यति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
यति
(निकृष्ट हिममानव
मिगोइ, मेह-तेह इतियादि।)
Yetiscalp.JPG

खुम्जुंग मठ में कथित यति खोपड़ी
प्राणी
समूहीकरण रहस्यमय, ऑरेंग-उटैन
उप समूहन मानवनुमा
आँकड़े
देश नेपाल, चीन, भारत, मंगोलिया
क्षेत्र हिमालय
आवास प्रवर्तीय

यति (येटी) या घृणित हिममानव (अबोमिनेबल स्नोमैन) एक पौराणिक प्राणी और एक वानर जैसा क्रिप्टिड है जो कथित तौर पर नेपाल और तिब्बत के हिमालय क्षेत्र में निवास करता है। यति और मेह-तेह नामों का उपयोग आम तौर पर क्षेत्र के मूल निवासी करते हैं,[1] और यह उनके इतिहास एवं पौराणिक कथाओं का हिस्सा है। यति की कहानियों का उद्भव सबसे पहले 19वीं सदी में पश्चिमी लोकप्रिय संस्कृति के एक पहलू के रूप में हुआ।

वैज्ञानिक समुदाय अधिकांश तौर पर साक्ष्य के अभाव को देखते हुए यति को एक किंवदंती के रूप में महत्व देते हैं,[2] फिर भी यह क्रिप्टोज़ूलॉजी के सबसे प्रसिद्ध प्राणियों में से एक के रूप में कायम है। यति को उत्तरी अमेरिका के बिगफुट किंवदंती की तरह का ही एक प्रकार माना जा सकता है।

शब्द व्युत्पत्ति और वैकल्पिक नाम[संपादित करें]

यति शब्द तिब्बती: གཡའ་དྲེད་वायली: g.ya' dred से व्युत्पन्न है जो तिब्बती: གཡའ་वायली: g.ya' "रॉकी" अर्थात् "चट्टानी", "रॉकी प्लेस" अर्थात् "चट्टानी जगह" और (तिब्बती: དྲེད་वायली: dred) "बेर" अर्थात् "भालू" शब्दों का एक मेल है।[3][4][5][6][7] प्रणवानंद[3] बताते हैं कि "ti" (ति), "te" (ते) और "teh" (तेह) शब्दों की व्युत्पत्ति बोले जाने वाले शब्द 'tre' (ट्रे) (वर्तनी "dred" (ड्रेड)) से हुई है जो बेर (भालू) का तिब्बती शब्द-रूप है, जिसके 'r' का उच्चारण इतनी धीमी आवाज़ में किया जाता है कि यह लगभग सुनाई ही नहीं देता, इस प्रकार यह "te" (ते) या "teh" (तेह) बन जाता है।[3][7][8]

हिमालय के लोगों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले अन्य शब्दों का अनुवाद बिल्कुल उसी रूप में नहीं होता है, बल्कि ये शब्द पौराणिक और मूल निवासी वन्य जीवन को संदर्भित करते हैं:

  • मेह-तेह (तिब्बती: མི་དྲེད་वायली: mi dred) का अनुवाद "मानव-भालू" के रूप में होता है।[4][7][9]
  • ड्ज़ु-तेह - 'ड्ज़ु' शब्द का अर्थ "मवेशी" और सम्पूर्ण शब्द का अर्थ "मवेशी भालू" है और यह एक तरह का हिमालयन ब्राउन बेर (हिमालय में रहने वाला भूरे रंग का भालू) है।[4][8][10][11]
  • मिगोई या मी-गो (तिब्बती: མི་རྒོད་वायली: mi rgod) का अनुवाद "जंगली मानव" के रूप में होता है।[5][11]
  • मिर्का - "जंगली-मानव" का एक दूसरा नाम, हालांकि स्थानीय किंवदंती के अनुसार "कोई जो किसी को मरता हुआ देखता है या मार दिया जाता है". बाद वाले को 1937 में फ्रैंक स्मीथ के शेरपाओं की एक लिखित बयान से लिया गया है।[12]
  • कांग आदमी - "हिम मानव".[11]
  • जोब्रान (JoBran) - "आदमखोर".[11]

नेपालियों के पास यति के लिए विभिन्न नाम हैं, जैसे - "बन-मंचे" जिसका अर्थ "वनमानुष"[कृपया उद्धरण जोड़ें] है या "कांगचेंजुन्गा राचीस" जिसका अर्थ "कंचनजुंगा का दानव" है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

"घृणित हिममानव"[संपादित करें]

"घृणित हिममानव" पदवी को 1921 तक नहीं गढ़ा गया था, उसी वर्ष लेफ्टिनेंट कर्नल चार्ल्स हॉवर्ड-बरी ने अल्पाइन क्लब और रॉयल जियोग्राफिकल सोसाइटी के संयुक्त "एवरेस्ट रिकॉनिसन्स एक्सपिडिशन"[13][14] (एवरेस्ट टोही अभियान) का नेतृत्व किया जिसका वृत्तांत उन्होंने माउंट एवरेस्ट द रिकॉनिसन्स, 1921 में लिखा.[15] इस पुस्तक में हॉवर्ड-बरी 21,000 फीट (6,400 मी॰) में "ल्हाक्पा-ला" को पार करने का एक विवरण शामिल करते हैं जहां उन्हें कुछ ऐसे पदचिह्न मिले जिसे देखकर उन्हें लगा कि ये "शायद किसी बड़े से लम्बी डग भरने वाले शिकारी भेड़िये के पदचिह्न थे जिसने नरम बर्फ में दोहरे पदचिह्न-मार्ग का रूप धारण कर लिया था जो कुछ-कुछ नंगे पैरों वाले आदमी के पैरों के निशान लग रहे थे". वे यह भी कहते हैं कि उनके शेरपा पथप्रदर्शकों ने उन्हें तुरंत बताया कि ये पदचिह्न जरूर किसी "बर्फों के जंगली मानव" के होंगे जिसे उन्होंने "मेतोह-कांगमी" नाम दिया.[15] "मेतोह" का अनुवाद "मानव-भालू" और "कांग-मी" का अनुवाद "हिममानव" के रूप में होता है।[3][5][11][16]

