मुरुद जंजीरा किला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(मुरुद-जंजीरा से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search
मुरुद-जंजीरा

मुरुद-जंजीरा भारत के महाराष्ट्र राज्य के रायगड जिले के तटीय गाँव मुरुड में स्थित एक किला हैं। यह भारत के पश्चिमी तट का एक मात्र किला हैं, जो की कभी भी जीता नही जा सका था। यह किला 350 वर्ष पुराना है। स्‍थानीय लोग इसे अजेय किला कहते हैं, जिसका शाब्दिक अर्थ अजेय होता है। माना जाता है कि यह किला पंच पीर पंजातन शाह बांडया बाबा के संरक्षण में है। शाह बाबा का मकबरा भी इसी किले में है। यह किला समुद्र तल से 90 फीट ऊंचा है। इसकी नींव 20 फीट गहरी है। यह किला सिद्दी जौहर द्वारा बनवाया गया था। इस किले का निर्माण 22 वर्षों में हुआ था। यह किला 22 एकड़ में फैला हुआ है। इसमें 22 सुरक्षा चौकियां है। ब्रिटिश, पुर्तगाली, शिवाजी महाराज , कान्‍होजी आंग्रे, चिम्‍माजी अप्‍पा तथा संभाजी महाराजने इस किले को जीतने का काफी प्रयास किया था, लेकिन कोई सफल नहीं हो सका। इस किले में सिद्दिकी शासकों की कई तोपें अभी भी रखी हुई हैं।

जंजीरा का किला जाने के लिए ऑटोरिक्‍शा से मुरुड से राजपुरी जाना होता है। यहां से नाव द्वारा जंजीरा का किला जाया जा सकता है। एक व्‍यक्‍ित का नाव का किराया 20 रु. है। समय: सुबह 7 बजे से शाम 6 से 7 के बीच। यह किला शुक्रवार को दोपहर से 2 बजे तक बंद रहता है।

इतिहास जंजिरा यह शब्द अरबी भाषा से अपने यहॉ रुढ हुआ है। अरबी भाषा में जंजिरा इस शब्द से वो आया है। जंजिरा मतलब बंदरगाह। इस बंदरगाह पर पहले एक मेढेकोट था। उस समय राजपुरी में मुख्यतः कोली लोगोंकी बस्ती थी। इन कोली लोगों को लुटेरे और चाचे लोगों की हमेशा ही परेशानी होती थी। तब इन चाचों की परेशानी पर प्रतिबंध करने के लिए इस बंदरगाह पर मेढेकोट बनाया गया है।मेढेकोट मतलब लकडी के बडे 'ओंडके'(बुंदा)एक के पास एक गाडकर तयार की हुई तटबंदी। इस तटबंदी में कोली लोग सुरक्षित रहते थे। उस समय उनका प्रमुख थे राम पाटील । इस मेढेकोट बनाने के लिए उस समय निजामी ठाणेदार की सहमति लेनी पडी थी। मेढेकोटा की सुरक्षितता मिलते ही राम पाटील उस ठाणेदार की बात सुनता न था इसलिए ठाणेदार ने उसका बंदोबस्त करने के लिए पिरमखानाची नियुक्ती की।

राम पाटील अपने को मेढेकोटा के पास आने नहीं देगा इसकी कल्पना पिरमरखान को थी। वह बहुत चतुर था।उसने स्वयं को शराब काे व्यापारी बताया और अपनी गलबते खाडी में लगाई। राम पाटील से स्नेहवत संबंध रहे इसलिए शराब की कुछ टंकिया उन्हें भेट भेजी इस कारण राम पाटील खूप खुश हुए। पिरमखान ने मेढेकोट देखने की इच्छा व्यक्त की। पिरमखान मेढेकोट गए। रात् को सब कोली दारू पिकर झूम रहे थे तभी पिरमखान ने बाकी की जगह के अपने सैनिक बुलाकर मेढेकोट के सब लोगों की कत्तल करके मेढेकोट अपने हाथों लिया।

