काशीपुर, उत्तराखण्ड

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
यह लेख निर्वाचित लेख बनने के लिए परखने हेतु रखा गया है। अधिक जानकारी के लिए निर्वाचित लेख आवश्यकताएँ देखें।
काशीपुर
—  नगर  —
View of काशीपुर, भारत
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य उत्तराखण्ड
महापौर उषा चौधरी (निर्दलीय)
जनसंख्या
घनत्व
१,२१,६२३ (२०११ तक )
२२,२७५.२ प्रति वर्ग मीटर
क्षेत्रफल
ऊँचाई (AMSL)
५.४ वर्ग किमी कि.मी²
२१८ मीटर

निर्देशांक: 29°13′N 78°57′E / 29.22°N 78.95°E / 29.22; 78.95

काशीपुर भारत के उत्तराखण्ड राज्य के उधम सिंह नगर जनपद का एक महत्वपूर्ण पौराणिक एवं औद्योगिक शहर है। उधम सिंह नगर जनपद के पश्चिमी भाग में स्थित काशीपुर जनसंख्या के मामले में कुमाऊँ का तीसरा और उत्तराखण्ड का छठा सबसे बड़ा नगर है। भारत की २०११ की जनगणना के अनुसार काशीपुर नगर की जनसंख्या १,२१,६२३, जबकि काशीपुर तहसील की जनसंख्या २,८३,१३६ है। यह नगर भारत की राजधानी, नई दिल्ली से लगभग २४० किलोमीटर, और उत्तराखण्ड की अंतरिम राजधानी, देहरादून से लगभग २०० किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

काशीपुर को पुरातन काल से गोविषाण या उज्जयनी नगरी भी कहा जाता रहा है, और हर्ष के शासनकाल से पहले यह नगर कुनिन्दा, कुषाण, यादव, और गुप्त समेत कई राजवंशों के अधीन रहा है। इस जगह का नाम काशीपुर, चन्दवंशीय राजा देवी चन्द के एक पदाधिकारी काशीनाथ अधिकारी के नाम पर पड़ा, जिन्होंने इसे १६-१७ वीं शताब्दी में बसाया था। १८ वीं शताब्दी तक यह नगर कुमाऊँ राज्य में रहा, और फिर यह नन्द राम द्वारा स्थापित काशीपुर राज्य की राजधानी बन गया। १८०१ में यह नगर ब्रिटिश शासन के अंतर्गत आया, जिसके बाद इसने १८१४ के आंग्ल-गोरखा युद्ध में कुमाऊँ पर अंग्रेजों के कब्जे में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। काशीपुर को बाद में कुमाऊँ मण्डल के तराई जिले का मुख्यालय बना दिया गया।

ऐतिहासिक रूप से, इस क्षेत्र की अर्थव्यस्था कृषि तथा बहुत छोटे पैमाने पर लघु औद्योगिक गतिविधियों पर आधारित रही है। काशीपुर को कपड़े और धातु के बर्तनों का ऐतिहासिक व्यापार केंद्र भी माना जाता है। आजादी से पहले काशीपुर नगर में जापान से मखमल, चीन से रेशम व इंग्लैंड के मैनचेस्टर से सूती कपड़े आते थे, जिनका तिब्बत व पर्वतीय क्षेत्रों में व्यापार होता था। बाद में प्रशासनिक प्रोत्साहन और समर्थन के साथ काशीपुर शहर के आसपास तेजी से औद्योगिक विकास हुआ। वर्तमान में नगर के एस्कॉर्ट्स फार्म क्षेत्र में छोटी और मझोली औद्योगिक इकाइयों के लिए एक इंटीग्रेटेड इंडस्ट्रियल एस्टेट निर्माणाधीन है।

भौगोलिक रूप से काशीपुर कुमाऊँ के तराई क्षेत्र में स्थित है, जो पश्चिम में जसपुर तक तथा पूर्व में खटीमा तक फैला है। कोशी और रामगंगा नदियों के अपवाह क्षेत्र में स्थित काशीपुर ढेला नदी के तट पर बसा हुआ है। १८७२ में काशीपुर नगरपालिका की स्थापना हुई, और २०११ में इसे उच्चीकृत कर नगर निगम का दर्जा दिया गया। यह नगर अपने वार्षिक चैती मेले के लिए प्रसिद्ध है। महिषासुर मर्दिनी देवी, मोटेश्वर महादेव तथा मां बालासुन्दरी के मन्दिर, उज्जैन किला, द्रोण सागर, गिरिताल, तुमरिया बाँध तथा गुरुद्वारा श्री ननकाना साहिब काशीपुर के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हैं।

नामकरण तथा स्थापना[संपादित करें]

वैदिक काल में काशीपुर नगर का नाम उज्जैनी (उज्जयनी / उज्जयनी नगरी) तथा यहां से बहने वाली ढेला नदी का नाम स्वर्णभद्रा था।[1] हर्ष काल में इसे गोविषाण कहा जाने लगा। गोविषाण शब्द दो शब्दों "गो" (गाय) और "विषाण" (सींग) से बना है, और इसका अर्थ "गाय का सींग" है। प्राचीन समय में गोविषाण को तत्कालीन समय की राजधानी व समृद्ध नगर कहा गया है।[2] वर्तमान काशीपुर नगर की स्थापना काशीनाथ अधिकारी ने की थी, जो चम्पावत के राजा देवी चन्द के अंतर्गत तराई क्षेत्र के लाट (अधिकारी) थे। उनके नाम पर ही इसे काशीपुर कहा जाने लगा।

काशीपुर की स्थापना की सही तारीख विवादित है, और कई इतिहासकारों ने इस मामले पर भिन्न-भिन्न विचार व्यक्त किए हैं। बिशप हीबर ने अपनी पुस्तक, "ट्रेवल्स इन इंडिया" में लिखा है कि काशीपुर की स्थापना ५००० साल पहले (लगभग ३१७६ ईसा पूर्व में) काशी नामक देवता ने की थी।[3] सर अलेक्जेंडर कनिंघम ने अपनी पुस्तक, "द अन्सिएंट जियोग्राफी ऑफ़ इंडिया" में हीबर के विचारों को सिरे से नकारते हुए लिखा "बिशप को अपने मुखबिर से धोखेबाज़ी मिली, क्योंकि यह अच्छी तरह से ज्ञात है कि यह नगर आधुनिक है। इसे चंपावत के राजा देवी-चन्द्र के अनुयायी काशीनाथ द्वारा १७१८ ई में बनाया गया है"।[4]:357–358 बद्री दत्त पाण्डेय ने अपनी पुस्तक "कुमाऊँ का इतिहास" में कनिंघम के विचारों का विरोध करते हुए दावा किया है कि नगर १६३९ में ही स्थापित हो चुका था।[5]

इतिहास[संपादित करें]

नगर में प्राप्त सिक्कों और अन्य अवशेषों से पता चलता है कि यह क्षेत्र दूसरी शताब्दी के आसपास कुनिन्दा राजवंश के अधीन था।[6]:७३-७४ कान्ति प्रसाद नौटियाल ने अपनी पुस्तक, "आर्केलॉजी ऑफ़ कुमाऊँ" में गोविषाण का उल्लेख करते हुए लिखा है कि "कुमाऊँ क्षेत्र में ढिकुली, जोशीमठ तथा बाराहाट के साथ-साथ गोविषाण भी कुनिन्दा राज्य के प्रमुख नगरों में से एक रहा होगा।"[7]:२३ कुछ वर्ष पश्चात गुप्त राजवंश का शासन स्थापित होने से पहले इस क्षेत्र पर कुषाणों,[7]:२३ और यादवों (yaudheyas) द्वारा आक्रमण का भी उल्लेख है[7]:३७ गुप्त साम्राज्य के पतन के बाद राजा हर्ष (६०६-६४१ ईसवी) ने गोविषाण को अपना सामन्ती राज्य बना लिया।[7]:४२ उस समय के कई खंडहर अभी भी शहर के पास विद्यमान हैं।[8] माना जाता है कि काशीपुर कपड़े और धातु के बर्तनों का ऐतिहासिक व्यापार केंद्र था।[9]

