भानगढ़ दुर्ग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भानगढ़ दुर्ग
भानगढ दुर्ग
राजस्थान, भारत
भानगढ़ दुर्ग की राजस्थान के मानचित्र पर अवस्थिति
भानगढ़ दुर्ग
भानगढ़ दुर्ग
Bhangarh Fort in Rajasthan
निर्देशांक27°5′45″N 76°17′15″E / 27.09583°N 76.28750°E / 27.09583; 76.28750निर्देशांक: 27°5′45″N 76°17′15″E / 27.09583°N 76.28750°E / 27.09583; 76.28750
प्रकारदुर्ग एवं परित्यक्त नगर
निर्माण जानकारी
स्वामित्वLord Silas (prior)
Government of India (current)
जनता हेतु
खुला
Yes
दशाVacant, A Tourist spot
इतिहास
निर्मित1613 AD
निर्माणकर्तामाधो सिंह प्रथम
सामग्रीपत्थर और ईंट
भानगढ़ दुर्ग

भानगढ़ दुर्ग भारत के राजस्थान में स्थित १७वीं शताब्दी में निर्मित एक दुर्ग है।[1] इसे मान सिंह प्रथम ने अपने छोटे भाई माधो सिंह प्रथम के लिए बनवाया था। इस दुर्ग का नाम भान सिंह के नाम पर है जो माधो सिंह के पितामह थे।

इस दुर्ग की सीमा के बाहर एक नया गाँव बसा है जिसमें लगभग २०० घर और जनसंख्या १३०० है। यह दुर्ग और इसका अहाता अच्छी तरह संरक्षित है।[2][3]

इस किले की देख रेख भारत सरकार द्वारा की जाती है। किले के चारों तरफ भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) की टीम मौजूद रहती हैं। पुरातत्व विभाग द्वारा इस क्षेत्र में सूर्यास्‍त के बाद किसी भी व्‍यक्ति के रूकने की अनुमति नहीं है।

परिचय[संपादित करें]

भानगढ़ दुर्ग का बाहरी भाग

भानगढ़ किला सत्रहवीं शताब्‍दी में बनवाया गया था। इस किले का निर्माण मान सिंह के छोटे भाई राजा माधो सिंह ने करावाया था। राजा माधो सिंह उस समय अकबर के सेना में जनरल के पद पर तैनात थे। उस समय भानगड़ की जनसंख्‍या तकरीबन 10,000 थी। भानगढ़ अल्‍वार जिले में स्थित एक शानदार किला है जो कि बहुत ही विशाल आकार में तैयार किया गया है।

चारो तरफ से पहाड़ों से घिरे इस किले में बेहतरीन शिल्‍पकलाओ का प्रयोग किया गया है। इसके अलावा इस किले में भगवान शिव, हनुमान आदी के बेहतरीन और अति प्राचिन मंदिर विध्‍यमान है। इस किले में कुल पांच द्वार हैं और साथ साथ एक मुख्‍य दीवार है। इस किले में दृण और मजबूत पत्‍थरों का प्रयोग किया गया है जो अति प्राचिन काल से अपने यथा स्थिती में पड़े हुये हैं।

फिलहाल इस किले की देख रेख भारत सरकार द्वारा की जाती है। किले के चारों तरफ भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) की टीम मौजूद रहती हैं। पुरातत्व विभाग द्वारा सूर्यास्‍त के बाद इस क्षेत्र में किसी भी व्‍यक्ति के रूकने की मनाही है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Bhangarh Fort, Rajasthan". Zee News. अभिगमन तिथि 21 July 2013.
  2. Singh 2010, पृ॰ 188.
  3. "One night in Bhangarhभानगढ़ किले में एक रात". travelpraise. अभिगमन तिथि 21 July 2018. |title= में 44 स्थान पर line feed character (मदद)

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]