छल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

छल या धोखा एक व्यक्ति या संगठन द्वारा जानबूझ कर किसी अन्य व्यक्ति में किसी ऐसे विश्वास को जन्म देने या प्रोत्साहित करने को कहते हैं जो सच न हो। ध्यान दें कि स्वयं को भी छला जा सकता है। कई प्रकार के छल न्याय व्यवस्थाओं में अपराध माने जाते है जबकि बहुत से अन्य छल भिन्न समाजों में अनौचित्य की परिभाषा में आते हैं।[1][2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Bassett, Rodney L.. & Basinger, David, & Livermore, Paul. (1992, December). Lying in the Laboratory: Deception in Human Research from a Psychological, Philosophical, and Theological Perspectives. ASA3.org
  2. Milgram, S. (1963). Behavioral study of obedience. The Journal of Abnormal and Social Psychology, 67(4), 371-378. Retrieved February 25, 2008 from the PsycARTICLES database.