प्राचीन नगर गोविषाण के अवशेष

हर्ष काल में चीनी यात्री ह्वेनसांग भी यहाँ आया था।[10]:174 ह्वेनसांग के अनुसार "मादीपुर से ६६ मील की दूरी पर गोविषाण नामक स्थान था जिसकी ऊँची भूमि पर ढाई मील का एक गोलाकार स्थान था। यहां उद्यान, सरोवर एवं मछली कुंड थे। इनके बीच ही दो मठ थे, जिनमें सौ बौद्ध धर्मानुयायी रहते थे। यहाँ ३० से अधिक हिन्दू धर्म के मंदिर थे। नगर के बाहर एक बड़े मठ में २०० फुट ऊँचा अशोक का स्तूप था। इसके अलावा दो छोटे-छोटे स्तूप थे, जिनमें भगवान बुद्ध के नख एवं बाल रखे गए थे। इन मठों में भगवान बुद्ध ने लोगों को धर्म उपदेश दिए थे।"[11] १८६८ में भारत के तत्कालीन पुरातत्व सर्वेक्षक सर अलेक्जेंडर कनिंघम ने इन वस्तुओं की खोज हेतु इस स्थान का दौरा किया किन्तु इन मठों में उन्हें ये वस्तुएँ, खासकर भगवान बुद्ध के नख एवं बाल नहीं मिले। अपनी रिपोर्ट में कनिंघम ने गोविषाण को किसी प्राचीन राज्य की राजधानी बताया, जिसकी सीमाओं का विस्तार वर्तमान उधमसिंहनगर, रामपुर तथा पीलीभीत जनपदों तक था।[12]:३३०-३३१

काशीपुर में खुदाई में मिली विष्णु त्रिविक्रम की मूर्ती

आठवीं शताब्दी आते आते यह नगर कत्यूरी राजवंश के अधीन आ गया, जिनकी राजधानी कार्तिकेयपुरा में थी।[7]:४६ ग्यारहवीं शताब्दी में कत्यूरी राजवंश के विघटन के बाद यह क्षेत्र पहले स्थानीय सरदारों के और फिर दिल्ली सल्तनत के शासनाधीन आ गया। तेरहवीं शताब्दी में कुमाऊँ के शासक गरुड़ ज्ञान चन्द (१३७४-१४१९) ने भाभर तथा तराई क्षेत्रों पर अधिकार दिल्ली के सुल्तान से प्राप्त किया।[13] रुद्र चन्द (१५६८-१५९७) के शासनकाल में काठ तथा गोला के नवाब ने तराई क्षेत्रों पर कब्ज़ा करने की कोशिश की, परन्तु रुद्र चन्द ने उनके आक्रमण को निष्फल कर दिया। इसके बाद तराई क्षेत्रों को परगना का दर्जा देकर यहां एक अधिकारी की नियुक्ति की गई, और उसके निवास के लिए रुद्र चन्द ने रुद्रपुर नगर की स्थापना करी।[14]:6 रुद्र चन्द के बाद बाज बहादुर चन्द (१६३८-१६७८) ने रुद्रपुर के पश्चिम में बाजपुर नगर की स्थापना कर तराई के मुख्यालय वहां स्थानांतरित करने का एक विफल प्रयास करा। देवी चन्द (१७२०-१७२६) के शासनकाल में तराई के लाट काशीनाथ अधिकारी ने अपने निवास के लिए काशीपुर में महल का निर्माण करवाया, तथा तराई का मुख्यालय रुद्रपुर से यहां स्थानांतरित कर दिया।[8]:81

काशीपुर में अठारहवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध तक चन्द राजवंश का शासन रहा। १७७७ में काशीपुर के अधिकारी, नंद राम ने स्वयं को स्वतंत्र घोषित कर दिया और काशीपुर राज्य की स्थापना की।[5]:320 इसके २४ वर्ष बाद १८०१ में काशीपुर के तत्कालीन शासक, शिव लाल ने यह राज्य अंग्रेजों को सौंप दिया था, जिसके बाद काशीपुर ब्रिटिश भारत में एक राजस्व विभाजन बन गया।[5]:445 इसी समय में काशीपुर राज्य के राजकवि गुमानी पन्त ने इस नगर की विशेषताओं पर एक कविता भी लिखी थी, जिसमें उन्होंने नगर में बहती ढेला नदी, और मोटेश्वर महादेव मन्दिर का वर्णन किया है।[15] १८१४ में आंग्ल गोरखा युद्ध छिड़ने पर ब्रिटिश सेना ने काशीपुर में पड़ाव डाला था, और कुमाऊँ क्षेत्र के अपने सभी अभियानों के लिए इस नगर का प्रयोग आधार कैम्प के रूप में किया था। १० जुलाई १८३७ को काशीपुर को मुरादाबाद जनपद में शामिल किया गया और फिर १९४४ में बाजपुर, काशीपुर तथा जसपुर नगरों को काशीपुर नामक एक परगना में पुनर्गठित किया गया।[14] काशीपुर को बाद में संयुक्त प्रान्त आगरा व अवध के तराई जनपद का मुख्यालय बनाया गया।[14]

१८१४ आंग्ल-गोरखा युद्ध के समय काशीपुर में पड़ाव डाले सैनिक।

१८९१ में नैनीताल तहसील को कुमाऊँ जनपद से स्थानांतरित कर तराई के साथ मिला दिया गया, और फिर इसके मुख्यालय को काशीपुर से नैनीताल में लाया गया था। १८९१ में ही कुमाऊँ और तराई जनपदों का नाम उनके मुख्यालयों के नाम पर क्रमशः अल्मोड़ा तथा नैनीताल रख दिया गया, और काशीपुर नैनीताल जनपद में एक तहसील तथा परगना भर रह गया। २० वीं सदी के प्रारम्भ में काशीपुर नगर रेल नेटवर्क से भी जुड़ गया था।[16]:१३ रेल निर्माण के बाद नगर के विकास में तेजी आयी, और काशीपुर तथा रामनगर कुमाऊँ के प्रमुख व्यापारिक केंद्र बनकर उभरे।[16]:२७ १९४७ में भारत की स्वतंत्रता के बाद काशीपुर और नैनीताल जनपद के अन्य हिस्से संयुक्त प्रांत में ही मिले रहे, जिसका नाम बाद में उत्तर प्रदेश राज्य हो गया था।

३० सितंबर १९९५ को नैनीताल जनपद के तराई क्षेत्र की चार तहसीलों (किच्छा, काशीपुर, सितारगंज तथा खटीमा) को मिलाकर उधम सिंह नगर जनपद का गठन किया गया, और इसका मुख्यालय रुद्रपुर को बनाया गया।[17] ९ नवंबर २००० को भारत की संसद द्वारा उत्तर प्रदेश पुनर्गठन अधिनियम, २००० को पारित किया गया, जिसके बाद काशीपुर नवनिर्मित उत्तराखण्ड राज्य का भाग बन गया, जो भारत गणराज्य का २७वां राज्य था।[18] उत्तराखण्ड राज्य के गठन के बाद दीक्षित आयोग की एक रिपोर्ट में नगर को भूगोल तथा जलवायु, जल उपलब्धता, भूमि की उपलब्धता, प्राकृतिक जल निकासी और निवेश इत्यादि मापदंडों के आधार पर राज्य की राजधानी के लिए दूसरा सबसे उपयुक्त स्थान पाया था।[19][20] २७ जनवरी २०१३ को उत्तराखण्ड के तत्कालीन मुख्यमंत्री, विजय बहुगुणा ने रुड़की और रुद्रपुर के साथ-साथ काशीपुर को भी नगर निगम बनाने की घोषणा की,[21] और २८ फरवरी २०१३ को आधिकारिक अधिसूचना जारी होने के बाद काशीपुर नगर पालिका का उच्चीकरण करके इसे नगर निगम का दर्जा दिया गया।[22][23]

भूगोल[संपादित करें]

नई दिल्ली के २४० किमी उत्तर-पूर्व में स्थित काशीपुर उत्तराखण्ड के कुमाऊँ क्षेत्र के दक्षिण पश्चिमी भाग में रामगंगा तथा कोसी नदियों के अपवाह क्षेत्र के मध्य तराई में स्थित है। नगर के उत्तर में रामनगर का भाभर क्षेत्र पड़ता है, जो इसे शिवालिक पहाड़ियों से अलग करता है, तथा दक्षिण में रुहेलखंड के गांगेय मैदान हैं, जहां दूर तक ऊंची घास के मैदान फैले हैं।[24] ढेला नदी, जो रामगंगा की सहायक नदी है, काशीपुर से होकर बहती है।[25][26] काशीपुर नगर इसी नाम की एक तहसील का मुख्यालय भी है, जिसके पूर्व में बाजपुर तहसील, पश्चिम में जसपुर तहसील, उत्तर में नैनीताल जनपद की रामनगर तहसील, तथा दक्षिण में उत्तर प्रदेश राज्य का मुरादाबाद जिला है।