हॉवर्ड-बरी द्वारा "मेतोह-कांगमी"[13][15] शब्द के अनुवाद और बिल टिलमैन की पुस्तक माउंट एवरेस्ट, 1938[17] में इस्तेमाल किए गए शब्द के बीच अभी भी भ्रम विद्यमान है जहां टिलमैन ने "घृणित हिममानव" शब्द के गढ़ने का वर्णन करते समय "मेत्च", जो तिब्बती भाषा[18] में विद्यमान नहीं हो सकता और "कांगमी" शब्दों का इस्तेमाल किया था।[5][17][19] एक मिथ्या नाम के रूप में "मेत्च" का एक और सबूत लन्दन विश्वविद्यालय (1956 के आसपास) में स्कूल ऑफ़ ओरिएण्टल एण्ड अफ्रिकन स्टडीज़ के तिब्बती भाषा के अधिकारी प्रोफ़ेसर डेविड स्नेलग्रोव ने दिया है, जिन्होंने "मेत्च" शब्द को असंभव शब्द मानते हुए इसे अस्वीकार कर दिया क्योंकि "t-c-h" व्यंजन वर्णों को तिब्बती भाषा में एकसाथ जोड़ा नहीं जा सकता है।[18] दस्तावेजों से पता चलता है कि "मेत्च-कांगमी" शब्द की व्युत्पत्ति (वर्ष 1921 के) एक स्रोत से हुई है।[17] ऐसा सुझाव मिला है कि "मेत्च" बस "मेतोह" की गलत वर्तनी है।

"घृणित हिममानव" शब्द की उत्पत्ति निश्चय ही रंगीन है। इसकी शुरुआत तब हुई जब श्री हेनरी न्यूमैन, जिन्होंने "किम"[6] उपनाम का इस्तेमाल करके कोलकाता में द स्टेट्समैन में एक लम्बे समय तक अपना योगदान दिया, ने दार्जिलिंग लौटने पर "एवरेस्ट रिकॉनिसन्स एक्सपिडिशन" के कुलियों का साक्षात्कार लिया।[17][20][21][22] न्यूमैन ने शायद कलात्मक अनुज्ञप्ति के कारण "घृणित" शब्द की जगह "मेतोह" शब्द को "घिनौने" या "गंदे" शब्दार्थों के रूप में गलत अनुवाद किया।[23] जैसा कि लेखक बिल टिलमैन वर्णन करते हैं, "[न्यूमैन] ने लम्बे अरसे के बाद द टाइम्स के लिए एक पत्र में लिखा: पूरी कहानी एक ऐसी आनंदमय रचना लगी कि मैंने इसे एक या दो समाचारपत्रों को भेज दिया".[17]

इतिहास[संपादित करें]

यति की कलात्मक व्याख्या

19वीं सदी[संपादित करें]

1832 में, जेम्स प्रिन्सेप के जर्नल ऑफ़ द एशियाटिक सोसाइटी ऑफ़ बंगाल ने पर्वतारोही बी.एच. हॉजसन के उत्तरी नेपाल में उनके अनुभव के विवरण को प्रकाशित किया। उनके स्थानीय पथप्रदर्शकों ने एक लम्बे, दो पैरों वाले प्राणी देखा जो लम्बे काले बालों से ढंका था जो डर से भागता हुआ प्रतीत हुआ। हॉजसन ने यह निष्कर्ष निकाला कि यह एक वनमानुष था।

सूचित पदचिह्नों का एक प्रारंभिक रिकॉर्ड 1889 में लॉरेंस वाडेल के अमंग द हिमालयाज़ में दिखाई दिया. वाडेल ने अपने पथप्रदर्शक द्वारा दी गई निशान छोड़कर जाने वाले एक विशाल वानर जैसे प्राणी के विवरण की सूचना दी जिसे वाडेल ने किसी भालू के पैरों का निशान समझा. वाडेल ने दो पैरों वाले वानर जैसे प्राणियों की कहानियां सुनी थी लेकिन उन्होंने लिखा कि पूछताछ किए गए कई गवाहों में से किसी ने भी "कभी कोई ... एक भी प्रामाणिक विवरण नहीं दे सका. सर्वाधिक ऊपरी जांच में हमेशा कुछ-न-कुछ ऐसा ही समाधान निकलता जिसके बारे में किसी ने सुना होता था।"[24]

20वीं सदी[संपादित करें]

20वीं सदी के दौरान ख़बरों की आवृत्ति में वृद्धि हुई जब पश्चिमीवासियों ने इसके बारे में कई पर्वतों की ख़ाक छानने का दृढ प्रयास करना शुरू कर दिया और समय-समय पर अजीबोगरीब प्राणियों या अजीब तरह के पदचिह्नों को देखने की सूचना दी.

सन् 1925 में एन. ए. टोम्बाज़ी, जो एक फोटोग्राफर और रॉयल जियोग्राफिकल सोसाइटी के सदस्य हैं, लिखते हैं कि उन्होंने ज़ेमू ग्लेशियर के पास लगभग 15,000 फीट (4,600 मी॰) पर एक प्राणी देखा. टोम्बाज़ी ने बाद में लिखा कि उन्होंने लगभग एक मिनट तक लगभग 200 से 300 गज़ (180 से 270 मी॰) से उस प्राणी को देखा. "इसमें कोई संदेह नहीं कि उसकी कद-काठी बिल्कुल एक इंसान की तरह थी जो सीधा चल रहा था और कुछ बौनी बुरुश (रोडडेन्ड्रन) झाड़ियों को तोड़ने के लिए कभी-कभी बीच-बीच में रूक रहा था। यह बर्फ की तुलना में काला दिखाई दिया और जहां तक मैं समझ सकता था, इसने कपड़े नहीं पहने थे।" लगभग दो घंटे बाद, टोम्बाज़ी और उनके साथी पहाड़ पर से उतरे और उस प्राणी के निशान देखे जिसका वर्णन उन्होंने इस रूप में किया "इन पदचिह्नों की रचना एक आदमी के पैरों के निशान की तरह ही थी लेकिन फर्क सिर्फ इतना था कि ये पदचिह्न छः से सात इंच लम्बे और चार इंच तक चौड़े थे[25] ... इसमें कोई शक नहीं था कि ये निशान किसी दो पैरों वाले प्राणी के थे।" ( यह जीव यति नेपाल और भूटान के लोग पहले से ही जानते है और इसे अलग नाम से जानते भी हैं . ).

