शिवपुरी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
शिवपुरी
Shivpuri
शिवपुरी की छतरी
शिवपुरी की छतरी
शिवपुरी is located in मध्य प्रदेश
शिवपुरी
शिवपुरी
मध्य प्रदेश में स्थिति
निर्देशांक: 25°26′N 77°39′E / 25.43°N 77.65°E / 25.43; 77.65निर्देशांक: 25°26′N 77°39′E / 25.43°N 77.65°E / 25.43; 77.65
देश भारत
राज्यमध्य प्रदेश
ज़िलाशिवपुरी ज़िला
नाम स्रोतभगवान शिव
ऊँचाई468 मी (1,535 फीट)
जनसंख्या (2011)
 • कुल1,79,977
भाषा
 • प्रचलितहिन्दी, बुन्देली
समय मण्डलभामस (यूटीसी+5:30)
पिनकोड473551
वाहन पंजीकरणMP-33
वेबसाइटshivpuri.nic.in

शिवपुरी (Shivpuri) भारत के मध्य प्रदेश राज्य के शिवपुरी ज़िले में स्थित एक नगर व नगर पंचायत है। यह ज़िले का मुख्यालय भी है।[1][2] भगवान शिव के नाम पर शिवपुरी शहर का नामकरण हुआ है।

विवरण[संपादित करें]

माधव चौक

शिवपुरी ग्वालियर से 119 किमी की दूरी पर है। यह एक पर्यटक नगरी है। शिवपुरी की प्राकृतिक सुंदरता और सांस्कृतिक विरासत की झलक देखने के लिए यहाँ पर्यटक बड़ी संख्या में आते है। शिवपुरी में ग्वालियर के सिंधिया वंश की ग्रीष्मकालीन राजधानी थी। वे शिवपुरी में गर्मियों के दिनों में यहाँ रहने के लिए आया करते थे। शिवपुरी के घने जंगलों में राजा महाराजा शिकार खेलने आते थे। महाराज ने यहीं से हाथियों के विशाल झुंड और शेरों को पकड़ा था। शिवपुरी के इन घने जंगलों को अब अभयारण्य में परिवर्तित कर दिया गया है, जहाँ अनेक दुर्लभ पशु-पक्षियों और वनस्पतियों को देखा जा सकता है। शिवपुरी में बने कुछ महल और झीलें यहाँ आने वाले पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र रहती हैं।पूरे वर्ष शिवपुरी सैलानियों के आकर्षण का केंद्र रहता है। शिवपुरी- झांसी रोड़ पर 42 किलोमीटर स्थिति ग्राम सिरसौद में सिद्ध श्री बिलैया महादेव मंदिर है।

माधव चौक[संपादित करें]

यह शिवपुरी नगर का मुख्य बाजार तथा मुख्य चौराहा है। यहां पर सभी प्रकार की दुकानें और बैंक सुविधाएँ उपलब्ध हैं।यह नगर का आकर्षण केंद्र है।

छतरी[संपादित करें]

छतरी अलंकृत संगमरमर की कारीगरी का उत्कृष्ट नमूना है।छतरी में प्रवेश करते ही विधवा रानी महारानी सख्या राजे सिंधिया की स्मृति में समाधि स्थल है। उसके ठीक सामने तालाब और उसके बाद सामने ही माधव राव सिंधिया का समाधि स्थल बना है। इनके बुर्ज मुग़ल और राजपूत की मिश्रित शैली में निर्मित हैं। इन समाधि स्थलों में संगमरमर और रंगीन पत्थरों की कारीगरी उत्कृष्ट एवं अद्वितीय है। इसी तालाब के एक ओर राम ,सीता और लक्ष्मण का मंदिर और मंदिर के बाहर हनुमान जी खड़े हैं। इस मंदिर के ठीक सामने तालाब के उस पार राधा -कृष्णा का मंदिर है। छत्री का निर्माण ग्वालियर नरेश श्री माधौ महाराज ने अपनी माता की स्मृति में कराया था। बाद में माधौ महाराज की स्मृति में एक और छत्री का निर्माण हुआ। इस तरह माता और पुत्र की छत्रियां आमने सामने हैं। यह स्थल एक पुत्र का अपनी माता के प्रति अटूट प्रेम का प्रतीक है।

