रामगंगा नदी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
रामगंगा नदी
(पौराणिक नाम रथवाहिनी)
देश भारत
राज्य उत्तराखण्ड, उत्तर प्रदेश
लम्बाई 188 कि.मी.मील)
उद्गम
 - स्थान कुमांऊॅं तथा गढ़वाल उत्तराखंड, भारत
मुख गंगा नदी
 - ऊँचाई मी. (0 फीट)

रामगंगा नदी भारत की प्रमुख तथा पवित्र नदियों में से एक हैं। स्कंदपुराण के मानसखण्ड में इसका उल्लेख रथवाहिनी के नाम से हुआ है। उत्तराखण्ड के हिमालयी पर्वत श्रृंखलाओं के कुमाऊँ मण्डल के अन्तर्गत अल्मोड़ा जिले के दूनागिरी (पौराणिक नाम द्रोणगिरी) के विभिन्न प्राकृतिक जलस्रोत निकलकर कई गधेरों के रूप में तड़ागताल पहुंचते हैं। इस झील का कोई मुहाना नहीं है। चन्द कदमों की दूरी के उपरान्त स्वच्छ स्वेत धवल सी भूगर्भ से निकलती है और इसी अस्तित्व में प्रकट होकर रामगंगा नाम से पुकारी जाती है। दूसरी ओर गढ़वाल मण्डल के चमोली जिले के अन्तर्गत ग्वालदम तथा दूधातोली के मध्यवर्ती क्षेत्र के कई गधेरों के ताल नामक गॉंव के समीप मिलने पर रामगंगा कहलाती है। यहीं से रामगंगा का उद्गम होता है।

पौराणिक उल्लेख[संपादित करें]

रामगंगा नदी जिसका पौराणिक ग्रन्थों में रथवाहिनी के नाम से उल्लेख है। इसके रहस्य व महत्व सारगर्भित पाये जाते हैं। उनमें से एक तथ्य, मानसखण्ड के उल्लेखानुसार द्रोणागिरी यानि दूनागिरी के दो श्रंगों ब्रह्मपर्वत व लोध्र पर्वत (भटकोट) के मध्य से रामगंगा (रथवाहिनी) का उद्गम। इन्हीं पौराणिक मान्यताओं के अनुसार यह लोध्र-पर्वत यानि भटकोट शिखर जामदाग्नि ऋषि (परशुराम) की तपोभूमि रही है। इसी कारण परशुराम के नाम पर ही इसका नाम रथवाहिनी (रामगंगा) माना गया था।

ऐतिहासिक समावेश[संपादित करें]

धार्मिक-आस्था के महत्व[संपादित करें]

खनिज[संपादित करें]

सिंचाई तथा पेयजल योजनाऐं[संपादित करें]

बाॅंध व जलविद्युत परियोजनाऐं[संपादित करें]

रामगंगा नदी पर कालागढ़ नामक स्थान पर एक बाँध बनाया गया है।

वन्य-सम्पदा[संपादित करें]

जीव-जन्तु[संपादित करें]

पर्यावरण सम्बन्धी लाभ[संपादित करें]

प्रदूषण[संपादित करें]

रामगंगा के किनारे पड़ने जिले[संपादित करें]

रामगंगा के किनारे पड़ने वाले मुख्य तीर्थ तथा गॉंव[संपादित करें]

सहायक नदियाँ[संपादित करें]

मुहाना[संपादित करें]

रामगंगा 154 किलोमीटर की पहाड़ी यात्रा करके कालागढ़ ज़िले के निकट बिजनौर ज़िले के मैदानों में उतरती है तथा 24 किलोमीटर की मैदानी भागों की यात्रा करने के उपरान्त इसमें कोह नदी आकर मिलती है। अन्तत: रामगंगा नदी 610 किलोमीटर की पहाड़ी तथा मैदानी यात्रा करने के पश्चात कन्नौज के निकट गंगा नदी की सहायक नदी के रूप में गंगा नदी में मिल जाती है।

सन्दर्भ[संपादित करें]