ग्वालियर का क़िला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
ग्वालियर का किला ग्वालियर शहर का प्रमुखतम स्मारक है।

ग्वालियर का क़िला ग्वालियर शहर का प्रमुखतम स्मारक है। यह किला गोपांचल नामक पर्वत पर स्थित है। किले के पहले राजा का नाम सूरज सेन था, जिनके नाम का प्राचीन 'सूरज कुण्ड' किले पर स्थित है।

ग्वालियर का किला - सुबह सवेरे

परिचय[संपादित करें]

लाल बलुए पत्थर से बना यह किला शहर की हर दिशा से दिखाई देता है। एक ऊंचे पठार पर बने इस किले तक पहुंचने के लिये दो रास्ते हैं। एक ग्वालियर गेट कहलाता है एवं इस रास्ते सिर्फ पैदल चढा जा सकता है। गाडियां ऊरवाई गेट नामक रास्ते से चढ सकती हैं और यहां एक बेहद ऊंची चढाई वाली पतली सड़क से होकर जाना होता है। इस सडक़ के आर्सपास की बडी-बडी चट्टानों पर जैन तीर्थकंरों की अतिविशाल मूर्तियां बेहद खूबसूरती से और बारीकी से गढी गई हैं। किले की तीन सौ पचास फीट उंचाई इस किले के अविजित होने की गवाह है। इस किले के भीतरी हिस्सों में मध्यकालीन स्थापत्य के अद्भुत नमूने स्थित हैं। पन्द्रहवीं शताब्दी में निर्मित गूजरी महल उनमें से एक है जो राजा मानसिंह और गूजरी रानी मृगनयनी के गहन प्रेम का प्रतीक है। इस महल के बाहरी भाग को उसके मूल स्वरूप में राज्य के पुरातत्व विभाग ने सप्रयास सुरक्षित रखा है किन्तु आन्तरिक हिस्से को संग्रहालय में परिवर्तित कर दिया है जहां दुर्लभ प्राचीन मूर्तियां रखी गई हैं जो कार्बन डेटिंग के अनुसार प्रथम शती ईस्वी की हैं। ये दुर्लभ मूर्तियां ग्वालियर के आसपास के इलाकों से प्राप्त हुई हैं।

ग्वालियर के किले की योजना

पिछले 1000 वर्षों से अधिक समय से यह किला ग्‍वालियर शहर में मौजूद है। भारत के सर्वाधिक दुर्भेद्य किलों में से एक यह विशालकाय किला कई हाथों से गुजरा। इसे बलुआ पत्थर की पहाड़ी पर निर्मित किया गया है और यह मैदानी क्षेत्र से 100 मीटर ऊंचाई पर है। किले की बाहरी दीवार लगभग 2 मील लंबी है और इसकी चौड़ाई 1 किलोमीटर से लेकर 200 मीटर तक है। किले की दीवारें एकदम खड़ी चढ़ाई वाली हैं। यह किला उथल-पुथल के युग में कई लडाइयों का गवाह रहा है साथ ही शांति के दौर में इसने अनेक उत्‍सव भी मनाए हैं। इसके शासकों में किले के साथ न्‍याय किया, जिसमें अनेक लोगों को बंदी बनाकर रखा। किले में आयोजित किए जाने वाले आयोजन भव्‍य हुआ करते हैं किन्‍तु जौहरों की आवाज़ें कानों को चीर जाती है।

विस्तृत पठन[संपादित करें]

  • Tillotson, G.H.R (English में) (Hardback). The Rajput Palaces - The Development of an Architectural Style (First सं॰). New Haven and London: Yale University Press. प॰ 224 pages. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 03000 37384. 

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]


{{Navbox | name = भारत के किले | title = भारत भारत के किले | listclass = hlist | state = collapsed

| group1 = विजयनगर | list1 =

| group2 = दक्कन की सल्तनतें | list2 =

| group3 = गुजरात सल्तनत | list3 =

| group4 = दिल्ली सल्तनत | list4 =

| group5 = नायक राजवंश | list5 =

| group6 = मालवा सल्तनत | list6 =

| group7 = Faruqi राजवंश | list7 =

| group8 = राजपूत | list8 =

| group9 = मराठा साम्राज्य | list9 =

| group10 = मुग़ल साम्राज्य | list10 =

| group11 = जाट | list11 =

| group12 = मैसूर राज्य | list12 =

| group13 = सिद्दी | list13 =

| group14 = ट्रावन्कोर | list14 =

| group15 = Portuguese | list15 =

| group16 = British Raj | list16 =

| group17 = सुर साम्राज्य | list17 =

| group18 = अहोम राजवंश | list18 =

| group19 = Kakatiya राजवंश | list19 =

}}

सन्दर्भ[संपादित करें]