रामचन्द्र राय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रामचंद्र विद्याबागिस (बंगाली: रामचंद्र बीदैबागिश) (१७८६- २ मार्च १८४५) एक भारतीय भाषाशास्त्रज्ञ और संस्कृत विद्वान थे। वह अपने बंगाभाशभाषण के लिए जाना जाता है, पहला मोनोलिंग्यूअल बंगाली डिक्शनरी १८१७ में प्रकाशित हुआ। उन्होंने राजा राममोहन रॉय द्वारा स्थापित वेदांत कॉलेज में पढ़ाया और बाद में १८२७-३७ में संस्कृत कॉलेज में पढ़ाया। कोलकाता में राजा राममोहन रॉय के काम से जुड़े हुए, वह 1828 में स्थापित ब्राह्मो सभा के पहले सचिव थे और उन्होंने १८४३ में देबेन्द्रनाथ टैगोर और 21 अन्य युवाओं को ब्राह्मो समाज में शुरू किया। राजा राममोहन रॉय इंग्लैंड गए, उसके अनूठे युग और बिष्णु चक्रवर्ती के भक्ति गायन ने ब्रह्मो समाज के अस्तित्व में मदद की।

       यद्यपि वह राजा राममोहन रॉय की सती के अभ्यास को खत्म करने के कदम का विरोध कर रहे थे, लेकिन उन्होंने विधवाओं के पुनर्विवाह के लिए ईश्वर चंद्र विद्यासागर को समर्थन प्रदान किया। उन्होंने बहुविवाह की व्यवस्था के खिलाफ जोरदार बात की, तब हिंदू समाज में प्रचलित, मुख्य रूप से ब्राह्मणों में।
       वह तात्तावबोधिनी से जुड़े थे और इसका उद्देश्य बंगाली भाषा की उन्नति के माध्यम से था। उन्होंने अदालतों की भाषा के रूप में बंगाली द्वारा फ़ारसी को बदलने की सरकार की इच्छा पर कुछ समय तक काम किया। इस में उन्हें डेविड हरे और प्रसन्ना कॉमर टैगोर दोनों के सक्रिय समर्थन मिला। उन्होंने शिक्षा के माध्यम के रूप में बंगाली के उपयोग के लिए कड़ी मेहनत की।

वह नंदकुमार विद्यालंकर (बाद में कुलवधुत श्रीमद हरिहरनन्द तीर्थस्वामी) के छोटे भाई थे, एक भटकती साधु, जिन्होंने अपने छोटे दिनों से राजा राममोहन के परिचित थे। वह महानिवाण तंत्र के अनुसार एक सच्चे ईश्वर का भक्त था।

वर्क्स[संपादित करें]

विद्याबागजी ने १८१७ में बंगाली में पहला मोनोलिंगुअल डिक्शनरी संकलित किया और कई किताबों के लेखक थे। उनके कार्यों में शामिल हैं: १)बंगाभाशभाषण (१८१७) २)ज्योतिश संग्रासार ३)बच्स्पती मिश्रार विवादचिंतमणीह ४)शिशुभाई (१८४०) ५)परमेष्वर उपासना उपैया प्रथम बाख्यान