उलूक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उलूक गंधार नरेश शकुनि का पुत्र था। कुरुक्षेत्र का युद्ध आरंभ होने से पूर्व उसे अंतिम संरेशवाहक के रूप में पाण्डवों को धमकाने के लिए भेजा गया और उसने उपपलव्य जाकर पाण्डवों को दुर्योधन का अपमानजनक संदेश सुनाया।

शकुनि और उलूक दोनों का वध सहदेव के द्वारा १८ वें दिन के युद्ध में किया गया। उसके अन्य भाइयों का वध अभिमन्यु द्वारा किया गया।

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी सम्पर्क[संपादित करें]