यति में पश्चिमी लोगो की रुचि में 1950 के दशक में नाटकीय रूप से वृद्धि हुई. 1951 में माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने का प्रयास करते समय एरिक शिप्टन ने सागर तल से लगभग 6,000 मी॰ (20,000 फीट) ऊपर बर्फ में अनगिनत बड़े-बड़े निशानों की तस्वीरें ली. ये तस्वीरें गहन जांच और बहस का विषय रही हैं। कुछ लोग तर्क देते हैं कि वे यति के अस्तित्व के सबसे अच्छे सबूत हैं, जबकि अन्य लोग दावे के साथ कहते हैं कि ये निशान एक सांसारिक प्राणी के निशान हैं जो बर्फ के पिघलने से विकृत हो गए हैं। इस बात पर भी ध्यान दिया जाना चाहिए कि एरिक शिप्टन एक कुख्यात व्यावहारिक जोकर[26] थे।

1953 में सर एडमंड हिलेरी और तेनज़िंग नोर्गे ने माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने के समय बड़े-बड़े पदचिह्नों को देखने की खबर दी. अपनी पहली आत्मकथा में तेनज़िंग ने कहा कि उनका मानना था कि यति एक विशाल वानर था और हालांकि इसे उन्होंने खुद कभी नहीं देखा था, उनके पिताजी ने दो बार इसे देखा था, लेकिन अपने दूसरी आत्मकथा में उन्होंने कहा वे इसके अस्तित्व को लेकर बहुत ज्यादा उलझन में पड़ गए थे।[27]

डेली मेल के 1954[28] के स्नोमैन एक्सपिडिशन के दौरान पर्वतारोहण नेता जॉन एंजेलो जैक्सन ने एवरेस्ट से कंचनजुंगा तक पहली बार पैदल यात्रा की जिसके मार्ग में पड़ने वाले तेंगबोचे गोम्पा में उन्होंने यति के प्रतीकात्मक चित्रों की तस्वीरें ली.[29] जैक्सन ने बर्फ में कई पदचिह्नों को ढूंढ निकाला और उनकी तस्वीरें ली जिनमें से अधिकांश पहचानयोग्य थे। हालांकि, ऐसे भी कई विशाल पदचिह्न थे जिनकी पहचान नहीं की जा सकी. इन चपटे पदचिह्न जैसे निशानों के बनने के पीछे हवा और कणों द्वारा मूल पदचिह्न का कटाव और उसके बाद उसका फैलाव जिम्मेदार था। ( येति हिमालय के अलावा अमेरिका मे भी देखा गया है. )

19 मार्च 1954 को डेली मेल में एक लेख छपी जिसमें कथित तौर पर अभियान दलों द्वारा पैन्गबोचे मठ में पाए गए यति की खोपड़ी की खाल से बालों के नमूनों को प्राप्त करने का वर्णन था। मंद प्रकाश में ये बाल काले रंग से लेकर गहरे भूरे रंग के लगते थे और धूप में लोमड़ी के बालों की तरह लाल लगते थे। बाल का विश्लेषण मानव एवं तुलनात्मक शारीरिक रचना के एक विशेषज्ञ प्रोफ़ेसर फ्रेडरिक वूड जोन्स[30][31] ने की. अध्ययन के दौरान, बालों को निखारा गया, कई भागों में विभाजित किया गया और सूक्ष्मतापूर्वक इसका विश्लेषण किया गया। अनुसन्धान में बालों की सूक्ष्म तस्वीरें लेना और उनकी तुलना ज्ञात जानवरों, जैसे - भालूओं और वनमानुषों, के बालों से करना शामिल था। जोन्स ने निष्कर्ष निकाला कि ये बाल वास्तव में किसी खोपड़ी की खाल के नहीं थे। उन्होंने तर्क दिया कि जबकि कुछ जानवरों में सिर के ऊपरी सिरे से लेकर पीछे तक बालों की एक श्रेणी होती है, लेकिन किसी भी जानवर में ललाट के आधार से होते हुए सिर के ऊपरी सिरे तक जाती हुई और गर्दन के पिछले भाग में ख़त्म होती हुई बालों की श्रेणी नहीं होती है (जैसा पैन्गबोचे में पाए गए "खोपड़ी की खाल" में मिला था). जोन्स उस जानवर का एकदम सही पता लगाने में असमर्थ थे जिससे पैन्गबोचे में पाए गए बाल को लिया गया था। हालांकि उन्हें विश्वास था कि ये बाल किसी भालू या मानवाकार वानर के नहीं थे। उन्होंने सुझाव दिया कि ये बाल किसी मोटे बालों वाले और खुर वाले जानवर के कंधे के बाल थे।[32]

स्लावोमिर राविक्ज़ ने 1956 में प्रकाशित अपनी पुस्तक द लाँग वॉक में दावा किया कि जिस समय वह और कुछ अन्य लोग 1940 के जाड़े में हिमालय पार कर रहे थे, उस समय उनका मार्ग दो पैरों वाले जानवरों द्वारा कई घंटों तक अवरुद्ध हो गया था जो देखने में बर्फ में इधर-उधर पैर घसीट कर चलने के सिवाय कुछ नहीं कर रहे थे। उसके बाद से राविक्ज़ का पूरा ब्यौरा काल्पनिक माना जाता रहा है।