इसके बाद पिरमखान की जगह बुर्‍हानखान की नियुक्ती हुई । उसने वहीं पर भक्कम दुर्ग बनाने की इजाजत निजाम से ली और अभी जो दुर्ग है वह बुर्‍हाणखान ने ही बांधा हुआ है। आगे इ.स.१६१७ में सिद्दी अंबर ने बादशह से जहागिरी प्राप्त की। जंजिरा संस्था का यह मुख्य पुरुष समझा जाता है।

जंजिऱा का पुरातन झंडा जंजिरा के सिद्दी यह अबिसीनिया के थे वे दर्यावर्दी, शूर थे।उन्होंने प्राणपण से जंजिरा की लडाई की अनेकाें ने जंजिरा जीतने का प्रयत्‍न किया परंतु कोई कभी भी सफल हो सका नही। छत्रपती शिवाजी राजा भी जंजिरा पर स्वामित्व नही प्राप्त कर सके। इ.स.१६१७ से इ.स.१९४७ ऐसे ३३० वर्ष जंजिरा अंजिक्य रहा। जंजिरा का प्रवेशद्वार पूर्वाभिमुख है। होडी से किले के प्रवेश द्वार तक पहुँचने का एक प्रवेशद्वार एक उपदार है। प्रवेशद्वार के पास एक शिल्प है। बुर्‍हाणखान की दर्पोक्तीच इस चित्र में दिखाई देती है। एक शेर ने चारों पाव में चार हाथी पकडे है और पूँछ में एक हाथी पकडा है ऐसा यह चित्र है। बुर्‍हाणखान अन्य सत्ताधारियों को सुझाव देते है कि "तुम हाथी हो तो मैं भी शेर हूँ। "इस किले की ओर बुरी नजर से देखने की हिम्मत न करें। " इस किले का सिद्दी सरदाराें ने यह किला हमेशा अजेय रखा। संभाजी महाराज ने तो यह किला हस्तगत करने के लिए इस किले के नजीक पाच छ: किलोमीटर अंतर पर पद्मदुर्ग नाम का मजबूत किला बनाया था। पर फिर भी मुरुड का जंजिरा जीतना महाराज को असंभव ही रहा।

किले की अवस्था जंजिरे की तटबंदी बुलंद है। उसे सागर की ओर एक दरवाजा है। ऐसे १९ बुलंद बुरूज है। दो बुरुज में अंतर ९० फुट से जास्त है। तटबंदी पर जाने के लिए जगह- जगह सीढियॉ है। तटबंदी में कमान है। उस कमान में मुँह करके तोफ रखी गई है। जंजिरा पर ५१४ तोफा होने का उल्लेख है। उसमें से कलालबांगडी, लांडाकासम और चावरी ये तोफे आज भी देखने को मिलती है।

किले के मध्यभाग में सुरुलखाना का भव्य बाडा आज जर्जर अवस्था में है। पानी के दो बडे़ तालाब है। किले में पहले तीन मोहल्ले थे। इसमें दो मोहल्ले मुसलमान के और एक अन्य लोगों के थे। पहले किले में बडी बस्ती थी।

राजाश्रय समाप्त होने पर वो सर्व बस्ती वहॉ से उठ गई।

जंजिरे की तटबंदी से विस्तृत प्रदेश दिखता है। इसमें समुद्र में बांधा कासा उर्फ पद्मदुर्ग और किनारे पर सामराजगड यह भी यहॉ से येथून दिखता है। ३३० वर्ष अभेद्य और अंजिक्य रहा जंजिरे का मेहरुब देखने का इतिहास के अनेक पर्व का आलेख सबकी नजर के सामने से जाता है। थोडा इतिहास का अभ्यास किया तो जंजिरे को भेट देना निश्चित रूप से संस्मरणीय रहेगा।

ऐसा हा अजेय जंजिरा, २० सिद्दी सत्ताधीश के बाद आए सिद्दी मुहमंदखान यह आखरी सिद्दी थे, और उस राज्य की स्थापना के बाद ३३० वर्ष बाद मतलब ३ एप्रिल १९४८ को वो राज्य भारतीय संघराज्य में विलीन हुआ।

हे सुद्धा पहा जंजिरा (पुस्तक) बाह्य दुवे मुरुड जंजिरा किल्ला