कुश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

कुश अयोध्या के राजा राम और सीता के पुत्र तथा लव के जुड़वा भाई नही थे अपितु कुश को महर्षि बाल्मीकि को जंगगल मे मिला एक बालक था जिसे उन्होने अपनाया था तत्पश्चात उस बालक को जिसको सीता माता को इस शर्त पर दिया था कि वो इसे अपने बेटे की तरह मानेगी इस कारण वो लव के भाई कुश हुये ।

Symbol oppose vote.svg विरोध

Pictogram voting comment.svg टिप्पणी

लव व कुश ने राम के अश्वमेघ घोड़े को पकड़ कर राम को युद्ध के लिये चुनौती दे डाली थी।अयोध्या के सभी वीरों को छोटे से बालक ने हराकर यह सिद्ध कर दिया था; शक्ति का गुरूर खतरनाक होता है।लव के भाई होने के कारण कुश ने अपनी माँ सीता को न्याय दिलाने के लिये अयोध्या राजा सह पिता से भरी सभा में संवाद किया और माँ सीता को पवित्र और सत्य सावित किया। माँ सीता ने अपने राज्य को कुश के हाथ में सौंप दिया और खुद धरती माँ के गर्भ में चली गयी। तभी से कुश को स्त्री न्याय कर्ता माना जाने लगा। सीता के गर्भ में जाने से राम व्यथित हो गये और अपना राज्य कुश और अन्य भाइयों को सौप गए। कुश की आने वाली वंशज कुशाग्र कहलायी।


कुरु वंश - महाभारत पर्यान्त वंशावली[संपादित करें]

ब्रहाद्रथ वंश[संपादित करें]

यह वंश मगध में स्थापित था।

मगध वंश[संपादित करें]

नन्द वंश[संपादित करें]