त्रवनकोर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
त्रावणकोर का साम्राज्य
തിരുവിതാംകൂർ
1729–1949
Travancore Conch in wreath, guarded by two elephants on either side
ध्वज कुलांक
Travancore
Kingdom of Travancore in India
राजधानी पद्मनाभपुरम (1729–1795)
तिरुवनन्तपुरम (1795–1949)
भाषाएँ मलयालम, तमिल
धार्मिक समूह बहुमत:हिन्दू धर्म
अल्पसंख्यक:
ईसाई धर्म
इसलाम
यहूदी धर्म
शासन साम्राज्य
महाराजा
 -  1729–1758 (first) मार्थंडा वर्मा
 -  1829–1846 (peak) स्वाति तिरुनल राम वर्मा
 -  1931–1949 (last) चिथिरा थिरुनल बलराम वर्मा
इतिहास
 -  स्थापित 1729
 -  अंत 1949
मुद्रा त्रावणकोर रुपया
आज इन देशों का हिस्सा है: भारत
Warning: Value not specified for "common_name"|- style="font-size: 85%;" Warning: Value specified for "continent" does not comply

त्रवनकोर का साम्राज्य (मलयालम: തിരുവിതാംകൂർ) जिसे थिरुविथमकूर के राज्य के रूप में भी जाना जाता है, १७२९ से १९४९ तक एक भारतीय साम्राज्य था। ​इसपर त्रवनकोर राजपरिवार का शासन था, जिनकी गद्दी पहले पद्मनाभपुरम और फिर तिरुवनन्तपुरम में थी। अपने चरम पर, राज्य ने आधुनिक केरल के अधिकांश दक्षिणी हिस्सों (इडुक्की, कोट्टायम, अलाप्पुझा, पठानमथिट्टा, कोल्लम, और तिरुवनंतपुरम जिलों, और एर्नाकुलम जिले के कुछ हिस्सों) और आधुनिक तमिलनाडु के दक्षिणी हिस्से (कन्याकुमारी जिला और तेनकासी जिले के कुछ हिस्से) को आवरण किया।[1]

राजा मार्थंडा वर्मा को १७२३ में वेनाड का छोटा सामंती राज्य विरासत में मिला और उन्होंने त्रावणकोर को दक्षिणी भारत के सबसे शक्तिशाली राज्यों में से एक बनाया। मार्थंडा वर्मा ने १७३९-४६ के त्रावणकोर-डच युद्ध के दौरान त्रावणकोर सेना का नेतृत्व किया, जिसकी परिणति कोलाचेल की लड़ाई में हुई। त्रावणकोर द्वारा डच साम्राज्य की हार को एशिया से एक संगठित शक्ति का सबसे पहला उदाहरण माना जाता है, जो यूरोपीय सैन्य प्रौद्योगिकी और रणनीति पर काबू पाती है।[2] मार्थंडा वर्मा ने देशी शासकों की अधिकांश छोटी-छोटी रियासतों को जीत लिया और १७५५ में पुरक्कड़ की लड़ाई में कोझिकोड के शक्तिशाली ज़मोरिन को हराकर त्रावणकोर केरल का सबसे प्रभावशाली राज्य बन गया।[3]

१९वीं शताब्दी में यह ब्रिटिश-अधीन भारत की एक रियासत बन गई और इसके राजा को स्थानीय रूप से २१ तोपों की और राज्य से बाहर १९ तोपों की सलामी की प्रतिष्ठा दी गई। महाराज श्री चितिरा तिरुनल बलराम वर्मा के १९२४-१९४९ के राजकाल में राज्य सरकार ने सामाजिक और आर्थिक उत्थान के लिये कई प्रयत्न किये जिनसे यह ब्रिटिश-अधीन भारत का दूसरा सबसे समृद्ध रियासत बन गया और शिक्षा, राजव्यवस्था, जनहित कार्यों और सामाजिक सुधार के लिये जाना जाने लगा।[4][5]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. British Archives http://discovery.nationalarchives.gov.uk/details/rd/d3e53001-d49e-4d4d-bcb2-9f8daaffe2e0
  2. Sanjeev Sanyal (10 August 2016). The Ocean of Churn: How the Indian Ocean Shaped Human History. Penguin Books Limited. पपृ॰ 183–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-93-86057-61-7.
  3. Shungoony Menon, P. (1878). A History of Travancore from the Earliest Times (pdf) (अंग्रेज़ी में). Madras: Higgin Botham & Co. पपृ॰ 162–164. अभिगमन तिथि 5 May 2016.
  4. "Travancore." Encyclopædia Britannica. Encyclopædia Britannica Online. Encyclopædia Britannica Inc., 2011. Web. 11 November 2011.
  5. Chandra Mallampalli, Christians and Public Life in Colonial South India, 1863–1937: Contending with Marginality, RoutledgeCurzon, 2004, p. 30