ग्वालियर पश्चिम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
ग्वालियर पश्चिम
उपनगर
ग्वालियर पश्चिम की मध्य प्रदेश के मानचित्र पर अवस्थिति
ग्वालियर पश्चिम
ग्वालियर पश्चिम
ग्वालियर, मध्य प्रदेश, भारत में भौगोलिक स्थिति।
ग्वालियर पश्चिम की भारत के मानचित्र पर अवस्थिति
ग्वालियर पश्चिम
ग्वालियर पश्चिम
ग्वालियर पश्चिम (भारत)
निर्देशांक: 26°14′15″N 78°13′50″E / 26.23750°N 78.23056°E / 26.23750; 78.23056निर्देशांक: 26°14′15″N 78°13′50″E / 26.23750°N 78.23056°E / 26.23750; 78.23056
देशFlag of India.svg भारत
राज्यमध्य प्रदेश
ज़िलाग्वालियर
नाम स्रोतकाउंटर मैग्नेट सिटी
क्षेत्रफल
 • कुल236 किमी2 (91 वर्गमील)
जनसंख्या (2011)
 • कुल6,83,565
 • दर्जा107
 • घनत्व2,900 किमी2 (7,500 वर्गमील)
भाषा
 • आधिकारिकहिंदी
समय मण्डलआई॰एस॰टी॰ (यूटीसी+5:30)

"ग्वालियर पश्चिम" राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) के तहत एक विकास परियोजना है। इसे 1992 में दिल्ली की आबादी को आकर्षित करने के लिए शुरू किया गया था। सरकार द्वारा चयनित 5 काउंटर मैग्नेट शहरों में से ग्वालियर पहला था।ग्वालियर पश्चिम ग्वालियर शहर से 15 किमी दूर है और तिघरा बांध इसके 8 किमी पश्चिम में स्थित है। [1]

विशेष क्षेत्र विकास प्राधिकरण (साडा)[संपादित करें]

मध्य प्रदेश में राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) की काउंटर मैग्नेट परियोजना को लागू करने के लिए मध्य प्रदेश सरकार द्वारा विशेष क्षेत्र विकास प्राधिकरण ( Special Area Development Authority-SADA) साडा स्थापित किया गया था। [2] इसके बोर्ड का अध्यक्ष एक राजनीतिक उम्मीदवार होता है। इसकी फंडिंग एनसीआर प्लानिंग बोर्ड और मध्य प्रदेश सरकार से आती है। साडा का मुख्य कार्य ग्वालियर पश्चिम को विकसित करना था। [3]

साडा को अप्रैल 2000 में ग्वालियर ज़िले की 28,102 हेक्टेयर और मुरैना ज़िले की 1,912 हेक्टेयर भूमि पर कुल 30,014 हेक्टेयर और 36 गांवों का अधिकार क्षेत्र आवंटित किया गया था। यह क्षेत्र पश्चिम में तिघरा जलाशय और साँक नदी और पूर्व में AH47 (पहले NH3) से घिरा है। इस ज़मीन को कृषि के लिए खराब गुणवत्ता वाला माना जाता है, इसलिए यह शहरीकरण के लिए उपयुक्त है। [4]

2010 में अक्षम बजट के लिए और एक बैलेंस शीट का उत्पादन करने में विफल रहने के लिए साडा की आलोचना की गई थी। [5]

विकास[संपादित करें]

ग्वालियर पश्चिम में कई आवासीय परियोजनाएं, सरकारी कार्यालय, संस्थान और खेल परिसर हैं, जैसे सहारा सिटी होम्स, मन्त्री सिटी, एनजी डेवलपर्स।

ग्वालियर इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम[संपादित करें]

ग्वालियर अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम प्रमुख परियोजना है जो ग्वालियर पश्चिम में निर्माणाधीन है। यह 60,000 की क्षमता वाला एक मेगा स्टेडियम होगा और इसके पूरा होने के बाद यह दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा क्रिकेट स्टेडियम होगा।

ग्वालियर मेट्रो[संपादित करें]

ग्वालियर शहर को परेशानी मुक्त कनेक्टिविटी प्रदान करने के लिए प्रस्तावित मेट्रो से ग्वालियर पश्चिम को जोड़ने की उम्मीद है।

परिवहन[संपादित करें]

ग्वालियर-श्योपुर नैरो गेज ट्रेन का प्रस्तावित ब्रॉडगेज ट्रैक ग्वालियर पश्चिम से होकर गुजरेगा। यह भी कहा जाता है कि ग्वालियर पश्चिम में भी एक रेलवे स्टेशन बनाया जाना है।

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "Medium Term Strategic Evolution and Borrowers Assessment" (PDF). National Capital Region (India) Planning Board. April 2010. पृ॰ 92.
  2. "Study on Counter Magnet Areas to Delhi and NCR" (PDF). ncrpb.nic.in/cma_study.php. National Capital Region (India) Planning Board. 2008. मूल (PDF) से 19 मई 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 अगस्त 2019.
  3. "Medium Term Strategic Evolution and Borrowers Assessment" (PDF). National Capital Region (India) Planning Board. April 2010. पृ॰ 92.
  4. "Gwalior Counter Magnet - National Capital Region". SADA. 2001. मूल से 9 जून 2002 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2 January 2019.
  5. "Medium Term Strategic Evolution and Borrowers Assessment" (PDF). National Capital Region (India) Planning Board. April 2010. पृ॰ 92.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]