वज्रनाभ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से

कृष्ण के प्रपौत्र वज्र अथवा वज्रनाभ द्वारिका के अंतिम शासक थे,[1] जो यादवों की आपसी लड़ाई में जीवित बच गए थे। द्वारिका के समुद्र में डूबने पर अर्जुन द्वारिका गए और वज्र तथा शेष बची महिलाओं को हस्तिनापुर ले गए।[2][3] कृष्ण के प्रपौत्र वज्र को हस्तिनापुर में मथुरा का राजा घोषित किया।[4] महाराज परीक्षित और महर्षि शांडिल्य के सहयोग से संपूर्ण ब्रजमंडल की पुन: स्थापना की थी।[5] वज्रनाभ द्वारा ब्रजमंडल में कृष्‍ण जन्मभूमि पर मंदिर सिहत अनेक मंदिरों का निर्माण कराया गया था।[6][7] कहते हैं कि ब्रजनाभ अनिरुद्ध के पुत्र थे। अनिरुद्ध प्रद्युम्न के पुत्र थे।[8]

अर्थ[संपादित करें]

  • वज्रनाभ दानव: एक दानव जिसने सुमेरु पर्वत की एक गुफा में रहकर घोर तप किया था।
  • वज्रनाभ चक्र : भगवान विष्णु का चक्र।[9]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "ब्रजमंडल में होती है कृष्ण की होली और रास की बड़ी धूम". अभिगमन तिथि 12 मार्च 2021.
  2. दशरथ, ओझा (2017). हिन्दी नाटक उद्भव और विकास. राजपाल एंड संस.
  3. "वज्रनाभ द्वारा ब्रज- यात्रा". अभिगमन तिथि 27 जून 2005.
  4. "वज्रनाभ". अभिगमन तिथि 27 जून 2022.
  5. तराशीस, गंगोपाध्याय. वृन्दावन में आज भी घटने वाले चमत्कार. जय माँ तारा पब्लिशर्स. अभिगमन तिथि 6 नवंबर 2014.
  6. विमलेश, शर्मा (2019). Sarv Vipra Martand August 2019. विमलेश शर्मा.
  7. "मथुरा कृष्ण जन्म भूमि". मूल से 27 जून 2022 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 जून 2022.
  8. "श्री कृष्ण वज्रनाभ". अभिगमन तिथि 3 जून 2020.
  9. "शब्द-वज्रनाभ". अभिगमन तिथि 27 जून 2022.