सिन्ध का इतिहास

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

सिन्ध का इतिहास, भारतीय उपमहाद्वीप और आसपास के क्षेत्रों के इतिहास के साथ जुड़ा हुआ है। सिन्ध, सिन्धु घाटी की सभ्यता के केन्द्र में था और वर्तमान में आधुनिक पाकिस्तान का एक प्रान्त है।

तबि अकुल जे अन्धनि लाइ सेठि नाऊंमलु सिन्धु जो गदारु आ

कराचीअ खे अॾींदड़ु -- दानवीरु सेठि नाऊंमल होतचन्द भोॼवाणी परीवारु

महाराजा ॾाहर खां पो सभखां वॾे ऐं नामियारे सिन्धी सेठि नाऊंमल होतचन्द जे भाेॼवाणी परीवार जे सेठि भाेॼूमल जूं 16 सदीअ खां पोंइनि चइनि-पन्जनि पीढ़िनि जो देश-दुनियां में वापारु हलंदो हो . सिन्धु जे शाह-बन्दर, लाहोरी ऐं खड़क-बन्दर तां भाेॼवाणी परीवार जो सराफे (सोनु, चांदी ऐं हीरा-जंव्हार) ऐं वणिज (अनु ऐं कपिड़ा वगेरह) जो वापारु हलंदो हो . हिन्दुस्तान में बम्बईअ जी कोठीअ (ब्रान्च) खां बंगाल ऐं उतां सूरत,पोरबन्दर, कश्मीर ताईं वापारु हलंदो हो . चीन ऐं मलाबार में बि उन्हंनि जूं वापारी कोठियूं हुयूं . शिकारपुर खां ओमान जे मस्तक ऐं मस्तक खां ईराक जे बसरा, ईरान जे नामियारे शहर बुशहर ऐं शीराज में मालु मोकिलियो वेंदो हो . दुनियां भरि में मोतिनि जे वापार लाइ मशहूरु बहरीन ऐं अफगानिस्तान जे काबुल, कन्धार, हरात ऐं कलात खां सिवा बलोचिस्तान ऐं ईरान जे ग्वादर ऐं लस-ॿेले साणु बुखारा, समरकन्द, रूस जे मास्को, पीटरोग्राद, काहिरा ऐं लंदन में बि भाेॼवाणी परीवार जूं वापारी कोठियूं हुयूं . हिन परीवार जूं दुनियां में 40 कोठियूं हुयूं, जितां 400 मुन्शिनि-गुमाश्तनि जे वसीले, कुलु 500 शहरनि में वापारु हलंदो हो . हिन परीवार जूं हुन्डियूं जां 'रुका' अॼोके दौर जा चेक ऐं बैंक-ड्राफ्ट चया वञनि था .

लुटेरे नादिरशाह द्वारा गुलामु बणायल ब्राह्मण मड़िदनि ऐं जालुनि खे छॾिरायो सिन्धिनि

1723 में ईरानी हमलावर ऐं लुटेरे नादिरशाह ऐं कलात - अफगानिस्तान जे नसीरखान मिली करे, हिन्दुस्तान में हचा ऐं लुट-फुर करिण खां पो यूपी जे ब्रज ऐं मथुरा जे सवें ब्राह्मण मड़िदनि ऐं जालुनि खे बन्दी बणाए वरितो . काबुल जे रसिते ईरान वेंदे महिल हू लाहौर ऐं मुल्तान खां शिकारपुर पहुता . ईहाे पतो मिलण ते सिन्धु जे नामियारे सेठि नाऊंमल होतचन्द भोॼवाणीअं जे परॾाॾे सेठि केवलराम ऐं संदसि जाल तखतॿाईअ कैद खां छॾिराइण लाइ नादिरशाह खे, हरि हिक ब्राह्मण मड़िद ऐं जाल जे पोयां, 100 खां 250 रुपिया ॾिना ऐं उन्हंजे सिपाहिनि लाइ ढेर सारो अनु बि ॾिनो . इन्हं में शिकारपुर सिन्धी पन्चाइत बि अन ऐं धन जो सहकारु ॾिनो . जहिंखां पो सेठि केवलराम, ब्राह्मण मड़िदनि ऐं जालुनि खे बि रसिते लाइ धनु ऐं अनु ॾई, पंहिंजे मुन्शिनि ऐं मजूरनि द्वारा वापसि ब्रज ऐं मथुरा पहुचायो .