धार्मिक स्थल[संपादित करें]

  • बाण गंगा धाम
  • मोहिनेश्वर धाम
  • चिन्ताहरण मंदिर
  • शिव मंदिर (छतरी रोड)
  • बांकडे हनुमान मंदिर- झाँसी रोड शिवपुरी
  • श्री राज राजेश्वरी मंदिर
  • श्री सिद्धेश्वर शिव मंदिर
  • श्री मंशापूर्ण हनुमान मंदिर
  • श्री धाय महादेव मंदिर खोड़
  • श्री बिलैयाजी निर्मित जगदीश्वर महादेव मन्दिर सिरसौद करैरा
  • जमा मस्जिद
  • बलारी माता मंदिर झांसी रोड
  • पवा पोहरी रोड
  • भूरा को
  • भदैया कुंड शिवपुरी
  • टपकेश्वर (शिवपुरी-मड़ीखेड़ा डेम रोड़)

पर्यटक गांव[संपादित करें]

शिवपुरी पर्यटन केंद्र है। यहाँ पर दूर-दूर से पर्यटक सदैव आते रहते है। शिवपुरी पूरे वर्ष सैलानियों के लिए आकर्षण का केंद्र रहता है लेकिन वर्षा ऋतु में पहली फुहारों के बाद यहां की प्रकृति में चार चाँद लग जाते हैं। सैलानियों के ठहरने के लिए मप्र पर्यटन विभाग की ओर से 'टूरिस्ट विलेज' की स्थापना की गई है। यह प्राकतिक कुण्ड " भदैया कुण्ड " के निकट स्थित है।

मोरई सरकार ग्राम मोहनगढ़ कंडऊ सरकार ग्राम बूढीवरौद

माधव नेशनल पार्क[संपादित करें]

शिवपुरी में आगरा -बम्बई और झाँसी -शिवपुरी के मध्य माधव नेशनल पार्क स्थित है। इसका क्षेत्रफल 157.58 वर्ग किलोमीटर है। पार्क पूरे वर्ष सैलानियों के लिए खुला रहता है। चिंकारा, भारतीय चिकारे और चीतल की बड़ी संख्या में हैं। नीलगाय, सांभर, चौसिंगा, कृष्णमृग, स्लोथ रीछ, तेंदुए और साधारण लंगूर इस विशाल पार्क के अन्य निवासी हैं।[3]

चित्रदीर्घा[संपादित करें]

आवागमन[संपादित करें]

ग्वालियर से बैतूल तक जाने वाला राष्ट्रीय राजमार्ग 46 और गुजरात से असम जाने वाला राष्ट्रीय राजमार्ग 27 यहाँ से गुज़रते हैं और इसे कई अन्य स्थानों से सड़क द्वारा जोड़ते हैं। NH 3 आगरा मुंबई राष्ट्रीय राजमार्ग भी यहीं गुजरता है

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

भारत की 2011 जनगणना के अनुसार बदरवास की जनसंख्या 1,79,977 थी, जिसमें से 95,132 पुरुष और 84,845 स्त्रियाँ थीं। बदरवास की औसत साक्षरता दर 77.84% है, जो राज्य औसत 69.32% से अधिक है; पुरुषों में 84.62% और महिलाओं में 70.23% साक्षर हैं। जनसंख्या में से 23,373 बच्चे 6 वर्ष से कम आयु की है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Inde du Nord: Madhya Pradesh et Chhattisgarh Archived 2019-07-03 at the Wayback Machine," Lonely Planet, 2016, ISBN 9782816159172
  2. "Tourism in the Economy of Madhya Pradesh," Rajiv Dube, Daya Publishing House, 1987, ISBN 9788170350293
  3. "संग्रहीत प्रति". मूल से 29 मई 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 18 जून 2015.