काशीपुर नगर के ऊपर बादलों का एक दृश्य

काशीपुर नगर का क्षेत्रफल ८.५४६ वर्ग किलोमीटर है।[27] ५ मार्च १८७२ को जब नगर पालिका परिषद काशीपुर की स्थापना हुई थी, तब इसका क्षेत्रफल १.५० वर्ग किलोमीटर था।[28] १९६६ में नगरपालिका की सीमा में विस्तार होने के उपरान्त नगर का क्षेत्रफल २.२५ वर्ग किमी हो गया था, और इसके बाद १३ मार्च १९७६ को नगरपालिका काशीपुर सीमा का विस्तार कर इसका क्षेत्रफल ५.४५६ वर्ग किमी निर्धारित किया गया।[28] ब्रिटिश काल से पहले तराई क्षेत्रों को मानव निवास के लिए अनुपयुक्त माना जाता था क्योंकि निरंतर बरसात यहां कई छिद्रों, तालाबों और दलदलों में जल भर देती थी, जो मच्छरों के लिए उपयुक्त प्रजनन स्थल बनते हुए मलेरिया का कारण बनते थे।[29]

भौगोलिक रूप से काशीपुर कुमाऊँ के तराई क्षेत्र में स्थित है, जो पश्चिम में जसपुर तक तथा पूर्व में रुद्रपुर, किच्छा होते हुए खटीमा तक फैला है।[30] तराई क्षेत्रों की मिट्टियों में चिकनी मिट्टी, छोटे से लेकर मध्यम कणों वाली रेतीली मिट्टी, और कभी-कभार बजरी भी शामिल होती है।[30] हालांकि स्वरूप में रेत पर चिकनी मिट्टी की प्रभुत्व रहता है। ये मिट्टियाँ यहां बहती नदियां अपने साथ भूमि के अंदर से निकालकर लाती हैं, और इस कारण इस क्षेत्र की मिटटी दलदली तथा उपजाऊ है।[30] भारतीय मानक ब्यूरो के अनुसार, यह शहर भूकंपीय क्षेत्र ४ के अंतर्गत आता है।[31][32]:27

काशीपुर की जलवायु नगर के दक्षिण में स्थित गांगेय मैदानों की तरह ही आर्द्र अर्ध-कटिबन्धीय है; गर्मियों (जून) में औसत दैनिक तापमान ३१.६ डिग्री सेल्सियस (८८.९ डिग्री फारेनहाइट) के आसपास होता है, जबकि सर्दियों (जनवरी) में यह लगभग १४.५ डिग्री सेल्सियस (५८.१ डिग्री फारेनहाइट) तक गिर जाता है।[33] वर्ष भर में औसत तापमान १७.१ डिग्री सेल्सियस तक की भिन्नता प्रदर्शित करता है। सबसे शुष्क और सबसे नम महीनों के बीच वर्षा का अंतर ३६९ मिमी रहता है। ५ मिमी औसत वर्षा के साथ नवंबर सबसे शुष्क माह है, जबकि ३७४ मिमी के औसत के साथ जुलाई में सबसे अधिक वर्षा होती है। नगर में मुख्य रूप से तीन ऋतुएं होती हैं; मार्च से जून तक ग्रीष्म ऋतु, जुलाई से नवंबर तक मानसून; और दिसंबर से फरवरी तक शीत ऋतु[32] कोपेन जलवायु वर्गीकरण के अनुसार इसका कोड "cwa" है।[34]

काशीपुर के जलवायु आँकड़ें
माह जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितम्बर अक्टूबर नवम्बर दिसम्बर वर्ष
औसत उच्च तापमान °C (°F) 20.8
(69.4)
23.9
(75)
29.5
(85.1)
35.7
(96.3)
39
(102)
37.6
(99.7)
32.7
(90.9)
31.8
(89.2)
32.1
(89.8)
31
(88)
26.8
(80.2)
22.3
(72.1)
30.27
(86.48)
दैनिक माध्य तापमान °C (°F) 14.5
(58.1)
16.9
(62.4)
22
(72)
27.5
(81.5)
31.4
(88.5)
31.6
(88.9)
28.8
(83.8)
28.2
(82.8)
27.9
(82.2)
24.7
(76.5)
19.4
(66.9)
15.4
(59.7)
24.02
(75.27)
औसत निम्न तापमान °C (°F) 8.2
(46.8)
9.9
(49.8)
14.6
(58.3)
19.4
(66.9)
23.8
(74.8)
25.7
(78.3)
25
(77)
24.6
(76.3)
23.7
(74.7)
18.4
(65.1)
12
(54)
8.6
(47.5)
17.83
(64.13)
औसत वर्षा मिमी (inches) 43
(1.69)
28
(1.1)
23
(0.91)
6
(0.24)
16
(0.63)
108
(4.25)
374
(14.72)
368
(14.49)
212
(8.35)
89
(3.5)
5
(0.2)
9
(0.35)
1,281
(50.43)
स्रोत: Climate-Data.org[33]

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

काशीपुर में जनसंख्या[35]
वर्ष जन.
1871 13,113
1881 14,667 11.9%
1891 14,717 0.3%
1901 12,023 −18.3%
1911 12,773 6.2%
1921 10,576 −17.2%
1931 11,276 6.6%
1941 13,223 17.3%
1951 16,597 25.5%
1961 24,258 46.2%
1971 33,457 37.9%
1981 51,773 54.7%
1991 69,870 35.0%
2001 92,967 33.1%
2011 1,21,623 30.8%

२०११ की जनगणना के अनुसार काशीपुर नगर की कुल जनसंख्या १,२१,६२३ है, जिसमें से पुरुषों की संख्या ६३,६२५ तथा महिलाओं की संख्या ५७,९८५ है।[36] २००१ के बाद से इसमें २८,६५६ या ३०% की वृद्धि हुई है।[37][38][39] उत्तराखण्ड राज्य में ४९० लोग प्रति वर्ग मील के मुकाबले काशीपुर में जनसंख्या घनत्व ५७,६९३ लोग प्रति वर्ग मील है। १८८१ में काशीपुर की जनसंख्या लगभग १४,००० थी,[40]:82 जो १९८१ तक ५०,००० को पार कर चुकी थी। इस जनसंख्या वृद्धि की मूल वजह पहाड़ी क्षेत्रों से लोगों का लगातार निचले क्षेत्रों की और प्रवास मन जाता है.

० से ६ साल तक की उम्र के बच्चों की संख्या १४,८३५ है, जो नगर की कुल जनसंख्या का १२.२०% है।[35]:369 काशीपुर में लिंगानुपात ९१२ महिआएं प्रति १००० पुरुष है।[35]:369 इसके अतिरिक्त नगर की साक्षरता दर ८२.४५% है, जो की राज्य की साक्षरता दर (७८.८२%) से अधिक है।[35]:369 पुरुषों में साक्षरता दर ८६.८८% जबकि महिलाओं में साक्षरता दर ७७.६३% है।[35]:369 नगर में कुल ६,०९६ झुग्गियां हैं, जिनमें ३३,५५० लोग रहते हैं, और ये नगर की कुल जनसंख्या का २७.५९% हैं।[41]

काशीपुर के धार्मिक आंकड़े (२०११)[41]
धर्म
हिन्दू धर्म
  
62.37%
इस्लाम
  
35.06%
सिख धर्म
  
1.87%
अन्य
  
1.00%

हिन्दू धर्म तथा इस्लाम नगर के मुख्य धर्म हैं। नगर की कुल जनसंख्या में से ६२.३७ प्रतिशत लोग हिन्दू धर्म का जबकि ३५.०६ प्रतिशत लोग इस्लाम का अनुसरण करते हैं। इसके अतिरिक्त नगर में अल्पसंख्या में सिख, ईसाई, बौद्ध तथा जैन धर्मों के अनुयायी भी रहते हैं। काशीपुर में १.८७ प्रतिशत लोग सिख धर्म का, ०.३४ प्रतिशत लोग ईसाई धर्म का, ०.११ प्रतिशत लोग जैन धर्म का तथा ०.०१ प्रतिशत लोग बौद्ध धर्म का अनुसरण करते हैं। इसके अतिरिक्त नगर की कुल जनसंख्या में से ०.२५ प्रतिशत लोग या तो आस्तिक हैं, या किसी भी धर्म से ताल्लुक नहीं रखते। हिन्दी तथा कुमाऊँनी नगर में बोली जाने वाली मुख्य भाषायें हैं।

काशीपुर तहसील की जनसंख्या २,८३,१३६ है।[42] काशीपुर के अलावा तहसील में ७३ गांव तथा २ अन्य नगर हैं।[43]

प्रशासन तथा राजनीति[संपादित करें]

