चंदेरी दुर्ग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
चन्देरी दुर्ग का दृष्य

चंदेरी किला मध्य प्रदेश के गुना के नजदीक अशोक नगर जिले स्थित है। आज चंदेरी यहाँ की कशीदाकारी के काम व साड़ियों के लिए जाना जाता है। प्रसिद्ध संगीतकार बैजू बावरा की कब्र, कटा पहाड़ और राजपूत स्त्रियों के द्वारा किया गया सामूहिक आत्मदाह (जौहर) यहाँ के मुख्य आकर्षण हैं।

बाबर के द्वारा किये गए आक्रमण से यह किला लगभग तबाह हो गया था। कहा जाता है यह किला बाबर के लिए काफी महत्व का था इसलिए उसने चंदेरी के तत्कालीन राजपूत राजा से यह किला माँगा. बदले में उसने अपने जीते हुए कई किलों में से कोई भी किला राजा को देने की पेशकश भी की. परन्तु राजा चंदेरी का किला देने के लिए राजी ना हुआ। तब बाबर् ने किला युद्ध से जीतने की चेतावनी दी. चंदेरी का किला आसपास की पहाड़ियों से घिरा हुआ था इसलिए राजा आश्वस्त् व् निश्चिन्त था। baber की सेना में हाथी तोपें और भारी हथियार थे जिन्हें ले कर उन पहाड़ियों के पार जाना दुष्कर था और पहाड़ियों से नीचे उतरते ही चंदेरी के राजा की फौज का सामना हो जाता. कहा जाता है की बाबर निश्चय पर दृढ था और उसने एक ही रात में अपनी सेना से पहाडी को काट डालने का अविश्वसनीय कार्य कर डाला. उसकी सेना ने एक ही रात में एक पहाडी को ऊपर से नीचे तक काट कर एक ऐसी दरार बना डाली जिससे हो कर उसकी पूरी सेना और साजो-सामान ठीक किले के सामने पहुँच गयी। सुबह राजा अपने किले के सामने पूरी सेना को देख भौचक्का रह गया। परन्तु राजपूत राजा ने बिना घबराए अपने कुछ सौ सिपाहियों के साथ baber की विशाल सेना का सामना करने का निर्णय लिया और अपनी राजपुतनियों को अंतिम विदा कर आत्मघाती युद्ध के लिए प्रस्थान किया। युद्ध में स्वाभाविक तौर पे समस्त राजपूत सेना का खात्मा हो गया। तब किले में सुरक्षित राज्पूत्नियों ने स्वयं को आक्रमणकारी सेना से अपमानित होने की बजाये स्वयं को ख़त्म करने का निर्णय लिया, एक विशाल चिता का निर्माण किया और सभी स्त्रियों ने सुहागनों का श्रृंगार धारण कर के स्वयं को उस चिता के हवाले कर दिया. जब baber उसकी सेना किले के अन्दर पहुँची तो उसके हाथ कुछ ना आया। राजपूतों का शौर्य और राज्पूत्नियों के जौहर के इस अविश्वसनीय कृत्य वह इतना बोखलाया की उसने खुद के लिए इतने महत्त्वपूर्ण किले का संपूर्ण विध्वंस करवा दिया तथा कभी उस का उपयोग नहीं किया। आज भी वह रास्ता टूटे किले की बुर्जों से दिखता है जिसे गौरी ने एक ही रात में पहाडी को कटवा कर बनाया था तथा उसे "कटा पहाड़" या "कटी घाटी" के नाम से जाना जाता है। बाद के एक राजा ने उस जगह पर एक पत्थर का दरवाजा लगवाया. दरवाजे के ऊपर आज भी बाबर् की सेना द्वारा चलायी गई छेनियों के निशान देखे जा सकते हैं।

सन्दर्भ[संपादित करें]