1957 के आरम्भ में अमेरिका के एक धनवान तेली टॉम स्लिक ने यति के सम्बन्ध में प्राप्त सूचनाओं की जांच करने वाले कुछ मिशनों को वित्तपोषित किया। 1959 में स्लिक के अभियान दलों में से एक ने यति के कल्पित मुखाकृतियों को संग्रह किया; मलीय विश्लेषण में एक परजीवी पाया गया जिसे वर्गीकृत नहीं किया जा सका. क्रिप्टोज़ूलॉजिस्ट बर्नार्ड ह्यूवेलमैन्स ने लिखा, "चूंकि प्रत्येक जानवर में उनके खुद के परजीवी होते हैं, इसने संकेत दिया कि यह मेजबान जानवर समान रूप से एक अज्ञात जानवर है।"[33]

1959 में, अभिनेता जेम्स स्टीवर्ट ने भारत के दौरे के समय कथित तौर पर एक तथाकथित यति के अवशेष की तस्करी की जिसे कथित तौर पर पैन्गबोचे हैण्ड के नाम से जाना जाता है जिसे उन्होंने भारत से लन्दन जाते समय अपने सामान में छिपा लिया था।[34]

1960 में हिलेरी ने यति के भौतिक साक्ष्य को इकठ्ठा करने और उसका विश्लेषण करने के लिए एक अभियान का शुभारम्भ किया। उन्होंने खुमजुंग मठ से पश्चिम में परीक्षण के लिए एक तथाकथित यति "खोपड़ी की खाल" भेजी, जिसके परिणामों का संकेत था कि उस खोपड़ी की खाल को सेरो नामक बकरी जैसी दिखने वाली हिमालय की एक हिरन के त्वचा से बनाया गया था। मानव विज्ञानी मायरा शैक्ले इस आधार पर इस निष्कर्ष से असहमत थे कि "खोपड़ी की खाल से लिए गए बाल देखने में स्पष्ट रूप से बन्दर जैसे थे और यह भी कि इसमें एक ऐसी प्रजाति के परजीवी अंश हैं जो सेरो से प्राप्त अंशों से भिन्न हैं।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

1970 में ब्रिटिश पर्वतारोही डॉन ह्विलंस ने अन्नपूर्णा पर चढ़ते समय एक प्राणी को देखने का दावा किया।[35] ह्विलंस के मुताबिक, एक शिविर-स्थल की खोज करते समय उन्होंने कुछ अजीब सी आवाजें सुनी जिसे उनके शेरपा पथप्रदर्शक ने यति की आवाज़ बताया. उस रात, उन्होंने अपने शिविर के पास एक काली आकृति को घूमते हुए देखा. अगले दिन, उन्होंने बर्फ में कुछ मानव जैसे पदचिह्न देखे और उस शाम, उन्होंने दूरबीन से 20 मिनट तक एक दो पैरों वाले वानर जैसे दिखने वाले प्राणी को देखा जो जाहिर तौर पर उनके शिविर से कुछ दूरी पर भोजन की तलाश में था।[तथ्य वांछित]

एक प्रसिद्ध यति छल है जिसे स्नो वॉकर फ़िल्म के नाम से जाना जाता है। फुटेज को पैरामाउंट के यूपीएन (UPN) कार्यक्रम, पैरानॉर्मल बॉर्डरलैंड, के लिए निर्मित किया गया था जिसे प्रकट रूप से कार्यक्रम के निर्माताओं ने बनाया था। यह कार्यक्रम 12 मार्च से 6 अगस्त 1996 तक चला. फ़ॉक्स ने इस फुटेज को खरीद लिया और द वर्ल्ड्स ग्रेटेस्ट होक्सेस पर अपने परवर्ती कार्यक्रम में इस फुटेज का इस्तेमाल किया।[36] ( येति का नाम भारतीयों के इतिहास में भी आता है. ) .

21वीं सदी[संपादित करें]

2004 में प्रतिष्ठित जर्नल नेचर के सम्पादक हेनरी गी ने यह लिखते हुए यति का उल्लेख एक किंवदंती के एक उदाहरण के रूप में किया जो और अधिक अध्ययन के लायक है, "खोज कि इतने हाल के समय तक होमो फ्लोरेसिएंसिस बच गए, भूविज्ञान की दृष्टि से, इसे बहुत कुछ अन्य पौराणिक मानव तुल्य प्राणियों की कहानियों की तरह बनाती है, जैसे यति की कहानियों की स्थापना सत्य के अन्न पर हुई है।.. अब, क्रिप्टोज़ूलॉजी, ऐसे शानदार प्राणियों का अध्ययन, ठंडे प्रदेश से प्रवेश कर सकता है।[37]

वर्ष 2007 के दिसम्बर के आरम्भ में अमेरिकी टीवी प्रस्तुतकर्ता जोशुआ गेट्स और उनकी टीम (डेस्टिनेशन ट्रुथ) ने नेपाल के एवरेस्ट क्षेत्र में पदचिह्नों की एक श्रृंखला ढूंढने की खबर दी जो यति के विवरण के सदृश था।[38] उन पदचिह्नों में से प्रत्येक की लम्बाई 33 से॰मी॰ (1.08 फीट) थी जिसके पैर की अंगुलियों की संख्या पांच थी जिसकी माप कुल मिलाकर 25 से॰मी॰ (0.82 फीट) थी। सांचों को आगे के अनुसन्धान के लिए छापे से बनाया गया था। इन पदचिह्नों की जांच इडाहो स्टेट यूनिवर्सिटी के जेफ्रे मेल्ड्रम ने की जिन्हें विश्वास था कि वे आकृति विज्ञान की दृष्टि से इतने सटीक थे कि उन्हें नकली या मानव निर्मित नहीं कहा जा सकता.[कृपया उद्धरण जोड़ें] मेल्ड्रम ने यह भी बताया कि वे बहुत कुछ दूसरे क्षेत्र में पाए जाने वाले बिगफुट के एक जोड़ी पदचिह्नों की तरह थे।[कृपया उद्धरण जोड़ें] उसके बाद भूटान के तृतीय सत्र मध्य समापन यात्रा के दौरान गेट्स की टीम को एक पेड़ पर बालों का एक नमूना मिला जिसका विश्लेषण करने के लिए उन्हें वे वापस ले आए. इसका परीक्षण करने के बाद यह निष्कर्ष निकाला गया कि बाल किसी अज्ञात नर वानर के थे।

