अग्निवंशी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(अग्निवंश से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search

अग्निवंशी वे लोग हैं, जो अग्नि के देवता अग्नि, से वंश का दावा करते हैं। अग्निवंशी वंश (अग्निवंशयाअग्निकुला ) तीन वंशों में से एक है जिसमें राजपूत वंश विभाजित हैं, दूसरों के सूर्यवंशी सूर्य, (सूर्य भगवान) के वंशज और चंद्रवंशी चंद्र, चंद्रमा देवता के वंशज)। मध्यकालीन किंवदंतियों के अनुसार, चार अग्निवंशी वंश हैं: चौहान , परिहार (प्रतिहार), परमार (प्रमार) और सोलंकी (चौलुक्य)।

नव-सहसंका-चरित की अग्निकुला कथा[संपादित करें]

उन राजवंशों में जिन्हें अब राजपूत कहा जाता है, परमार मालवा के राजाओं ने सबसे पहले 'अग्निकुला' ("अग्नि वंश") वंश का दावा किया था। परमार युग के दौरान रचे गए कई शिलालेखों और साहित्यिक कृतियों में इस किंवदंती का उल्लेख है।[1] इस कहानी का उल्लेख करने वाला सबसे पहला ज्ञात स्रोत परमार अदालत के कवि पद्मगुप्त परिमाला का नवा-सहसंका-चारिता है। संस्कृत भाषा का महाकाव्य सिंधुराज (सीए। 997-1010) के शासनकाल के दौरान रचा गया था। इसकी कथा का संस्करण इस प्रकार है:[2]

नव-सहसंका-चरित की अग्निकुला कथा

माउंट अर्बुदा अबू पर, इक्ष्वाकु राजघराने (वशिष्ठ) के पुजारी ने एक बार एक पवित्र घाट बनाया था। गाधि (विश्वामित्र) के पुत्र ने वशिष्ठ की कामधेनु की इच्छा-पूर्ति करने वाली गाय चुरा ली, ठीक उसी तरह जैसे कार्तवीर्य अर्जुन ने एक बार जमदग्नि की गाय चुरा ली थी। अरुंधति (वशिष्ठ की पत्नी) आंसुओं से लथपथ हो गई। अथर्ववेद (वशिष्ठ) के ज्ञाताओं में से सबसे पहले एक होमा (अनुष्ठान) अग्नि भेंट मंत्र के साथ किया। धनुष के साथ एक नायक, एक मुकुट और स्वर्ण कवच आग से उभरा। वह वशिष्ठ की गाय वापस ले आया। गाय के आभारी मालिक ने इस नायक का नाम "परमारा" ("दुश्मन का कातिल") रखा, और उसे पूरी पृथ्वी पर शासन करने की शक्ति दी। इस नायक से, जो श्राद्धदेव मनु से मिलता-जुलता था, (परमारा) वंश से जुड़ा था।

पृथ्वीराज रासो[संपादित करें]

पृथ्वीराज रासो के कुछ पाठ, चंद बरदाई की एक महाकाव्य कविता, परमाराव कथा के समान एक किंवदंती है। हालांकि, यह संस्करण ऋषियों वशिष्ठ और विश्वामित्र को प्रतिद्वंद्वियों के रूप में प्रस्तुत नहीं करता है। यह इस प्रकार चलता है:[3][4]

पृथ्वीराज रासो की अग्निकुला कथा

एक दिन, अगस्त्य, गौतम, वशिष्ठ, विश्वामित्र और अन्य महान ऋषियों ने अरुडा (माउंट आबू) पर एक बड़ा बलिदान समारोह शुरू किया। दानव मांस, रक्त, हड्डियों और मूत्र को प्रदूषित करके समारोह को बाधित किया। इन राक्षसों से छुटकारा पाने के लिए, वशिष्ठ ने एक होमा अनुष्ठान किया। इसके कारण प्रतिहार ("द्वारपाल") नामक एक नायक की उपस्थिति हुई, जिसे वशिष्ठ ने महल की ओर जाने वाली सड़क पर रखा। इसके बाद, चालुक्य नामक एक अन्य नायक ब्रह्मा की खोखली हथेली से प्रकट हुआ। अंत में, एक तीसरा नायक दिखाई दिया, जिसने पावरा (या परा-मार, "दुश्मन का कातिल") नाम के ऋषि को बुलाया। हालांकि, ये तीनों नायक राक्षसों को रोकने में सक्षम नहीं थे। वशिष्ठ ने फिर एक नए नायक को आकर्षित करने के लिए एक नया अग्नि कुंड खोदा, और अग्नि को अर्पण किया। इस चार-सशस्त्र नायक के पास एक तलवार, एक ढाल, एक धनुष और एक तीर था। वशिष्ठ ने उनका नाम चवणा रखा, वैदिक भजनों के साथ उनका राज्याभिषेक किया और फिर उन्हें राक्षसों से लड़ने का आदेश दिया। ऋषि ने भी देवी से आशापुरा नायक की मदद करने के लिए कहा। चहुवण्णा ने राक्षस यन्त्रकेतु का वध किया, जबकि देवी ने राक्षस धमरकेतु का वध किया। यह देखते ही बाकी राक्षस भाग गए। चौहान की वीरता से प्रसन्न होकर, देवी उनकी परिवार देवता बनने के लिए सहमत हुईं। पृथ्वीराज चौहान, 'पृथ्वीराज रासो' के नायक, इस परिवार में पैदा हुए थे।

