बुक्क राय द्वितीय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
विजयनगर साम्राज्य
संगम राजवंश
हरिहर राय प्रथम 1336-1356
बुक्क राय प्रथम 1356-1377
हरिहर राय द्वितीय 1377-1404
विरुपाक्ष राय 1404-1405
बुक्क राय द्वितीय 1405-1406
देव राय प्रथम 1406-1422
रामचन्द्र राय 1422
वीर विजय बुक्क राय 1422-1424
देव राय द्वितीय 1424-1446
मल्लिकार्जुन राय 1446-1465
विरुपाक्ष राय द्वितीय 1465-1485
प्रौढ़ राय 1485
शाल्व राजवंश
शाल्व नृसिंह देव राय 1485-1491
थिम्म भूपाल 1491
नृसिंह राय द्वितीय 1491-1505
तुलुव राजवंश
तुलुव नरस नायक 1491-1503
वीरनृसिंह राय 1503-1509
कृष्ण देव राय 1509-1529
अच्युत देव राय 1529-1542
सदाशिव राय 1542-1570
अराविदु राजवंश
आलिया राम राय 1542-1565
तिरुमल देव राय 1565-1572
श्रीरंग प्रथम 1572-1586
वेंकट द्वितीय 1586-1614
श्रीरंग द्वितीय 1614-1614
रामदेव अरविदु 1617-1632
वेंकट तृतीय 1632-1642
श्रीरंग तृतीय 1642-1646

बुक्क राय द्वीतीय (1405–1406 CE) विजयनगर साम्राज्य का संगम वंशीय सम्राट था।[1] हरिहार द्वितीय की मौत के बाद कुछ दिनों के लिये उसका पुत्र विरूपाक्ष राय सिंहासन पर बैठा किन्तु उसकी हत्या उसके आपने ही पूर्त द्वारा कर दी गयी। बुक्क राय द्वितीय विरूपाक्ष का भाई था और उसके बाद उसे सिंहासन प्राप्त हुआ किन्तु उसे भी दो वर्षों के शासन के बाद पदच्युत कर देव राय प्रथम ने गद्दी हथिया ली।[2][3][4]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Medieval Period:Vijaynagara". ए पी ऑनलाइन. अभिगमन तिथि 26 जून 2015.
  2. Slatyer, Will (2014). Life/Death Rhythms of Ancient Empires - Climatic Cycles Influence Rule of Dynasties. PartridgeIndia. अभिगमन तिथि 26 जून 2015.
  3. चटर्जी, अमिताव. History: UGC-NET/SET/JRF. अभिगमन तिथि 26 जून 2015.
  4. Sewell, Robert (1900). A Forgotten Empire (Vijayanagar): A Contribution to the History of India. Asian Educational Services. अभिगमन तिथि 26 जून 2015.