नगर का प्रशासन काशीपुर नगर निगम के अधीन है।[44] यह काशीपुर नगर पालिका परिषद के उन्नयन द्वारा २०१३ में बनाई गई थी, जिसका गठन १८७२ में हुआ था।[45] काशीपुर नगर पालिका क्षेत्र पहले २० वार्डों में विभाजित था,[46] लेकिन नगर निगम बनने पर २७ अप्रैल २०१८ को नगर में २० नए वार्ड बना दिए गए, जिससे वार्डों की कुल संख्या ४० हो गई।[47] महापौर की सीट अन्य पिछड़ा वर्ग से संबंधित महिला के लिए आरक्षित है।[48] २०१३ में हुए काशीपुर नगर निगम के चुनाव में निर्दलीय राजनीतिज्ञ उषा चौधरी को महापौर चुना गया। चौधरी ने कांग्रेस की रूक्साना अंसारी को ७४१८ वोटों से हराया।[49]

नगर पालिका परिषद काशीपुर की स्थापना ५ मार्च १८७२ को संयुक्त प्रान्त के शासनादेश संख्या ३३४-ए द्वारा हुई थी। तब यह चतुर्थ श्रेणी की नगरपालिका थी, तथा इसका क्षेत्रफल १.५० वर्ग किलोमीटर था। इसके बाद स्वतंत्र भारत मे २३ मई १९५७ को इसे चतुर्थ से तृतीय श्रेणी, तथा १ दिसंबर १९६६ को तृतीय से द्वितीय श्रेणी की नगरपालिका का दर्जा दिया गया। १३ मार्च १९७६ को नगरपालिका काशीपुर सीमा का विस्तार कर इसका क्षेत्रफल ५.४५६ वर्ग किमी निर्धारित किया गया। अगले ही साल ६ जनवरी १९७७ को नगरपालिका काशीपुर को प्रथम श्रेणी की नगर पालिका का स्तर प्रदान कर दिया गया।[50]

भारत की लोकसभा में इस नगर का प्रतिनिधित्व नैनीताल-उधमसिंह नगर निर्वाचन क्षेत्र से चुने गए प्रतिनिधि द्वारा किया जाता है। भाजपा से भगत सिंह कोश्यारी नैनीताल-उधमसिंह नगर से वर्तमान सांसद हैं।[51] उन्होंने २०१४ के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के के.सी. सिंह बाबा के विरुद्ध २.८४ लाख मतों से विजय प्राप्त की, जो इस सीट से मौजूदा सांसद भी थे।[51] कांग्रेस का गढ़ मानी जाने वाली नैनीताल-उधम सिंह नगर सीट पर कांग्रेस ने १९५१ से आठ बार जीत दर्ज की है।[52] इसके अतिरिक्त भाजपा ने दो बार, और अन्य राजनीतिक दलों ने तीन बार इस सीट पर जीत हासिल की है।[52] उत्तराखण्ड विधानसभा के लिए नगर से एक विधायक काशीपुर विधानसभा क्षेत्र से चुना जाता है। भाजपा के हरभजन सिंह चीमा काशीपुर से वर्तमान विधायक हैं।[53] २००१ में राज्य गठन के बाद लगातार ४ बार वह इस क्षेत्र से विधायक रहे हैं।[54][55][56]

अर्थव्यवस्था[संपादित करें]

काशीपुर के समीप स्थित खेत।
कृषि काशीपुर के आसपास के क्षेत्रों में मुख्य आर्थिक गतिविधि है।

कृषि काशीपुर नगर के आसपास के क्षेत्रों में मुख्य आर्थिक गतिविधि है। उपजाऊ भूमि तथा पानी की उपलब्धता के कारण यह क्षेत्र एक तीव्र फसली क्षेत्र है। चावल और गेहूं के अतिरिक्त गन्ना, आम, अमरूद, जामुन, काफल और लीची यहां के प्रमुख उत्पाद हैं।

ऐतिहासिक रूप से, इस क्षेत्र की अर्थव्यस्था कृषि तथा बहुत छोटे पैमाने पर लघु औद्योगिक गतिविधियों पर आधारित रही है। आजादी से पहले काशीपुर नगर में जापान से मखमल, चीन से रेशम व इंग्लैंड के मैनचेस्टर से सूती कपड़े आते थे, जिनका तिब्बत व पर्वतीय क्षेत्रों में व्यापार होता था।[57] इस पेशे से जुड़े करीब दो सौ लोग यहां फेरियां लगाते थे। यातायात सुविधाऐं उप्लब्ध न होने के कारण खच्चरों के माध्यम से माल भेजा जाता था, जो गंतव्य तक कई दिनों बाद पहुंचता था। व्यापारी जब लौटते थे तो साथ में पर्वतीय घी व सुहागा लेकर आते थे। बाद में प्रशासनिक प्रोत्साहन और समर्थन के साथ काशीपुर शहर के आसपास तेजी से औद्योगिक विकास हुआ।[58] ८० के दशक में एनएसआईसी ने महिलाओं को औद्योगिक प्रशिक्षण देने के लिए यहां कॉमन फैसिलिटीज एंड ट्रेनिंग सेण्टर (सीएफटीसी) की स्थापना की।[59] इम्पीरियल गज़ेटियर के अनुसार काशीपुर नगर एक समय में कपड़े और धातु के बर्तनों का महत्वपूर्ण व्यापार केंद्र था।

काशीपुर नगर के एस्कॉर्ट्स फार्म क्षेत्र में उत्तराखण्ड सरकार स्टेट इन्फ्रास्ट्रक्चर ऐंड इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट कॉरपोरेशन ऑफ उत्तराखण्ड लिमिटेड (सिडकुल) के अंतर्गत छोटी और मझोली औद्योगिक इकाइयों के लिए औद्योगिक क्षेत्र विकसित करने के लिए एक इंटीग्रेटेड इंडस्ट्रियल एस्टेट का निर्माण कर रही है। सिडकुल ने पहले भी २००८ में एस्कॉट्र्स फार्म्स पर औद्योगिक क्षेत्र विकसित करने का अपने प्रस्ताव सरकार के सामने रखा था, पर तब सरकार ने इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया था।[60] ३११ एकड़ में फैले इस एस्टेट में लगभग २०० एकड़ क्षेत्र को बिक्री के लिए रखा गया है, जहां भविष्य में उद्योग स्थापित होने हैं।[61]

२०११ की जनगणना के अनुसार काशीपुर की कुल आबादी में से ३६,८२४ लोग काम या व्यापार गतिविधि में लगे हुए थे।[38] इनमें से ३२,४०९ पुरुष थे, जबकि ४,४१५ महिलाएं थीं। कुल ३६,८२४ कार्यरत आबादी में, ८९.२४% मुख्य कार्य में लगे थे, जबकि १०.७६% मामूली कार्य में लगे थे।[38] इस क्षेत्र में उधम सिंह नगर जिले के लगभग ५० प्रतिशत मध्यम और बड़े उद्योग हैं। १९९८ में काशीपुर नगर में स्थित विद्युत् संबंधी उपकरण बनाने वाले औद्योगिक संयंत्रों से प्रतिवर्ष लगभग २४ करोड़ रुपयों तक की आमदनी होती थी।[62] काशीपुर नगर के २०११ मास्टर प्लान के अनुसार, शहर में लगभग ६०३ औद्योगिक इकाइयां काम कर रही थीं। इनमें १६३ कॉटेज इंडस्ट्रीज, ४१५ लघु उद्योग और २५ मध्यम (या बड़े) उद्योग शामिल हैं। सस्ते और प्रचुर मात्रा में कच्चे माल उपलब्ध होने के कारण, कई पेपर और चीनी मिल भी उपस्थित हैं। २०१४ के एक सर्वे के अनुसार नगर में कुल १२ कागज़ मिलें हैं, जिनमें १,०२२ लोग काम करते हैं।[63] २०१० में काशीपुर में स्थित इंडिया गलिकल्स लिमिटेड भारत भर में इथेनॉल से एमईजी बनाने वाला एकलौता संयंत्र था।[64]

आवागमन[संपादित करें]

काशीपुर उत्तराखण्ड में एक प्रमुख परिवहन केंद्र है। राष्ट्रीय राजमार्ग ७३४ (पहले राष्ट्रीय राजमार्ग ७४) काशीपुर को जसपुर और नगीना होते हुए नजीबाबाद से जोड़ता है[65] जबकि राष्ट्रीय राजमार्ग ३०९ (पहले राष्ट्रीय राजमार्ग १२१) काशीपुर को पूर्व में रुद्रपुर से और उत्तर में रामनगर तथा श्रीनगर से जोड़ता है। सबसे निकटतम हवाई अड्डा पंतनगर विमानक्षेत्र है, जो काशीपुर के ७२ किलोमीटर पूर्व में स्थित है। पंतनगर से दिल्ली और देहरादून के लिए उड़ान सेवाएं उपलब्ध हैं।[66] निकटतम अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा नई दिल्ली में स्थित इंदिरा गांधी अन्तर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र है, जो कि २१४ किलोमीटर दूर है।

