सगर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अयोध्या के राजा।

इनके दो पत्नियां थीं उनमे से एक पत्नी से एक पुत्र ओर दूसरी पत्नी से 60 हजार पुत्रों की प्राप्ति हुआ था। इसी 60 हजार पुत्रों को महर्षि कपिल मुनि ने अपना अपमान होने पर सब को जला कर राख कर दिए थे और उनकी आत्मा भटकते रहे येसा श्राप दिए थे।

यही कारण कि वजह से माता गांगा कि धरती पर आगमन का प्रथम निव यही से आरंभ हुई।