वजह से मुझे मेरी आँखों के सामने एक स्त्री के चीरहरण का कोई फर्क नही पड़ा,परंतु अब अर्जुन ने बानो की वर्षा करके मेरा कौरवों के नमक ग्रहण से बना रक्त निकाल दिया है, अतः अब मुझे अपने पापों का ज्ञान हो रहा है अतः मुझे क्षमा करें द्रौपदी। [1] महाभारत युद्ध खत्म होने पर इन्होंने गंगा किनारे इच्छा मृत्यु ली।

पूर्व जन्म में वसु थे भीष्म[संपादित करें]

भीष्म के नाम से प्रसिद्ध देवव्रत पूर्व जन्म में एक वसु थे | एक बार कुछ वसु अपनी पत्नियों के साथ मेरु पर्वत पर भ्रमण करने गए | उस पर्वत पर महर्षि वशिष्ठ जी का आश्रम था | उस समय महर्षि वशिष्ठ जी आपने आश्रम में नहीं थे लेकिन वहां उनकी प्रिय गायें कामधेनु की बछड़ी नंदिनी गाये बंधी थी | उस गायें को देखकर द्यौ नाम के एक वसु की पत्नी उस गायें को लेने की जिद करने लगी | अपनी पत्नी की बात मानकर द्यौ वसु ने महर्षि वशिष्ठ जी के आश्रम से उस गायें को चुरा लिया | जब महर्षि वशिष्ठ जी वापिस आए तो उन्होंने दिव्य दृष्टि से पूरी घटना को देख लिया |

महर्षि वशिष्ठ जी वसुओं के इस कार्य को देखकर बहुत क्रोधित हुए और उन्होंने वसुओं को श्राप दे दिया कि उन्हें मनुष्य रूप में पृथ्वी पर जन्म लेना पड़ेगा |  इसके बाद सभी वसु वशिष्ठ जी से माफ़ी मांगने लगे | इस पर महर्षि वशिष्ठ जी ने बाकी वसुओं को माफ़ कर दिया और कहा की उन्हें जल्दी ही मनुष्य जन्म से मुक्ति मिल जाएगी लेकिन द्यौ नाम के वसु को लम्बे समय संसार में रहना होगा और दुःख भोगने पड़ेंगे |  

परशुराम के साथ युद्ध[संपादित करें]

भगवान परशुराम के शिष्य देवव्रत अपने समय के बहुत ही विद्वान व शक्तिशाली पुरुष थे। महाभारत के अनुसार हर तरह की शस्त्र विद्या के ज्ञानी और ब्रह्मचारी देवव्रत को किसी भी तरह के युद्ध में हरा पाना असंभव था। उन्हें संभवत: उनके गुरु परशुराम ही हरा सकते थे लेकिन इन दोनों के बीच हुई युद्ध में परशुराम जी की हार हुई और दो अति शक्तिशाली योद्धाओं के लड़ने से होने वाले से शिव|भगवान शिव द्वारा रोक दिया गया।

कथा[संपादित करें]

शांतनु से सत्यवती का विवाह भीष्म की ही विकट प्रतिज्ञा के कारण संभव हो सका था। भीष्म ने आजीवन ब्रह्मचारी रहने और गद्दी न लेने का वचन दिया और सत्यवती के दोनों पुत्रों को राज्य देकर उनकी बराबर रक्षा करते रहे। दोनों के नि:संतान रहने पर उनके विधवाओं की रक्षा भीष्म ने की, परशुराम से युद्ध किया, उग्रायुद्ध का बध किया। फिर सत्यवती के पूर्वपुत्र कृष्ण द्वैपायन द्वारा उन दोनों की पत्नियों से पांडु एवं धृतराष्ट्र का जन्म कराया। इनके बचपन में भीष्म ने हस्तिनापुर का राज्य संभाला और आगे चलकर कौरवों तथा पांडवों की शिक्षा का प्रबंध किया। महाभारत छिड़ने पर उन्होंने दोनों दलों को बहुत समझाया और अंत में कौरवों के सेनापति बने। युद्ध के अनेक नियम बनाने के अतिरिक्त इन्होंने अर्जुन से न लड़ने की भी शर्त रखी थी, पर महाभारत के दसवें दिन इन्हें अर्जुन पर बाण चलाना पड़ा। शिखंडी को सामने कर अर्जुन ने बाणों से इनका शरीर छेद डाला। बाणों की शय्या पर ५८ दिन तक पड़े पड़े इन्होंने अनेक उपदेश दिए। अपनी तपस्या और त्याग के ही कारण ये अब तक भीष्म पितामह कहलाते हैं। इन्हें ही सबसे पहले तर्पण तथा जलदान दिया जाता है।

भीष्म की मौत का कारण[संपादित करें]

महाभारत के युद्ध के दौरान जब पांचों पांडव भीष्म पितामह से उनको हराने की युक्ति पूछने गए थे। तब भीष्म ने पांडवों को अपनी मृत्यु का राज बता दिया था। उन्होंने बताया कि तुम्हारी सेना में जो शिखंडी है वह अर्धनारीश्वर है। अर्जुन यदि उसके पीछे खड़े होकर मुझपर तीर चलाता है तो मेरी मृत्यु निश्चित है।

जानकारी के लिए बता दें की शिखंडी काशी नरेश की पुत्री अंबा का ही रूप था, जिन्हें भीष्म को मारने का वरदान मिला था। इस प्रकार, अर्जुन ने शिखंडी के पीछे खड़े होकर भीष्म के ऊपर बाण चला दिए। जिससे घायल होकर भीष्म बाणों की शैय्या पर लेट जाते है लेकिन क्यूंकि भीष्म को इच्छा मृत्यु का वरदान मिला था तो उन्होंने अपने मृत्यु से पहले काफी दिन बाणों की शैय्या पर काटे।

दूसरा, जब भीष्म को अर्जुन ने अपने बाणों से घायल किया था उस दौरान सूर्य दक्षिणायन में था, इसलिए भी भीष्म ने अपने प्राण नहीं त्यागे थे। इस दौरान उन्होंने युधिष्ठिर को धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष का ज्ञान दिया। साथ ही द्रौपदी से क्षमा भी मांगी।

फिर करीब 58 दिन बाद सूर्य उत्तरायण के दौरान भीष्म ने भगवान श्री कृष्ण को संबोधित करते हुए अपने प्राण त्याग दिए। और जिस दिन भीष्म ने अपने प्राण त्यागे थे उसी दिन को भीष्म अष्टमी के तौर पर मनाया जाता है।[2]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "महाभारत के वो 10 पात्र जिन्हें जानते हैं बहुत कम लोग!". दैनिक भास्कर. २७ दिसम्बर २०१३. मूल से २८ दिसम्बर २०१३ को पुरालेखित.
  2. "कहानी गंगापुत्र भीष्म की - [Bhishma Pitamah in Mahabharat]" (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2021-08-17.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]