बाणगंगा नदी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

बाणगंगा भारत की एक प्रमुख नदी है। इस नदी का पानी भरतपुर में घना पक्षी राष्ट्रीय उद्यान में भूमिगत होकर नम भूमि का निर्माण करता है। इसे 'अर्जुन की गंगा' भी कहा जाता है।

इसे ताला नदी भी कहा जाता है| 

क्योंकि यह ताला गांव से होकर निकलती है़| इसे रूणिडत नदी भी कहा जाता हैं| इसकी कुल लम्बाई 380 km है|

उद्गम[संपादित करें]

जयपुर जिले की बैराड़ पहाड़ियों से निकल कर पूर्व की ओर बहते हुए भरतपुर में प्रवेश करती है।

अपवाह तन्त्र[संपादित करें]

बाणगंगा राजस्थान के तीन जिलों में बहती है: जयपुर, दौसा एवं भरतपुर। यह यमुना की सहायक नदी है। बाणगंगा राजस्थान की एकमात्र ऐसी नदी है, जिसके उद्गम से लेकर विलय तक कोई सहायक नदी नहीं है।

मुहाना[संपादित करें]

फतेहाबाद, आगरा में यमुना