ध्रुपद

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(द्रुपद (महाभारत) से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search

नाट्यशास्र के अनुसार वर्ण, अलंकार, गान- क्रिया, यति, वाणी, लय आदि जहाँ ध्रुव रूप में परस्पर संबद्ध रहें, उन गीतों को ध्रुवा कहा गया है। जिन पदों में उक्त नियम का निर्वाह हो रहा हो, उन्हें ध्रुवपद अथवा ध्रुपद कहा जाता है।[1] शास्रीय संगीत के पद, ख़याल, ध्रुपद आदि का जन्म ब्रजभूमि में होने के कारण इन सबकी भाषा ब्रज है और ध्रुपद का विषय समग्र रूप ब्रज का रास ही है। कालांतर में मुग़लकाल में ख्याल उर्दू की शब्दावली का प्रभाव भी ध्रुपद रचनाओँ पर पड़ा। वृंदावन के निधिवन निकुंज निवासी स्वामी श्री हरिदास ने इनके वर्गीकरण और शास्त्रीयकरण का सबसे पहले प्रयास किया। स्वामी हरिदास की रचनाओं में गायन, वादन और नृत्य संबंधी अनेक पारिभाषिक शब्द, वाद्ययंत्रों के बोल एवं नाम तथा नृत्य की तालों व मुद्राओं के स्पष्ट संकेत प्राप्त होते हैं। सूरदास द्वारा रचित ध्रुवपद अपूर्व नाद- सौंदर्य, गमक एवं विलक्षण शब्द- योजना से ओतप्रोत दिखाई देते हैं।

There was another classical Dhrupad Traditions of Bihar DUMRAON GHARANA an ancient tradition of dhrupad music nearly 500 years ago it was founded.The Drupad style(vani) of this Gharana is Gauhar,Khandar,and Nauharvani.The founder of this Gharana was Pt.Manikchand Dubey and Pt. Anup chand Dubey.Both artist was awarded by Mugal Emperor Shahjahan.Famous musician of this Gharana like Pt. Ghana rang dubey, Pt. Tilak chand dubey, Pt. Bachhu prakash dubey,Pt. Ram lal dubey,Pt. Kali prasad mishra,Pt. markandey pathak,Pt. Saryu pathak, Pt. Sahdev dubey, Pt. Ramprashad pandey, Pt. Vishwanath pathak, Pt. Nand lal dubey. Pt.Prabhakar Dubey,Pt.Gopalji Dubey and Pt. Avdhesh Dubey. The father and Grandfather of BHARAT RATNA Ustad Bismillah Khan was also belongs to DUMRAON GHARANA Tradition.He usually played Shahnai in Dhrupad Style.There are famous singer of DUMRAON GHARANA who are alive such names are Pt. Ramjee Mishra a representative of Dumraon Gharana, Pt. Kamlesh kumar Dubey,Pt. kamod Pathak, Pt.Kamod Mishra and Pt.Satya Narayan Mishra.

There are many books has been written by this Gharana,as SHREE KRISHN RAMAYAN,by Pt. Ghana rang Dubey,SURPRAKASH,BHAIRAV PRAKASH,RASHPRAKASH,has written by Jay prakash dubey or prakash kavi.

Many research work has been done on this Gharana and many items of this DUMRAON GHARANA is subject to researched.

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "ब्रज-संस्कृति का अविभाज्य अंग-संगीत" (एचटीएम). टीडीआईएल. अभिगमन तिथि 13 मार्च 2008. |access-date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)