दशराज्ञ युद्ध

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
दशराज्ञ युद्ध
दस राजाओं का युद्ध
तिथि १७०० ईपू से १००० ईपू के बीच
स्थान आधुनिक पाकिस्तानी पंजाब में परुष्णि नदी (रावी नदी) के पास
परिणाम भारत समुदाय के तृत्सु क़बीले की निर्णात्मक विजय
क्षेत्रीय
बदलाव
ऋग्वैदिक क़बीलों पर सुदास का अधिकार
योद्धा
तृत्सु (हिन्द-आर्य) अलीन
अनु
भृगु (हिन्द-आर्य)
भालन
दस (दहए)
द्रुह्यु (गान्धारी)
मत्स्य राज्य (हिन्द-आर्य)
परसु (ईरानी)
पुरु (हिन्द आर्य)
पणि (पर्णि)
सेनानायक
सुदास
वशिष्ठ
दस राजा
विश्वामित्र
शक्ति/क्षमता
अज्ञात (लेकिन विरोधी-पक्ष से कम) ६,६६६ से अधिक
मृत्यु एवं हानि
अज्ञात (लेकिन विरोधी-पक्ष से कम) ६,६६६ (ऋग्वेद मंडल ७)

दशराज्ञ युद्ध या दस राजाओं का युद्ध एक युद्ध था जिसका उल्लेख ऋग्वेद के सातवें मंडल में ७:१८, ७:३३ और ७:८३:४-८ में मिलता है। इस युद्ध में एक तरफ़ पुरु नामक आर्य क़बीला और उनका मित्रपक्ष समुदाय था, जिनके सलाहकार ऋषि विश्वामित्र थे। दूसरी ओर भारत नामक समुदाय था, जिसका नेतृत्व तृत्सु नामक क़बीले के राजा सुदास कर रहें थे और जिनके प्रेरक ऋषि वशिष्ठ थे।[1] इस युद्ध में सुदास के भारतों की विजय हुई और उत्तर भारतीय उपमहाद्वीप कें आर्य लोगों पर उनका अधिकार बन गया। आगे चलकर पूरे देश का नाम ही 'भारत' पड़ गया। कई इतिहासकारों के अनुसार यह वर्णन एक वास्तविक युद्ध पर ही आधारित हो सकता है।[2][3]

योद्धा दल[स्रोत सम्पादित करें]

इस युद्ध का विजयी राजा सुदास तृत्सु नामक समुदाय का था। विरोधी दल इस प्रकार थे:

  • अलीन: यह शायद आधुनिक अफ़ग़ानिस्तान के नूरिस्तान क्षेत्र से पूर्वोत्तर में रहते थे क्योंकि चीनी तीर्थयात्री हुएन त्सांग ने उस जगह पर इनकी गृहभूमि होने का उल्लेख किया था।[4][5]
  • अनु: कुछ इतिहासकारों के अनुसार यह क़बीला परुष्णि नदी (रावी नदी) क्षेत्र में बसा हुआ था।[6]
  • भृगु: यह लोग शायद प्राचीन कवि भृगु के वंशज थे। बाद में इनका सम्बन्ध अथर्व वेद के भृग्व-आंगिरस विभाग की रचना से किया गया है।
  • भालन: कुछ विद्वानों के अनुसार यह बोलन दर्रे के इलाक़े में बसने वाले लोग थे।[7]
  • द्रुह्यु: यह शायद गान्धार प्रदेश के निवासी थे (ऋग्वेद ७:१८:६)।
  • मत्स्य: इनका ज़िक्र केवल ऋग्वेद ७:१८:६ में हुआ था लेकिन बाद में इनका शाल्व के सम्बन्ध में भी उल्लेख मिलता है।[8]
  • परसु: यह सम्भवतः प्राचीन पारसीयों (ईरानियों) का गुट था।[9]
  • पुरु: यह ऋग्वेद काल का एक महान क़बीलियाई परिसंघ था जिसे सरस्वती नदी के किनारे बसा हुआ बताया जाता है।
  • पणि: यह दानवों की भी एक श्रेणी का नाम था। बाद के स्रोत इन्हें स्किथी लोगों से सम्बन्धित बताते हैं।

इन्हें भी देखें[स्रोत सम्पादित करें]

सन्दर्भ[स्रोत सम्पादित करें]

  1. Tribal Fusion and Social Evolution, Sushant Kumar, pp. 21, Strategic Book Publishing, 2000, ISBN 9781606930359, ... The Bharats invaded them under the leadership of king Sudas and thus the ten- kings' war started. One more fact should be considered. The Bharat tribe followed the system of kingship while almost all the opposing tribes were republicans ...
  2. भारतीय पुरातत्व और प्रागैतिहासिक संस्कृतियाँ, शिव स्वरूप सहाय, पृष्ठ ३५६, मोतीलाल बनारसीदास पब्लिशर, आई ऍस बी ऍन ९८८८१२०८२०७८४, ... ऋग्वेद के कई 'जन' यहीं रहते थे तथा दशराज्ञ युद्ध भी यहाँ की घटना है।..
  3. Indian Sociology Through Ghurye: A Dictionary, S.D. Pillai, pp. 157, Popular Prakashan, 1997, ISBN 9788171548071, ... The Rigvedic battle of the Ten Kings, an important event in the politico-social history of north-western India, must have been fought about 1200 BC ...
  4. Macdonell and Keith, Vedic Index, 1912, I, 39.
  5. A. A. Macdonell and A. B. Keith (1912). Vedic Index of Names and Subjects, I, 39.
  6. Macdonell and Keith, Vedic Index I 22.
  7. Macdonell and Keith, Vedic Index.
  8. Macdonell and Keith, Vedic Index, 1912, II 122.
  9. Macdonell and Keith, Vedic Index. This is based on the evidence of an Assyrian inscription of 844 BC referring to the Persians as Paršu, and the Behistun Inscription of Darius I of Persia referring to Fārs Province (Pārsa) as the area of the Persians. Radhakumud Mookerji (1988). Chandragupta Maurya and His Times (p. 23). Motilal Banarsidass Publ. ISBN 81-208-0405-8.