मढ़ दुर्ग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
मढ़ दुर्ग
वरसोवा किला
Madh-fort3.jpg
मढ़ दुर्ग is located in मुम्बई
मढ़ दुर्ग
मुम्बई में अवस्थिति
सामान्य विवरण
प्रकार दुर्ग
वास्तुकला शैली पुर्तगाली औपनिवेशिक
स्थान मलाड, मुम्बई
निर्देशांक 19°07′56″N 72°47′41″E / 19.132283°N 72.794785°E / 19.132283; 72.794785
स्वामित्व भारतीय वायु सेना

मढ़ किला (जिसे वर्सोवा किले के नाम से भी जाना जाता) महाराष्ट्र की राजधानी मुम्बई के उत्तरी भाग में मढ़ द्वीप पर स्थित एक छोटा सा किला है। यह पुर्तगाली लोगों के अधीन भारत में द्वारा बनाया गया था।[1] १७३९ के फरवरी माह में उनका मराठों से युद्ध हुआ, जिसमें वे यह किला हार गये एवं इस पर मराठों का अधिकार हो गया। कालान्तर में १७७४ में अंग्रेजों ने सालसेट द्वीप, ठाणा किला और करंजा के द्वीप किले के साथ साथ वर्सोवा किले पर अपना आधिपत्य[2] जमा लिया।[3]

इसका निर्माण १७वीं शताब्दी में पुर्तगालियों द्वारा एक पहरे की मीनार के रूप में करवाया गया था। यह समुद्र तट के एक सामरिक दृष्टि से बहुत महत्त्वपूर्ण हुआ करता था और मार्वे क्रीक पर नजर रखा करता था। इसके बाहरी भाग अभी भी जैसे के तैसे बने खड़े दिखाई देते हैं, जबकि अन्दरूनी भाग आंतरिक रूप से जीर्ण-शीर्ण हो चले हैं।

आवागमन[संपादित करें]

यह किला एकांत में बना है और यहां पहुंचना कठिन है। मलाड से लगभग १५ किलोमीटर (९ मील) दूर मुम्बई सिटी बस सेवा (बेस्ट) बस से से अन्तिम बस स्टॉप से पहुंच सकते हैं। इसके अलावा वर्सोवा के माध्यम से नौका से जा सकते है। यह किला मढ़ गाँव के पास स्थित है और मढ़ बस स्टॉप से लगभग १ किलोमीटर की दूरी पर है। वर्तमान में यह भारतीय वायु सेना के नियंत्रण में है। इसका कारण इसकी भारतीय एयर फोर्स बेस से निकटता है। इसीलिये यह तक पहुँचने के लिए वायु सेना से अनुमति आवश्यक है।

वर्तमान स्थिति[संपादित करें]

मढ़ द्वीप का किला स्थानीय मछवारों की बस्तियों से घिरा हुआ है। कई बॉलीवुड की फिल्मों का फिल्मांकन भी यहीं हुआ है, जैसे लव के लिए कुछ भी करेगा, शूटआउट एट वडाला, १९८५ की मनमोहन देसाई की फिल्म मर्द, ज़माना दीवाना, खलनायक, शतरंज, और तराज़ू , आदि। ई प्रसिद्ध दूरदर्शन धारावाहिक जैसे चंद्रकांता और सी.आई.डी की भी शूटिंग यहाँ हुई है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "संग्रहित प्रतिलिपि". मूल से 25 एप्रिल 2009 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 25 एप्रिल 2009.
  2. नरवाने (२०१४). ईस्ट इण्डिया कंपनी के युद्ध [Battles of the Honorourable East India Company]. ए पी एच पब्लिशिंग कार्पोरेशन. पपृ॰ ५३-५४. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788131300343. पाठ "firstीम एस " की उपेक्षा की गयी (मदद)
  3. "मढ़ दुर्ग". बुकस्ट्रक. मूल से 20 फ़रवरी 2018 को पुरालेखित.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

चित्र दीर्घा[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]