25 जुलाई 2008 को बीबीसी (BBC) ने खबर दी कि दीपू मारक द्वारा उत्तर-पूर्व भारत के सुदूर गारो हिल्स क्षेत्र में संग्रहित बालों का विश्लेषण प्राइमैटोलॉजिस्ट अन्ना नेकारिस और सूक्ष्मदर्शिकी विशेषज्ञ जोन वेल्स ने ब्रिटेन के ऑक्सफोर्ड ब्रूकेस विश्वविद्यालय में की थी। ये प्रारंभिक परीक्षण अनिर्णायक थे और वानर संरक्षण विशेषज्ञ इयान रेडमंड ने बीबीसी (BBC) को बताया कि 1950 के दशक में हिमालय के अभियानों के दौरान एडमंड हिलेरी द्वारा संग्रहित इन बालों और नमूनों के उपत्वचा ढांचे में समानता थी और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी म्यूज़ियम ऑफ़ नैचरल हिस्ट्री को दान कर दिया और डीएनए (DNA) के योजनाबद्ध विश्लेषण की घोषणा की.[39] उसके उपरांत इस विश्लेषण ने इस बात का खुलासा किया है कि बाल हिमालयन गोरल से प्राप्त हुआ।[40]

20 अक्टूबर 2008 को सात जापानी जांबाज़ों की एक टीम ने पदचिह्नों की तस्वीरें ली जो संभवतः किसी यति के पैरों के निशान थे। टीम के नेता योशितेरू ताकाहाशी का दावा है कि उन्होंने 2003 के एक अभियान में एक यति को देखा था और अब वह उस प्राणी का फिल्म उतारने के लिए दृढ संकल्प है।[41]

संभाव्य स्पष्टीकरण[संपादित करें]

हिमालय के वन्य जीवन के कुछ दृश्यों को यति के दृश्यों के स्पष्टीकरण के रूप में गलत तरीके से प्रस्तावित किया गया है, जिसमें चु-तेह, जो कम ऊंचाई पर निवास करने वाला एक लंगूर बन्दर[42] है, टिबेटन ब्लू बेर, हिमालयन ब्राउन बेर या ड्ज़ु-तेह, जिसे हिमालयन रेड बेर के नाम से भी जाना जाता है, शामिल है।[42] कुछ लोगों ने यह भी सुझाव दिया है कि यति वास्तव में एक मानव अरण्यवासी हो सकता है।

भूटान के एक सुप्रचारित अभियान से खबर मिली कि बालों का एक नमूना प्राप्त हुआ था जिसका, प्रोफ़ेसर ब्रायन साइकेस के डीएनए (DNA) विश्लेषण के बाद, किसी ज्ञात जानवर से मिलान नहीं किया जा सकता.[43] हालांकि, मीडिया रिलीज़ के बाद परिपूर्ण विश्लेषण ने साफ़ तौर पर साबित कर दिया कि ये नमूने ब्राउन बेर (उर्सुस आर्क्टोस) और एशियाटिक ब्लैक बेर (उर्सुस तिबेतानुस) के थे।[44]

1986 में, साउथ टायरॉल के पर्वतारोही रेनहोल्ड मेसनर ने एक यति के साथ आमना-सामना होने का दावा किया। उसके उपरांत उन्होंने माई क्वेस्ट फॉर द येटी नामक एक पुस्तक की रचना की है और ऐसे ही किसी एक यति की सचमुच में हत्या करना का दावा करते हैं। मेसनर के अनुसार, यति वास्तव में लुप्तप्रायः हिमालयन ब्राउन बेर, उर्सुस आर्क्टोस इसाबेलिनुस, है जो सीधा खड़ा होकर या सभी चार हाथ-पैरों पर चल सकता है।[45]

2003 में, जापान के पर्वतारोही मकोतो नेबुका ने अपने बारह वर्षीय भाषाविज्ञान संबंधी अध्ययन के परिणामों को प्रकाशित किया जिसमें उन्होंने दावा किया कि "यति" शब्द वास्तव में "मति" शब्द का एक बिगड़ा हुआ रूप है, जो क्षेत्रीय भाषा में "भालू" शब्द का ही एक शब्द-रूप है। नेबुका दावा करते हैं कि सजातीय तिब्बती इस भालू से डरते हैं और इसे एक अलौकिक प्राणी के रूप में पूजते हैं।[46] नेबुका के दावे लगभग तत्काल आलोचना का विषय थे और उन पर भाषाई लापरवाही का आरोप लगाया गया था। डॉ॰ राज कुमार पांडे, जिन्होंने यति और पर्वतीय भाषाओँ दोनों पर शोध किया है, ने कहा "शब्दों के आधार पर हिमालय के रहस्यमयी जानवर की कहानियों पर दोषारोपण करना काफी नहीं है जिसका तुक तो मिलता है लेकिन अर्थ अलग है।"[47]