काशीपुर जंक्शन रेलवे स्टेशन रेल नेटवर्क द्वारा रामनगर, काठगोदाम, मुरादाबाद, बरेली, लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, चंडीगढ़, आगरा, जैसलमेर, हरिद्वार और दिल्ली से जुड़ा है। काशीपुर रेलवे स्टेशन भारतीय रेल के उत्तर पूर्वी रेलवे क्षेत्र के इज्जतनगर मण्डल के प्रशासनिक नियंत्रण में है। लालकुआँ - रामनगर/मुरादाबाद रेलवे लाइन का उद्घाटन ११ जनवरी १९०८ को हुआ था।[16]:१३ यह रेलवे लाइन बरेली-काठगोदाम लाइन पर स्थित लालकुआँ से शुरू होती थी, और गुलारभोज, बाजपुर तथा सरकारा से होते हुए काशीपुर पहुँचती थी। काशीपुर से यह उत्तर की ओर रामनगर, तथा दक्षिण की ओर मुरादाबाद तक जाती थी।[16]:१३ शहर के लिए कई नए रेल लिंक प्रस्तावित हैं, जिनमें काशीपुर-नजीबाबाद रेलवे लाइन[67][68][69] तथा रामनगर-चौखुटिया रेल लिंक[70] प्रमुख हैं।

बसें काशीपुर में आवागमन का प्रमुख साधन हैं। काशीपुर बस स्टेशन से यूटीसी, यूपीएसआरटीसी और केमू (कुमाऊँ मोटर ओनर्स यूनियन) द्वारा विभिन्न मार्गों पर बस सेवाएं संचालित की जाती हैं। काशीपुर बस स्टेशन को पीपीपी मोड पर अंतर्राज्यीय बस अड्डे में विकसित किया जाना प्रस्तावित है, और उत्तराखण्ड परिवहन निगम ने २०१७ में इसका टेंडर सीआरएस इन्फ्रा प्रोजेक्ट लिमिटेड नई दिल्ली को दिया था।[71] इसके अतिरिक्त ऑटो रिक्शा और इलेक्ट्रिक रिक्शा, जिन्हें मिनी मेट्रो भी कहा जाता है, भी शहर के भीतर यात्रा करने के प्रमुख साधन हैं।

शिक्षा[संपादित करें]

भारतीय प्रबंधन संस्थान, काशीपुर परिसर

काशीपुर के अधिकतर स्कूल राज्य सरकार या निजी संगठनों द्वारा संचालित हैं। हिन्दी और अंग्रेजी नगर में शिक्षा की प्राथमिक भाषाएं हैं। शेष भारत की तरह ही काशीपुर के विद्यालयों में भी भारतीय शिक्षा प्रणाली का पालन किया जाता है, जिसके अंतर्गत छात्र अपनी माध्यमिक शिक्षा पूरी करने के बाद उच्च माध्यमिक विद्यालयों/इंटर कॉलेजों में दाखिला लेकर कला, वाणिज्य या विज्ञान में से किसी एक विषय का अध्ययन करते हैं। नगर के अधिकतर निजी उच्च माध्यमिक विद्यालय सीबीएसई या आईसीएसई से, जबकि सभी राजकीय इंटर कॉलेज उत्तराखण्ड बोर्ड से संबद्ध है।

काशीपुर में कुमाऊं विश्वविद्यालय, नैनीताल से सम्बद्ध चार महाविद्यालय स्थित है: राधेहरि राजकीय स्नात्तकोत्तर महाविद्यालय, चंद्रावती तिवारी कन्या स्नात्तकोत्तर महाविद्यालय, श्रीराम इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी और काशीपुर कॉलेज ऑफ एजुकेशन।[72][73] १९७३ में खुला राधेहरि राजकीय स्नात्तकोत्तर महाविद्यालय नगर का सबसे पुराना महाविद्यालय है। इनके अतिरिक्त काशीपुर में भारतीय प्रबंधन संस्थान का एक परिसर भी स्थित है।[74] भारतीय प्रबंधन संस्थान, काशीपुर की नींव २९ अप्रैल २०११ को तत्कालीन मानव संसाधन विकास मंत्री, कपिल सिब्बल ने रखी थी।[75][76]

२०११ की जनगणना के अनुसार काशीपुर में कुल ८८ सरकारी शिक्षण संस्थान हैं, जिनमें ४८ प्राथमिक विद्यालय, ३० माध्यमिक विद्यालय, ९ वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय और १ राजकीय डिग्री कॉलेज हैं।[35]:375 काशीपुर के प्रमुख स्कूलों और कॉलेजों में राजपूताना कॉलेज, शेमफोर्ड फ्यूचरिस्टिक स्कूल, आर्मी पब्लिक स्कूल, गुरुकुल स्कूल, कृष्णा पब्लिक कॉलेजिएट, ज्ञानर्थी मीडिया कॉलेज, दिल्ली पब्लिक स्कूल, गुरु नानक सीनियर सेकेंडरी स्कूल, केन्द्रीय विद्यालय, लिटिल विद्वान स्कूल, मारिया असुम्प्टा कॉन्वेंट स्कूल, समर स्टडी हॉल, सेंट मैरी स्कूल, टेम्पलटन कॉलेज, टुलरम राजाराम सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज, विजन वैली स्कूल, उदयराज हिंदू इंटर कॉलेज और रूट्स पब्लिक स्कूल इत्यादि प्रमुख हैं।

दर्शनीय स्थल[संपादित करें]

मोटेश्वर महादेव मन्दिर
सूर्योदय के समय द्रोणसागर का दृश्य
इन्हें भी देखें: मोटेश्वर महादेव मन्दिर एवं चैती देवी मन्दिर, काशीपुर

काशीपुर नगर में ऐतिहासिक व धार्मिक महत्त्व के कई महत्वपूर्ण स्थल हैं। एक ओर उज्जैन किला जहाँ नगर के समृद्ध अतीत को दर्शाता है, तो वहीं दूसरी ओर नगर में स्थित महिषासुर मर्दिनी देवी, मोटेश्वर महादेव तथा मां बालासुन्दरी के मन्दिर नगर पर हिन्दू संस्कृति की अभिन्न छाप का चित्रण करते हैं। द्रोण सागर, गिरिताल, तुमरिया बाँध तथा गुरुद्वारा श्री ननकाना साहिब काशीपुर के अन्य प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हैं।

गोविषाण के पुराने किले को उज्जैन कहा जाता है। उज्जैन किले की दीवारें ६० फुट ऊँची हैं, और इसमें इस्तेमाल हुई ईंटें १५x१०x२.५ इंच की हैं। इस किले में उज्जैनी देवी की मूर्ति स्थापित है। इस किले के पास ही मोटेश्वर महादेव का मन्दिर है, जिसे शिव के बारह उप-ज्यार्तिलिंगों में से एक माना जाता है।[77] लोकमान्यतानुसार इस मन्दिर की स्थापना द्वापर युग में भीम ने गुरु द्रोणाचार्य व अपने परिवार के पूजा-अर्चना के लिए कराई थी।[78] तभी से इस ऐतिहासिक मन्दिर में पूजा-अर्चना व जलाभिषेक होता आ रहा है। मन्दिर के समीप ही द्रोण सागर है, जिसे पाण्डवों ने गुरू द्रोणाचार्य को गुरूदक्षिणा के रूप में देने के लिये बनाया था। यह ६०० वर्ग फुट का है, और इसके किनारे कई देवी-देवताओं के मन्दिर हैं। द्रोणसागर को अब भारतीय पुरातत्व विभाग का संरक्षण प्राप्त है।[79]

माता बालासुन्दरी का मन्दिर, जिसे चैती देवी मन्दिर के नाम से भी जाना जाता है, काशीपुर का सबसे प्रसिद्ध मन्दिर है। मंदिर परिसर में मुख्य मंदिर के चारों ओर १५ अन्य पूजनीय स्थल भी हैं।[80] इसी मन्दिर के पास नवरात्रियों में चैती मेला लगता है। इस मन्दिर का शिल्प मस्जिद के समान है, जिससे प्रतीत होता है कि इसे संभवतः मुगल साम्राज्य के समय में बनाया गया होगा। नगर में जागेश्वर महादेव का एक मन्दिर भी है, जो २० फुट ऊँचा है। नगर के उत्तर में तुमरिया बाँध स्थित है। १९६१ में बना यह बाँध १० किलोमीटर लम्बा है।[81]

