सलामी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सलामी सम्मान प्रदर्शित करने के लिए उपयोग किये जाने वाला इशारा या कोई अन्य क्रिया है। सलामी मुख्य रूप से सशस्त्र बलों से जुड़ी हुई हैं, लेकिन अन्य संगठन और नागरिक भी सलामी का उपयोग करते हैं।

सैन्य सलामी[संपादित करें]

विभिन्न समय और स्थानों की सैन्य परंपराओं में, हाथों के इशारे, तोप या रायफल गोलीबारी, झंडा उठाना, टोपी हटाना या सम्मान दिखाने के अन्य साधनों का उपयोग करके सलामी देने के कई तरीके हैं। भारत में तीन सेनाओं के पास अलग-अलग सलामी है। भारतीय थलसेना और भारतीय नौसेना ब्रिटिश सेना के तरीके पर चलती हैं। भारतीय थलसेना में, सलामी खुली हथेली को आगे रखते हुए, उंगलियों और अंगूठे को एक साथ मिलाकर और मध्य उंगली को लगभग टोपी या दाहिनी भौं को छूआकर दी जाती है।[1] यह प्रायः रेजिमेंट के अभिवादन के साथ होता है, उदाहरण के लिए: सिख रेजिमेंट में "सत श्री अकाल"।

अभिवादन[संपादित करें]

दुनिया भर में कई अलग-अलग संकेतों का उपयोग सरल अभिवादन के रूप में किया जाता है। भारतीय संस्कृति में प्रणाम या नमस्कार एक बहु प्रचलित तरीका है।[2] अन्य में आदाब और हलका सिर झुकाना शामिल है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "जवानों की सलामी के पीछे भी होता है गहरा राज, जानते हैं आप?". 10 फरवरी 2016. मूल से 5 अगस्त 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 7 जुलाई 2018.
  2. "जाने-पहचाने,अनजाने, सभी को सलाम". नवभारत टाइम्स. 22 नवंबर 2013. अभिगमन तिथि 7 जुलाई 2018.