कुछ[कौन?] का अंदाज़ है कि ये कथित प्राणी विलुप्त दैत्याकार वानर जाइगनटोपिथेकस के आधुनिक नमूने हो सकते हैं। हालांकि, जबकि यति को आम तौर पर द्विपाद के रूप में वर्णित किया जाता है, अधिकांश वैज्ञानिकों का विश्वास है कि जाइगनटोपिथेकस चौपाया था और इतना विशाल था कि, जब तक यह विशेष रूप से एक द्विपद वानर (ओरियोपिथेकस और होमिनिड्स की तरह) के रूप में विकसित नहीं हुआ, इनकी तरह सीधा खड़ा होकर चलना अब विलुप्त हो चुके नर वानर के लिए भी बहुत ज्यादा मुश्किल था लेकिन इसके विद्यमान चौपाया रिश्तेदार, वनमानुष के लिए ऐसा करना संभव है।

लोकप्रिय संस्कृति में[संपादित करें]

फ़िल्मों, साहित्य, संगीत और वीडियो गेमों में दिखने के बाद यति एक सांस्कृतिक प्रतीक बन गया है।

फ़िल्म[संपादित करें]

मुख्यतः द स्नो क्रिएचर (1954), द अबोमिनेबल स्नोमैन (1957), मॉन्स्टर्स, इंक. (2001) और The Mummy: Tomb of the Dragon Emperor (2008) नामक फिल्मों में इसकी उपस्थिति उल्लेखनीय है।

टेलीविज़न[संपादित करें]

यति वार्षिक अमेरिकन क्रिसमस प्रसारण विशेष रुडोल्फ द रेड-नोज़्ड रेनडियर सहित, कुछ टेलीविज़न कार्यक्रमों में; लूनी ट्यून्स के विभिन्न कार्टूनों में; द इलेक्ट्रिक कंपनी से स्पाइडर-मैन की एक कहानी में; ब्रिटिश साइंस फिक्शन टेलीविज़न श्रृंखला डॉक्टर हू में छः कड़ियों वाले एक धारावाहिक, द अबोमिनेबल स्नोमेन में रोबोट के समान दिखने वाले यति के रूप में (द वेब ऑफ़ फियर, द फाइव डॉक्टर्स और डाउनटाइम में उन्होंने वापसी की); Power Rangers: Operation Overdrive में; और द सीक्रेट सैटरडेज़ में महत्वपूर्ण भूमिकाएं निभाता है।

साहित्य[संपादित करें]

साहित्य में यति को हर्ज की टिनटिन इन तिब्बत में, आर. एल. स्टाइन के गूज़बम्प्स फ़्रैन्चाइज़ की 38वीं पुस्तक, द अबोमिनेबल स्नोमैन ऑफ़ पेसाडेना में और चूज़ योर ओन ऐडवेंचर श्रृंखला की एक गेमबुक में देखा गया है। अबोमिनेबल स्नोमैन मार्वल कॉमिक्स यूनिवर्स का एक पात्र है और स्नोमैन डीसी कॉमिक्स यूनिवर्स का एक पात्र है। यति को भारतीय कॉमिक सुपर कमांडो ध्रुव में दिखाया गया था। एच. पी. लवक्राफ्ट की "चुल्हू मिथोस" और अन्य, जैसे - लवक्राफ्ट की कहानी "द ह्विस्परर इन डार्कनेस" में मी-गो नाम का प्रयोग भी किया गया है।

संगीत[संपादित करें]

अमेरिकी हेवी मेटल बैंड हाई ऑन फायर ने अपने दूसरे एल्बम सराउंडेड बाई थीव्स में अपने "द येटी" गाने को शामिल किया।

थीम पार्क[संपादित करें]

वॉल्ट डिज़्नी वर्ल्ड का आकर्षण एक्सपिडिशन एवरेस्ट की विषय-वस्तु यति की लोककथाओं के इर्द-गिर्द घूमती है जिसमें झूले की सवारी के दौरान एक 25 फुट लंबा ऑडियो एनिमेट्रोनिक यति को प्रकट होता हुआ दिखाया जाता है।[48] डिज़्नीलैंड में मैटरहोर्न बोबस्लेड्स नामक इसी तरह के एक झूले पर तीन ऑडियो-एनिमेट्रोनिक अबोमिनेबल स्नोमेन दिखाई देते हैं।

वीडियो गेम[संपादित करें]

यति कई वीडियो गेम में दिखाई दिया है, जिसमें रूनस्केप (RuneScape), डायब्लो II, कैबेला'स डेंजरस हंट्स 2, ज़ू टाइकून, वर्ल्ड ऑफ़ वॉरक्राफ्ट, The Legend of Zelda: Twilight Princess, The Legend of Kyrandia: Hand of Fate, किंग्स क्वेस्ट V, टॉम्ब रेडर 2, मैपलस्टोरी (MapleStory), स्कीफ्री (SkiFree), Uncharted 2: Among Thieves, पोक्सनोरा (PoxNora), फाइनल फैंटसी VI, फाइनल फैंटसी XII, Baldur's Gate: Dark Alliance, टिनटिन इन तिब्बत, एनबीए स्ट्रीट (NBA Street), प्लांट्स वर्सस ज़ोम्बीज़ (Plants vs. Zombies), Castlevania: Dawn of Sorrow, पोकीमोन डायमंड एण्ड पर्ल, टाइटल क्वेस्ट और Carnivores: Ice Age शामिल हैं।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

इसी तरह के कथित प्राणी

सन्दर्भ[संपादित करें]

पाद-टिप्पणियां[संपादित करें]

