पुरु लोग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

पुरु बृहत भारतीय उपमहाद्वीप के पश्चिमोत्तर भाग में बसने वाले आर्य समुदाय का एक क़बीला या क़बीलाई परिसंघ था। ऋग्वेद ७:९६:२ में वे सरस्वती नदी के किनारे बसे हुए बताए जाते हैं। इनमें आपस में कई गुट थे, जिनमें से एक भारत नामक समुदाय था। ऋग्वेद के सातवे मंडल में पुरुओं द्वारा कई अन्य क़बीलों का मित्रपक्ष बनाकर दस राजाओं के युद्ध (दशराज्ञ युद्ध) में भारत क़बीले के राजा सुदास से हुई जंग का वर्णन है। इसमें पुरु हार गए और भारत विजयी रहे।[1][2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Indian History, Krishna Reddy, pp. 1-103, Tata McGraw-Hill Education, 2006, ISBN 9780070635777, ... Sudas was a Bharata king of Tritsu family. At first, Visvamitra was the priest of Sudas, but Visvamitra was dismissed by Sudas who appointed Vasishtha as his priest ...
  2. A History of Ancient and Early Medieval India: From the Stone Age to the 12th Century, pp. 187, Pearson Education India, 2008, ISBN 9788131716779, ... In this battle, the Bharata chief Sudas, grandson of Divodasa, fought against a confederacy of 10 tribes. The mention of the Purus, their former allies, as a part of this confederacy indicates that political alliances were fluid and shifting ...