अज

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अयोध्या के राजा।

अज[संपादित करें]

यह ईश्वर का एक विशेषण है, इसका अर्थ है अजन्मा,"नहि जातो न जायेहं न जनिष्ये कदाचन, क्षेत्रज्ञ: सर्वभूतानां, तस्मादहमज: स्मृत:"-(महाभारत), मै न तो उत्पन्न हुआ, न होता हूँ और न ही होने वाला हूँ, सभी प्राणियों का क्षेत्रग्य हूँ, इसी लिये लोग मुझे अज कहते है, ब्रहमा, विष्णु और कामदेव को भी अज कहते है। ऋगवेद और पारवर्ती साहित्य में यह बकरे का पर्याय है, इसके दूसरे नाम है, बस्त, छाग, छगल आदि, बकरे और भेड को अजावय: का वर्णन साफ़ साफ़ किया गया है, शवक्रिया मे अज का महत्त्वपूर्ण स्थान था, क्योंकि वह पूषा का प्रतिनिध और प्रेत का मार्गदर्शक माना जाता है (अथर्ववेद-अन्त्येष्टि सूक्त)