पाँडु

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search


पाण्डु महाराज विचित्र वीर्य के अम्बालिका से उत्पन्न पुत्र थे। महर्षि व्यास के डर से अम्बालिका का मुख पीला पद गया था इसी से ये पाण्डु रोग से ग्रस्त पैदा हुए और इनका नाम पाण्डु पड़ा. धृतराष्ट के अंधे होने की वजह से ये राजा बने. ऋषि कंदम के श्राप से ये पुत्र प्राप्ति में असमर्थ थे इसलिए ये अपनी दोनों पत्नियों कुंती और माद्री के साथ वन चले गए। वहां कुंती और माद्री द्वारा महर्षि दुर्वासा के दिए मंत्र के प्रभाव से पांच पांडवो का जन्म हुआ। भूलवश माद्री के साथ समागम करने से श्राप के प्रभाव से इनकी असमय मृत्यु हो गयी।