महापद्म नन्द

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
महापद्म नन्द
महापद्म नन्द के सिक्के
कर्षपण का एक चाँदी का सिक्का जो महापद्म नन्द या उसके पुत्रों द्वारा प्रवर्तित है। (345-321 ईसापूर्व)
प्रथम नन्द सम्राट
शासनावधिल. 345
पूर्ववर्तीमहानन्दि
उत्तरवर्तीधन नन्द
संतान
  • धन नन्द
  • पण्डूक नन्द
  • पाण्डुगति नन्द
  • भूतपाल नन्द
  • राष्ट्रपाल नन्द
  • गोविशंकर नन्द
  • दशसिद्धक नन्द
राजवंशनन्द राजवंश
पितामहानन्दि
माताएक रानी

महापद्म नद (ल. 403) नन्द वंश का प्रथम सम्राट था। पुराणों तथा विशाखदत्त के मुद्राराक्षस के अनुसार वह एक शिशुनाग वंशी क्षत्रिय महामंदी का पुत्र था। पुराणों में इसे 'महापद्म' तथा महाबोधिवंश में 'उग्रसेन' कहा गया है । उसे 'महापद्म एकरात', 'सर्व क्षत्रान्तक' आदि उपाधियों से विभूषित किया गया है ।

महापद्म नन्द के प्रमुख राज्य उत्तराधिकारी हुए हैं- उग्रसेन, पंडूक, पाण्डुगति, भूतपाल, राष्ट्रपाल, योविषाणक, दशसिद्धक, कैवर्त, धनानन्द,चद्रनन्द(चद्रगुप्त मौर्य) । इसके शासन काल में यूनानी आक्रमणकारी सिकन्दर ने भारत पर आक्रमण किया था। सिकन्दर के भारत से जाने के बाद मगध साम्राज्य में अशान्ति और अव्यवस्था फैली ।

सन्दर्भ[संपादित करें]

{चद्रगुप्त मौर्य के पिता महापद्मनन्द थे

इन्हें भी देखें[संपादित करें]