काशीपुर-रामनगर मार्ग पर नगर से लगभग दो किलोमीटर की दूरी पर गिरिताल नमक एक तालाब स्थित है। काशीपुर क्षेत्र में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा इस ताल के एक सिरे पर पर्यटक आवास गृह का निर्माण करवाया गया था, और कुछ वर्ष पहले तक स्थानीय लोग इस ताल में नौका विहार करते देखे जा सकते थे।[82] तालाब के चारों ओर मंदिरों की शृंखला है, जिनमें से एक मां महिषासुर मर्दिनी देवी का मन्दिर भी है। मन्दिर परिसर में भगवान शंकर, लक्ष्मी-नारायण, सत्यनारायण, राधा-कृष्ण, सीता-राम, हनुमान, गायत्री, और सरस्वती की, जबकि मुख्य द्वार पर शनि व ब्रह्मदेव की प्रतिमाऐं स्थापित है। मान्यता है कि पांडव काल में यहां पर ऋषि-मुनियों के मठ हुआ करते थे, जहां वे देवी की आराधना करते थे।[83]

इनके अतिरिक्त भी काशीपुर में कई प्रसिद्ध मन्दिर हैं, जिनमें चैती स्थित खोखराताल देवी मन्दिर, मोहल्ला लोहरियान स्थित मां मनसा देवी मन्दिर, मां गायत्री देवी मन्दिर, पक्काकोट स्थित मां काली देवी मन्दिर, सिंघान स्थित श्री दुर्गा मन्दिर, मुखर्जीनगर स्थित शीतला माता मन्दिर, गिरीताल स्थित मां चामुंडा देवी मन्दिर, पुष्पक विहार स्थित श्री सीताराम एवं मां चामुंडा देवी मन्दिर व सुभाष नगर स्थित काली माता मन्दिर प्रमुख हैं।[84]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "हिस्ट्री ऑफ़ काशीपुर" (अंग्रेजी में). http://www.rhgpgckashipur.org/index.php?mod=content&page=141. अभिगमन तिथि: १३ मई २०१८. 
  2. कुंदन बिष्ट/आरडी खान (२८ सितम्बर २०१७)। गोविषाण टीला दिला सकता है काशीपुर को नई पहचानअमर उजाला
  3. हीबर, बिशप (अंग्रेजी में). ट्रैवेल्स इन इण्डिया (द्वितीय सं॰). प॰ २४६. 
  4. कन्निंघम, सर अलेक्जेण्डर (१८७१) (अंग्रेजी में). द अन्सिएंट जियोग्राफ़ी ओफ़ इण्डिया: द बुद्धिस्ट पीरियड इङ्क्लूडिंग द कैम्पेन्स ओफ़ एलेग्जेण्डर, द ट्रैवेल्स औफ़ ह्वेन त्साङ्ग. लंदन: ट्रुब्नर एण्ड कंपनी. https://books.google.co.in/books?id=yH9Xef_vm1EC&pg=PA357. 
  5. पाण्डे, बद्री दत्त (१९९३). कुमाऊं का इतिहास. अल्मोड़ा: श्याम प्रकाशन. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 81-85865-01-9. 
  6. हांडा, उमाचन्द (१९८६) (अंग्रेजी में). नुमिस्मैटिक सोर्सेज ऑन द अर्ली हिस्ट्री ऑफ़ वेस्टर्न हिमालय. नई दिल्ली: बी॰आर॰ पब्लिशिंग कारपोरेशन. 
  7. नौटियाल, कान्ति प्रसाद (१९६९) (अंग्रेजी में). आर्केलॉजी ऑफ़ कुमाऊँ. वाराणसी: चौखम्बा संस्कृत सीरीज़. 
  8. हांडा, उमाचन्द (२००२) (अंग्रेजी में). हिस्ट्री ऑफ़ उत्तराँचल. नई दिल्ली: इंडस पब्लिशिंग. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788173871344. https://books.google.co.in/books?id=7_Ct9gzvkDQC. अभिगमन तिथि: २० जून २०१८. 
  9. आहूजा, आकाश (१० फरवरी २०१७). "वन्स द सीट ऑफ़ अन्सिएंट ट्रेड, काशीपुर नाउ रेडूसेड टू अर्बन मेस" (अंग्रेजी में). टीएनएन (रुद्रपुर: द टाइम्स ऑफ़ इंडिया). https://timesofindia.indiatimes.com/city/dehradun/once-the-seat-of-ancient-trade-kashipur-now-reduced-to-urban-mess/articleshow/57068518.cms. अभिगमन तिथि: २ मई २०१८. 
  10. (अंग्रेजी में) जर्नल ऑफ़ द एशियाटिक सोसाइटी ऑफ़ बंगाल. एशियाटिक सोसाइटी. https://books.google.co.in/books?id=3lgxAQAAMAAJ. 
  11. पाण्डे, महेश। गोविषाण टीला - काशीपुर में स्वर्णिम इतिहास समेटेवेब दुनिया
  12. वाटर्स, थॉमस (१९०४) (अंग्रेजी में). ऑन युआन च्वाँग्स ट्रेवल्स इन इंडिया, ६२९-६४५ ए॰डी॰. लंदन: रॉयल एशियाटिक सोसाइटी. https://archive.org/details/in.ernet.dli.2015.175681. 
  13. "इम्पीरियल गैज़ेटेर ऑफ़ इंडिया, वॉल्यूम १८, पेज ३२४" (अंग्रेजी में). डिजिटल साउथ एशिया लाइब्रेरी. http://dsal.uchicago.edu/reference/gazetteer/pager.html?objectid=DS405.1.I34_V18_330.gif. अभिगमन तिथि: १३ जुलाई २०१७. 
  14. रावत, अजय सिंह (१९९८) (अंग्रेजी में). फारेस्ट ऑन फायर : इकोलॉजी एंड पॉलिटिक्स इन द हिमालयन तराई. नई दिल्ली: कॉस्मो पब्लिकेशन्स. प॰ १३. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788170208402. 
  15. "कथावाले सस्ते फिरत धर पोथी बगल में / गुमानी". कविता कोश. http://kavitakosh.org/kk/%E0%A4%95%E0%A4%A5%E0%A4%BE%E0%A4%B5%E0%A4%BE%E0%A4%B2%E0%A5%87_%E0%A4%B8%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%A4%E0%A5%87_%E0%A4%AB%E0%A4%BF%E0%A4%B0%E0%A4%A4_%E0%A4%A7%E0%A4%B0_%E0%A4%AA%E0%A5%8B%E0%A4%A5%E0%A5%80_%E0%A4%AC%E0%A4%97%E0%A4%B2_%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82_/_%E0%A4%97%E0%A5%81%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%A8%E0%A5%80. अभिगमन तिथि: २० जून २०१८. 
  16. (अंग्रेजी में) नैनीताल सप्लीमेंट्री नोट्स एंड स्टेटिस्टिक्स (वॉल्यूम Xxxiv). इलाहाबाद: सरकारी प्रेस, संयुक्त प्रान्त. १९१७. https://archive.org/details/in.ernet.dli.2015.12931. 
  17. सिंह, आनंद राज (१२ मार्च २०१५). "मायावती मे क्रिएट न्यू डिस्ट्रिक्ट टू टेम ओल्ड फो". http://www.newindianexpress.com/nation/article398789.ece. अभिगमन तिथि: १४ मई २०१६. 
  18. "द उत्तर प्रदेश रीआर्गेनाईजेशन एक्ट, २०००" (अंग्रेजी में). http://vlex.in/vid/the-uttar-pradesh-reorganisation-act-29635891. अभिगमन तिथि: १५ जुलाई २०१७. 
  19. "धूल फांक रही है दीक्षित आयोग की रिपोर्ट". देहरादून: नवभारत टाइम्स. २७ जनवरी २०१३. https://m.navbharattimes.indiatimes.com/state/uttarakhand/dehradun/dixii-commisions-report-is-been-not-considered-yet-in-uttarakahan/amp_articleshow/18208177.cms. अभिगमन तिथि: ७ अप्रैल २०१८. 
  20. दीवान, उमेश (१३ जुलाई २००९). "Dixit Commission disfavours Garsain as capital [दीक्षित आयोग ने गैरसैण को राजधानी के तौर पर असंतोषजनक बताया]" (अंग्रेजी में). देहरादून: द ट्रिब्यून. http://www.tribuneindia.com/2009/20090714/dun.htm#1. अभिगमन तिथि: ७ अप्रैल २०१८. 
  21. "उत्तराखंड टू गेट थ्री न्यू म्युनिसिपल कॉर्पोरेशंस" (अंग्रेजी में). देहरादून: बिज़नेस स्टैन्डर्ड. २८ जनवरी २०१३. http://www.business-standard.com/article/pti-stories/uttarakhand-to-get-three-new-municipal-corporations-113012800362_1.html. अभिगमन तिथि: २ मई २०१८. 
  22. "थ्री मोर म्युनिसिपल कॉर्पोरेशंस क्रिएटेड इन उत्तराखंड" (अंग्रेजी में). देहरादून: इंडिया टीवी. 1 मार्च २०१३. https://www.indiatvnews.com/news/india/three-more-municipal-corporations-created-in-uttarakhand-20494.html. अभिगमन तिथि: २ मई २०१८. 
  23. "रुड़की, काशीपुर और रुद्रपुर में नगर निगम गठित". देहरादून: नवभारत टाइम्स. २ मार्च २०१३. https://navbharattimes.indiatimes.com/roorkee-kashipur-and-rudrapur-municipal-corporation-formed-in/articleshow/18752359.cms. अभिगमन तिथि: २ मई २०१८. 
  24. Aggarwal, J. C.; Agrawal, S. P. (1995) (en में). Uttarakhand: Past, Present, and Future. New Delhi: Concept Publishing Company. प॰ 288. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788170225720. https://books.google.co.in/books?id=alRh51xE_v0C. अभिगमन तिथि: 22 April 2018. 
