चंद्रगिरि दुर्ग, आंध्र प्रदेश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
Chandragiri Fort - Raja Mahal (2).jpg

चंद्रगिरि दुर्ग भारत के आंध्र प्रदेश राज्य में तिरुपति के निकट चंद्रगिरि नामक स्थान पर स्थित एक दुर्ग है। इसका निर्माण ११वीं शताब्दी में श्रीकृष्ण देवराया द्वारा करवाया गया था। यह किला तीन सौ वर्षों तक देवराया राजवंश के अधिकार में रहा। १३६७ में यह विजयनगर के शासकों को हाथ में चला गया। उस समय चंद्रगिरि राज्य के चार बड़े नगरों में से एक था। १६४६ में चंद्रगिरि गोलकुंडा के अधीन आ गया और कालान्तर में मैसूर राज्य का भाग बना। वर्तमान में राजा-रानी महल भवन में भारतीय पुरात्त्वविभाग का तिमंजिला संग्रहालय है। [1]

देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. [1] डाक टिकटों पर भारत के प्रसिद्ध किले। गोपीचन्द श्रीनागर, अभिव्यक्ति.ऑर्ग। अभिगमन तिथि: १७ फ़रवरी २०१८