  1. Charles Stonor (1955 Daily Mail). The Sherpa and the Snowman. Hollis and Carter. |year= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  2. John Napier (2005). Bigfoot: The Yeti and Sasquatch in Myth and Reality. London: N. Abbot. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-525-06658-6..
  3. Rev. Swami Pranavananda (1957). "The Abominable Snowman". Journal of the Bombay Natural History Society. 54. नामालूम प्राचल |quotes= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  4. Stonor, Charles (जनवरी 30, 1954). The Statesman in Calcutta. नामालूम प्राचल |quotes= की उपेक्षा की गयी (मदद); गायब अथवा खाली |title= (मदद)
  5. Swan, Lawrence W., (अप्रैल 18, 1958). "Abominable Snowman". Science New Series: 882–884. नामालूम प्राचल |quotes= की उपेक्षा की गयी (मदद); नामालूम प्राचल |nolume= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  6. Ralph Izzard (1955). "The Abominable Snowman Adventure". Hodder and Stoughton: 21–22. नामालूम प्राचल |quotes= की उपेक्षा की गयी (मदद); |chapter= ignored (मदद)
  7. Bernard Heuvelmans (1958). On the Track of Unknown Animals. Rupert Hart-Davis. पृ॰ 164.
  8. Ralph Izzard (1955). "The Abominable Snowman Adventure". Hodder and Stoughton: 199. नामालूम प्राचल |quotes= की उपेक्षा की गयी (मदद); |chapter= ignored (मदद)
  9. Ralph Izzard (1955). "The Abominable Snowman Adventure". Hodder and Staoughton: 22. नामालूम प्राचल |quotes= की उपेक्षा की गयी (मदद); |chapter= ignored (मदद)
  10. Rev, Swami Pranavananda (1955). Indian Geographical Journal, July-Sept. 30: 99. नामालूम प्राचल |quotes= की उपेक्षा की गयी (मदद); गायब अथवा खाली |title= (मदद)
  11. John A. Jackson (1955). More than Mountains. George G. Harrap & Co. Ltd).
  12. Tilman H.W, (1938). Mount Everest 1938. Pilgrim Publishing. पृ॰ 131. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 81-7769-175-9. नामालूम प्राचल |quotes= की उपेक्षा की गयी (मदद); नामालूम प्राचल |appendix= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  13. Charles Howard-Bury (1921). "Some Observations on the Approaches to Mount Everest". The Geographical Journal. 57 (no. 2): 121–124. डीओआइ:10.2307/1781561. नामालूम प्राचल |quotes= की उपेक्षा की गयी (मदद); नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  14. Francis Yourghusband; H. Norman Collie; A. Gatine (1922). "Mount Everest" The reconnaissance: Discussion". The Geographical Journal. 59 (no. 2): 109–112. डीओआइ:10.2307/1781388. नामालूम प्राचल |quotes= की उपेक्षा की गयी (मदद); नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  15. Charles Howard-Bury (1921). "19". Mount Everest The Reconnaissance, 1921. Edward Arnold. पृ॰ 141. ISBN=1-135-39935-2. नामालूम प्राचल |quotes= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  16. Ralph Izzard (1955). "The Abominable Snowman Adventure". Hodder and Staoughton: 21. नामालूम प्राचल |quotes= की उपेक्षा की गयी (मदद); |chapter= ignored (मदद)
  17. Tilman H.W, (1938). Mount Everest 1938. Pilgrim Publishing. पपृ॰ 127–137. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 81-7769-175-9. नामालूम प्राचल |quotes= की उपेक्षा की गयी (मदद); नामालूम प्राचल |appendix= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  18. Ralph Izzard (1955). "The Abominable Snowman Adventure". Hodder and Staoughton: 24. नामालूम प्राचल |quotes= की उपेक्षा की गयी (मदद); |chapter= ignored (मदद)
  19. William L. Straus Jnr., (जून 8, 1956). "Abominable Snowman". Science, New Series. 123 (No. 3206): 1024–1025. नामालूम प्राचल |quotes= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  20. Bacil F. Kirtley (1964). "Unknown Hominids and New World legends". Western Folklore. 23 (No. 1304): 77–90. डीओआइ:10.2307/1498256. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  21. John Masters (1959). "The Abominable Snowman". CCXVIII (No. 1304). Harpers: 31. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  22. Bernard Heuvelmans (1958). On the Track of Unknown Animals. Rupert Hart-Davis. पृ॰ 129.
  23. Ralph Izzard (1955). "The Abominable Snowman Adventure". Hodder and Stoughton: 23. नामालूम प्राचल |quotes= की उपेक्षा की गयी (मदद); |chapter= ignored (मदद)
  24. येह-तेह: "दैट थिंग देर"
  25. 6 से 7 इंच (150 से 180 मि॰मी॰), 4 इंच (100 मि॰मी॰)
  26. वेल्स, सी. 2008. हू'ज़ हू इन ब्रिटिश क्लाइम्बिंग द क्लाइम्बिंग कंपनी लिमिटेड
  27. Tenzing Norgay (told to and written by James Ramsey Ullman) (1955). Man of Everest - The Autobiography of Tenzing. George Harrap & Co, Ltd.
  28. डेली मेल की टीम हिममानव की तलाश करेंगे
  29. John Angelo Jackson (pp136) (2005). "Chapter 17". Adventure Travels in the Himalaya (pp135-152). नई दिल्ली: Indus Pub. Co. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 81-7387-175-2.
  30. Jessie Dobson (1956). "Obituary: 79, Frederic Wood-Jones, F.R.S.: 1879-1954". Man. 56: 82–83. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  31. Wilfred E. le Gros Clark (1955). "Frederic Wood-Jones, 1879-1954". Biographical memoirs of Fellows of the Royal Society. 1: 118–134. डीओआइ:10.1098/rsbm.1955.0009. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  32. Ralph Izzard (1955). The Abominable Snowman Adventure. Hodder and Staoughton. नामालूम प्राचल |quotes= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  33. लोरेन कोलमैन, टॉम स्लिक एण्ड द सर्च फॉर येटी, फेबर एण्ड फेबर, 1989, आईएसबीएन (ISBN) 0-571-12900-5; लोरेन कोलमैन, टॉम स्लिक: ट्रु लाइफ एनकाउन्टर्स इन क्रिप्टोज़ूलॉजी, फ्रेस्नो, कैलिफोर्निया: लिन्डेन प्रेस, 2002, आईएसबीएन (ISBN) 0-941936-74-0
  34. माइलस्टोंस -- जिमी स्टीवर्ट
  35. जिम पेरिन, द विलं: द लाइफ ऑफ़ डॉन ह्विलंस . द माउंटेनियर्स बुक्स, 2005, पीपी. 261-2
  36. स्नो वॉकर फ़िल्म
  37. नेचर पब्लिशिंग ग्रुप (2004). फ्लोर्स, गॉड एण्ड क्रिप्टोज़ूलॉजी (केवल अभिदान के साथ उपलब्ध).
  38. Charles Haviland (1 दिसंबर 2007). "'Yeti prints' found near Everest". बीबीसी न्यूज़. अभिगमन तिथि 1 दिसंबर 2007.
  39. यति के बाल डीएनए (DNA) विश्लेषण
  40. 'यति के बाल' का सम्बन्ध एक बकरी से है, एलेस्टर लॉसन की एक रिपोर्ट - बीबीसी न्यूज़ (बीबीसी न्यूज़) - 11:20 जीएमटी (GMT), सोमवार, 13 अक्टूबर 2008
  41. http://web.archive.org/web/20081025011515/news.yahoo.com/s/afp/20081020/wl_sthasia_afp/nepaljapanwildlifeyetioffbeat
  42. एवरेस्ट से कंचनजुंगा 1954 » प्रदर्शन 7.बुक-बीडब्ल्यू से यति
  43. द स्टेट्समेन -- मिस्ट्री प्राइमेट
  44. Chandler, H.C. (2003). Using Ancient DNA to Link Culture and Biology in Human Populations. Unpublished D.Phil. thesis. University of Oxford, Oxford. नामालूम प्राचल |quotes= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  45. यति के बारे में परेशां कर देने वाला सत्य -- घृणित हिम-भालू की छानबीन
  46. तिब्बत: रहस्यवादी सामान्य तथ्य
  47. बीबीसी न्यूज़ (बीबीसी न्यूज़) -- यति का 'गैर-अस्तित्व' असह्य
  48. "Engineering Expedition Everest,complete with a yeti". Machine Design. 3 मई 2009. http://machinedesign.com/ContentItem/58140/EngineeringExpeditionEverestcompletewithayeti.aspx. 