  25. Steps to Conserve the Water Quality of River Ganga (Upto Kanpur). Lucknow: UP Pollution Control Board. 31 August 2016. प॰ 14. http://uppcb.com/pdf/ngt_290916.pdf. अभिगमन तिथि: 6 June 2017. 
  26. Water Quality of Rivers at Interstate Borders. Delhi: Central Pollution Control Board, Ministry of Environment, Forests & Climate Change, Govt. of India. प॰ 29. http://cpcb.nic.in/upload/NewItems/NewItem_211_IRBM_Report.pdf. अभिगमन तिथि: 6 June 2017. 
  27. "नगर निगम काशीपुर का बढ़ेगा दायरा". दैनिक जागरण. १३ जुलाई २०१५. https://www.jagran.com/lite/uttarakhand/udhamsingh-nagar-12593969.html. अभिगमन तिथि: १६ अप्रैल २०१८. 
  28. कुमाऊँ के भाबर एंव तराई क्षेत्र में नगरीकरण: उद्भव एवं विकास पृ. १०८,१०९
  29. Ranjan, G. (2010). "Industrialization in the Terai and its Impact on the Bhoksas". Global Warming, Human Factors and Environment: Anthropological Perspectives. New Delhi: Excel India Publishers. पृ॰ 285–292. https://www.researchgate.net/profile/Krishan_Sharma/publication/236009517_Global_Warming_Human_Factors_and_Environment_Anthropological_Perspectives/links/573c11e208aea45ee8406d09/Global-Warming-Human-Factors-and-Environment-Anthropological-Perspectives.pdf#page=297. 
  30. Bussa, Ravikalyan. District Udham Singh Nagar at a Glance. Dehradun: Central Ground Water Board, Uttaranchal Region. http://cgwb.gov.in/District_Profile/Uttarakhand/UdhamSinghNagar.pdf. अभिगमन तिथि: 6 June 2017. 
  31. Hazard profiles of Indian districts. National Capacity Building Project in Disaster Management, UNDP. https://web.archive.org/web/20060519100611/http://www.undp.org.in/dmweb/hazardprofile.pdf. अभिगमन तिथि: 17 October 2016. 
  32. "Complete sdmap, Uttarakhand". http://dmmc.uk.gov.in/files/pdf/complete_sdmap.pdf. अभिगमन तिथि: 26 October 2016. 
  33. "Climate Kashipur: Temperature, Climate graph, Climate table for Kashipur - Climate-Data.org". https://en.climate-data.org/location/523326/. अभिगमन तिथि: 21 June 2017. 
  34. Peel, M. C.; Finlayson, B. L.; McMahon, T. A. (2007). "Updated world map of the Köppen–Geiger climate classification". Hydrol. Earth Syst. Sci. 11: 1633–1644. doi:10.5194/hess-11-1633-2007. ISSN 1027-5606. http://www.hydrol-earth-syst-sci.net/11/1633/2007/hess-11-1633-2007.html.  (direct: Final Revised Paper)
  35. District Census Handbook Udham Singh Nagar Part-A. Dehradun: Directorate of Census Operations, Uttarakhand. http://www.censusindia.gov.in/2011census/dchb/0512_PART_A_DCHB_UDHAM%20SINGH%20NAGAR.pdf. 
  36. "Urban Agglomerations/Cities having population 1 lakh and above". Provisional Population Totals, Census of India 2011. http://www.censusindia.gov.in/2011-prov-results/paper2/data_files/India2/Table_3_PR_UA_Citiees_1Lakh_and_Above.pdf. अभिगमन तिथि: 2012-07-07. 
  37. "View Population Details: Kashipur". Office of the Registrar General & Census Commissioner, Ministry of Home Affairs, Government of India. http://www.censusindia.gov.in/PopulationFinder/View_Village_Population.aspx?pcaid=337&category=M.B.. अभिगमन तिथि: 4 June 2017. 
  38. "Kashipur Town Population, Uttarakhand". http://www.census2011.co.in/data/town/800339-kashipur-uttarakhand.html. अभिगमन तिथि: 4 June 2017. 
  39. "Kashipur (Udham Singh Nagar, Uttarakhand, India) - City Population" (अंग्रेजी में). citypopulation.de. http://www.citypopulation.de/php/india-uttarakhand.php?cityid=0541203000. अभिगमन तिथि: २१ अप्रैल २०१८. 
  40. Hunter, W. W. (1886). The Imperial Gazetteer of India Volume VIII. London: Trubner & Co.. 
  41. "Kashipur City Population Census 2011 | Uttarakhand". http://www.census2011.co.in/census/city/25-kashipur.html. अभिगमन तिथि: 4 June 2017. 
  42. "Kashipur Tehsil Population, Religion, Caste Udham Singh Nagar district, Uttarakhand – Census India". https://www.censusindia.co.in/subdistrict/kashipur-tehsil-udham-singh-nagar-uttarakhand-346. अभिगमन तिथि: 4 June 2017. 
  43. "Villages & Towns in Kashipur Tehsil of Udham Singh Nagar, Uttarakhand". http://www.census2011.co.in/data/subdistrict/346-kashipur-udham-singh-nagar-uttarakhand.html. अभिगमन तिथि: 4 June 2017. 
  44. "Municipalities of Uttarakhand". http://udd.uk.gov.in/files/List_of_ULBs_SC451.pdf. अभिगमन तिथि: 16 June 2017. 
  45. Imperial Gazetter: United Provinces: Kumaun Division. Allahabad: The Government Press, United Provinces. 1905. प॰ 19. 
  46. "Nagar Palika Parisad Kashipur". http://election.uk.gov.in/SEC_Voters_PDF_2013/Udham%20Singh%20Nagar/Nagar%20palika%20parisad%20Kashipur/Nagar%20palika%20parisad%20Kashipur.html. अभिगमन तिथि: 16 June 2017. 
  47. "काशीपुर नगर निगम में पार्षदों की 19 सीटें आरक्षित". काशीपुर: दैनिक जागरण. २८ अप्रैल २०१८. https://www.jagran.com/uttarakhand/udhamsingh-nagar-19-seats-reserved-for-councilors-in-kashipur-municipal-corporation-17888299.html. अभिगमन तिथि: १८ मई २०१८. 
  48. "Results for Mayor/ Chairman/ Nagar Pramukh Seats: District Udham Singh Nagar". http://secresult.uk.gov.in/frmNP.aspx. अभिगमन तिथि: 16 June 2017. 
  49. "Detailed Result: Nagar Nigam Kashipur". http://secresult.uk.gov.in/frmDetails.aspx. अभिगमन तिथि: 16 June 2017. 
  50. कुमाऊँ के भाबर एंव तराई क्षेत्र में नगरीकरण: उद्भव एवं विकास पृ. १०८,१०९
  51. Upadhyay, Kavita (16 May 2014). "BJP wins all five seats in Uttarakhand" (en में). Dehradun: The Hindu. http://www.thehindu.com/elections/loksabha2014/north/bjp-wins-all-five-seats-in-uttarakhand/article6017154.ece. अभिगमन तिथि: 4 July 2017. 
  52. Dewan, Umesh (13 April 2009). "Three in fray, but bipolar contest expected: Nainital-Udham Singh Nagar Seat". The Tribune. http://www.tribuneindia.com/2009/20090413/dun.htm#1. अभिगमन तिथि: 31 December 2009. 
  53. Detailed Results, भारत निर्वाचन आयोग. (Report).
  54. Statistical Report On General Election, 2002 To The Legislative Assembly Of Uttarakhand, भारत निर्वाचन आयोग. (Report).
  55. Statistical Report On General Election, 2007 To The Legislative Assembly Of Uttarakhand, भारत निर्वाचन आयोग. (Report).
  56. Statistical Report On General Election, 2012 To The Legislative Assembly Of Uttarakhand, भारत निर्वाचन आयोग. (Report).
  57. "काशीपुर में थी कभी विदेशी कपड़ों की मंडी". काशीपुर: दैनिक जागरण. २१ मई २०१६. https://www.jagran.com/uttarakhand/udhamsingh-nagar-14042935.html. अभिगमन तिथि: २० अप्रैल २०१८. 
