हरि पर्वत

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
हरि पर्बत किला
हरि पर्बत का हिस्सा
श्रीनगर, कश्मीर
Hari Parbat Fort, Srinagar (5).jpg

हरि पर्बत दुर्ग का एक दृश्य
निर्माण १८वीं शताब्दी
निर्माण कर्ता अफ़गान गवर्नर मुहम्मद खान

पुनरोद्धार: अकबर, (१५९० ई॰)

प्रयोग में
वर्तमान स्वामित्व राज्य पुरातत्त्व विभाग
जनता के लिये खुला
हाँ, (अनुमति पर)
अधिकृत है जम्मू कश्मीर सरकार

हरि पर्वत भारत के उत्तरतम राज्य जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में डल झील के पश्चिम ओर स्थित है। इस छोटी पहाड़ी के शिखर पर इसी नाम का एक किला बना है जिसका अनुरक्षण जम्मू कश्मीर सरकार का पुरातत्व विभाग के अधीन है। इस किले में भ्रमण हेतु पर्यटकों को पहले पुरातत्त्व विभाग से अनुमति लेनी होती है। क़िले का निर्माण एक अफ़ग़ान गर्वनर मुहम्मद ख़ान ने १८वीं शताब्दी में करवाया था। उसके बाद १५९० ई॰ में मुग़ल सम्राट अकबर द्वारा इस क़िले की चहारदीवारी का निर्माण करवाया गया।[1]

पौराणिक सन्दर्भ[संपादित करें]

एक पौराणिक कथा के अनुसार, पौराणिक काल में यहां एक बड़ी झील हुआ करती थी, जिस पर जालोभाव नामक दैत्य का अधिकार था। वह राक्षस लोगों को खूब सताता था। तब लोगों ने भगवान शिव की अर्धांगिनी एवं कश्मीर की अधिष्ठात्री देवी माता सती से सहायता की प्रार्थना की। तब सती माता एक चिड़िया का रूप धारण करके प्रकट हुईं एवं उस राक्षस के सिर पर एक छोटा सा पत्थर रख दिया जो धीरे-धीरे आकार में बढ़ता गया और राक्षस का सिर कुचल गया।[2]

अनुरक्षण एवं पर्यटन[संपादित करें]

वर्तमान काल में इस क़िले का अनुरक्षण जम्मू और कश्मीर सरकार का पुरातत्वब विभाग के अधीन है। यहां की यात्रा व सैर के लिए पर्यटकों को विभाग से अनुमति होती पड़ती है। इसी पर्वत पर एक बड़ा मन्दिर भी है जिसे शारिका देवी मन्दिर कहते हैं। इसके अलावा इसी पर्वत पर एक गुरुद्वारा भी स्थित है। इसे छट्टी पादशाही का गुरुद्वारा भी कहते हैं जो रैनावाड़ी में स्थित है। कहते हैं छठे सिख गुरु हरगोबिन्द सिंह यहां पधारे थे।[3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "हरि पर्वत क़िला श्रीनगर". भारत डिस्कवरी. अभिगमन तिथि १६ फ़रवरी २०१८.
  2. "हरि पर्वत किला, श्रीनगर". नेटिव प्लानेट. अभिगमन तिथि १६ फ़रवरी २०१८.
  3. "गुरुद्वारा चट्टी पातशाही, चेविन ग्राम, रैनावाड़ी [Gurudwara Patshahi Chevin, Village Rainawari]" (अंग्रेज़ी में). AllAboutSikhs.com. अभिगमन तिथि 15 दिसंबर 2015.


चित्र दीर्घा[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]