सामान्य संदर्भ[संपादित करें]

  • जॉन नेपियर (एमआरसीएस (MRCS), आईआरसीएस (IRCS), डीएससी (DSC)) बिगफुट: द यति एण्ड सैसक्वाट्च इन मिथ एण्ड रियलिटी 1972 आईएसबीएन (ISBN) 0-525-06658-6.
  • सर फ्रांसिस यंगहज़्बन्ड द एपिक ऑफ़ माउंट एवरेस्ट, 1926, एडवर्ड अर्नोल्ड एण्ड कं. अभियान जिसने अनजाने में "अबोमिनेबल स्नोमैन" (घृणित हिममानव) शब्द गढ़ा
  • चार्ल्स हॉवर्ड-बरी, माउंट एवरेस्ट द रिकॉनिसन्स, 1921, एडवर्ड अर्नोल्ड, आईएसबीएन (ISBN) 1-135-39935-2.
  • बिल टिलमैन (एच. डब्ल्यू. टिलमैन), माउंट एवरेस्ट 1938, परिशिष्ट बी, पीपी. 127–137, पिल्ग्रिम पब्लिशिंग. आईएसबीएन (ISBN) 81-7769-175-9.
  • जॉन एंजेलो जैक्सन, मोर दैन माउंटेन्स, अध्याय 10 (पीपी 92) एवं 11, प्रील्यूड टु द स्नोमैन एक्सपिडिशन एण्ड द स्नोमैन एक्सपिडिशन, जॉर्ज हैरप एण्ड कं, 1954
  • राल्फ इज़र्ड, द अबोमिनेबल स्नोमैन एडवेंचर, यह "स्नोमैन" (हिममानव) को ढूंढ निकालने के 1954 के अभियान पर डेली मेल के संवाददाता का विस्तृत विवरण है, होडर और स्टॉफटन, 1955.
  • चार्ल्स स्टोनर, द शेरपा एण्ड द स्नोमैन, वैज्ञानिक अभियान अधिकारी के 1955 के डेली मेल के "अबोमिनेबल स्नोमैन एक्सपिडिशन" की याद दिलाता है, यह केवल "स्नोमैन" (हिममानव) का ही नहीं बल्कि हिमालय और इसके लोगों की वनस्पतियों और पशुवर्ग का भी एक बहुत विस्तृत विश्लेषण है। होलिस और कार्टर, 1955.
  • जॉन एंजेलो जैक्सन, एडवेंचर ट्रैवल्स इन द हिमालय अध्याय 17, एवरेस्ट एण्ड द इलूसिव स्नोमैन, 1954 अद्यतित सामग्री, इंडस पब्लिशिनिंग कंपनी, 2005, आईएसबीएन (ISBN) 81-7387-175-2.
  • बर्नार्ड ह्यूवेलमैन्स, ऑन द ट्रैक ऑफ़ अननॉन एनिमल्स, हिल एण्ड वाँग, 1958
  • रेनहोल्ड मेसनर, माई क्वेस्ट फॉर द येटी: कॉन्फ्रॉन्टिंग हिमालयास' डीपेस्ट मिस्ट्री, न्यूयॉर्क: सेंट मार्टिन प्रेस, 2000, आईएसबीएन (ISBN) 0-312-20394-2
  • गार्डनर सॉल, ट्रेल ऑफ़ द अबोमिनेबल स्नोमैन, न्यूयॉर्क: जी. पी. पुट्नाम्स संस, 1966, आईएसबीएन (ISBN) 0-399-6064
  • डैनियल टेलर-आईड, समथिंग हिडन बिहाइंड द रेंज्स: ए हिमालयन क्वेस्ट, सैन फ्रांसिस्को (कैलिफ.) : मर्करी हाउस, 1995

साँचा:Cryptozoology