पृथ्वीराज रासो सबसे पहला स्रोत है, जिसमें इस किंवदंती में चार अलग-अलग राजपूत राजवंश (सिर्फ परमार नहीं) शामिल हैं। दशरथ शर्मा और सी। वी। वैद्य, जिन्होंने 'पृथ्वीराज रासो' की शुरुआती उपलब्ध प्रतियों का विश्लेषण किया, ने निष्कर्ष निकाला कि इसकी मूल पुनरावृत्ति में यह किंवदंती बिल्कुल नहीं थी ।

अग्निकुल से उत्पन्न[संपादित करें]

पवित्र अग्निकुल से उत्पन्न चार प्रकार क्षत्रिय हुए ।

चहुवान-वंश का प्रारम्भ-पृथ्वी पर पापों का भार बढ़जाने से तथा राक्षसों के बलवान हो जाने से देवता भयभीत होकर भगवान की प्रार्थना करने हेतु आबू पर्वत शिखर पर एकत्रित हुए। आबू पर्वत पर भृगु-ऋषि, ब्रह्मा तथा समस्त ऋषियों ने मिलकर विधि-विधान से अग्निकुण्ड में आहती डाली। जिससे चार राजा प्रकट हुये। चौथे राजा की चारों भुजाओं में शस्त्र थे। इस प्रकार परशुराम द्वारा 21 बार क्षत्रीय विहीन पृथ्वी करने के बाद ऋषि-मुनियों की प्रार्थना से श्री विष्णु भगवान ही स्व - अंश कलाओं से देवताओं का कार्य करने, राक्षसों को नष्ट करने, धर्म विस्तार करने तथा पाप का नाश करने हेतु अग्नि के समान तेज को धारण कर चतुर्भुज-आयुधों सहित चौहान रूप में प्रकट हुए। सूर्य एवं चन्द्रवंश-उसी समय सूभीनर नामक एक सोमवंशी (चन्द्रवंशी) राजा थे। उनके सांगूया नामक पुत्री थी। संज्ञा का विवाह उन चतुर्भुज के साथ हुआ। चतुर्भुज (सूर्यवंशी) एवं संज्ञा (चन्द्रवंशी) के चाह ऋषि का जन्म हुआ। चाह ऋषि वत्स ऋषि से दीक्षा ली। इसीलिए चौहानों का गोत्र वत्स हुआ। इस प्रकार चौहानों की पहचान अग्निवंशी (सूर्यवंशी) और ,(चंद्रवंशी) ,, कात्यायनी शाखा, त्रिपुरा पुर, गोभिल सूत्र, क्षत्रीय वर्ण, सात्विक धर्म, आशापुरा देवी, आबू पर्वत एवं शिव-प्रिय विल्व पत्र आदि प्रसिद्ध हुए | इसके बाद सतयुग में राजर्षि से लेकर नाभि ऋषि तक अठारह पीढियों ने आबू पर्वत-क्षेत्र पर राज्य किया। तत्पश्चात् चिमन ऋषि से काशी रिषि तक 61 पीढियों ने जग नगर में शासन किया।

इसीलिए चौहानों के अभिलेखों में सूर्य और चन्द्र दोनों वंश का उल्लेख है साथ गोत्र वत्सगौत्रीय लिखा जाता है

‪‎चौहान की मूल पहचान‬ – प्राचीन चन्द्रवंशी रूप में है वृजिनिवान् का अवंती में ( अब मध्य प्रदेश) राज्य था जिसकी राजधानी महिष्मति था ।

इस वंश में हैहय , कीर्तिवीर्य अर्जुन वीतिहोत्र आदि हुए थे ।

यदु को सूर्य वंशी राजा हर्यश्व ने गोद ले लिया था इसलिये यदु चन्द्र वंश के साथ सूर्य वंश में भी गिने जाने लगे । यदुवंशी द्वामुष्यायण कहलाये इसीलिए चौहानों के अभिलेखों ने सूर्य और चन्द्र दोनों वंश का उल्लेख है ।

इसी परम्परा में चलकर ई पू ६ पीढ़ी में महिष्मती विश्व विजेता सुधन्वा चौहान हुए और ७पीढ़ी में राजा चौहान हुए थे और ४१पीढ़ी में वासुदेव चौहान थे और ६२पीढ़ी में पृथ्वी राज चौहान थे

सुधन्वा चौहान जो युधिष्ठिर के वंशज थे। युधिष्ठिर ने यादवों के गृह युद्ध के पश्चात अंधक वंशी कृतवर्मा के पुत्र को मार्तिकावत शिनिवंशी सात्यकी के पुत्र युयुधान को सरस्वती नदी के तटवर्ती क्षेत्रों तथा इंद्रप्रस्थ का राज्य कृष्ण के प्रपौत्र वज्रनाभ को, कृष्ण की मृत्यु के पश्चात दे दिया था। महिष्मति का राज्य भी युधिष्ठिर द्वारा चौहान को दे दिया था। यह जैमिनी के अश्वघोष पर्व से ज्ञात होता है। कर्नल टॉड, डॉ रमेशचंद्र मजुमदार एवं राजस्थानी इतिवृत चौहानों का मूल राज्य माहिष्मती को ही मानते हैं।

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Yadava 1982, पृ॰ 32.
  2. Hiltebeitel 1999, पृ॰ 444.
  3. Hiltebeitel 1999, पृ॰ 445-446.
  4. Sharma 1959, पृ॰प॰ 3-4.