1729 में कराची शहरु ऐं किलो

शाह बन्दर जो मुंहुं वारीअ सां ढकिजी वयो, जहिंकरे वापारु बन्दि थी वयो . सिन्धू सागर जे किनारे, मुंहाणनि जो कलाची नाले हिकु नन्ढिड़ो ॻोठु हो . पंहिंजो वापारु हलाइण लाइ इन्हं कलाची ॻोठ में, सेठि भाेॼूमल, सेठि आसूदेमल ऐं ॿियनि सिन्धी वापारिनि गॾिजी कलाची ॻोठ खे कराची नालो ॾई, हिकु नओं शहरु वसायो . हिकु वॾो ऐं पको किलो (कोटु) बि ठाहिरायो . हिन जा ॿ दरवाजा हुआ . हिकु सम्ड्र जे पासे 'खारो दरु' ऐं ॿियो लियारी नन्दी जे पासे 'मिठो दरु' .

सभई वापारी पंहिंजे कुड़ुम ऐं नन्ढनि-वॾनि कर्मचारिनि जा कुड़ुम बि उन किले में रहंदा हुआ . धाड़ेलनि-डाकुनि खां रखिया लाइ, किले जे मथां मस्तक मां तोपूं घुराए रखियूं वयूं . जितां देश-दुनियां में वापारु हलाइणु शुरू कयाऊं . जहिंखां पो कराची 'सिन्धु जी राणी' नाले सां मशहरु थी . 

ॾुकर जे समुह में सांदहि हिकु सालु अन जो दानु

1811 में सिन्धु, कच्छ, काठियावाड़ (गुजरात) ऐं मारवाड़ (राजस्थान) में मींहुं न पवण करे ॾुकरु आयो . ईहो ॾुकरु एढ़ो मौतमारि हो जो वॾनि - वॾनि सेठिनि वटि बि सोनु त हो पर खाइण लाइ अनु न हो . एढ़े ॾुखे समुह में सेठि नाऊंमल जे ॾाॾे दरियानेमल ऐं भाणसि लालणदास पारां सिन्धु ऐं कच्छ, मारवाड़ में अनु-दानु करिण जो होको-ढिंढोरो ॾियारियो वयो . जहिंखां पो अनु विरिहायो वयो . जेके ॿुढा ऐं लाचार हुआ, उन्हंनि जे घरनि में ॿोरियूं भरे, हरि महीने अनु पहुचायो वयो . सेठिनि-शाहूकारनि जे घरां लॼ जे करे को बि अनु वठण न अायाे . ईहो ॿुधी सन्झा खां राति जो एढ़ो बन्दोबस्तु कयो वयो, जहिंसां अनु वठी वञण वारे जे मुंहं ते सोझिरो न पई सघे . कच्छ, काठियावाड़ ऐं मारवाड़ जा माण्हूं बि अन जा भरियल ॿोरा वठी वया . ईहो अनं-दानु सांदहि हिकु सालु हलंदो रहियो .

इन्हं दौर में सिन्धु में टालपुर जे मीरनि जो राॼु हो, जेके छड़ो पाण में विढ़ण ऐं अयाशीअ में पूरा हा . इस्लाम जा कलंक मुला-मौलवी हिन्दुनि खे दहशतगर्दीअ जरिए मुसलमानु बणाइण खे ई इस्लाम जी वॾे में वॾी सेवा मञींदा हुआ . जेका सॼी सिन्धु सोनु हुई, उते कल्होड़नि ऐं मीरनि जे राॼ में सुञ-भींग थी वई . एढ़नि अयाशनि, जाहिलनि ऐं दहशतगर्दनि जे राॼ खां छुटिकारे लाइ सेठि नाऊंमल अंग्रेजनि खे मदद ॾई, सिन्धु ऐं सिन्धिनि खे आजादी ॾियारी . जहिंखां पो सिन्धु में हर तरह जी तरकी थी .

सेठि नाऊंमल होतचन्द भोॼवाणी परीवार जेढ़नि वापारिनि जे करे सिन्धु जे हजारें हारिनि खे उन्हंनि जी पैदावार जो वाजिबु मुल्हु ऐं लखें मजूरनि खे रोजी-रोटी मिलंदी हुई . पर तहिंखां पो बि के हिन्दू-मुसलमान में भेदु रखण वारा मज़हबी अन्धा चवनि था त सेठि नाऊंमलु सिन्धु जो गदारु हो . जॾहिं त हू पाण इन्सानियत जा वेरी ऐं सिन्धु जा गदार आहिनि . हू विसारे वेठा आहिनि त हिन्दू-सिन्धी उन्हंनि जा अबा-ॾाॾा आहिनि, छो त मुसलमान थियण खां अॻु, हू बि सिन्धी हुआ, न कि मुसलमान .

प्रेम तनवाणी - 9685943880 साभार : डॉ लाल थदानी पूर्व अध्यक्ष राजस्थान सिन्धी अकादमी जयपुर ।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]