  58. Negi, S.S. (1995) (en में). Uttarakhand : land and people. New Delhi: M D Publications. प॰ 12. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788185880730. https://books.google.co.in/books?id=qsNMI1Hi174C. अभिगमन तिथि: 22 April 2018. 
  59. Vinze, Medha Dubhashi (1987) (en में). Women Entrepreneurs in India: A Socio-economic Study of Delhi, 1975-85. Mittal Publications. प॰ 148. https://books.google.co.in/books?id=YpJGK3muDzcC. अभिगमन तिथि: 22 April 2018. 
  60. प्रशांत, शिशिर (१८ फरवरी २०१०). "काशीपुर में बनेगी उद्योगों की काशी". देहरादून: बिज़नेस स्टैण्डर्ड. http://hindi.business-standard.com/storypage.php?autono=31046. अभिगमन तिथि: २० अप्रैल २०१८. 
  61. "IIE Kashipur(Escort Farm)" (अंग्रेजी में). siidcul.com. https://www.siidcul.com/industrial-estate/iie-kashipur. अभिगमन तिथि: 20 अप्रैल 2018. 
  62. Batra, G.S.; Chawla, A.S. (2002) (en में). Researches in functional management. New Delhi: Deep & Deep Publications. प॰ 121. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788176294133. https://books.google.co.in/books?id=E-FvA4eOyCwC. अभिगमन तिथि: 22 April 2018. 
  63. "ROLE OF PAPER MILLS OF KUMAUN IN EMPLOYMENT GENERATION AND RURAL DEVELOPMENT" (अंग्रेजी में). शोधगंगा. http://shodhganga.inflibnet.ac.in/bitstream/10603/28715/8/chapter6.pdf. अभिगमन तिथि: २० अप्रैल २०१८. 
  64. Imhof, edited by Pieter; Waal, Jan Cornelis van der (2013) (en में). Catalytic process development for renewable materials. Weinheim: Wiley-VCH. प॰ 27. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9783527656653. https://books.google.co.in/books?id=RVSJ2FgTMjcC. अभिगमन तिथि: 22 April 2018. 
  65. Dabas, Harveer; Upadhyay, Vineet (8 January 2016). "Centre okays 4-lane NH74 connecting Uttarakhand and UP" (en में). TNN. Nainital/Bijnor: The Times of India. http://timesofindia.indiatimes.com/city/dehradun/Centre-okays-4-lane-NH74-connecting-Uttarakhand-and-UP/articleshow/50502642.cms. अभिगमन तिथि: 17 June 2017. 
  66. "Pantnagar Airport to see regular flights again". The Pioneer. 11 September 2014. http://www.dailypioneer.com/state-editions/dehradun/pantnagar-airport-to-see-regular-flights-again.html. अभिगमन तिथि: 30 September 2014. 
  67. Singh, Kautilya (9 July 2014). "Rail route surveys come to nought in U'khand" (en में). TNN. Dehradun: The Times of India. http://timesofindia.indiatimes.com/city/dehradun/Rail-route-surveys-come-to-nought-in-Ukhand/articleshow/38091148.cms. अभिगमन तिथि: 17 June 2017. 
  68. Kumar, Yogesh (27 February 2016). "Projects worth Rs 2k crore for state in Rail Budget: Ramesh Pokhriyal" (en में). TNN. Dehradun: The Times of India. http://timesofindia.indiatimes.com/city/dehradun/Projects-worth-Rs-2k-crore-for-state-in-Rail-Budget-Ramesh-Pokhriyal/articleshow/51171516.cms. अभिगमन तिथि: 17 June 2017. 
  69. "Rawat Demands Expansion of Rail Network in Uttarkhand". outlookindia.com (Dehradun: The Outlook). 24 June 2014. http://www.outlookindia.com/newswire/story/rawat-demands-expansion-of-rail-network-in-uttarkhand/846267. अभिगमन तिथि: 17 June 2017. 
  70. Singh, Kautilya (9 January 2015). "Speed up rail extension in state: Cong MP – Times of India" (en में). TNN. Dehradun: The Times of India. http://timesofindia.indiatimes.com/city/dehradun/Speed-up-rail-extension-in-state-Cong-MP/articleshow/45826601.cms. अभिगमन तिथि: 17 June 2017. 
  71. "नक्शे के पेच में फंसा रुद्रपुर, काशीपुर आईएसबीटी". रुद्रपुर: अमर उजाला. २७ अप्रैल २०१८. https://www.amarujala.com/uttarakhand/udham-singh-nagar/planning-of-developing-roadways-bus-station-as-isbt-is-is-getting-execution. अभिगमन तिथि: १७ मई २०१८. 
  72. "List of Affiliated Colleges". Kumaun University. 2013. http://www.kuexam.ac.in/pdf/New-Affiliated-College.pdf. अभिगमन तिथि: 21 June 2017. 
  73. "List of Colleges/Institutes with seats". Kumaun University. http://www.kunainital.ac.in/forms/job/LIST%20OF%20B.Ed%20College%20&%20Institute.pdf. अभिगमन तिथि: 21 June 2017. 
  74. "Uttarakhand plans IIM at Kashipur Business". Business.rediff.com. 23 December 2009. http://business.rediff.com/report/2009/dec/23/uttarakhand-plans-iim-at-kashipur.htm. अभिगमन तिथि: 2013-11-08. 
  75. "Sibal lays stone of IIM-Kashipur.". tribuneindia.com (Nainital: The Tribune). 29 April 2011. http://www.tribuneindia.com/2011/20110430/dplus.htm#1. अभिगमन तिथि: 21 June 2017. 
  76. Nagar, Abhishek (29 May 2011). "Foundation stone of IIM Kashipur laid by Kapil Sibal". PTI. dnaindia.com. http://www.dnaindia.com/india/report_foundation-stone-of-iim-kashipur-laid-by-kapil-sibal_1537603. अभिगमन तिथि: 2011-05-29. 
  77. "अद्भुत है मोटेश्वर महादेव मंदिर का ज्यार्तिलिंग". काशीपुर: अमर उजाला. २३ फरवरी २०१८. https://www.amarujala.com/uttarakhand/udham-singh-nagar/mahadev-temple-is-wonderful-moteshwar-jyartiling. अभिगमन तिथि: २० अप्रैल २०१८. 
  78. "पांडवों ने की थी मोटेश्वर महादेव मंदिर की स्थापना". काशीपुर: दैनिक जागरण. १९ फरवरी २०१२. https://www.jagran.com/uttarakhand/udhamsingh-nagar-8913675.html. अभिगमन तिथि: २० अप्रैल २०१८. 
  79. "जिले का प्रमुख पर्यटन स्थल बनेगा द्रोण सागर". रुद्रपुर: दैनिक जागरण. ५ मार्च २०१८. https://www.jagran.com/uttarakhand/udhamsingh-nagar-drona-sagar-will-be-the-main-tourist-destination-of-the-district-17613368.html. अभिगमन तिथि: २० अप्रैल २०१८. 
  80. "भगवती बाल सुंदरी मंदिर में हो रही पूजा- Amarujala". काशीपुर: अमर उजाला. ९ अप्रैल २०१७. https://www.amarujala.com/uttarakhand/udham-singh-nagar/worship-in-temple. अभिगमन तिथि: १३ मई २०१८. 
  81. TUMARIA RESERVOIR Report. Uttarakhand Irrigation Department. 2011. http://www.uttarakhandirrigation.com/document/tumaria-dam-23_05_2016.pdf. 
  82. "उजड़ गया रमणीक गिरिताल". काशीपुर: दैनिक जागरण. ५ मई २०१२. https://www.jagran.com/uttarakhand/udhamsingh-nagar-9214655.html. अभिगमन तिथि: १३ मई २०१८. 
  83. "काशीपुर: मां महिषासुर मर्दिनी देवी मंदिर". काशीपुर: दैनिक जागरण. ६ अक्टूबर २०१६. https://www.jagran.com/uttarakhand/udhamsingh-nagar-14824599.html. अभिगमन तिथि: १३ मई २०१८. 
  84. "नवरात्र के लिए देवी मंदिर तैयार". काशीपुर: दैनिक जागरण. २७ मार्च २०१७. https://www.jagran.com/uttarakhand/udhamsingh-nagar-15751479.html. अभिगमन तिथि: १४ मई २०१८. 

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

Wikivoyage-Logo-v3-icon.svg विकियात्रा पर काशीपुर के लिए यात्रा गाइड